LOK SABHA ELECTIONS 2019: भाजपा की दूसरी लिस्ट जारी, संबित पात्रा को पूरी से मिला टिकट - Hindustan     |       लोकसभा/ मुरादाबाद की जगह फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ेंगे राज बब्बर, संबित पात्रा पुरी से उम्मीदवार - Dainik Bhaskar     |       NDA की संभावित 40 उम्मीदवारों की लिस्ट: शाहनवाज का पत्ता साफ! - आज तक     |       Lok Sabha Election 2019: झारखंड BJP के प्रत्‍याशी तय, खूंटी से कड़ि‍या मुंडा आउट, देखें सूची - दैनिक जागरण     |       चौतरफा घेराबंदी: चार मुठभेड़ों में तीन पाकिस्तानी आतंकियों समेत सात आतंकी ढेर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       आतंकी ने बच्चे का तालिबानी अंदाज में रेता गला, शादी के लिए लड़की के भाई को बनाया था बंधक- Amarujala - अमर उजाला     |       भारत की बड़ी कार्रवाई: पाक के दो अफसरों समेत 12 सैनिक ढेर, छह चौकियां तबाह - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पुलवामा हमले पर सैम पित्रोदा का विवादित बयान Sam Pitroda remark on Pulwama terror attack draws ire - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       PM मोदी ने दी इमरान को राष्ट्रीय दिवस की शुभकामनाएं, कहा- शांति के लिए साथ चलने का वक्त आ गया है - Hindustan     |       लंदन में नीरव मोदी के गिरफ्तार होने पर गुलाम नबी आजाद ने कहा- चुनावी फायदे के लिए हुई कार्रवाई - ABP News     |       भारत के एक दांव से परेशान हुआ चीन, खुद को बता रहा बड़े दिलवाला - Business - आज तक     |       नीरव मोदी के लिए हैप्पी नहीं रही होली, लंदन की जेल में खचाखच भरे कैदियों के साथ गुजारी रात - News18 इंडिया     |       हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन बाजार में गिरावट - मनी कॉंट्रोल     |       Jio Offer: शियोमी के इस फोन पर मिल रहा है, 2000 से ज्यादा का कैशबैक, साथ में 100 GB इंटरनेट फ्री - Hindustan     |       नई Suzuki Ertiga Sport हुई पेश, यहां जानें खास बातें - आज तक     |       जल्द लॉन्च होगा Vitara Brezza का फेसलिफ्ट वर्जन, मारुति ने शुरू किया प्रॉडक्शन - नवभारत टाइम्स     |       Javed Akhtar फ़िल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी 'का पोस्टर देखकर हैरान हुए - BBC हिंदी     |       'केसरी' ने होली पर जमाया रंग, पहले दिन कमाए इतने करोड़ - Hindustan     |       एक्टर विद्युत जामवाल ने खोले 'जंगली' के 5 मोस्ट डैंजरस सीन के राज, जरा सी चूक ले सकती थी जान- Amarujala - अमर उजाला     |       मोदी बायोपिक के ट्रेलर का उड़ रहा मजाक, वायरल हो रहे मीम्स - आज तक     |       विलियम्सन न्यूजीलैंड के प्लेयर ऑफ द ईयर बने, रॉस टेलर वनडे के बेस्ट प्लेयर - Dainik Bhaskar     |       गौतम गंभीर की टिप्पणी पर विराट कोहली ने किया पलटवार, पढ़ें क्या कहा? - Hindustan     |       गंभीर के चुनाव लड़ने पर पूछा सवाल तो भड़क गईं BJP सांसद मीनाक्षी लेखी - आज तक     |       आज से IPL 2019 का आगाज, सीएसके और आरसीबी के बीच पहली टक्कर- Amarujala - अमर उजाला     |      

विज्ञान/तकनीक


बढ़ते प्रदूषण को रोकने का बड़ा उपाय, पेड़ों को काटने की जगह 'रिलोकेट' करें

"एक पेड़ को शिफ्ट करने की लागत उसके आकार, एक स्थान से दूसरे स्थान के बीच की दूरी जैसे कारकों पर निर्भर करती है। अमूमन इसमें 10,000 से लेकर डेढ़ लाख रुपये तक खर्च आता है"


a-remedy-of-increasing-pollution-relocate-the-trees-instead-of-cutting-trees

पूरी दुनिया सहित भारत में जिस तरह से औद्योगिकीकरण बढ़ा है और हमने आधुनिक लाइफस्टाइल अपनाया है, पर्यावरण को एक बड़ा आघात लगा है। हमारे हरे-भरे जंगल अब कंक्रीट के जंगलों में बदलते जा रहे हैं और नदियों का पानी सूख रहा है। इन्हीं वजहों से प्रदूषण का स्तर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

लेकिन देश में शहरीकरण और विकास के नाम पर पेड़ों की कटाई कोई नई बात नहीं है। पेड़ों को बचाने का मतलब है पर्यावरण को बचाना। पेड़ों को काटने का विरोध इसीलिए तो हो रहा है। ऐसे में क्यों न पेड़ों को 'रिलोकेट' किया जाए यानी जड़ सहित उसकी जगह बदल दी जाए। क्या यह संभव है?

