क्या वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया था: पीएम मोदी - आज तक     |       झारखंड मॉब लिंचिंग: जांच के लिए SIT का होगा गठन - आज तक     |       पीएम मोदी ने गालिब के शेर से साधा कांग्रेस पर निशाना - NDTV India     |       एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले IPS अफसर बने नए रॉ चीफ - News18 हिंदी     |       असम सरकार ने जारी की एनआरसी की नई सूची, 1 लाख से ज्यादा लोग बाहर - अमर उजाला     |       PM मोदी का कांग्रेस पर तंज कहा- आप इतने ऊंचे हो गए कि जमीन से उखड़ गए - Zee News Hindi     |       वर्ल्ड कप: तलवार की धार पर पाकिस्तान, आज न्यूजीलैंड से जीत के बाद ही बनेगी बात - आज तक     |       भुवी या फिर शमी किसे मिलेगी प्लेइंग XI में जगह, विंडीज के खिलाफ ऐसी हो सकती है टीम इंडिया - अमर उजाला     |       वेस्टइंडीज के खिलाफ चला रोहित का बल्ला तो तोड़ देंगे यह विराट रिकॉर्ड - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       भारत के सेमी फ़ाइनल में पहुँचने के रास्ते में क्या हैं रोड़े- विश्व कप क्रिकेट - BBC हिंदी     |       Narendra Modi के Lok Sabha में दिए बयान पर Arif Mohammad Khan और Asaduddin Owaisi क्या बोले? - BBC News Hindi     |       अमित शाह के कश्मीर दौरे और हुर्रियत से बात करने को लेकर फारुख अब्दुल्ला ने दिया ये बयान, देखिए - ABP News     |       Tral Encounter: कश्मीर मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, हथियार और गोला-बारूद बरामद - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       जब इमरजेंसी के खिलाफ खड़े हो गए थे फिल्मी सितारे, देव आनंद ने तो बना ली थी अपनी पार्टी - अमर उजाला     |       कूटनीतिक जीत: एशिया-प्रशांत समूह ने UNSC में अस्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया - Navbharat Times     |       पोम्पियो के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में CAASTA मुद्दे पर EAM जयशंकर ने कही ये बड़ी बात - दैनिक जागरण     |       पाकिस्तान की संसद में बैन हुए 'सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर इमरान' - आज तक     |       ब्रिटेन/ महिलाओं ने कहा- बच्चे पैदा नहीं करेंगे, क्योंकि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी - Dainik Bhaskar     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 312 अंक की बढ़त के साथ 39435 पर, निफ्टी 97 प्वाइंट ऊपर 11796 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       TVS Ntorq 125 नए रंग और डिजाइन के साथ हुई लांच, कीमत है महज इतनी - Jansatta     |       सिर्फ 666 रुपये देकर ले जाओ Hero Splendor plus, लेकिन ऑफर है कुछ ही समय के लिए - अमर उजाला     |       Amazon Prime Day 2019 सेल 15 जुलाई से होगी शुरू, जानें इस इवेंट में क्या होगा खास - दैनिक जागरण     |       Kabir Singh Box Office Collection 2019: Akshay Kumar की Kesari से आगे निकली Shahid Kapoor की Kabir Singh - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Nusrat Jahan का संसद में ‘भारतीय नारी’ अवतार, बना सोशल मीडिया पर हॉट टॉपिक, ये हैं रिएक्शन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       जैकलीन बोलीं टूरिज्म के लिए सुरक्षित है श्रीलंका - दैनिक भास्कर     |       आदित्य पंचोली केस में कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली को मुंबई कोर्ट ने भेजा समन - Hindustan     |       इंग्लैंड का बिगड़ा गणित, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भिड़ सकते हैं भारत और पाकिस्तान - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       ENGvAUS: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार के बावजूद बेन स्टोक्स ने कहा- वर्ल्ड कप हमारा है - Hindustan     |       World Cup 2019: अब भी सेमीफाइनल में जगह बना सकती हैं पाकिस्तान, लंका, बांग्लादेश और विंडीज, जानिए पूरा समीकरण - India TV हिंदी     |       मैं ठीक हूं, जल्द अपने होटल के कमरे में पहुंच जाऊंगा: ब्रायन लारा - Navbharat Times     |      

व्यापार


विशेषज्ञों की राय, आयकर अपीली अधिकारियों को वित्त मंत्रालय के निर्देश से करदाताओं में दहशत

