आईएस मॉड्यूल/ हैदराबाद-वर्धा में एनआईए के छापे; धमाकों की साजिश रचने के आरोप में दिल्ली से एक गिरफ्तार - Dainik Bhaskar     |       विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का हुआ तबादला, 'वीर चक्र' देने के लिए सिफारिश - NDTV India     |       मुस्लिम वोटरों से अपील कर फंसे सिद्धू, चुनाव आयोग ने 24 घंटे में मांगा जवाब - आज तक     |       पीएम मोदी पर आधारित वेब सीरीज के प्रसारण पर चुनाव आयोग की रोक - Navbharat Times     |       अखिलेश-माया पर मोदी का तंज, 23 मई के बाद दुश्मनी पार्ट टू शुरू कर देंगे 'बुआ-बबुआ - अमर उजाला     |       बिहार: सुपौल में मंच से बोले राहुल गांधी-बिहार का चौकीदार बहुत ही ईमानदार होता है - दैनिक जागरण     |       क्राइम 360: रोहित शेखर मर्डर केस में पत्नी अपूर्वा से पूछताछ Crime 360: Wife of Rohit under interrogation in Murder Case - crime 360 - आज तक     |       मोदी-शाह की जोड़ी अगर सत्ता में आती है तो कांग्रेस होगी इसके लिये जिम्मेदार: AAP - NDTV India     |       RBI ने हफ्ते में पांच दिन ही बैंकों के खुलने की खबरों को बताया गलत, कहा- नहीं जारी किये ऐसे निर्देश - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       लोकसभा चुनाव/ तीसरा चरण: 21% दागी, 25% करोड़पति उम्मीदवार; बीजापुर के प्रत्याशी ने 9 रु की संपत्ति बताई - Dainik Bhaskar     |       घर में ही घ‍िरे राष्‍ट्रपति ट्रंप: मूलर की रिपोर्ट से अमेरिकी सियासत में कोहराम, महाभियोग पर अड़ा विपक्ष - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अबु-धाबी में पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास - BBC हिंदी     |       आखिर सुषमा स्वराज ने लीबिया में फंसे भारतीयों को वहां से तुरंत निकलने को क्यों कहा - NDTV India     |       Shab-E-Barat wishes images 2019: Messages, WhatsApp status, pics and quotes to add fervour to the festival - Times Now     |       65 हजार रुपये में लॉन्च हो जा रहा है ये नया 125cc स्कूटर - आज तक     |       दो दिन में मुकेश अंबानी को 2 बर्थडे गिफ्ट, दुनिया भर में हुई चर्चा - Business - आज तक     |       Vodafone का नया प्लान, मिलेगी एक साल की वैधता, अनलिमिटेड कॉलिंग और भी बहुत कुछ - Jansatta     |       Flipkart सेल: इन स्मार्ट TV मॉडलों पर मिलेगी 10 हजार तक छूट - आज तक     |       ब्रहास्त्र : हाथों से आग निकालने की सुपरपावर, दिलचस्प है DJ रणबीर का किरदार - आज तक     |       स्कूल ड्रेस में दिखे Kartik Aryan, पहचान पाना है मुश्किल - नवभारत टाइम्स     |       साध्वी प्रज्ञा सिंह के बयान को लेकर स्वरा भास्कर से उलझीं पायल रोहतगी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कैटरीना कैफ के साथ दिखे सलमान खान, फिर भी छुपा न सके दर्द, लिखा- हर मुस्कराते चेहरे के पीछे... - NDTV India     |       IPL 2019: दिल्ली कैपिटल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 5 विकेट से हराया - Hindustan     |       कुछ सीखो टीम इंडिया, स्टीव स्मिथ आईपीएल में कर रहा विश्वकप की तैयारी - Webdunia Hindi     |       गांगुली मामले में लोकपाल ने कहा- दोनों पक्ष अब देंगे लिखित दलील - आज तक     |       आईपीएल 2019 : अभ्यास के दौरान वेस्टइंडीज के पवार हीटर खिलाड़ी को लगी चोट - SportzWiki Hindi     |      

