काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़ीं ये 5 बातें शायद ही जानते होंगे आप - आज तक     |       LIVE: वाराणसी में बोले पीएम मोदी, 'कार्यकर्ताओं का संतोष ही हमारा जीवन मंत्र है' - Hindustan     |       अमेठी: सुरेंद्र सिंह मर्डर में 3 नामजद आरोपी गिरफ्तार, दो अभी फरार - Navbharat Times     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       दक्षिण कोरिया में हुआ प्रेम, यूपी के महराजगंज की बहू बनी जर्मनी की बेटी - दैनिक जागरण     |       येदियुरप्पा ने जेडीएस के समर्थन से सरकार बनाने से किया मना, कहा- नहीं दोहराना चाहते गलतियां - NDTV India     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       CWC की बैठक में राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश खारिज Congress refuses to accept Rahul Gandhi's resignation - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       नई सरकार/ नरेंद्र मोदी 30 मई को शाम 7 बजे प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे - Dainik Bhaskar     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       पीएम मोदी की जीत पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने फोन कर दी बधाई - ABP News     |       कांगो/ झील में नाव डूबने से 30 लोगों की मौत, 140 से ज्यादा लापता - Dainik Bhaskar     |       अमेरिका/ ट्रम्प ने कहा- मोदी महान नेता और अच्छे इंसान, फोन करके जीत की दोबारा बधाई दी - Dainik Bhaskar     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       Sona Mohapatra ने सलमान पर कसा तंज, ऐक्‍टर ने किए थे प्रियंका चोपड़ा पर कॉमेंट्स - नवभारत टाइम्स     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       अर्जुन कपूर की एक और फिल्म सुपरफ्लॉप, अलादीन का नहीं कर पाई मुकाबला - आज तक     |       Hrithik Roshan की फिल्म ‘सुपर 30’ इस दिन होगी रिलीज, उन्होंने खुद किया खुलासा - Hindustan     |       कीवी खिलाड़ी ने कहा, खिताब के प्रबल दावेदार भारत के खिलाफ जीत से बढ़ेगा मनोबल - अमर उजाला     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में भारत के खिलाफ मैच के बाद पाकिस्तान टीम को मिलेगा ये बड़ा तोहफा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Virat Kohli Interview: वर्ल्ड कप से पहले बोले टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली, बीवी अनुष्का शर्मा की वजह से अधिक जिम्मेदार कप्तान हूं - inKhabar     |      

विदेश


ओडिशा में फानी ने मचाई भारी तबाही, 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा

चक्रवाती तूफान फोनी ने पश्चिम बंगाल में दस्तक देने के पहले 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार से आगे बढ़ते हुए ओडिशा के कई जिलों में भारी तबाही मचा दी है।


fani-created-a-huge-catastrophe-in-odisha-winds-of-200-kmph

 

तूफान सुबह करीब आठ बजे ओडिशा के पुरी तट से टकराया। तूफान से आंध्र प्रदेश के कई हिस्से भी प्रभावित हुए हैं। फोनी के कारण ओडिशा और पश्चिम बंगाल के हवाईअड्डों को बंद कर दिया गया है। कई उड़ानें और ट्रेनें रद्द होने की वजह से यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ओडिशा में चक्रवाती तूफान फोनी पहुंचने के बाद विभिन्न घटनाओं में तीन लोगों की मौत होने की खबर है।

20 साल पहले आए सुपर चक्रवात के बाद से इसे सबसे खतरनाक तूफान माना जा रहा है। 1999 के सुपर चक्रवात में 10,000 लोगों की जान चली गई थी और उसने ओडिशा में भयंकर तबाही मचाई थी।

दिन में 12.30 बजे तक ओडिशा के गंजम, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों में कई स्थानों पर 140-150 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से पहुंचने वाले तूफान की गति बढ़कर 165-175 किलोमीटर प्रतिघंटा हो गई। खोरदा, केंद्रपाड़ा, जाजपुर, ढेंकनाल, भद्रक, बालासोर और नयागढ़ में भारी बारिश हो रही है। अंगुल, क्योंझर, मयूरभंज तथा आसपास के जिलों में 60-70 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने के साथ चक्रवाती तूफान और भारी बारिश की संभावना है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, पुरी में कई घरों को क्षतिग्रस्त करने के साथ ही तेज रफ्तार हवा ने हजारों पेड़ों और बिजली के खंभों को उखाड़ फेंका है। तूफान ने कई जिलों में सड़क और बिजली व्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचाया है। चक्रवाती तूफान ने पुरी के पास के ओडिशा के तटीय क्षेत्र को सुबह 8 से 10 बजे के बीच में पार करना शुरू कर दिया था, हालांकि यह क्रम दोपहर एक बजे तक जारी रहा। मौसम विभाग ने बताया कि तेज रफ्तार हवा के साथ ही राज्य में आगामी कुछ घंटों तक लगातार तेज बारिश होगी।

