17वीं लोकसभा के पहले सत्र में PM मोदी ने ली सांसद के रूप में शपथ - NDTV India     |       पश्चिम बंगाल: बगैर मीडिया के ममता बनर्जी से मिलने को हड़ताली डॉक्टर्स राजी - आज तक     |       पाकिस्तान ने दी भारत को आतंकी हमले की सूचना, कश्मीर में हाई अलर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है लीची, विटामिन सी और बी के साथ ये पौष्टिक तत्व मौजूद - अमर उजाला     |       दिल्ली: AIIMS के डॉक्टरों ने वापस ली हड़ताल, सोमवार सुबह 9 बजे लौटेंगे काम पर - आज तक     |       World Cup 2019: बिना आउट हुए ही चलते बने कोहली, ड्रेसिंग रूम में जाकर निकाली भड़ास - अमर उजाला     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खबरदार: डॉक्टरों की मांगे स्वीकारने के बाद भी 'जिद' पर अड़ीं ममता? - आज तक     |       Monsoon Updates: 2-3 दिनों में आगे बढ़ेगा मानसून, जानें दिल्‍ली में कैसा रहेगा मौसम - Times Now Hindi     |       पेड़ में उभरी भगवान गणेश की आकृति, लोगों ने बना दिया मंदिर - Navbharat Times     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पाक ने कट्टरपंथी अधिकारी फैज हमीद को चुना आईएसआई का चीफ, मुनीर को 8 महीने में ही हटाया - Navbharat Times     |       पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, पुंछ सेक्टर में दागे मोर्टार, तीन लोग जख्मी - आज तक     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       दक्षिण अमेरिका के तीन देश अंधेरे में डूबे, गलियों और सड़कों पर सन्नाटा पसरा - Hindustan हिंदी     |       आ रही है टाटा की सबसे प्रीमियम हैचबैक कार Altroz, मारुति Baleno से होगा मुकाबला - अमर उजाला     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       SBI : 1 जुलाई से लाखों लोगों को मिलेगा फायदा, बैंक देगा सस्ते होम लोन का विकल्प - Hindustan     |       सोना महापात्रा ने सलमान खान को बताया पेपर टाइगर - नवभारत टाइम्स     |       जब Shilpa Shetty मेरे एक्स बॉयफ्रेंड Akshay Kumar को डेट रही थीं हम तब भी दोस्त थे : Raveena Tandon - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       राजस्थान की सुमन राव बनीं Miss India World 2019, छत्तीसगढ़ की शिवानी जाधव के नाम रही यह उपलब्धि - Lokmat News Hindi     |       दिशा पाटनी के साथ रेस्टोरेंट के बाहर स्पॉट हुए टाइगर, एक्ट्रेस को भीड़ से बचाने के लिए किया ये काम - अमर उजाला     |       वर्ल्ड कप/ वेस्टइंडीज-बांग्लादेश मैच आज, इंग्लैंड में दोनों टीमें 15 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       पाक के खिलाफ भारत की जीत को अमित शाह ने बताया 'एक और स्ट्राइक' तो केजरीवाल बोले- हिंदुस्तान को... - NDTV India     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |      

राजनीति


नए खेल मंत्री से बेहतर बदलावों और नई नीतियों की अपेक्षा कर रहा खेल जगत

नरेंद्र मोदी प्रचंड बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में आए तो खेल जगत को उम्मीद थी कि खेलों से जुड़े किसी व्यक्ति को ही खेल मंत्रालय का जिम्मा सौंपा जाएगा लेकिन अपने हैरान करने वाले फैसलों के लिए विख्यात प्रधानमंत्री ने यह जिम्मेदारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में पूर्वोत्तर का चेहरा कहे जाने वाले युवा नेता किरण रिजिजू को यह जिम्मेदारी सौंपकर सबको हैरान कर दिया।


better-changes-than-new-sports-minister-and-expecting-new-policies

खेल मंत्रालय हमेशा से स्वतंत्र प्रभार में रहा है। भाजपा के नेतृत्व वाली पुरानी सरकार में कर्नल (रिटायर्ड) राज्यवर्धन सिंह राठौर थे। वह जयपुर से चुनाव जीते तो लगा कि दोबारा वही खेल मंत्री बनाए जाएंगे। यह भी आशा थी कि अगर प्रधानमंत्री इस महकम में बदलाव करेंगे तो दिल्ली से चुने गए पूर्व क्रिकेटर गौतम गम्भीर या बीसीसीआई अध्यक्ष रह चुके हिमाचल के सांसद अनुराग ठाकुर को यह जिम्मेदारी सौंपी जाएगी, लेकिन हुआ इसके उलट।

