क्या वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया था: पीएम मोदी - आज तक     |       झारखंड मॉब लिंचिंग: जांच के लिए SIT का होगा गठन - आज तक     |       पीएम मोदी ने गालिब के शेर से साधा कांग्रेस पर निशाना - NDTV India     |       एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले IPS अफसर बने नए रॉ चीफ - News18 हिंदी     |       PM मोदी का कांग्रेस पर तंज कहा- आप इतने ऊंचे हो गए कि जमीन से उखड़ गए - Zee News Hindi     |       NRC: असम सरकार की नई लिस्ट, 1.2 लाख और करेंगे नागरिकता का दावा - Navbharat Times     |       वर्ल्ड कप: तलवार की धार पर पाकिस्तान, आज न्यूजीलैंड से जीत के बाद ही बनेगी बात - आज तक     |       भुवी या फिर शमी किसे मिलेगी प्लेइंग XI में जगह, विंडीज के खिलाफ ऐसी हो सकती है टीम इंडिया - अमर उजाला     |       वेस्टइंडीज के खिलाफ चला रोहित का बल्ला तो तोड़ देंगे यह विराट रिकॉर्ड - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       भारत के सेमी फ़ाइनल में पहुँचने के रास्ते में क्या हैं रोड़े- विश्व कप क्रिकेट - BBC हिंदी     |       Narendra Modi के Lok Sabha में दिए बयान पर Arif Mohammad Khan और Asaduddin Owaisi क्या बोले? - BBC News Hindi     |       अमित शाह के कश्मीर दौरे और हुर्रियत से बात करने को लेकर फारुख अब्दुल्ला ने दिया ये बयान, देखिए - ABP News     |       Tral Encounter: कश्मीर मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, हथियार और गोला-बारूद बरामद - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस सांसदों की बैठक, राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े - अमर उजाला     |       कूटनीतिक जीत: एशिया-प्रशांत समूह ने UNSC में अस्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया - Navbharat Times     |       व्यापार विवादों और S 400 पर बोले माइक पोम्पियो, भारत को लेकर कही ये बड़ी बात - दैनिक जागरण     |       पाकिस्तान की संसद में बैन हुए 'सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर इमरान' - आज तक     |       ब्रिटेन/ महिलाओं ने कहा- बच्चे पैदा नहीं करेंगे, क्योंकि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी - Dainik Bhaskar     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 312 अंक की बढ़त के साथ 39435 पर, निफ्टी 97 प्वाइंट ऊपर 11796 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       TVS Ntorq 125 नए रंग और डिजाइन के साथ हुई लांच, कीमत है महज इतनी - Jansatta     |       सिर्फ 666 रुपये देकर ले जाओ Hero Splendor plus, लेकिन ऑफर है कुछ ही समय के लिए - अमर उजाला     |       Amazon Prime Day 2019 सेल 15 जुलाई से होगी शुरू, जानें इस इवेंट में क्या होगा खास - दैनिक जागरण     |       Kabir Singh Box Office Collection 2019: Akshay Kumar की Kesari से आगे निकली Shahid Kapoor की Kabir Singh - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       'बाहुबली' की देवसेना का पैर फ्रैक्चर, ऐसे हुआ ये हादसा - News18 हिंदी     |       आदित्य पंचोली केस में कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली को मुंबई कोर्ट ने भेजा समन - Hindustan     |       अर्जुन कपूर के घर में नहीं हैं पंखे, दिलचस्प है इसकी वजह - आज तक     |       इंग्लैंड का बिगड़ा गणित, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भिड़ सकते हैं भारत और पाकिस्तान - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       ENGvAUS: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार के बावजूद बेन स्टोक्स ने कहा- वर्ल्ड कप हमारा है - Hindustan     |       मैं ठीक हूं, जल्द अपने होटल के कमरे में पहुंच जाऊंगा: ब्रायन लारा - Navbharat Times     |       जीत के बावजूद खुश नहीं दिखे कप्तान विराट कोहली, इस बल्लेबाज को जमकर सुनाई खरी-खोटी - SportzWiki Hindi     |      

विशेष


बिग डाटा के जरिये किसानों की जिंदगी बदल रहे हैदराबाद के उद्यमी

लगातार सूखा पड़ने और कृषि उत्पादों के उचित मूल्य नहीं मिलने के कारण कर्ज तले दबे किसानों की माली हालत देख एक युवक ने उनकी समस्या का निदान करने की ठानी। इस युवक ने आज दिखा दिया है कि एक मोबाइल एप किस तरह किसानों की जिंदगी में बदलाव ला सकता है


entrepreneurs-of-hyderabad-changing-the-lives-of-farmers-through-big-data

लगातार सूखा पड़ने और कृषि उत्पादों के उचित मूल्य नहीं मिलने के कारण कर्ज तले दबे किसानों की माली हालत देख एक युवक ने उनकी समस्या का निदान करने की ठानी। इस युवक ने आज दिखा दिया है कि एक मोबाइल एप किस तरह किसानों की जिंदगी में बदलाव ला सकता है।

