आईएस मॉड्यूल/ हैदराबाद-वर्धा में एनआईए के छापे; धमाकों की साजिश रचने के आरोप में दिल्ली से एक गिरफ्तार - Dainik Bhaskar     |       विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का हुआ तबादला, 'वीर चक्र' देने के लिए सिफारिश - NDTV India     |       सपा-बसपा गठबंधन पर बरसे PM मोदी, कहा- तय हो चुकी है इनकी दोस्ती टूटने की तारीख - आज तक     |       'चुनावी अपील' कर फंसे नवजोत सिंह सिद्धू, चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस किया जारी - Times Now Hindi     |       पीएम मोदी पर आधारित वेब सीरीज के प्रसारण पर चुनाव आयोग की रोक - Navbharat Times     |       बिहार: सुपौल में मंच से बोले राहुल गांधी-बिहार का चौकीदार बहुत ही ईमानदार होता है - दैनिक जागरण     |       हेमंत करकरे ने मुझे झूठे आरोपों में फंसाया: साध्वी प्रज्ञा BJP's Pragya Thakur insults 26/11 martyr Hemant Karkare - आज तक     |       वाणिज्यिक बैंकों में 5 डेज वर्किंग की खबरें गलतः भारतीय रिजर्व बैंक - Navbharat Times     |       क्राइम 360: रोहित शेखर मर्डर केस में पत्नी अपूर्वा से पूछताछ Crime 360: Wife of Rohit under interrogation in Murder Case - crime 360 - आज तक     |       कांग्रेस ने दिल्ली में फाइनल किए नाम, चांदनी चौक से लड़ सकती हैं शीला दीक्षित - आज तक     |       अबु-धाबी में पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास - BBC हिंदी     |       घर में ही घ‍िरे राष्‍ट्रपति ट्रंप: मूलर की रिपोर्ट से अमेरिकी सियासत में कोहराम, महाभियोग पर अड़ा विपक्ष - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       आखिर सुषमा स्वराज ने लीबिया में फंसे भारतीयों को वहां से तुरंत निकलने को क्यों कहा - NDTV India     |       Shab-E-Barat wishes images 2019: Messages, WhatsApp status, pics and quotes to add fervour to the festival - Times Now     |       65 हजार रुपये में लॉन्च हो जा रहा है ये नया 125cc स्कूटर - आज तक     |       दो दिन में मुकेश अंबानी को 2 बर्थडे गिफ्ट, दुनिया भर में हुई चर्चा - Business - आज तक     |       Vodafone का नया प्लान, मिलेगी एक साल की वैधता, अनलिमिटेड कॉलिंग और भी बहुत कुछ - Jansatta     |       Bajaj Qute Vs Tata Nano: रतन टाटा की लखटकिया से कितनी अलग है भारत की सबसे छोटी कार? - दैनिक जागरण     |       ब्रहास्त्र : हाथों से आग निकालने की सुपरपावर, दिलचस्प है DJ रणबीर का किरदार - आज तक     |       साध्वी प्रज्ञा सिंह के बयान को लेकर स्वरा भास्कर से उलझीं पायल रोहतगी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       सलमान खान ने 'भारत' का नया पोस्टर किया शेयर, आंखों में झलक रहा दर्द - नवभारत टाइम्स     |       स्कूल ड्रेस में स्ट्रीट फू़ड खाते दिखीं दीपिका, कई दिनों से ऐसे ही घूम रहीं दिल्ली की सड़कों पर - अमर उजाला     |       IPL 2019: दिल्ली कैपिटल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 5 विकेट से हराया - Hindustan     |       IPL 2019: BCCI ने उठाया सवाल, राजस्थान रॉयल्स ने स्टीव स्मिथ को कैसे बनाया कप्तान? - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       गांगुली मामले में लोकपाल ने कहा- दोनों पक्ष अब देंगे लिखित दलील - आज तक     |       आईपीएल 2019 : अभ्यास के दौरान वेस्टइंडीज के पवार हीटर खिलाड़ी को लगी चोट - SportzWiki Hindi     |      

