गुजरात के बर्खास्त IPS अधिकारी संजीव भट्ट 30 साल पुराने मामले में दोषी क़रार - BBC हिंदी     |       दुल्हन बनीं ग्लैमरस सांसद नुसरत जहां, देखें शादी की सबसे पहली PHOTOS... - ​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​Zee ​​News Hindi     |       राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद: सरकार रà - NDTV India     |       इंटरनेशनल योग डे: योग करते समय क्या आप भी करते हैं ये 7 बड़ी गलतियां - आज तक     |       एएन-32 विमान: सभी 13 वायु सैनिकों के शव और अवशेष बरामद, 3 जून को क्रैश हुआ था विमान - ABP News     |       मेहर के 3.40 लाख वापस, निकाह के महज 10 घंटे बाद तीन तलाक...जानें पूरा मामला - दैनिक जागरण     |       WC: सेमीफाइनल में जा सकती हैं ये 4 टीमें, ऐसा है अबतक का समीकरण - आज तक     |       विश्व कप 2019: जानें, सेमीफाइल की जंग में कौन किस पायदान पर और कौन हुआ बाहर - Navbharat Times     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       महाराष्ट्र में 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाल दिए गए, ताकि गन्ने की कटाई का काम न रुके - दैनिक जागरण     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       भीषण गर्मी का कहर: ...और यहां पानी के लिए ग्रामीणों को बांटे जा रहे टोकन - Navbharat Times     |       3 सेक्स वर्करों के साथ नोएडा के एक फार्म हाउस में 9 लोगों ने किया गैंगरेप - NDTV India     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       फिर ट्रोलर्स के निशाने पर आए इमरान खान, रवींद्रनाथ टैगोर का Quote शेयर करते वक्त की ये बड़ी गलती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पाकिस्तान के चीफ जस्टिस बोले- अर्थव्यवस्था से क्रिकेट तक, सुन रहे हैं सिर्फ ‘निराशाजनक’ खबरें - NDTV India     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       अगर स्मार्टफोन में बंद हुए गूगल और फेसबुक के ऐप तो पूरा पैसा लौटाएगा हुवावे - Navbharat Times     |       Kabir Singh Box Office Prediction: Shahid के सामने Salman की Bharat, पहले दिन इतनी कमाई का अनुमान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Arjun Patiala Trailer: Upcoming comedy film starring Diljit Dosanjh, Kriti Sanon and Varun Sharma directed by Rohit Jugraj - The Lallantop     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       शादी के बाद पहली तस्वीर, लाल चूड़ा पहने, सिंदूर लगाए दिखीं चारू असोपा - आज तक     |       World Cup से बाहर होने के बाद शिखर धवन का भावुक संदेश, यहां सुनें - Himachal Abhi Abhi     |       वर्ल्ड कप/ ऑस्ट्रेलिया-बांग्लादेश के बीच मैच आज, दोनों टीमें 12 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: पहले इंग्लैंड ने पीटा, अब आपस में भिड़ी अफगानिस्तान की टीम! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       [VIDEO] Ranveer Singh hugs a Pakistani fan after India's win at World Cup 2019, says, 'Don't be disheartened' - Times Now     |      

विज्ञान/तकनीक


बढ़ते प्रदूषण को रोकने का बड़ा उपाय, पेड़ों को काटने की जगह 'रिलोकेट' करें

"एक पेड़ को शिफ्ट करने की लागत उसके आकार, एक स्थान से दूसरे स्थान के बीच की दूरी जैसे कारकों पर निर्भर करती है। अमूमन इसमें 10,000 से लेकर डेढ़ लाख रुपये तक खर्च आता है"


a-remedy-of-increasing-pollution-relocate-the-trees-instead-of-cutting-trees

पूरी दुनिया सहित भारत में जिस तरह से औद्योगिकीकरण बढ़ा है और हमने आधुनिक लाइफस्टाइल अपनाया है, पर्यावरण को एक बड़ा आघात लगा है। हमारे हरे-भरे जंगल अब कंक्रीट के जंगलों में बदलते जा रहे हैं और नदियों का पानी सूख रहा है। इन्हीं वजहों से प्रदूषण का स्तर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

लेकिन देश में शहरीकरण और विकास के नाम पर पेड़ों की कटाई कोई नई बात नहीं है। पेड़ों को बचाने का मतलब है पर्यावरण को बचाना। पेड़ों को काटने का विरोध इसीलिए तो हो रहा है। ऐसे में क्यों न पेड़ों को 'रिलोकेट' किया जाए यानी जड़ सहित उसकी जगह बदल दी जाए। क्या यह संभव है?

