लोकसभा चुनाव 2019: संजय निरूपम को मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाया, देवड़ा को कमान - Hindustan     |       तंज/ जेटली ने राहुल के वादे को झूठा बताया, कहा- कांग्रेस गरीब को नारा देती है, साधन नहीं - Dainik Bhaskar     |       Lok Sabha Election 2019: बीजेपी ने जारी की नौवीं सूची, यूपी की हाथरस समेत इन सीटों पर उतारे उम्मीदवार - NDTV India     |       JNU में लेफ्ट विंग के छात्रों का हंगामा, VC बोले- मेरी पत्नी को बनाया बंधक - आज तक     |       मोदी की रैली के लिए किसानों ने पकने से पहले काट दी फसल - नवभारत टाइम्स     |       राहुल गांधी ने न्याय के लिए दिए दो नारे, प्रियंका ने भी दिया साथ - आज तक     |       नवादा सीट छिन जाने पर बोले गिरिराज सिंह- स्वाभिमान से समझौता नहीं करूंगा - ABP News     |       देश के आसमान का नया रक्षक 'चिनूक' IAF inducts first Chinook helicopters - आज तक     |       नेकां नेता अकबर लोन के बिगड़े बोल- पाकिस्तान को एक गाली देने वाले को मैं 10 गालियां दूंगा - Webdunia Hindi     |       करतारपुर के बाद अब हिंदुओं को ये 'तोहफा' देगा पाकिस्तान - आज तक     |       एक ही फ्लाइट में मां-बेटी पायलट, भरी उड़ान, फोटो हुई वायरल - आज तक     |       लाल बहादुर शास्त्री को किसने मारा? द ताशकंद फाइल्स का ट्रेलर आउट - आज तक     |       जेट एयरवेज संकट: नरेश गोयल ने छोड़ा पद, पत्‍नी अनिता भी बोर्ड से बाहर - आज तक     |       ग्लोबल मंदी का डर हावी, भारी गिरावट के साथ बंद हुए बाजार - मनी कॉंट्रोल     |       सोना खरीदना हुआ महंगा, स्थानीय ज्वैलर्स की मांग से उछले दाम - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       तारीफ/ अजीम प्रेमजी के परोपकार से बिल गेट्स हुए प्रेरित, कहा- इसका बड़ा असर होगा - Dainik Bhaskar     |       फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' के खिलाफ चुनाव आयोग में कांग्रेस ने की शिकायत - News18 Hindi     |       केसरी को IPL से नुकसान? बॉक्स ऑफिस पर बनाए ये दो बड़े रिकॉर्ड - आज तक     |       64th Filmfare Awards 2019 में श्रीदेवी को भी मिला अवार्ड, जाह्नवी, ख़ुशी ने किया रिसीव - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       एसिड अटैक का दर्द झेल चुकीं कंगना की बहन रंगोली ने दीपिका का पोस्टर देख लिखी ये बात - Hindustan     |       IPL 2019 : गेंदबाजों ने पंजाब को दिलाई विजयी शुरुआत - Navbharat Times     |       IPL 2019: मुंबई इंडियंस की हार के बाद ड्रेसिंग रूम में युवी हुए सम्मानित- video - Hindustan     |       I will be the first one to hang my boots when time comes: Yuvraj Singh - NDTV India     |       बुमराह की चोट ने उड़ा दी थी कोहली की नींद, अब आई राहत की खबर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

विशेष


विश्व डाक दिवस पर विशेष | आज भी हमारे लिए प्रासंगिक है डाक विभाग

विश्व डाक दिवस का मकसद आम आदमी और कारोबारियों के रोजमर्रा के जीवन समेत देश के सामाजिक और आर्थिक विकास में डाक क्षेत्र के योगदान के बारे में जागरूकता पैदा करना है। दुनियाभर में प्रत्येक वर्ष 150 से ज्यादा देशों में विविध तरीकों से विश्व डाक दिवस आयोजित किया जाता है


9-october-world-post-day-special-why-postal-department-still-relevant-for-us-even-today

