राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद: सरकार रà - NDTV India     |       International Yoga Day 2019: योग के रंग में रंगी रांची, आज आएंगे पीएम मोदी Ranchi News - दैनिक जागरण     |       UP: इंदिरा नहर में गिरा यात्रियों से भरा मिनी ट्रक, छह बच्चे लापता - Hindustan     |       फ्यूल के लिए... इसका हेल्मेट उसके सर - नवभारत टाइम्स     |       हिज्बुल का नया पैंतरा- संगठन में आतंकियों की भर्ती के लिए रखी सुरक्षाबलों पर हमले की शर्त- सूत्र - ABP News     |       चंडीगढ़ मेयर राजेश कालिया का आधा कार्यकाल तो सिर्फ विवादों में ही बीत गया, छह महीने बचे - अमर उजाला     |       CWC-2019: न्यूजीलैंड के इस बल्लेबाज ने तोड़ा रोहित शर्मा का बड़ा रिकॉर्ड - आज तक     |       विश्व कप 2019: जानें, सेमीफाइल की जंग में कौन किस पायदान पर और कौन हुआ बाहर - Navbharat Times     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       महाराष्ट्र में 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाल दिए गए, ताकि गन्ने की कटाई का काम न रुके - दैनिक जागरण     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       भीषण गर्मी का कहर: ...और यहां पानी के लिए ग्रामीणों को बांटे जा रहे टोकन - Navbharat Times     |       3 कॉल गर्ल्स से 9 हजार में सौदा, नोएडा के फार्महाउस में 9 ने किया रेप - Crime images AajTak - आज तक     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       फिर ट्रोलर्स के निशाने पर आए इमरान खान, रवींद्रनाथ टैगोर का Quote शेयर करते वक्त की ये बड़ी गलती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खुफिया विभागों की चेतावनी- ISIS ने बदली रणनीति, खतरे में हो सकते हैं भारत-श्रीलंका - NDTV India     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       अगर स्मार्टफोन में बंद हुए गूगल और फेसबुक के ऐप तो पूरा पैसा लौटाएगा हुवावे - Navbharat Times     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       Kabir Singh Box Office Prediction: Shahid के सामने Salman की Bharat, पहले दिन इतनी कमाई का अनुमान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       एक्ट्रेस से सांसद बनीं नुसरत जहां ने निखिल जैन से की शादी, Photo और Video हुए वायरल - NDTV India     |       सुष्मिता सेन की मां ने आरती उतारकर नई नवेली दुल्हन चारू असोपा का कराया गृह प्रवेश, देखिए वीडियो - अमर उजाला     |       टीम इंडिया को लगा बड़ा झटका,ये खिलाडी हुआ वर्ल्ड कप से बाहर - AKSHAR VISHV     |       ICC World Cup 2019 AUSvBAN: पाकिस्तान से आगे निकला बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया को भी चुनौती देने को तैयार - Hindustan     |       [VIDEO] Ranveer Singh hugs a Pakistani fan after India's win at World Cup 2019, says, 'Don't be disheartened' - Times Now     |       IND vs PAK: भारत से मिली हार के बाद PCB प्रमुख ने सरफराज अहमद को किया फोन, कही यह बात.. - NDTV India     |      

राष्ट्रीय


बड़ा सवाल, सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण बाद क्या आयकर छूट भी मिलेगी!

सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण वाले विधेयक में प्रावधान है कि सामान्य वर्ग के जिन परिवारों की वार्षिक आय आठ लाख रुपये तक है, उनके बच्चों को इस आरक्षण का लाभ मिलेगा। अभी तक सरकारी सुविधाओं को लेकर आयकर की छूट सीमा अर्थात ढाई लाख रुपये को आधार बनाया जाता था


big-question-will-general-category-getting-reservation-will-get-income-tax-relaxation-too

