समझौता ब्लास्ट में सभी आरोपी बरी होने पर भड़का पाकिस्तान, भारत ने दिया जवाब - आज तक     |       BSP chief Mayawati not to contest Lok Sabha elections - Times Now     |       प्लास्टिक सर्जरी से वैनुआटु की नागरिकता तक, नीरव ने यूं की बचने की कोशिश - नवभारत टाइम्स     |       लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा के प्रत्याशी घोषित नहीं, नामांकन की तारीखें तय - Amarujala - अमर उजाला     |       पीएम मोदी के बारे में क्या सोचते हैं 'चौकीदार' - आज तक     |       जम्‍मू-कश्‍मीर: सीआरपीएफ जवान ने तीन साथियों को गोलियों से भूना, खुद को भी गोली मारी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       If you want your child to become 'chowkidar' vote for Modi ji: Arvind Kejriwal's 'classist' attack on PM - Times Now     |       मनोहर पर्रिकर की तस्वीर बगल में रख गोवा के नए सीएम डॉ. प्रमोद सावंत ने संभाला कामकाज - नवभारत टाइम्स     |       जिम्बाब्वे में चली ऐसी हवा झटके में 300 लोगों को मौत की नींद सुला गई - Zee News Hindi     |       माल्या के मुकाबले नीरव को जल्द भारत लाने की उम्मीद - नवभारत टाइम्स     |       गूगल पर 11,760 करोड़ रुपये का जुर्माना - BBC हिंदी     |       दुनिया के खुशहाल देशों की रैंकिंग में भारत सात पायदान नीचे खिसक कर 140वें स्थान पर पहुंचा - ABP News     |       Hyundai Motor, Kia Motors to invest $300 million in Ola - Times Now     |       HOLI है : यू-ट्यूब का मूड हुआ होलियाना, ये गाने कर रहे हैं ट्रेंड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       लगातार सातवें दिन तेजी, निफ्टी 11500 के पार बंद - मनी कॉंट्रोल     |       एनालिसिस/ 2.47 लाख करोड़ रु के दान के बाद भी गेट्स की नेटवर्थ 130 देशों की जीडीपी से ज्यादा - Dainik Bhaskar     |       Kesari Movie Review: 21 रण-वीरों के बलिदान की गौरव गाथा, इतने स्टार्स मिले हैं - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       केसरी के बारे में अक्षय कुमार ने बताई खास बातें - Webdunia Hindi     |       My father is doing well: Ranbir Kapoor opens up about dad Rishi Kapoor's health - Times Now     |       हिना खान ने इंस्टाग्राम पर दिखाया होली स्वैग, यूजर्स बोले- 'कभी तो खुद के खरीदे कपड़े पहना करों'- Amarujala - अमर उजाला     |       ICC world cup 2019: इस विश्व कप में भारत को इंग्लैंड से है सबसे ज्यादा खतरा, पर दूसरे देश का नाम सुनकर चौंक जाएंगे आप - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       सौरव गांगुली ने वर्ल्ड कप में नंबर 4 पोजिशन के लिए सुझाया इस खिलाड़ी का नाम - Hindustan     |       IPL-12: चौथी बार ट्रोफी जीतने उतरेगी मुंबई इंडियंस, संतुलन है टीम की ताकत - Navbharat Times     |       कोलकाता/ मैच में बल्लेबाजी करते हुए गिरा खिलाड़ी, हुई मौत - Dainik Bhaskar     |      

व्यापार


बेंगलुरू डिजायन सेंटर में दोगुनी भर्तियां करेगी अमेरिकी कंपनी रॉकवेल ऑटोमेशन

अमेरिका के मलवौकी की कंपनी रॉकवेल में कुल 23,000 कर्मचारी काम करते हैं और इसका कारोबार 6.7 अरब डॉलर का है। यह औद्योगिक ऑटोमेशन में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है


american-company-rockwell-automation-will-double-recruits-at-the-bangalore-design-center