निजी कंपनियों के बढ़ते दबदबे और फिर सूचना तकनीक के नए माध्यमों के प्रसार के चलते डाक विभाग की भूमिका लगातार कम होती गई। लेकिन इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि डाक विभाग दशकों तक देश के अंदर ही नहीं, बल्कि एक देश से दूसरे देश तक सूचना पहुंचाने का सर्वाधिक विश्वसनीय, सुगम और सस्ता साधन रहा है। यह भी कहना गलत नहीं होगा कि पूरी दुनिया में आज भी इसकी प्रासंगिकता बरकरार है।

दुनियाभर में 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस के तौर पर मनाया जाता है। 1874 में इसी दिन यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन (यूपीयू) का गठन करने के लिए स्विट्जरलैंड की राजधानी बर्न में 22 देशों ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। 1969 में जापान की राजधानी टोक्यो में आयोजित सम्मेलन में विश्व डाक दिवस के रूप में इसी दिन को चयन किए जाने की घोषणा की गई। 

1876 में भारत बना यूपीयू का सदस्य :

एक जुलाई 1876 को भारत यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन का सदस्य बनने वाला भारत पहला एशियाई देश था। जनसंख्या और अंतर्राष्ट्रीय मेल ट्रैफिक के आधार पर भारत शुरू से ही प्रथम श्रेणी का सदस्य रहा। संयुक्त राष्ट्र के गठन के बाद 1947 में यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन संयुक्त राष्ट्र की एक विशिष्ट एजेंसी बन गई।

विश्व डाक दिवस का मकसद आम आदमी और कारोबारियों के रोजमर्रा के जीवन समेत देश के सामाजिक और आर्थिक विकास में डाक क्षेत्र के योगदान के बारे में जागरूकता पैदा करना है। दुनियाभर में प्रत्येक वर्ष 150 से ज्यादा देशों में विविध तरीकों से विश्व डाक दिवस आयोजित किया जाता है।

डाक सेवाओं के बदलते माहौल और उभर रही नई कारोबारी चुनौतियों ने इस ओर ध्यान आकृष्ट किया । विशेष रणनीति और कार्यक्रमों के माध्यम से ही इसका समाधान किया जा सकता है। सितंबर, 2012 में दोहा पोस्टल स्ट्रेटजी के तहत 2013-2016 के लिए यूपीयू सम्मेलन में रणनीति बनाई गई थी। इससे सदस्य देशों को मूल्य आधारित सेवाएं और रणनीतिक रोडमैप तैयार करने में मदद मिली।

इंटरनेशनल ब्यूरो यूपीयू का मुख्यालय स्विट्जरलैंड की राजधानी बर्न में है। यहां तकरीबन 50 विभिन्न देशों के ढाई सौ से ज्यादा कर्मचारी कार्यरत हैं। यह ब्यूरो यूपीयू निकायों के सचिवालय संबंधी कार्यो का संपादन करता है। सदस्य देशों के बीच यह सूचना और सलाह देने समेत तकनीकी सहयोग को भी बढ़ावा देता है।

हाल के वर्षों में इंटरनेशनल ब्यूरो ने कुछ गतिविधियों में मजबूत नेतृत्व की भूमिका निभाई है। इसमें पोस्टल तकनीक केंद्र के माध्यम से संबंधित तकनीकी अनुप्रयोग भी शामिल हैं।

बदलते तकनीकी दौर में दुनियाभर की डाक व्यवस्थाओं ने मौजूदा सेवाओं में सुधार करते हुए खुद को नई तकनीकी सेवाओं के साथ जोड़ा है और डाक, पार्सल, पत्रों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एक्सप्रेस सेवाएं शुरू की हैं।

डाकघरों द्वारा मुहैया कराई जानेवाली वित्तीय सेवाओं को भी आधुनिक तकनीक से जोड़ा गया है। नई तकनीक आधारित सेवाओं की शुरुआत तकरीबन 20 वर्ष पहले की गई और उसके बाद से इन सेवाओं का और तकनीकी विकास किया गया। साथ ही इस दौरान ऑनलाइन पोस्टल लेन-देन पर भी लोगों का भरोसा बढ़ा है। 

पीओसी : 

पोस्टल ऑपरेशंस काउंसिल (पीओसी) यूपीयू का तकनीकी और संचालन संबंधी निकाय है। इसमें 40 सदस्य देश शामिल हैं, जिनका चयन सम्मेलन के दौरान किया जाता है। यूपीयू के मुख्यालय बर्न में इसकी सालाना बैठक होती है।