राजनीति


मोदी सरकार को हटाने के लिए दो तरह के गठजोड़- संपूर्ण एकता और संभव एकता : शरद यादव

सात बार लोकसभा चुनाव जीत चुके यादव ने कहा कि देश की जनता ने तय कर लिया है कि अब भाजपा को आने वाले चुनाव में बाहर का रास्ता दिखाना है। उन्होंने कहा, "पहली प्राथमिकता भाजपा को हराना है। सरकार गठन पर बाद में फैसला हो जाएगा"


fully-united-and-possibly-united-two-main-point-to-remove-modi-government-says-shara-yadav

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी गठबंधन, प्रधानमंत्री के लिए नाम और कई अन्य मसलों पर अपने विचार प्रकट किए हैं। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार को हटाने के विपक्ष के लक्ष्य को पाने के लिए सभी राज्यों में दो तरह के गठजोड़ होंगे- एक 'संपूर्ण एकता' और दूसरा 'संभव एकता'। 

शरद यादव ने एक साक्षात्कार में कहा कि अतीत में गठबंधन सरकार के प्रधानमंत्री का नाम आमतौर से लोकसभा चुनाव के बाद उभर कर सामने आता था और ऐसा ही आने वाले लोकसभा चुनाव के बाद होगा।

उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर विपक्ष का गठबंधन काम करता नहीं दिख रहा है, ऐसे में राज्य आधारित गठजोड़ होंगे। संपूर्ण एकता हो सकती है और संभव एकता हो सकती है। प्रयास संपूर्ण एकता के लिए है लेकिन अगर यह संभव नहीं हुआ तो फिर संभव एकता होगी।" 

शरद यादव ने माना कि कई राज्यों में विपक्षी दलों के अपने-अपने दावों के कारण पूर्ण एकता हासिल करना मुश्किल है। तीन राज्यों से लोकसभा चुनाव जीत चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने उत्तर प्रदेश में गठबंधन करने का सही फैसला लिया है। यह भाजपा को चुनौती देने की दिशा में बड़ा कदम है।

शरद यादव ने कहा है कि पश्चिम बंगाल और केरल जैसे राज्यों में पूर्ण एकता हासिल करना मुश्किल है लेकिन जो भी हो, विपक्षी पार्टियां भाजपा को हराने के लिए एकजुट होंगी। तमिलनाडु, महाराष्ट्र और बिहार जैसे राज्यों में विपक्षी पार्टियां आसानी से पूर्ण एकता हासिल कर सकती हैं।

सात बार लोकसभा चुनाव जीत चुके यादव ने कहा कि देश की जनता ने तय कर लिया है कि अब भाजपा को आने वाले चुनाव में बाहर का रास्ता दिखाना है। उन्होंने कहा, "पहली प्राथमिकता भाजपा को हराना है। सरकार गठन पर बाद में फैसला हो जाएगा।"

शरद यादव ने कहा कि 1977, 1990, 1996 और 2004 में गठबंधन और अन्य सरकारें बनीं लेकिन तब भी पहले से प्रधानमंत्री उम्मीदवार के बारे में पता नहीं था। इस बार भी भाजपा चुनाव में हारती है तो प्रधानमंत्री चुनना मुश्किल नहीं होगा। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान कि लोकसभा में लोगों को मजबूत सरकार और मजबूर सरकार के बीच में से किसी एक को चुनना होगा, इस पर यादव ने कहा कि इस तरह के नारों का कोई अर्थ नहीं है। लोग ही अंत में संप्रभु प्राधिकारी हैं। उन्होंने कहा है कि ऐसी सरकार से देश को कोई लाभ नहीं है, जो अपने आप को मजबूत सरकार बोलती है लेकिन संविधान के तहत काम नहीं करती है। शरद यादव ने कहा कि मोदी सरकार देश की जनता में फूट डाल रही है, सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर रही है और लोगों से किए अपने वादों को पूरा करने में असफल रही है।

advertisement