17वीं लोकसभा के पहले सत्र में PM मोदी ने ली सांसद के रूप में शपथ - NDTV India     |       पश्चिम बंगाल: बगैर मीडिया के ममता बनर्जी से मिलने को हड़ताली डॉक्टर्स राजी - आज तक     |       बिहार में 90 से ज़्यादा बच्चों की मौत की वजह लीची नहीं ये है - News18 इंडिया     |       पाकिस्तान ने दी भारत को आतंकी हमले की सूचना, कश्मीर में हाई अलर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       बिहार: मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 100 बच्चों की मौत - Navbharat Times     |       World Cup 2019: बिना आउट हुए ही चलते बने कोहली, ड्रेसिंग रूम में जाकर निकाली भड़ास - अमर उजाला     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खबरदार: डॉक्टरों की मांगे स्वीकारने के बाद भी 'जिद' पर अड़ीं ममता? - आज तक     |       Monsoon Updates: 2-3 दिनों में आगे बढ़ेगा मानसून, जानें दिल्‍ली में कैसा रहेगा मौसम - Times Now Hindi     |       पेड़ में उभरी भगवान गणेश की आकृति, लोगों ने बना दिया मंदिर - Navbharat Times     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पाक ने कट्टरपंथी अधिकारी फैज हमीद को चुना आईएसआई का चीफ, मुनीर को 8 महीने में ही हटाया - Navbharat Times     |       पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, पुंछ सेक्टर में दागे मोर्टार, तीन लोग जख्मी - आज तक     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       दक्षिण अमेरिका के तीन देश अंधेरे में डूबे, गलियों और सड़कों पर सन्नाटा पसरा - Hindustan हिंदी     |       आ रही है टाटा की सबसे प्रीमियम हैचबैक कार Altroz, मारुति Baleno से होगा मुकाबला - अमर उजाला     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       SBI : 1 जुलाई से लाखों लोगों को मिलेगा फायदा, बैंक देगा सस्ते होम लोन का विकल्प - Hindustan     |       सोना महापात्रा ने सलमान खान को बताया पेपर टाइगर - नवभारत टाइम्स     |       जब Shilpa Shetty मेरे एक्स बॉयफ्रेंड Akshay Kumar को डेट रही थीं हम तब भी दोस्त थे : Raveena Tandon - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       राजस्थान की सुमन राव बनीं Miss India World 2019, छत्तीसगढ़ की शिवानी जाधव के नाम रही यह उपलब्धि - Lokmat News Hindi     |       दिशा पाटनी के साथ रेस्टोरेंट के बाहर स्पॉट हुए टाइगर, एक्ट्रेस को भीड़ से बचाने के लिए किया ये काम - अमर उजाला     |       वर्ल्ड कप/ वेस्टइंडीज-बांग्लादेश मैच आज, इंग्लैंड में दोनों टीमें 15 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       पाक के खिलाफ भारत की जीत को अमित शाह ने बताया 'एक और स्ट्राइक' तो केजरीवाल बोले- हिंदुस्तान को... - NDTV India     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |      

ब्लॉग


कम्युनिस्ट आंदोलन और सामाजिक न्याय की अवधारणा

इस देश की कम्युनिस्ट पार्टियों पर हमेशा से सवर्ण वामपंथ का वाहक होने के आरोप लगते रहे हैं। इसका कारण यह है कि उन्होंने जाति के प्रश्न पर लगभग कोई काम नहीं किया। वामदलों के सांगठनिक ढांचे में भी लगभग सवर्णों का ही दबदबा रहा है


communist-movement-and-social-justice

इस देश की कम्युनिस्ट पार्टियों पर हमेशा से सवर्ण वामपंथ का वाहक होने के आरोप लगते रहे हैं। इसका कारण यह है कि उन्होंने जाति के प्रश्न पर लगभग कोई काम नहीं किया। वामदलों के सांगठनिक ढांचे में भी लगभग सवर्णों का ही दबदबा रहा है।

भारत के कॉमरेड आर्थिक ग़ैर बराबरी ख़त्म करने की बात तो करते हैं, लेकिन सामाजिक ग़ैर बराबरी का ख़ात्मा करने तथा इसे फ़लीभूत करने के आरक्षण और सामाजिक न्याय जैसे हथियारों के प्रति उनकी नीतिगत और ज़मीनी उदासीनता सभी प्रगतिशील लोगों को खलती रही है।

ये अलग बात है कि तमाम प्रश्नों पर साम्यवादियों से वैचारिक निकटता के चलते अकादमिक विद्वान वाम राजनीति के इस खालीपन को नज़रंदाज़ ही करते आये हैं।

जाति भारतीय समाज की एक कड़वी सच्चाई है। जाति के प्रश्न पर काम किये बिना भारत की बुनियादी समस्याओं का कोई भी ठोस हल प्रस्तुत करना संभव नहीं है। इसे डॉ अम्बेडकर और डॉ राम मनोहर लोहिया जैसे नेता अच्छी तरह समझते थे, इसलिए उनकी राजनीतिक विरासत आज साम्यवादियों के मुक़ाबले ज़मीनी तौर पर ज़्यादा प्रासंगिक है।

