कोलकाता/ भाजपा के खिलाफ ममता की महारैली आज, 11 विपक्षी पार्टियों के नेता कोलकाता पहुंचे - Dainik Bhaskar     |       भय्यू महाराज केस: ब्लैकमेलर युवती समेत दो सेवादार गिरफ्तार, अश्लील चैटिंग का मिला रिकॉर्ड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस की बैठक में नहीं पहुंचे 4 'बागी' MLA, कर्नाटक सरकार में बढ़ी चिंता - News18 Hindi     |       अमेरिका/ 8 डॉलर का नाश्ता लेने के लिए लाइन में लगे बिल गेट्स, सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो - Dainik Bhaskar     |       Gaganyaan: Crew module, crew service module design to be finalised soon - Times Now     |       चेन्नैः आर्थिक आरक्षण के खिलाफ कोर्ट पहुंची डीएमके, केंद्र सरकार के फैसले को बताया असंवैधानिक - नवभारत टाइम्स     |       Grahan 2019/ इस साल पड़ेंगे कुल 5 ग्रहण, 2 चंद्रग्रहण और 3 सूर्यग्रहण से बदलेगी दशा, जानें कब-कब होंगे ग्रहण? - Dainik Bhaskar     |       सबरीमाला/ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 10-50 उम्र की 51 महिलाओं ने दर्शन किए- केरल सरकार - Dainik Bhaskar     |       Two Russian fighter jets collide over Sea of Japan - Times Now     |       हादसा/ जापानी समुद्र के ऊपर अभ्यास के दौरान दो रूसी फाइटर जेट टकराए, पायलट सुरक्षित - Dainik Bhaskar     |       यूके/ ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार - Dainik Bhaskar     |       रिसर्च : यह तकनीक बता देगी कि कितने साल की जिंदगी है आपकी - NDTV India     |       उठा-पटक के बीच बाजार की सपाट क्लोजिंग - मनी कॉंट्रोल     |       Market Today Fatafat ET Now: Sensex, Nifty end flat, RIL shares log 4%-gain; top 10 stocks in news - Times Now     |       शनिवार को पेट्रोल-डीजल के दाम में हुई भारी बढ़ोतरी, फटाफट जानिए नए रेट्स - News18 Hindi     |       तस्वीरों में देखें Toyota Camry Hybrid 2019 कार, भारत में हुई लॉन्च- Amarujala - अमर उजाला     |       'मणिकर्णिका' की स्पेशल स्क्रीनिंग, राष्ट्रपति कोविंद और लालकृष्ण आडवाणी ने देखी फिल्म - नवभारत टाइम्स     |       राजी, बधाई हो से आगे निकली URI, क्या 100 करोड़ कमाएगी फिल्म? - आज तक     |       व्हाय चीट इंडिया : फिल्म समीक्षा | Webdunia Hindi - Webdunia Hindi     |       विवाद/ बोनी कपूर का एलान जब तक बंद नहीं हो जाती फिल्म श्रीदेवी बंगलो, तब तक चैन से नहीं बैठेंगे - Dainik Bhaskar     |       MS Dhoni on cusp of achieving new milestone in 3rd ODI against Australia at MCG - Times Now     |       ऑस्ट्रेलिया में चली चहल की फिरकी, शास्त्री-मुश्ताक के रिकॉर्ड टूटे - Sports - आज तक     |       Fellaini targeted by Chinese Super League as Solskjaer opening to selling United midfielder - ESPN     |       Ind vs Aus 2nd ODI: शॉन मार्श पर भारी पड़ा 'किंग कोहली' का शतक, टीम इंडिया 6 विकेट से जीती - NDTV India     |      

फीचर


मिथिला की सांस्कृतिक विरासत: जहां दही चटाकर विदा करने की है परंपरा, मनोवांछित कार्य होते हैं पूरे

जब कोई घर से किसी शुभ काम के लिए कहीं बाहर जाते हैं, तो परिवार के अन्य सदस्य विशेष सांस्कृतिक अंदाज में विदा या अंग्रेजी में सी-ऑफ करते हैं। मिथिला में इस तरह के भावों को संस्कृति में काफी सहेजा गया है


cultural-heritage-of-mithila-curd-is-to-be-distributed-and-its-a-tradition-the-desires-will-fulfill

जी! चौंकिए नहीं, अभी-अभी आपने जो शीर्षक पढ़ा है, यह सच है। हम बात कर रहे हैं मिथिला की सांस्कृतिक विरासत के इस खास पहलू पर। यह बात सुनने में बहुत साधारण-सी है, पर इसके भाव बहुत गहरे हैं। 

