महाजीत के बाद मोदी ने की बाबा विश्वनाथ की महापूजा, देखें तस्वीरें - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       मेरे सिर पर हाथ रखकर खाओ कसम, कुछ गलत नहीं करोगे- स्मृति ईरानी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       LIVE: वाराणसी में बोले पीएम मोदी, 2014, 17 और 2019 की हैट्रिक छोटी नहीं - Hindustan     |       पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक गुरु नानक महल में तोड़फोड़, कीमती सामान बेचा गया - Navbharat Times     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       ग्वालियर की तीन कोचिंग क्लासेस सील | GWALIOR NEWS - bhopal Samachar     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       CWC की बैठक में राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश खारिज Congress refuses to accept Rahul Gandhi's resignation - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       ब्राजील/ कैदियों के बीच झड़प में 15 की मौत, टूथब्रश को हथियार बनाकर एक दूसरे पर किया हमला - Dainik Bhaskar     |       Pak विदेश मंत्री कुरैशी बोले- भारत की नई सरकार से पाकिस्तान बातचीत को तैयार - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांगो/ झील में नाव डूबने से 30 लोगों की मौत, 140 से ज्यादा लापता - Dainik Bhaskar     |       सोनीपत/ एवरेस्ट की चढ़ाई करने वाले रवि ठाकुर को तिरंगों के बीच दी गई अंतिम विदाई - Dainik Bhaskar     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       Sona Mohapatra ने सलमान पर कसा तंज, ऐक्‍टर ने किए थे प्रियंका चोपड़ा पर कॉमेंट्स - नवभारत टाइम्स     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       बॉक्स ऑफिस: 'अलादीन' चमके, 'पीएम नरेंद्र मोदी'-'इंडियाज मोस्ट वांटेड' से आगे निकली 'दे दे प्यार दे' - अमर उजाला     |       Hrithik Roshan की फिल्म ‘सुपर 30’ इस दिन होगी रिलीज, उन्होंने खुद किया खुलासा - Hindustan     |       भारत के अभ्यास मैच में हारने से परेशान होने की जरूरत नहीं: तेंडुलकर - Navbharat Times     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       PCB का फरमान- भारत से मैच के बाद ही पत्नियों को साथ रखें खिलाड़ी - Sports AajTak - आज तक     |       इंग्लैंड वनडे में 500 रन बनाने वाली दुनिया की पहली टीम बन सकती है: विराट कोहली - Hindustan     |      

राजनीति


पांच राज्यों की चुनावी रणभेरी 2019 का लिटमस टेस्ट, देखना है कौन किस पर पड़ता है भारी

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में 12 नवंबर से लेकर 7 दिसंबर तक चुनाव ,11 दिसंबर को आएंगे नतीजे ,देखना है कौन किस पर पड़ता है भारी


-the-five-states-electoral-battle-will-be-litmus-test-for-2019-general-election-who-will-win-or-loss-lets-see

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में 12 नवंबर से लेकर 7 दिसंबर तक चुनाव कराए जाएंगे। 11 दिसंबर को चुनाव परिणाम आएंगे। इन राज्यों की चुनावी रणभेरी का मतलब यह भी होगा कि वर्ष 2019 के आम चुनाव में किसकी खिचड़ी पकेगी।

तीन राज्यों- मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार है, जबकि मिजोरम में कांग्रेस तथा तेलंगाना में टीआरएस की। नतीजों के एलान के छह महीनों के भीतर देश में आम चुनाव होंगे, यानी केंद्र में मोदी सरकार की परीक्षा भी इन चुनावों के नतीजों जुड़ी होगी। निश्चित रूप से भारतीय राजनीति के लिए इन राज्यों के नतीजे यानी 11 दिसंबर का दिन बेहद महत्वपूर्ण होगा।

मध्यप्रदेश में नवंबर, 2005 में पहली बार शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बने और तब से लगातार अब तक यानी तीन बार और 14 साल से मुख्यमंत्री हैं। पिछली बार 230 विधानसभा सीटों में से भाजपा ने 166 जीती थीं। कांग्रेस को 57, बसपा को 4 और अन्य को तीन सीटें मिली थीं। अब चुनौतियां तगड़ी हैं।