यह डाक व्यापार के संचालन, आर्थिक और व्यावसायिक मामलों को देखता है। जहां कहीं भी एकसमान कार्यप्रणाली या व्यवहार जरूरी हों, वहां अपनी क्षमता के मुताबिक यह तकनीकी और संचालन समेत अन्य प्रक्रियाओं के मानकों के लिए सदस्य देशों को अपनी अनुशंसा मुहैया कराता है। संप्रेषण के अन्य माध्यमों के आने से भले ही इसकी प्रासंगिकता कम हो गई हो, लेकिन कुछ मायने में अभी भी इसकी प्रासंगिकता बरकरार है।

आंकड़ों में डाक विभाग : 

दुनियाभर में पोस्ट ऑफिस से संबंधित इन आंकड़ों से हम इसे और अधिक स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं। डाक विभाग से 82 फीसदी वैश्विक आबादी को होम डिलीवरी का फायदा मिलता है। एक डाक कर्मचारी 1,258 औसत आबादी को सेवा मुहैया कराता है।

इस समय दुनियाभर में 55 प्रकार की पोस्टल ई-सेवाएं उपलब्ध हैं। डाक ने 77 फीसदी ऑनलाइन सेवाएं दे रखी हैं। 133 पोस्ट वित्तीय सेवाएं मुहैया कराती है। पांच दिन के मानक समय के अंदर 83.62 फीसदी अंतरराष्ट्रीय डाक सामग्री बांटी जाती है। 142 देशों में पोस्टल कोड उपलब्ध है। डाक के इलेक्ट्रॉनिक प्रबंधन और निगरानी के लिए 160 देशों की डाक सेवाएं यूपीयू की अंतरराष्ट्रीय पोस्टल सिस्टम सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती हैं। इस तरह 141 देशों ने अपनी यूनिवर्सल पोस्टल सेवा को परिभाषित किया है।

भारतीय पिनकोड : 

भारतीय डाक विभाग पिनकोड नंबर (पोस्टल इंडेक्स नंबर) के आधार पर देश में डाक वितरण का कार्य करता है। पिनकोड नंबर का प्रारंभ 15 अगस्त, 1972 को किया गया था। इसके अंतर्गत डाक विभाग द्वारा देश को नौ भोगोलिक क्षेत्रो में बांटा गया है। संख्या 1 से 8 तक भौगोलिक क्षेत्र हैं व संख्या 9 सेना डाकसेवा को आवंटित किया गया है। पिन कोड की पहली संख्या क्षेत्र, दूसरी संख्या उपक्षेत्र, तीसरी संख्या जिले को दर्शाती है। अंतिम तीन संख्या उस जिले के विशिष्ट डाकघर को दर्शाती है।

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक :

हाल ही में भारत सरकार ने डाक विभाग की प्रासगिंकता बरकरार रखने के लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) शुरू किया। देश के हर व्यक्ति के पास बैंकिंग सुविधाएं पहुंचाने के क्रम में यह एक बड़ा विकल्प होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक सितंबर को आईपीपीबी का विधिवत उद्घाटन किया।

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक ने एक सितंबर को देश की 650 शाखाओं व देशभर में 3250 एक्सेस प्वाइंट में बैंकिंग सेवाएं शुरू कर दी है। आने वाले दिनों में ये सेवा देश के 1.55 लाख एक्सेस प्वाइंट पर शुरू हो जाएगी। इससे देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क अस्तित्व में आएगा जिसकी गांवों के स्तर तक मौजूदगी होगी।

यही नहीं, इन सेवाओं के लिए पोस्ट विभाग के 11000 कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों को बैंकिंग सेवाएं देंगे। इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक भारतीय डाक विभाग के अंतर्गत आने वाला एक विशेष किस्म का बैंक है जो 100 फीसद सरकारी होगा।

देशभर में 40 हजार डाकिये और 2.6 लाख डाक सेवक हैं। सरकार इन सभी का इस्तेमाल बैंकिंग सेवाओं को घर-घर पहुंचाने के लिए करने जा रही है। इन डाक सेवकों को आईपीपीबी के मुनाफे की रकम में से 30 फीसदी कमीशन के तौर पर भी दिए जाने की भी योजना बनाई जा रही है, जिससे कर्मचारियों के उत्साह में बना रहे।
 

advertisement