30 साल पुराने मामले में चर्चित पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट को उम्रकैद - Navbharat Times     |       राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद: सरकार रà - NDTV India     |       इंटरनेशनल योग डे: योग करते समय क्या आप भी करते हैं ये 7 बड़ी गलतियां - आज तक     |       हिज्बुल का नया पैंतरा- संगठन में आतंकियों की भर्ती के लिए रखी सुरक्षाबलों पर हमले की शर्त- सूत्र - ABP News     |       UP: इंदिरा नहर में गिरा यात्रियों से भरा मिनी ट्रक, छह बच्चे लापता - Hindustan     |       चंडीगढ़ मेयर राजेश कालिया का आधा कार्यकाल तो सिर्फ विवादों में ही बीत गया, छह महीने बचे - अमर उजाला     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       ICC World Cup 2019: पाकिस्‍तानी कप्‍तान सरफराज की भरे स्‍टेडियम में बेइज्‍जती, फैंस ने मोटा-मोटा कहकर चिढ़ाया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       हार से पाक टीम में फूट: इंजमाम को कहा हाथी, सबसे बड़ा विलेन - cricket world cup 2019 - आज तक     |       महाराष्ट्र में 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाल दिए गए, ताकि गन्ने की कटाई का काम न रुके - दैनिक जागरण     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       भीषण गर्मी का कहर: ...और यहां पानी के लिए ग्रामीणों को बांटे जा रहे टोकन - Navbharat Times     |       दिल्ली से मुंबई सिर्फ 10 घंटे में, कोलकाता 12 घंटे में, ये है रेलवे का 100 दिन का एजेंडा - आज तक     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       फिर ट्रोलर्स के निशाने पर आए इमरान खान, रवींद्रनाथ टैगोर का Quote शेयर करते वक्त की ये बड़ी गलती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खुफिया विभागों की चेतावनी- ISIS ने बदली रणनीति, खतरे में हो सकते हैं भारत-श्रीलंका - NDTV India     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       अगर स्मार्टफोन में बंद हुए गूगल और फेसबुक के ऐप तो पूरा पैसा लौटाएगा हुवावे - Navbharat Times     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       Kabir Singh Box Office Prediction: Shahid के सामने Salman की Bharat, पहले दिन इतनी कमाई का अनुमान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       एक्ट्रेस से सांसद बनीं Nusrat Jahan ने तुर्की में निखिल जैन से की शादी, वीडियो हुआ वायरल - NDTV India     |       शादी के बाद पहली तस्वीर, लाल चूड़ा पहने, सिंदूर लगाए दिखीं चारू असोपा - आज तक     |       World Cup 2019: ऋषभ पंत के वर्ल्ड कप में चयन से खुश नहीं हैं उनके कोच! खुद बताई वजह - अमर उजाला     |       वर्ल्ड कप/ ऑस्ट्रेलिया-बांग्लादेश के बीच मैच आज, दोनों टीमें 12 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: पहले इंग्लैंड ने पीटा, अब आपस में भिड़ी अफगानिस्तान की टीम! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       [VIDEO] Ranveer Singh hugs a Pakistani fan after India's win at World Cup 2019, says, 'Don't be disheartened' - Times Now     |      

गुड न्यूज


अम्मा - द डॉग लेडी | कूड़ा बीनने वाली एक महिला 400 कुत्तों को अपने बच्चों की तरह पाल रही है

परेशानियां चाहे जितनी आई हों, लेकिन अम्मा का कुत्तों से लगाव कभी कम नहीं हुआ और देखते ही देखते कुत्तों की संख्या भी बढ़ती चली गई। आज अम्मा लगभग 400 कुत्तों की देखभाल खुद से करती हैं


amma-the-dog-lady-a-rag-picker-feeding-and-caring-400-dogs-like-her-son

दक्षिणी दिल्ली के साकेत में स्थित पीवीआर के पास एक झोपड़ी है। फटे-पुराने कपड़ों से ढकी यह झोपड़ी, हिन्दुस्तान की किसी भी मलिन बस्ती में रहने वाले गरीब के घर की तरह ही दिखती है, लेकिन इस झोपड़ी की एक खास बात है कि यहां दिन भर सैकड़ों कुत्तों का डेरा जमा रहता है।