रिजिजू एनडीए सरकार की पहली पारी में गृह राज्य मंत्री रह चुके हैं और खेलों से भी जुड़े रहे हैं। उन्हें कई बार खेल संबंधी कार्यक्रमों में शिरकत करते देखा गया। अब जब रिजिजू ने यह कार्यभार संभाल लिया तो खेल जगत आस लगाए बैठा है कि वह अपने पूर्ववर्ती के अच्छे कार्यों को आगे बढ़ाएंगे और कुछ नई खेल नीतियां लेकर आएंगे, जिससे खेल और खिलाड़ियों का भला हो सके। 

कई खिलाड़ियों और अधिकारियों ने नए खेल मंत्री से मिलने का समय मांगा है ताकि उनके सामने वे अपनी बात रख सकें और परेशानियों से खेल मंत्री को अवगत करा सकें। साथ ही सुझाव भी दे सकें। 

इनमें से ही एक हैं भारत के पुरुष मुक्केबाज मनोज कुमार। मनोज ने आईएएनएस से कहा कि उन्हें रिजिजू से काफी उम्मीदें हैं और उन्होंने खेल मंत्री से मिलने का समय भी मांगा है। मनोज ने कहा, '' मुझे रिजिजू से काफी उम्मीदें हैं। मैंन अपने बड़े भाई से मेल करवाया है और मिलने का समय मांगा है। अभी तक तो कोई जबाव नहीं आया, लेकिन उम्मीद है आ जाएगा। मैं अपने लिए कुछ नहीं मांगना चाहता। मैं सभी खिलाड़ियों के भले के लिए चाहता हू कि जिस तरह दिल्ली में हर राज्य के भवन है, उसी तरह खेल भवन भी बनाया जाए और उसमें सभी सुविधाएं हो ताकि खिलाड़ियों के लिए अच्छा होगा क्योंकि जब भी कोई बड़े खेलों के लिए खिलाड़ियों को बाहर जाना पड़ता तो सभी दिल्ली आते हैं होटलों में रूकते हैं। मैं चाहता हूं कि खेल भवन हो जहां अच्छा खाना हो, स्वीमिंग पूल हो, वेट ट्रेनिंग की सुविधाएं हों ताकि खिलाड़ी जब बाहर जाएं तो एक-दो दिन वहां कर रुक कर जाएं। मैंने यह बात पूर्व खेल मंत्री (अब असम के मुख्यमंत्री) सवार्नंद सोनेवाल जी के सामने भी रखी थी लेकिन तब से कोई कार्रवाई नहीं हुई।''

वहीं, राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली महिला पहलवान बबीता फोगाट को भी रिजिजू से उम्मीद है कि वह खिलाड़ियों के लिए बेहतर करेंगे और खासकर उनकी स्वास्थ बीमा तथा फिटनेस संबंधी जरूरतों का ध्यान देंगे। 

बबीता ने कहा, मुझे उम्मीद है कि वह खिलाड़ियों के पहले से बेहतर काम करेगें और सभी प्रकार की सुविधाएं तथा मौके मुहैया कराएंगे। निजी तौर पर मैं चाहूंगी कि वह खिलाड़ियों की हेल्थ पर ज्यादा ध्यान दें ताकि जब कोई चोटिल हो तो लाइफ इंश्योरेंस उसे मिलना चाहिए क्योंकि खिलाड़ी को चोटें लगती रहती हैं तो अगर उसके पास बीमा होगा तो खिलाड़ी को ईलाज कराने में फायदा होगा। वहीं महिला खिलाड़ियों के लिए अलग से खेल अकादमी वो बना सकें तो बेहतर होगा साथ ही उन्हें जमीनी स्तर पर भी देखना चाहिए, क्योंकि खिलाड़ी जमीनी स्तर पर ही निकल कर आएंगे। अगर रिजिजू जमीनी स्तर पर काम करेंगे, अच्छी सुविधाएं देंगे तो अच्छे खिलाड़ी निकलेंगे।

वहीं, आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में पिछले साल खेले गए राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने वाले निशानेबाज रवि कुमार को भी रिजिजू से बेहतर भविष्य मिलने की उम्मीद है लेकिन उनका साथ ही कहना है कि चूंकि ओलम्पिक पास में हैं और राठौर चीजों से वाकिफ थे, ऐसे में अगर राठौर ओलम्पिक तक बने रहते तो बेहतर होता। 