देश के लगभग हर हिस्से में आयकर न देने वालों को सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। अब सरकार ने सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का ऐलान किया है। यह लाभ उन लोगों को मिलेगा जिनकी वार्षिक आय आठ लाख रुपये तक है। अब सवाल उठ रहा है कि आठ लाख रुपये तक कमाने वाले गरीब माने जाएंगे तो क्या आयकर से छूट की सीमा भी बढ़ेगी। 

सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण वाले विधेयक में प्रावधान है कि सामान्य वर्ग के जिन परिवारों की वार्षिक आय आठ लाख रुपये तक है, उनके बच्चों को इस आरक्षण का लाभ मिलेगा। अभी तक सरकारी सुविधाओं को लेकर आयकर की छूट सीमा अर्थात ढाई लाख रुपये को आधार बनाया जाता था। अब सरकार आठ लाख रुपये की वार्षिक आय तक के लोगों को आरक्षण की सुविधा देने का प्रावधान करने जा रही है। 

सामाजिक कार्यकर्ता मनोज चौबे का कहना है, "आर्थिक तौर पर सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण दिए जाने की व्यवस्था से देश में गरीबी की परिभाषा ही बदल जाएगी, क्योंकि आयकर विभाग ढाई लाख रुपये से अधिक वार्षिक आय वालों से कर वसूलता है। अब आठ लाख वार्षिक आय वाले आरक्षण की सीमा में आएंगे। ऐसे में सवाल उठेगा कि क्या सरकार आयकर छूट की सीमा बढ़ाने वाली है।"

चौबे आगे कहते हैं, "नई व्यवस्था से देश में गरीबों के दो वर्ग हो जाएंगे। एक ढाई लाख रुपये तक का और दूसरा आठ लाख रुपये वाला। सरकार के इस फैसले पर शक भी होता है, क्योंकि अभी सरकारी योजनाओं का लाभ उन लोगों को मिलता है, जिनकी वार्षिक आय ढाई लाख रुपये से कम है। नई व्यवस्था से इस सुविधा पर भी संकट मंडरा सकता है। क्योंकि आर्थिक आधार पर आरक्षण के लिए आय की सीमा तय किए जाने से गरीबी की नई परिभाषा तय करनी होगी।"

आर्थिक मामलों के जानकार निमिष पारिख का कहना है, "आयकर स्लैब बढ़ाना सरकार के लिए आसान नहीं है, क्योंकि पेट्रोल, गैस, खाद आदि पर जो सब्सिडी दी जाती है, वह प्रत्यक्ष कर से आई रकम से ही संभव है। अगर सरकार कुछ हजार की ही आयकर छूट की सीमा बढ़ाती है तो राजस्व पर करोड़ों-अरबों करोड़ का असर पड़ता है, लिहाजा आर्थिक आधार पर आरक्षण में कुछ शर्ते भी होंगी, जो आने वाले समय में सामने आएंगी।"

सामाजिक कार्यकर्ता रोली शिवहरे का कहना है, "सरकार का यह फैसला समझ से परे है, क्योंकि देश के उच्च मध्यम वर्ग की वार्षिक आय आठ लाख रुपये के आसपास होती है। इसमें तो देश की 85 प्रतिशत से ज्यादा आबादी आ जाएगी। सरकार ने यह फैसला क्यों लिया है, यह समझना आसान नहीं है। सरकार क्या राजनीतिक लाभ लेना चाहती है, वोट पाने का हथकंडा है अथवा गरीबी से ध्यान हटाने का प्रयास है। अगर वास्तव में सरकार इस व्यवस्था को लागू करना चाहती है तो उसे योजनाओं में आमूल-चूल बदलाव लाना होगा।"

शिवहरे आगे कहती हैं, "मुझे तो यह सिर्फ ध्यान भटकाने का हथियार नजर आता है, क्योंकि इस फैसले से किसे लाभ होगा, कहा नहीं जा सकता। नौकरियां हैं नहीं, आरक्षण से क्या होगा। सरकार को आरक्षण के लिए आठ लाख रुपये की आय सीमा तय करने पर आयकर छूट की सीमा भी बढ़ानी पड़ सकती है, जो आर्थिक तौर पर खतरे की घंटी हो सकती है।"

advertisement