अमेरिकी कंपनी रॉकवेल ऑटोमेशन अगले कुछ वर्षों में अपने बेंगलुरू सेंटर के डिजायन इंजीनियरों की संख्या दोगुनी करेगी। ऐसा बढ़िया डिजायन किए गए उत्पादों की वैश्विक मांग को पूरा करने के लिए किया जाएगा। औद्योगिक ऑटोमेशन की सबसे बड़ी वैश्विक प्रदाता के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी।

रॉकवेल के एशिया प्रशांत क्षेत्र के क्षेत्रीय विपणन निदेशक जॉन वाट्स ने कहा कि कंपनी के लिए भारत विकास के अवसरों के मामले में चीन के बाद दूसरा सबसे महत्वपूर्ण बाजार है।

कंपनी के बेंगलुरू स्थित डिजायन सेंटर में करीब 600 लोग काम करते हैं, जिसकी संख्या अगले पांच सालों में दोगुनी कर दी जाएगी, ताकि उत्पादन डिजायन, वैश्विक सर्टिफिकेशन और जीवन-चक्र डिजायन की बढ़ती वैश्विक मांग को पूरा किया जा सके।

अमेरिका के मलवौकी की कंपनी रॉकवेल में कुल 23,000 कर्मचारी काम करते हैं और इसका कारोबार 6.7 अरब डॉलर का है। यह औद्योगिक ऑटोमेशन में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है।

वाट्स ने कहा कि भारत में विशाल इंजीनियरिंग प्रतिभा है और उन्होंने कहीं पढ़ा है कि भारत से हर रोज एक जंबो जेट में जितने यात्री होते हैं, उतने इंजीनियर अमेरिका के सिलिकॉन वैली में हवाई जहाज से उतरते हैं। उन्होंने कहा कि भारत में जीवन-चक्र चरण की तुलना में प्रौद्योगिकी के शुरुआती चरण में ही अपनाने की दर '50-50' है।

रॉकवेल ऑटोमेशन इंडिया के प्रबंधक (प्रौद्योगिकी और रणनीतिक भागीदारी) चंद्रमौली के. एल. का कहना है कि उन्होंने भारत में प्रौद्योगिकी को सबसे तेज गति से भी अपनाते देखा है, क्योंकि कई कंपनियां अपना कार्यालय और फैक्ट्रियां मलेशिया एवं अमेरिका में भी स्थापित करती हैं और वे नवीनतम प्रौद्योगिकी को अपनाने की इच्छुक होती हैं। 

उन्होंने कहा कि नवीनतम ऑटोमेशन ज्यादातर बॉयो-प्रोसेसिंग उत्पादों में हो रहा है। वाट्स ने बताया कि रॉकवेल अपने कारोबार की वृद्धि के लिए जिन उद्योगों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है खनिज उद्योग उसमें से एक है।

उन्होंने बताया कि ऑस्ट्रेलिया की कंपनियां रिमोट यूनिट की स्थापना कर रही हैं, ताकि खनन गतिविधियों की निगरानी और नियंत्रण कर सके, क्योंकि दूरदराज की खानों तक प्रबंधक को विमान से ले जाना महंगा पड़ता है।

वहीं, उन्होंने कहा कि भारत के मामले में ऐसा नहीं है, क्योंकि यहां ज्यादातर खदानें आबादी के बीच में ही है। भारत के खनन क्षेत्र ऑटोमेशन को ज्यादातर सुरक्षा पहलू को ध्यान में रखकर अपना रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भारत में कारोबार थोड़ा कठिन है, क्योंकि यहां शुरुआती लागत पर ज्यादा ध्यान दिया है, जबकि उत्पाद के पूरे जीवन-चक्र की लागत को नहीं देखा जाता, जिसमें रॉकवेल की विशेषज्ञता है। वाट्स ने कहा, "हम जानते हैं कि भारतीय ग्राहकों को क्या चाहिए और हम वही तैयार कर रहे हैं।"
 

advertisement