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के आंकड़ों के अनुसार, एक अप्रैल 2018 को बकाये के रूप में 11.23 लाख करोड़ रुपये की रकम थी, हालांकि यह अस्थाई आंकड़ा है। पिछले साल यानी एक अप्रैल 2017 के मुकाबले इसमें 10.52 लाख करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है।


expert-opinion-taxpayers-panic-in-tax-on-directives-by-finance-ministry

प्रत्यक्ष कर के विवादों का समाधान करके कर वसूली से सरकार की तिजोरी भरने के मकसद से वित्त मंत्रालय ने अपीली आयकर अधिकारियों को उनके निष्पादन-कार्य के लिए प्रोत्साहन और पारितोषिक देने की योजना बनाई है।

लेकिन वित्तीय और कर मामलों के विशेषज्ञों ने इसे 'आतंक दहशत व्यवस्था' की वापसी का संकेत बताया है। उनके अनुसार, इसके करदाताओं के लिए गंभीर दुष्परिणाम मिल सकते हैं। 

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के आंकड़ों के अनुसार, एक अप्रैल 2018 को बकाये के रूप में 11.23 लाख करोड़ रुपये की रकम थी, हालांकि यह अस्थाई आंकड़ा है। पिछले साल यानी एक अप्रैल 2017 के मुकाबले इसमें 10.52 लाख करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है।

आयकर बकाये की हालिया रकम अप्रैल 2014 के 5.75 लाख करोड़ रुपये से तकरीबन दोगुनी है। हालांकि, पिछले साल आयकर विभाग ने 44,633 करोड़ रुपये की नकदी जब्ती समेत 3.25 लाख करोड़ रुपये की वसूली करके बकाये की रकम में 31 फीसदी की कमी लाई। नकदी जब्ती या संग्रह छापेमारी में प्राप्त रकम है।

लेकिन बकाये में कमी की यह बड़ी उपलब्धि वर्ष 2017-18 के दौरान 4.26 लाख करोड़ रुपये की अतिरिक्त शुद्ध नकदी चालू मांग को लेकर क्षीण पड़ गई। 4.26 लाख करोड़ रुपये में से सिर्फ 76,641 करोड़ रुपये की ही वसूली हो पाई, जिसमें नकदी संग्रह 52,537 करोड़ रुपये है। इसके परिणामस्वरूप आयकर विभाग के अधिकारियों में खतरे की घंटी बज गई। 

कुछ महीने पहले आंतरिक रूप से जारी गोपनीय केंद्रीय कार्य-योजना 2018-19 के अनुसार, बकाये की दावेदारी के लिए सीबीडीटी ने अब बकाया मांग में कमी का लक्ष्य बढ़ाकर कुल मांग का 40 फीसदी कर दिया है।

आयकर विभाग के अपीली अधिकारी आज्ञा का अनुपालन सुनिश्चित कराएं, इसलिए उनको गुणवत्ता अपीली आदेश पारित करने के लिए दो अतिरिक्त इकाई प्रदान करने का फैसला लिया गया है। 

सरकार के साथ कर को लेकर किसी भी विवाद में करदाता अदालत जाने से पहले आयकर आयुक्त (अपील) के पास अपील करता है। आयकर आयुक्त (अपील) का प्रोत्साहन अपीली आदेश की गुणवत्ता के आधार पर तय होगा, जिसका फैसला वरिष्ठ अधिकारी तीन मानकों के आधार पर करेंगे। ये मानक होंगे -आकलन में बढ़ोतरी, आदेश की पुष्टि और लगाया जाने वाला जुर्माना। 

सूचना का अधिकार कार्यकर्ता और आयकर मामलों के विशेषज्ञ जेपी वघानी ने कहा, "इसका मतलब यह है कि करदाताओं को अब कर विभाग की चोट खानी पड़ेगी। वे अब भ्रष्टाचार के अतिरिक्त अपना मूल्यांकन सुधारने के लिए उनपर बकाये का भुगतान करने का दबाव डालेंगे या अधिक सख्त आदेश व जुर्माना लगाएंगे।" वघानी ने मामले को लेकर अदालत में जनहित याचिका दायर की है। 

चार्टर्ड अकाउंटेंट पागुर देसाई ने कहा, "नए दिशानिर्देश से अपीली प्राधिकारी करदाताओं के प्रति ज्यादा आक्रामक हो जाएंगे, ताकि बकाये में कमी की जाए। जब आगे चुनाव है तो फिर इस तरह का कदम व्यापक स्तर पर उठाना क्या व्यावहारिक है?"

हालांकि कर आयुक्त व सीबीडीटी प्रवक्ता सुरभि अहलूवालिया ने कहा, "कर दहशत व्यवस्था का सवाल ही नहीं है। प्रोत्साहन के पीछे जो मंशा है, उसे बिल्कुल गलत समझा गया है।" उन्होंने कहा कि सिर्फ अपीली प्राधिकरण ही जहां आवश्यक है वहां आकलन में बढ़ोतरी कर सकता है। आकलन आदेश में कमी को दूर कर सकता और जुर्माना लगा सकता है। 

advertisement