जीवनशैली


निपाह वायरस के आतंक से है बचना तो अपनाएं ये खास उपाय

निपाह वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए हार्ट केयर फाउंडनेशन  (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ के के अग्रवाल ने बताया कि इस बीमारी के फैलने के साथ ही हमें एक और लड़ाई के लिए तैयार रहना है।


expert-suggest-avoid-nipah-virus-to-take-several-precautions

केरल में निपाह वायरस (एनआईवी) तेजी से फैल रहा है, जिसकी वजह से लोगों के बीच में डर का माहौल बन गया है। हालांकि इस हालात पर काबू पाने का दावा राज्य सरकार  भले कर रही हो, लेकिन सबसे बड़ा सवाल इस संक्रमण  से खुद को बचाने का है।

निपाह वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए हार्ट केयर फाउंडनेशन  (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ के के अग्रवाल ने बताया कि इस बीमारी के फैलने के साथ ही हमें एक और लड़ाई के लिए तैयार रहना है। यह बीमारी एक प्रकार के चमगादड़ से फैलती है।

हालांकि इसके संक्रमण से बचने के लिए हमें संक्रमित जीवों के साथ सीधे संपर्क में नहीं आना चाहिए। साथ ही जमीन पर गिरे फलों का इस्तेमाल करने से बचना जरूरी है। यह स्थिति इसलिए भी मुश्किल हो जाती है, क्योंकि इस बीमारी के लिए अभी कोई टीका या दवा बाजार में उपलब्ध नहीं है।

डॉ अग्रवाल ने कहा कि इसके इलाज  का एकमात्र तरीका कुछ सहायक दवाइयां और पैलिएटिव केयर  है। वायरस की इनक्यूबेशन अवधि 5 से 14 दिनों तक होती है, जिसके बाद इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

संक्रमण के सामान्य लक्षण

-बुखार सिर दर्द
-बेहोशी और मतली आना
-व्यक्ति को गले में कुछ फंसने का अनुभव
-पेट दर्द, उल्टी, थकान
-निगाह का धुंधलापन 

डॉ अग्रवाल ने कहा कि लक्षण  शुरू होने के दो दिन बाद रोगी के कोमा में जाने की संभावना बढ़ जाती है। वहीं इंसेफेलाइटिस  के संक्रमण की भी संभावना रहती है, जो मस्तिष्क को सीधे प्रभावित करता है।

वायरस के संक्रमण से बचाव 

सुनिश्चित करें कि आप जो खाना खा रहे हैं वह किसी चमगादड़ या उसके मल से दूषित नहीं हुआ हो। चमगादड़ के कुतरे हुए फल न खाए। पाम के पेड़ के पास खुले कंटेनर में बनी टोडी शराब पीने से बचें। बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति से संपर्क न करें। यदि मिलना ही पड़े तो बाद में साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें।

आमतौर पर शौचालय में इस्तेमाल होने वाली चीजें, जैसे बाल्टी और मग को खास तौर पर साफ रखें। निपाह बुखार से मरने वाले किसी भी व्यक्ति के मृत शरीर को ले जाते समय चेहरे को ढंकना महत्वपूर्ण है। मृत व्यक्ति को गले लगाने से बचें और उसके अंतिम संस्कार से पहले शरीर को स्नान करते समय सावधानी बरतें।

उन्होंने कहा कि जब इंसानों में इसका संक्रमण होता है तो इसमें एसिम्प्टोमैटिक इन्फेक्शन से लेकर तीव्र रेस्पिरेटरी सिंड्रोम और घातक एन्सेफलाइटिस तक का क्लिनिकल प्रजेंटेशन सामने आता है। एनआईवी की पहचान पहली बार 1998 में मलेशिया के कैम्पंग सुंगई निपाह में एक बीमारी फैलने के दौरान हुई थी। यह चमगादड़ों से फैलता है और इससे जानवर और इंसान दोनों ही प्रभावित होते हैं।

advertisement