जानते हैं क्यों! क्योंकि इस झोपड़ी में रहती हैं, इन कुत्तों को अपने बच्चों की तरह पालने वाली, 65 साल की एक बूढ़ी अम्मा जो दिनभर कूड़ा बीनती हैं और बमुश्किल 200 रुपये प्रति दिन कमा पाती हैं। लेकिन इतनी कम कमाई का भी अधिकतर हिस्सा अम्मा, अपने पड़ोस के कुत्तों पर खर्च कर देती हैं। जी हां, मानवता के बड़े-बड़े मानकों को भी पार कर जाने वाली यह मार्मिक कहानी है, रैगपिकर प्रतिमा देवी की, जो लगभग 400 कुत्तों का खयाल रखती हैं।

प्रतिमा देवी, जिन्हें लोग अम्मा कहकर बुलाते हैं, 30 साल पहले जब दिल्ली आई थीं, तो उन्होंने लोगों के घरों में खाना बनाने का काम शुरू किया। कुछ साल बाद, उन्होंने साकेत के पी.वी.आर अनुपम कॉम्प्लेक्स के पास, एक पान-सिगरेट की दुकान शुरू कर दी और यही वह समय था, जब उन्होंने आस-पास के कुत्तों की देखभाल करनी शुरू की। 

लेकिन, एक दिन एम.सी.डी ने उनकी दुकान गिरा दी, तो उन्होंने जीवन-यापन के लिए कूड़ा बीनने का काम शुरू किया। आस-पास की दुकानों और कार्यालयों से, कचरा इकट्ठा करने के बाद, वह उसे छांट कर बेच देती हैं, इससे जो भी आमदनी होती है, उसी से वह कुत्तों की देखभाल करती हैं।

परेशानियां चाहे जितनी आई हों, लेकिन अम्मा का कुत्तों से लगाव कभी कम नहीं हुआ और देखते ही देखते कुत्तों की संख्या भी बढ़ती चली गई। आज अम्मा लगभग 400 कुत्तों की देखभाल खुद से करती हैं। इनमें से लगभग 150  कुत्ते तो अम्मा के छोटे से घर में ही रहते हैं और बाकी आस-पास की जगहों पर घुमते रहते हैं।

पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम की रहने वाली प्रतिमा की शादी बहुत कम उम्र में हो गई थी, लेकिन वैवाहिक दुर्व्यवहार से तंग आकर, बेहतर जीवन की तलाश में, वह दिल्ली भाग आई थीं।

यहां आकर, प्रतिमा को जीवन की नई उम्मीद और अभिलाषा मिली और उन्होंने कुत्तों की देखभाल में अपना खोया सुकून पाया। आम लोगों के लिए भले ही वह कुत्तें हों, लेकिन प्रतिमा के लिए, वे उनका पूरा परिवार हैं। प्रतिमा कहती हैं कि अपने गांव में भी उन्हें कुत्तों से खासा लगाव था।

प्रतिमा अपने कुत्तों की हर जरुरत का पूरा ध्यान रखती हैं। वह उन्हें दिन में दो बार खाना खिलाती हैं, शाम को दूध देती हैं और उनके लिए हर तरह का इलाज व टीकाकरण का ध्यान रखती हैं। प्रतिमा, कुत्तों को स्वास्थ्य से संबंधित किसी भी समस्या के लिए, फ्रेंडिकोस नामक एक पशु कल्याण संगठन ले जाती हैं। प्रतिमा को इस संगठन से पूरा समर्थन भी मिल रहा है। 

अम्मा की यह खूबसूरत मदद की कहानी, अब दूर-दूर तक पहुंच गयी हैं। बहुत से लोग उनसे मिलने और उनकी मदद करने भी आते हैं। कई लोग अम्मा के पास आकर, कुत्तों को पालने के लिए हाथ बढ़ाते हैं और अम्मा खुशी-खुशी उन लोगों को अनुमति दे देती है, इस तरह, अब कई कुत्तों को उनके अपने घर मिल गए हैं।

प्रतिमा के पास अपनी खुद की दवाएं खरीदने या टूटी हुई छत को ठीक कराने के लिए पैसा नहीं हैं, लेकिन फिर भी वह इन कुत्तों की देखभाल करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं।

लेकिन प्रतिमा गरीब नहीं हैं, बल्कि हम तो प्रतिमा को सबसे अमीर कह सकते हैं, क्योंकि उन्होंने उन बेसहारा कुत्तों की मदद करने के लिए, अपने अमीर होने का इंतजार नहीं किया। 

advertisement