रवि ने कहा, मैं एक-दो दिन पहले ही भारत लौटा हूं। मुझे पता चला कि रिजिजू को नया खेल मंत्री बनाया गया है। मुझे उम्मीद है कि राठौर जी ने जिस तरह के खेलों इंडिया और टॉप्स स्कीम को नए आयाम दिए वही रिजिजू भी करेंगे। साथ ही कुछ नई नीतियां लेकर आएंगे जिससे सभी को फायदा होगा और देश में खेल का माहौल बनेगा। हां, अगर राठौर जी ओलम्पिक तक बने रहते तो अच्छा होता क्योंकि सभी कुछ उनकी जानकारी में था कि क्या चल रहा, उन्हें खिलाड़ियों के बारे में भी पता था, उन्हें पता था कि कौन खिलाड़ी कहां है, तो अगर वह होते तो थोड़ा बेहतर होता। ''

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कोच हरेंदर सिंह ने हालांकि इस बात को नकारा है कि रिजिजू को दिक्कत आएगी क्योंकि कोच के मुताबिक रिजिजू पहले भी मंत्रालय संभाल चुके हैं, इसलिए उन्हें अनुभव है कि क्या-कैसे होता है। 

हरेंदर ने कहा, राठौर जी ने काफी अच्छा काम किया था। चाहे वो खेलो इंडिया हो या टॉप्स हो। रिजिजू ने अपने पिछले मंत्रालय में भी शानदार काम किया था। वह युवा हैं। डायनामिक हैं। बिल्कुल राठौर जी की तरह। इसलिए मुझे लगता है कि जो चीजें अधूरी रह गई थीं उनको पूरा करने में रिजिजू पूरी तरह से सक्षम हैं। वह खुद फुटबाल खेल चुके हैं। वह युवा हैं यह हमारे लिए अहम है। एक युवा देश होने के नाते युवा खेल में आएं और खेल में आगे बढ़े। राठौर काफी काबिल थे लेकिन अब रिजिजू हैं और मुझे उन पर पूरा भरोसा है कि वह अच्छा काम करेंगे। रिजिजूजानते हैं कि मंत्रालय कैसे चलाते हैं। साई और महासंघों के साथ रिजिजू बेहतर करेंगे।

वहीं, भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) के सचिव आर.के. सचेती ने भी उम्मीद जताई है कि अतीत में जो कुछ मुद्दे खेल मंत्रालय के साथ उठे थे उनका रिजिजू जी समाधान करेंगे। 

सचेती ने कहा, ''हमें उनसे काफी उम्मीदे हैं। विश्व चैम्पियनशिप के समय जो मुद्दे कोसोवो को लेकर उठे थे, हमें उम्मीद है कि वह अब उस तरह के मुद्दे सुलझा लिए जाएंगे। वह खुद भी खिलाड़ी रहे हैं और खेलों से जुड़े रहे हैं। रिजिजू को पैशन है। उनकी रूचि खेलों में है। हम मिलकर काम करेंगे और उम्मीद है कि टोक्यो ओलम्पिक-2020 में हम अच्छा करेंगे।''

रिजिजू की नियुक्ति और राठौर को खेल मंत्री बनाए रखने के सवाल पर सचेती ने कहा, ''जो विभाग हमारा नहीं है, उस पर मैं कुछ टिप्पणी नहीं कर सकता। यह सिस्टम है। जो चीजें राठौर साहब ने चालू की थीं वह चलेंगी और हमारे सामने परिणाम आएंगे।''

भारतीय फुटबाल टीम के कप्तान सुनील छेत्री, निशानेबाज अंजुम मोदगिल, धाविका दुती चंद, टेबल टेनिस स्टार मौमा दास, तीरंदाज अमन सैनी जैसे केई अन्य खिलाड़ियों को भी रिजिजू से सकारात्मक बदलाव और बेहतर खेल माहौल तैयार करने की उम्मीदे हैं। 

रिजिजू 2014 से सत्तासीन मोदी सरकार में पांचवें खेल मंत्री हैं। सबसे पहले मोदी ने यह जिम्मेदारी सोनोवाल को दी थी। इसके बाद अल्पकाल के लिए जीतेंद्र सिंह खेल मंत्री बनाए गए। इसके बाद मंत्रीमंडल में जो बदलाव हुए, उसके बाद विजय गोयल खेल मंत्री बने और फिर अपने पहले कार्यकाल के अंतिम साल में मोदी ने एथेंस ओलम्पिक में निशानेबाजी में रजत जीतने वाले राठौर को यह जिम्मेदारी सौंपी थी।

advertisement