मेरा मानना है कि भारत में कम्युनिस्ट पार्टियों के लगातार सिकुड़ते जाने और उनकी राजनीति के दिन-ब-दिन अप्रासंगिक होते जाने की तमाम वजहों में से एक बड़ी वजह सामाजिक न्याय के आंदोलन के प्रति उनकी उदासीनता है।

आज 21वीं सदी के भारत में राजनीतिक तौर पर प्रासंगिक बने रहने के लिए सोशल जस्टिस के अवयवों को अपनी नीतियों और कार्यक्रमों में शामिल करने की अनिवार्यता का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि कभी आरक्षण और भारत के प्रगतिशील संविधान का विरोध करने वाले संघ परिवार ने दिखाने के लिए सही, सामाजिक न्याय और अंबेडकर को अपनाना शुरू कर दिया है।

देश के शीर्ष पद पर पहुँचे उसके सबसे सफ़ल स्वयंसेवक नरेंद्र मोदी ताल ठोककर कहते हैं कि वे आरक्षण पर आँच नहीं आने देंगे। वोट बटोरने की नीयत से ही सही, उनके यहाँ अलग-अलग जातियों और वर्गों के तमाम प्रकोष्ठ बने हैं। इन सबके बावजूद हिंदुस्तान के कॉमरेडों ने जाति और सामाजिक न्याय के प्रश्न पर भारत के समाज को अपनी ओर से कोई ठोस समझ देने की पहल नहीं की।

इसके बजाय वे अक्सर हिंदुस्तानी समाज की 'टिपिकल अपर कास्ट मानसिकता' से उपजे इस वाक्य का पॉलिटिकल स्लोगन के तौर पर सहारा ले कर बच निकलते हैं कि जाति की राजनीति बुरी है।

इन सबके बीच 2015 में जेएनयू प्रकरण से उपजे छात्र आंदोलन, जिसे कम्युनिस्ट पार्टियों के छात्र संगठनों ने संचालित किया था, से कुछ ऐसी आवाज़ें सुनाई दीं, जिन्होंने भारत के साम्यवादी आंदोलन और सामाजिक न्याय के आंदोलन के बीच एक नए क़िस्म के गठजोड़ की संभावनाएं पैदा कीं।

इस मूवमेंट के केंद्र में रहे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के तत्कालीन अध्यक्ष कन्हैया कुमार तब बेझिझक अपने भाषणों में ब्राह्मणवाद और सवर्णवाद से आज़ादी मांगते हुए दलितों और पिछड़ों के हक़ की बात करते थे।

कन्हैया स्वयं कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (सीपीआई) के छात्र संगठन से जुड़े थे। एक उम्मीद जगी कि मुख्यधारा की राजनीति में आकर कन्हैया कुमार जैसे युवा कॉमरेड साम्यवादियों की नीतियों और कार्यक्रमों में सामाजिक न्याय के प्रश्नों को जगह दिलाएंगे। उम्मीद इसे लेकर भी पैदा हुई कि इस नए क़िस्म के राजनीतिक समायोजन से न सिर्फ़ सोशल जस्टिस के आंदोलन का भला होगा, बल्कि कम्युनिस्ट आंदोलन का भी एक नए सिरे से उत्थान हो सकेगा।

लेकिन आज जब कन्हैया कुमार मुख्यधारा की राजनीति में औपचारिक तौर पर उतर चुके हैं और लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं, तो उन्होंने इस उम्मीद को लगभग ख़त्म कर दिया है। अब वे दलितों और पिछड़ों के हक़ को लेकर उस तरह मुखर नहीं हैं और न ही वे अब 'ब्राह्मणवाद से आज़ादी' और 'सवर्णवाद से आज़दी' का स्लोगन देते हैं।

कुछ दिन पहले पटना में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में जाति की राजनीति पर एक पत्रकार द्वारा पूछे गए तीखे सवाल का उन्होंने बेहद निराशाजनक जवाब दिया। वे भी अपनी राजनीतिक जमात के वरिष्ठों की तरह यही कहते नज़र आये कि जाति की राजनीति को वे ख़त्म करना चाहते हैं।

उत्तर भारत में कास्ट पॉलिटिक्स के साथ सोशल जस्टिस के जो आयाम जुड़े हैं, उस पर वे कुछ नहीं बोले। बेगूसराय में अपनी राजनीतिक सभाओं में भी वे आरएसएस की विचारधारा को तो काउंटर करते हैं, वर्तमान सरकार की नीतियों की ज़बरदस्त आलोचना तो करते हैं, लेकिन जेएनयू के अपने दिनों की तरह देश में व्याप्त सवर्ण दबदबे के ख़िलाफ़ आक्रामक नहीं होते हैं।

क्या यह इसलिए है कि वे स्वयं सवर्ण (भूमिहार) हैं और बेगूसराय में लगभग पौने पाँच लाख भूमिहार मत निर्णायक साबित होने वाले हैं? अथवा यह इसलिए है कि वे भी अपनी पार्टी (सीपीआई) की पुरानी लीक पर चलकर ही राजनीति करना चाहते हैं?

जो भी हो, कन्हैया कुमार के इस वैचारिक संशोधन ने न सिर्फ़ सामाजिक न्याय के आंदोलन को एक नयी धार मिलने की उम्मीद को नाउम्मीदी में तब्दील किया है, बल्कि भारत के कम्युनिस्ट आंदोलन के पुनरुत्थान की संभावना को भी ख़त्म कर दिया है।  

advertisement