मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सचिवालय में मिर्च पाउडर फेंकने से पहले शख्स ने कहा- 'आप ही से उम्मीद है'     |       हल्द्वानी निकाय चुनाव नतीजे Live: 29 सीटों पर निर्दलीय, 12 पर BJP जीती     |       ओडिशा / महानदी पर बने पुल से नीचे गिरी बस, 30 यात्री सवार थे; 7 की मौत     |       जाको राखे साइयांः बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, नहीं आई एक भी खरोंच     |       दिल्ली में पकड़ा गया हिज्‍बुल का आतंकी, SI इम्तियाज की हत्या में था शामिल     |       दिल्ली में दो आतंकियों के घुसने की आशंका, अलर्ट पर पुलिस- जारी की फोटो     |       आम्रपाली ग्रुप के अधूरे प्रोजेक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, नजरबंद हैं कंपनी के तीनों निदेशक     |       दीपिका रणवीर की शादी का बिग फोटो एलबम, हल्दी, मेंहदी, डांस और रस्म की तस्वीरें     |       सोशल मीडिया / ब्राह्मण विरोधी पोस्टर थामकर विवादों में आए ट्विटर के सीईओ, कंपनी ने माफी मांगी     |       फैक्ट चेक: नहीं, MP के CM शिवराज सिंह चौहान नॉन-वेज नहीं खा रहे हैं!     |       मिल्‍खा सिंह ने भी दौड़ना बंद किया था मैडम, थैंक यू- सुषमा स्वराज को पति का जवाब     |       दिल्ली / सिख विरोधी दंगों से जुड़े मामलों में पहली बार किसी दोषी को मौत की सजा सुनाई गई     |       ICC में हारा पाकिस्तान, अब खर्च वसूलने को भारत करेगा केस     |       परफॉर्मेंस पर ममता की खिंचाई के बाद मंत्री ने दिया कैबिनेट से इस्तीफा     |       ब्रजेश ठाकुर की करीबी मधु को CBI ने हिरासत में लिया, पूछताछ जारी     |       अयोध्या विवाद: कानून बनाकर हल निकालने वाले बयान से पलटे इकबाल अंसारी     |       भारत-रूस के बीच दो युद्धपोत बनाने का करार, अमेरिकी धमकियों के बावजूद बढ़ा सैन्य सहयोग     |       मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव में गठबंधन करके BSP को खत्म करना चाहती थी कांग्रेस- मायावती     |       सरकार की इस स्कीम में 10 हजार रुपए तक मिल सकती है पेंशन, आप भी उठा सकते हैं फायदा     |       BJP को कश्मीर में बड़ा झटका, लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश नहीं बनाया तो सांसद ने दिया इस्तीफा     |      

साहित्य/संस्कृति


पानी प्रणय पक्ष 

यह कविता माटी और पानी के प्रणय संबंध को सामने रखती है।


arun-tiwari-poem-water-loving-party

आतुर जल बोला माटी से
मैं प्रकृति का वीर्य तत्व हूं,
तुम प्रकृति की कोख हो न्यारी।
इस जगती का पौरुष मुझमें,
तुममें रचना का गुण भारी।
नर-नारी सम भोग विदित जस,
तुम रंग बनो, मैं बनूं बिहारी।
आतुर जल बोला माटी से....

न स्वाद गंध, न रंग तत्व,
पर बोध तत्व है अनुपम मेरा।
भूरा, पीला, लाल रज सुंदर,
कहीं चांदी सा रंग तुम्हारा।
जस चाहत, तस रूप धारती
कितनी सुंदर देह तुम्हारी।
आतुर जल बोला माटी से....

चाहे इन्द्ररूप, चाहे ब्रह्मरूप, चाहे वरुणरूप,
जो रूप कहो सो रुप मैं धारूं।
जैसा रास तुम्हे हो प्रिय,
तैसी कहो करुं तैयारी।
करता हूं प्रिया प्रणय निवेदन,
चल मिल रचै सप्तरंग प्यारी।
आतुर जल बोला माटी से....

प्यारी मेरा नम तन पाकर,
उमग उठेगी देह तुम्हारी,
अंगड़ाई लेगा जब अंकुर,
सूरज से कुछ विनय करुंगा,
हरित ओढ़नी मैं ला दूंगा,
बुआ हवा गायेगी लोरी,
आतुर जल बोला माटी से....

नन्हे-नन्हे हाथ हिलाकर
चहक उठेगा शिशु तुम्हारा,
रंग-बिरंगे पुष्प सजाकर
जब बैठोगी तुम मुस्काकर
हर्षित होगी दुनिया सारी।
कितनी सुंदर चाह हमारी।
आतुर जल बोला माटी से....

जब देह क्षीण होगी प्रकृति की,
यह चाहत ही आस बनेगी,
हरित ओढ़नी सांस बनेगी।
मैं प्रवाह बन फिर बरसूंगा,
तुम फिर बन जाना कोख कुंवारी,
यूं चलती रहेगी यारी हमारी,
आतुर जल बोला माटी से....

advertisement

  • संबंधित खबरें