सबसे बड़ी चुनौती जहां एंटी-इनकम्बेंसी होगी, वहीं इस बार सवर्ण समाज के लोगों की एकजुटता और मप्र की राजनीति में एकाएक उभरा संगठन 'सपाक्स' भाजपा और कांग्रेस दोनों के चुनावी गणित को बिगाड़ता दिख रहा है। मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को चुनाव है।

उधर, राजस्थान में पिछले चुनाव में भाजपा ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी, जबकि इस बार कांग्रेस और भाजपा में सीधी टक्कर दिख रही है। कुल 200 विधानसभा सीटों में 160 सीट जीतने का भाजपा का रिकॉर्ड इस बार कितना रहेगा, यह खुद भाजपा में ही पूछा जा रहा है।

पिछली बार कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई थी, वहीं बसपा को 3, एनपीपी को 4 और एनयूजेडपी को 2 सीटें मिली थीं। जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय जीते थे। हर चुनाव में सरकार बदल देने के लिए पहचान बना चुके राजस्थान में वसुंधरा राजे का जादू कितना चलेगा, कहना जल्दबाजी होगी। राजस्थान में 7 दिसंबर को चुनाव होगा।

साल 2000 में अस्तित्व में आए छत्तीसगढ़ में केवल तीन साल ही कांग्रेस सत्ता में रही, उसके बाद 2003 यानी लगभग 15 बरस से लगातार रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार है। छत्तीसगढ़ के सियासी हालात भी लगभग राजस्थान और मध्यप्रदेश जैसे ही दिख रहे हैं।

यहां भी भाजपा को एंटी-इनकम्बेंसी का डर सता रहा है, लेकिन कांग्रेस भी अपने पुराने साथी अजीत जोगी के नए दल 'छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस' और मायावती के गठबंधन से परेशान जरूर है।

जोगी ने मायावती के साथ गठबंधन कर कांग्रेस का समीकरण बिगाड़ा है, वहीं गोंडवाना पार्टी भी नाक में दम किए हुए है। पिछली बार भाजपा को 49, कांग्रेस को 39, बसपा को 1 और अन्य को एक सीट मिली थी। यहां दो चरणों में 12 व 20 नवंबर को वोट डाले जाएंगे।

पूर्वोत्तर का राज्य मिजोरम 1987 में अस्तित्व में आया था। यहां पहली बार वर्ष 1989 में कांग्रेस की सरकार बनी थी, जो लगातार दो बार सत्ता में रही। फिर दो बार मिजो नेशनल फ्रंट की सरकार रही।

वर्ष 2008 से कांग्रेस फिर सत्ता में है। कुल 40 विधानसभा सीटे हैं। वर्ष 2013 के चुनाव में कांग्रेस को 34, एमएनएफ को 5 और और एमपीसी को 1 सीट मिली थी। इस बार चौथे दल के रूप में भाजपा भी चुनाव में चुनौती को तैयार है। मिजोरम में 28 नवंबर को मतदान होगा।

तेलंगाना में अगले साल विधानसभा चुनाव होने थे लेकिन मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने समय से पहले विधानसभा भंग कर दी और चुनाव में जाने का फैसला किया। तेलंगाना में 119 सीटें हैं और एक सीट एंग्लो इंडियन कम्यूनिटी के लिए है।

पिछले चुनाव में टीआरएस को 63 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इसके अलावा कांग्रेस को 21, तेलुगु देशम पार्टी को 15, एआईएमआईएम को 7, बीजेपी को 5 और अन्य को 8 सीटें मिली थीँ। यहां 7 दिसंबर को चुनाव होगा।

किसान आंदोलन, पेट्रोलियम की कीमतों में उछाल, बाढ़, नोटबंदी की हकीकत और बेरोगजगारी के असल आंकड़ों की सच्चाई के बीच पांच राज्यों में होने जा रहे चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए वर्ष 2019 का लिटमस टेस्ट बनेंगे।

देखना यही है कि भाजपा और कांग्रेस की सीधी टक्कर में कौन किस पर भारी पड़ता है। इन चुनावों को 2019 का सेमी फ़ाइनल भी कहा जा रहा है।

advertisement