हां, यह संभव है और ऐसा कर दिखाया है हैदराबाद के रहने वाले रामचंद्र अप्पारी ने। वह इसे 'ट्री ट्रांसलोकेटिंग' तकनीक कहते हैं और इसी तकनीक की मदद से वह हैदराबाद में अब तक 5,000 से अधिक पेड़ों को रिलोकेट कर चुके हैं।

अप्पारी की यह तकनीक पेड़ों को नया जीवन दे रही है। वह खुद कहते हैं कि दिल्ली में जिन सात कॉलोनियों के पुनर्विकास के नाम पर पेड़ों को काटे जाने पर बवाल मचा है, वहां पेड़ों को रिलोकेट किया जाए तो सारी दिक्कतें खत्म हो जाएंगी। उनकी कंपनी 'ग्रीन मॉर्निग हॉर्टीकल्चर' वर्ष 2010 से ही पेड़ों को रिलोकेट करने के काम में लगी है।

रामचंद्र अप्पारी (38) कहते हैं, "यदि हमें शहरीकरण के लिए पेड़ों को हटाना है, तो काटने से बेहतर है कि उन्हें रिलोकेट किया जाए। हम आठ साल में अब तक 5,000 पेड़ों को रिलोकेट कर चुके हैं। इसके अलावा भी पेड़ों को कटने से बचाने के लए कई तरह की परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं।"

आपने यह तकनीक कैसे ईजाद की? यह पूछने पर अप्पारी ने आईएएनएस से कहा, "साल 2008 की बात है, उस समय हैदराबाद में सड़कों को चौड़ा करने के लिए बड़े पैमाने पर पेड़ों को काटा गया। यह देखकर मुझसे रहा न गया। उसी समय मैंने सोचा, काश! काटने के बजाय अगर पेड़ों को जड़ सहित दूसरी जगह ले जाया जाए, तो कितना अच्छा रहेगा। मैंने आस्ट्रेलिया में रह रहे अपने एक दोस्त की मदद से पेड़ों को रिलोकेट किए जाने के बारे में रिसर्च किया और उसके बाद इस कॉन्सेप्ट पर काम करना शुरू कर दिया।"

उन्होंगे कहा, "दरअसल, ट्री ट्रांसलोकेशन एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके तहत पेड़ों को जड़ सहित एक जगह से हटाकर दूसरी जगह पर लगाया जाता है। हमने हैदराबाद मेट्रो परियोजना के दौरान बड़े पैमाने पर पेड़ों का ट्रांसलोकेशन किया था। हमने उस दौरान 800 पेड़ों को रिलोकेट किया।"

कृषि विज्ञान में मास्टर और एग्री बिजनेस में एमबीए डिग्रीधारक रामचंद्र अप्पारी ने आगे कहा, "हम अब तक 7,000 से ज्यादा पेड़ों को नया जीवन दे चुके हैं। इस दौरान काफी सावधानी बरतनी पड़ती है। पेड़ के चारों ओर एक मीटर के दायरे में तीन फीट गड्ढा खोदा जाता है और पेड़ को जड़ सहित निकालकर दूसरी जगह ले जाकर लगाया जाता है। इस दौरान पेड़ की जड़ों पर 'रूट प्रमोटिंग हार्वेस्ट' केमिकल लगाया जाता है, ताकि पेड़ अपनी नई जगह पर पल-बढ़ सके।"

एक पेड़ को रिलोकेट करने में कितनी लागत आती है? इस सवाल पर अप्पारी ने कहा, "एक पेड़ को शिफ्ट करने की लागत उसके आकार, एक स्थान से दूसरे स्थान के बीच की दूरी जैसे कारकों पर निर्भर करती है। अमूमन इसमें 10,000 से लेकर डेढ़ लाख रुपये तक खर्च आता है।"

रामचंद्र ने 'ग्रीन मॉर्निग हॉर्टीकल्चर' की स्थापना वर्ष 2010 में की थी और तब से कंपनी का टर्नओवर लगातार बढ़ रहा है। कंपनी की वेबसाइट से प्राप्त सूचना के मुताबिक, वर्ष 2017 में कंपनी का टर्नओवर 2.5 करोड़ रुपये रहा।

मौजूदा समय में दिल्ली में पेड़ों की कटाई को लेकर मची खींचतान पर अप्पारी कहते हैं, "पेड़ों को रिलोकेट करने को लेकर जागरूकता की कमी है। इसे गंभीरता से लेना होगा और दिल्ली ही क्यों, देशभर में पेड़ों को रिलोकेट किया जा सकता है। पेड़ों को काटने की जरूरत ही नहीं है, प्रशासन पेड़ों को रिलोकेट करने को लेकर टेंडर निकाले और इस तकनीक को बढ़ावा दे। इसका विरोध भी नहीं होगा और पर्यावरण को नुकसान भी नहीं पहुंचेगा।"

advertisement