राजस्थान चुनाव: BJP ने सचिन पायलट के खिलाफ युनूस खान को मैदान में उतारा     |       विवाद / आरबीआई बोर्ड की अहम बैठक शुरू, सरकार से मतभेद खत्म होने के आसार     |       अमृतसर हमला: विवाद के बाद बैकफुट पर फुल्का, कांग्रेस ने बताया मानसिक दिवालिया     |       इंदिरा गांधीः सख्त फैसलों से बनीं 'आयरन लेडी', इसी से जुड़ी है उनकी हत्या की कड़ी     |       UPTET 2018: रिजल्ट 5 दिसम्बर तक, परीक्षा में 95 फीसदी अभ्यर्थी हुए शामिल     |       सबरीमाला मंदिर: धारा 144 के खिलाफ सड़कों पर उतरे श्रद्धालु, 28 हिरासत में     |       महिला से फोन पर अचानक लोग करने लगे 'गंदी बातें', खुला राज तो सन्न रह गए लोग     |       18000 फीट ऊंचाई, भारत में बन रहा ग्लेशियर से गुजरने वाला पहला रोड     |       Tulsi Vivah 2018: तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त, शादी की विधि, देवों को जगाने का मंत्र और कथा     |       अलीगढ़: हैवान टीचर ने बच्चे की बेरहमी से की पिटाई, जूते से मारकर मुस्कुराने को कहा     |       2019 लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का नया नारा: हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर, फिर सरकार     |       नक्सलियों के साथ दिग्विजय सिंह की कॉल का लिंक मिला: पुणे पुलिस     |       KMP एक्सप्रेसवे का उद्घाटन आज, दिल्ली से घटेगा गाड़ियों का बोझ     |       IT-ED की छापेमारी रोकने के लिए कोर्ट जा सकते हैं नायडू, विपक्ष को भी मनाएंगे     |       पाकिस्‍तान पर भड़के डोनाल्‍ड ट्रंप, कहा- वो हमारे लिए कुछ भी नहीं करता     |       मराठा आरक्षण को महाराष्ट्र सरकार ने दी मंज़ूरी, कितना आरक्षण मिलेगा ये तय नहीं     |       मध्यप्रदेश चुनाव: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मैहर में किया रोड शो     |       चिकन सेंटर पर भीड़ की सूचना पर उड़नदस्ते ने की छापामारी, 10 रुपए के नोट जब्त किए     |       Top 5 News : सेना में बड़े बदलाव की तैयारी, RBI की महत्वपूर्ण बोर्ड बैठक आज     |       सिद्धू ने इशारों में सिंहदेव को बताया मुख्यमंत्री उम्मीदवार     |      

विशेष


सूखा और पानी संकट को लेकर चर्चित बुंदेलखंड में पानी लिख रहा खुशहाली की इबारत

बुंदेलखंड की चर्चा सूखा और पानी संकट को लेकर होती है। पड़वार नाले में ठहरे पानी की कहानी जब हरदास केवट सुनाते हैं तो उनकी उनके चेहरे पर बिखरी खुशी और आने वाले समय की संभावनाओं को साफ पढ़ा जा सकता है


-drought-and-water-crisis-in-the-bundelkhand-but-now-it-all-will-convert-into-happiness

बुंदेलखंड में कहते हैं कि 'पानी है तो खुशहाली है और जवानी है।' जीवन के इस सूत्र वाक्य को हमीरपुर जिले के बसरिया गांव में पहुंचकर समझा और महसूस किया जा सकता है, क्योंकि यहां पानी की उपलब्धता ने खुशहाली की नई इबारत लिखना शुरू कर दिया है। 

बुंदेलखंड के सबसे समस्याग्रस्त जिलों में से एक है हमीरपुर। यहां के सरीला विकासखंड मुख्यालय से जब उबड़-खाबड़ रास्तों से होते हुए और लगभग दो किलोमीटर पैदल चलने के बाद बरसाती नाले पड़वार पर ठहरा हुआ पानी नजर आता है, जो एक तरफ मन को सुकून देता है, तो दूसरी ओर सवाल खड़े कर जाता है कि क्या इस क्षेत्र के बरसाती नाले में बरसात गुजर जाने के बाद भी पानी ठहरा मिल सकता है?

बुंदेलखंड की चर्चा सूखा और पानी संकट को लेकर होती है। पड़वार नाले में ठहरे पानी की कहानी जब हरदास केवट सुनाते हैं तो उनकी उनके चेहरे पर बिखरी खुशी और आने वाले समय की संभावनाओं को साफ पढ़ा जा सकता है।

हरदास कहते हैं कि बरसात गुजर जाने के बाद इस नाले में पानी मिलेगा, इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी, मगर यह संभव हुआ है। इसके चलते यहां किसान आसानी से दो फसल तो लेने ही लगेंगे, साथ ही मछली भी लोगों को मिल जाएगी। 

माधव सिंह की मानें तो इस नाले पर चेकडैम बनाने के लिए गांव के लोगों के बीच संवाद किया गया। पानी पंचायत बनी।  लोगों ने तय किया कि अगर पड़वार नाले के पानी को रोक दिया जाए तो 100 से अधिक किसानों की खेती को आसानी से पानी मिल जाएगा।

वे साल में एक नहीं दो खेती कर सकेंगे। यह कोशिश कामयाब हुई, चेकडैम बना, पानी रुका और भरोसा है कि किसानों को भरपूर पानी मिल जाएगा।

हरिशंकर बताते हैं कि पड़वार नाले में पानी ठहरने से हुए लाभ को कुओं के जलस्तर में हुई बढ़ोतरी के जरिए देखा और समझा जा सकता है। इस बार बारिश के बाद नाले के आसपास के कुओं का जलस्तर पिछले वर्षो की तुलना में एक से डेढ़ मीटर तक बढ़ा। इसलिए यह उम्मीद की जा सकती है कि मार्च तक यहां पानी का संकट नहीं रहेगा। 

यह बताना लाजिमी है कि बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश के सात और मध्य प्रदेश के छह जिले आते हैं। यहां बारिश कम होने के कारण एक तरफ खेती चौपट है तो दूसरी ओर रोजगार के अवसर न होने के कारण मेहनती लोगों का पलायन बड़ी संख्या में होता है। पानी की उपलब्धता जिन भी इलाकों में बढ़ी है, वहां पलायन तो रुका ही है, साथ में खेती बेहतर होने लगी है।

गैर सरकारी संगठन परमार्थ समाजसेवी संस्थान के कार्यक्रेम निदेशक अनिल सिंह बताया कि बुंदेलखंड में पानी की उपलब्धता के लिए पड़वार नाले पर बनाया गया चेकडैम बसरिया गांव में बड़ा बदलाव लाने वाला है। यह 35 मीटर लंबा और ढ़ाई मीटर ऊंचा है।

इस चेकडैम में 96,000 क्यूबिक मीटर पानी रोका गया है। 72 किसानों की 125 एकड़ जमीन की सिंचाई हो रही है। इसमें 20 एकड़ ऐसी जमीन है, जिसकी आज तक कभी सिंचाई हो ही नहीं पाई।

पड़वार नाले में बारिश में आने वाले पानी और बहकर बेतवा नदी में चले जाने का अध्ययन किए जाने के बाद कोका कोला के सहयोग से यह चेकडैम बनाया गया। अब इसमें रोके गए पानी से बदलाव नजर आने लगा है। इस गांव की खुशहाली में यह चेकडैम बड़ी भूमिका निभाएगा।
 

advertisement