वी. नवीन कुमार 2016 में तेलंगाना के वारंगल जिला स्थित अपने गांव में एक किसान की खुदकुशी से इतने आहत हुए कि उन्होंने खेती-बाड़ी की कोई खास जानकारी नहीं होने के बावजूद किसानों की समस्या का हल तलाशने की ठान ली। उन्होंने तीन महीने तक किसानों से मिलकर उनकी समस्याओं को समझने की कोशिश की। नवीन ने कृषि उद्यमियों और अन्य हितधारकों से भी इस संबंध में बात की। 

आज तेलुगु भाषी तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में करीब 1.24 लाख किसान उनके मोबाइल एप 'नापंटा' का इस्तेमाल कर रहे हैं जिससे उनको मौसम की जानकारी से लेकर बाजार से संबंधित सूचनाओं जैसी सेवाएं मुफ्त में मिल रही हैं। एमबीए की डिग्री धारण करने वाले नवीन इस बात से संतुष्ट हैं कि उनकी थोड़ी कोशिश से किसानों के जीवन में बदलाव आ रहा है। 

उन्होंने 'नापंटा' मोबाइल एप की शुरुआत जून 2017 में की और आश्चर्य की बात है कि हजारों किसानों ने एप डाउनलोड कर लिया। रिलायंस जियो के आने और व्हाट्सएप के उपयोग में तेजी आने से इस मंच से ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ते चले गए।

इस एप के जरिये कृषि से संबंधित सूचनाएं तेलुगु भाषा में दी जाती है जो इस भाषा में एकमात्र मंच है। इससे किसानों को सही समय पर जानकारी होने से उनकी कृषि लागत और समय की बचत होती है। 

नापंटा के संस्थापक व प्रबंध निदेशक कुमार ने बताया, "मुझे विश्वास है कि अगर किसान मेरे मंच का अनुसरण करेंगे तो उनको अपने खर्च में 20 फीसदी की बचत होगी और पैदावार में 10 फीसदी की वृद्धि होगी। हम उन्हें इस 30 फीसदी के अंतर का फायदा दिला सकते हैं।"

उन्होंने बताया कि देश में किसानों की मदद करने के लिए यह कोई एकमात्र एप नहीं है, बल्कि ऐसे अनेक एप काम कर रहे हैं। हालांकि उनका कहना है उनके एप में कृषि कार्य से संबंधित कई चीजें शामिल हैं, जैसे फसल का चयन करने से लेकर किसानों की फसलों के लिए ज्यादा कीमत दिलाने वाला बाजार आदि। सलाह की सेवाओं में मौसम की जानकारी, बाजार-भाव, ई-कॉमर्स समेत व्यापक कृषि इको-सिस्टम की जानकारी इस डिजिटल मंच पर मिलती है। 

एप में फसल की लागत, सुरक्षा, साप्ताहिक कृषि संबंधित सलाह, कृषि फोरम, बाजार-भाव, एग्री-ई-कॉमर्स, फसल बीमा, मौसम, खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी, मृदा परीक्षण सूचना आदि के लिए टूल्स हैं। किसान अपनी जरूरत के अनुसार, फसल चक्र के दौरान कृषि उपकरणों की खरीद कर सकते हैं या किराये पर भी उपकरण ले सकते हैं और बगैर किसी बिचौलिए की मदद से ऊंची कीमतों पर अपनी फसल बेच सकते हैं। 

इस एप पर इस समय किसानों को 3,500 बाजारों में करीब 300 कृषि उत्पादों के बाजार भाव की जानकारी दी जाती है। साथ ही इसमें उन्हें तीन साल के भाव की रुख की भी जानकारी मिलती है। नापंटा एप इस समय तेलुगु और अंग्रेजी भाषा में जानकारी प्रदान करता है। 

नवीन कुमार पहले आईसीआईसीआई बैंक में क्रेडिट रिलेशनशिप मैनेजर थे और बाद में उन्होंने एचडीएफसी बैंक में क्रेडिट रिस्क मैनेजर के रूप में अपनी सेवा दी। वह अपनालोनबाजार डॉट कॉम के सह-संस्थापक रहे हैं। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र और तमिलनाडु समेत कई राज्यों के लोग इस मंच में दिलचस्पी ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि जून-जुलाई में उनका यह एप हिंदी और तमिल भाषा में भी उपलब्ध होगा।

advertisement