सूत्रों के अनुसार, केंद्रपाड़ा के राजनगर ब्लॉक के देवेंद्रनारायणपुर में बनाए गए राहत शिविर में 65 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला की मौत की सूचना मिली है। मौत के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। वहीं, पुरी जिले के सखीगोपाल थानाक्षेत्र में पेड़ टूटकर एक किशोर पर गिर गया जिससे उसकी मौत हो गई। नयागढ़ जिले में कंकरीट के ढांचे का मलबा उड़कर एक महिला को जा लगा जिससे उसकी मौत हो गई।

11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया :

तटीय इलाकों से करीब 5 किलोमीटर दूर तक स्थान को खाली करवा दिया गया है। ओडिशा में शुक्रवार को चक्रवात फोनी को लेकर सावधानी के मद्देनजर बीते 24 घंटों में करीब 11 लाख लोगों को राज्य के कई जिलों से हटाया गया। गंजम और पुरी के जिलों से क्रमश: 3 लाख और 1.3 लाख लोग सुरक्षित स्थान पर भेजे गए। कई लोग हालांकि अपने घरों से बाहर नहीं जाना चाहते थे, जिससे निकासी के दौरान बचावकर्मियों को काफी मशक्क्त का सामना करना पड़ा। वहीं. 11 तटीय जिलों में सभी दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान, निजी और सरकारी दफ्तर बंद रहे।

नौसेना, वायुसेना और थलसेना हालात पर कड़ी निगरानी रखे हुई हैं। एनडीआरएफ के शीर्ष अधिकारी जेपी शर्मा ने मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमानों को सही बताते हुए कहा, "तूफान के आगे बढ़ने के बाद उससे हुई हानि का जायजा लेने के बाद हमारा काम वास्तव में शुरू होगा।" उन्होंने कहा कि तूफान से हुए विनाश के सर्वेक्षण के लिए भारतीय नौसेना के टोही विमान पी-81 और डोर्नियर को काम में लगाया जाएगा। 

बांग्लादेश ने दिया नाम :
फोनी नाम बांग्लादेश ने दिया है जिसका मतलब होता है फन वाला सांप। इससे पहले तूफानों को नीलोफर, तितली, बिजली, जल आदि नाम दिया गया। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में उष्णकटिबंधीय तूफानों को अलग-अलग नाम से जाना जाता है। आधिकारिक तौर पर तूफानों के नाम रखने की शुरुआत 1953 से शुरू हुई। किसी तूफान का नामकरण तब किया जाता है जब उसकी गति कम से कम 63 किमी प्रति घंटा हो। तूफान की रफ्तार 118 किमी प्रति घंटा होती है तो उसे गंभीर तूफान माना जाता है। अगर उसकी रफ्तार 200 किमी प्रति घंटे से ज्यादा हो तो उसे सुपर चक्रवात की श्रेणी में रखा जाता है। तूफान के नाम का रखने की जिम्मेदारी उस क्षेत्र में आने वाले देशों की होती है। फोनी तूफान हिंद महासागर के उत्तरी इलाके में शुरू हुआ। इसलिए इस बार बांग्लादेश ने नाम दिया।

अमेरिकी मौसम विभाग ने 1953 में तय किया कि अंग्रेजी वर्णमाला के ए से लेकर डब्ल्यू तक जितने भी नाम महिलाओं के नाम हो सकते हैं उसी आधार पर तूफान का नामकरण किया जाए। लेकिन महिला संगठनों के विरोध के बाद तूफान का नाम पुरुषों के नाम पर भी किया जाने लगा। भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ हिंद महासागर के करीब वाले देशों में तूफान का नामकरण साल 2000 के बाद शुरू हुआ जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश, मालदीव, म्यांमार आदि शामिल हैं।

advertisement