होता यह है कि परिवार का कोई सदस्य घर से किसी विशेष शुभ कार्य के लिए निकलता है, तो महिला सदस्य जैसे-मां, दादी व दीदी एक चम्मच दही चटाकर उन्हें विदा करती हैं।

घर से निकलते समय दही खाना बहुत शुभ माना जाता है और कहा जाता है कि इससे मनोवांछित कार्य पूरा होता है। यहां की यह परंपरा सदियों पुरानी है। दही तो बात सही। कम से कम एक चम्मच दही खाकर घर से निकलिए और अपनी यात्रा को मंगलमय बनाइए।

जब कोई घर से किसी शुभ काम के लिए कहीं बाहर जाते हैं, तो परिवार के अन्य सदस्य विशेष सांस्कृतिक अंदाज में विदा या अंग्रेजी में सी-ऑफ करते हैं। मिथिला में इस तरह के भावों को संस्कृति में काफी सहेजा गया है। 

वैसे तो मिथिला की सांस्कृतिक विरासत बहुत मजबूत है और इसका हर एक पहलू अपने आप में रोमांचकारी होता है, चाहे हम बात करें आतिथ्य सत्कार, खान-पान, रहन-सहन या पहनावे की, मिथिला की संस्कृति दुनिया के अन्य भागों से बहुत कुछ अलग और अनोखी है।

इस संस्कृति के पीछे ज्ञान-विज्ञान का अपना आधार है। भोजन में दही के प्रयोग के कई फायदे हैं। यह हमारे पाचन शक्ति को बढ़ाता है, यह हमारे त्वचा को स्वस्थ बनाता है और चेहरे पर चमक लाता है, वजन कम करता है, बाल नहीं झड़ते और भी न जाने कितने ही गुण हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि दही के नियमित प्रयोग से हार्ट अटैक नहीं होता। फलत: यह बहुत ही गुणकारी है। आज के समय में हर युवती की अपेक्षा होती है कि वह करीना की तरह जीरो-साइज फिगर मेनटेन कर पाए, इसके लिए दही का प्रयोग तो रामबाण है। कुल मिलाकर दही खाने के फायदे अनेक हैं और यही कारण है कि मिथिलांचल के लोग हर सुबह नाश्ते के रूप में चूड़ा-दही का प्रयोग करते हैं।

दही का प्रयोग मनुष्य के मस्तिष्क को शीतलता प्रदान करता है। यही कारण है कि मिथिलांचल के लोग स्वाभाविक रूप से उग्र नहीं होते। घर से यात्रा करते समय दही का रसास्वादन करने से मानसिक शीतलता बनी रहती है।

मिथिला को धाम माना जाता है। यह सीता की धरती है, यहां उनका जन्म हुआ था और वहीं पली-बढ़ी थीं। मिथिलांचल का भौगोलिक क्षेत्र कुछ ऐसा है, जहां दोमट (जलोढ़) मिट्टी पाई जाती है, जो धान की उपज के लिए बहुत लाभकारी होता है। इसी कारण यहां अच्छी मात्रा में धान का पैदावार होता है।

यहां चावल और चावल को कूटकर बनाए गए चूड़ा या चिउड़ा काफी लोकप्रिय खाद्य है। साथ ही मवेशियों का पालन भी होता है तो जाहिर है कि काफी आसानी से दूध उपलब्ध होता है और घर की महिलाएं सहज रूप से दही जमा पाती हैं मानो यह उनके बायें हाथ का खेल हो।

घर के लोग बड़े चाव से चूड़ा-दही खाते हैं। यह भोजन अपने आप में एक दर्शनशास्त्र है। मिथिला के दर्शनशास्त्री हरिमोहन झा अपने हास्य गल्प-संग्रह 'खट्टर काकाक तरंग' में बताते हैं कि 'चूड़ा-दही-चीनी' गणित का त्रिभुज है। शहरी क्षेत्रों में चूड़ा को चिउड़ा कहा जाता है।

चूड़ा का प्रयोग पोहा बनाने में किया जाता है। आजकल यह पोहा इतना पसंद किया जाता है कि विमान सेवा के फूड कोर्स में भी इसे शामिल किया गया है।

(लेखक डॉ. बीरबल झा, मिथिलालोक फाउंडेशन के चेयरमैन व ब्रिटिश लिंग्वा के प्रबंध निदेशक हैं) 

advertisement