हां, यह संभव है और ऐसा कर दिखाया है हैदराबाद के रहने वाले रामचंद्र अप्पारी ने। वह इसे 'ट्री ट्रांसलोकेटिंग' तकनीक कहते हैं और इसी तकनीक की मदद से वह हैदराबाद में अब तक 5,000 से अधिक पेड़ों को रिलोकेट कर चुके हैं।

अप्पारी की यह तकनीक पेड़ों को नया जीवन दे रही है। वह खुद कहते हैं कि दिल्ली में जिन सात कॉलोनियों के पुनर्विकास के नाम पर पेड़ों को काटे जाने पर बवाल मचा है, वहां पेड़ों को रिलोकेट किया जाए तो सारी दिक्कतें खत्म हो जाएंगी। उनकी कंपनी 'ग्रीन मॉर्निग हॉर्टीकल्चर' वर्ष 2010 से ही पेड़ों को रिलोकेट करने के काम में लगी है।

रामचंद्र अप्पारी (38) कहते हैं, "यदि हमें शहरीकरण के लिए पेड़ों को हटाना है, तो काटने से बेहतर है कि उन्हें रिलोकेट किया जाए। हम आठ साल में अब तक 5,000 पेड़ों को रिलोकेट कर चुके हैं। इसके अलावा भी पेड़ों को कटने से बचाने के लए कई तरह की परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं।"

आपने यह तकनीक कैसे ईजाद की? यह पूछने पर अप्पारी ने आईएएनएस से कहा, "साल 2008 की बात है, उस समय हैदराबाद में सड़कों को चौड़ा करने के लिए बड़े पैमाने पर पेड़ों को काटा गया। यह देखकर मुझसे रहा न गया। उसी समय मैंने सोचा, काश! काटने के बजाय अगर पेड़ों को जड़ सहित दूसरी जगह ले जाया जाए, तो कितना अच्छा रहेगा। मैंने आस्ट्रेलिया में रह रहे अपने एक दोस्त की मदद से पेड़ों को रिलोकेट किए जाने के बारे में रिसर्च किया और उसके बाद इस कॉन्सेप्ट पर काम करना शुरू कर दिया।"

उन्होंगे कहा, "दरअसल, ट्री ट्रांसलोकेशन एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके तहत पेड़ों को जड़ सहित एक जगह से हटाकर दूसरी जगह पर लगाया जाता है। हमने हैदराबाद मेट्रो परियोजना के दौरान बड़े पैमाने पर पेड़ों का ट्रांसलोकेशन किया था। हमने उस दौरान 800 पेड़ों को रिलोकेट किया।"

कृषि विज्ञान में मास्टर और एग्री बिजनेस में एमबीए डिग्रीधारक रामचंद्र अप्पारी ने आगे कहा, "हम अब तक 7,000 से ज्यादा पेड़ों को नया जीवन दे चुके हैं। इस दौरान काफी सावधानी बरतनी पड़ती है। पेड़ के चारों ओर एक मीटर के दायरे में तीन फीट गड्ढा खोदा जाता है और पेड़ को जड़ सहित निकालकर दूसरी जगह ले जाकर लगाया जाता है। इस दौरान पेड़ की जड़ों पर 'रूट प्रमोटिंग हार्वेस्ट' केमिकल लगाया जाता है, ताकि पेड़ अपनी नई जगह पर पल-बढ़ सके।"

एक पेड़ को रिलोकेट करने में कितनी लागत आती है? इस सवाल पर अप्पारी ने कहा, "एक पेड़ को शिफ्ट करने की लागत उसके आकार, एक स्थान से दूसरे स्थान के बीच की दूरी जैसे कारकों पर निर्भर करती है। अमूमन इसमें 10,000 से लेकर डेढ़ लाख रुपये तक खर्च आता है।"

रामचंद्र ने 'ग्रीन मॉर्निग हॉर्टीकल्चर' की स्थापना वर्ष 2010 में की थी और तब से कंपनी का टर्नओवर लगातार बढ़ रहा है। कंपनी की वेबसाइट से प्राप्त सूचना के मुताबिक, वर्ष 2017 में कंपनी का टर्नओवर 2.5 करोड़ रुपये रहा।

मौजूदा समय में दिल्ली में पेड़ों की कटाई को लेकर मची खींचतान पर अप्पारी कहते हैं, "पेड़ों को रिलोकेट करने को लेकर जागरूकता की कमी है। इसे गंभीरता से लेना होगा और दिल्ली ही क्यों, देशभर में पेड़ों को रिलोकेट किया जा सकता है। पेड़ों को काटने की जरूरत ही नहीं है, प्रशासन पेड़ों को रिलोकेट करने को लेकर टेंडर निकाले और इस तकनीक को बढ़ावा दे। इसका विरोध भी नहीं होगा और पर्यावरण को नुकसान भी नहीं पहुंचेगा।"

advertisement