PM मोदी ने दी नंबर गेम पर नसीहत, क्या कांग्रेस को मिलेगा नेता विपक्ष का पद? - आज तक     |       डॉक्टरों की देशव्यापी हड़ताल, एम्स भी समर्थन में आया - Navbharat Times     |       सांसद के रूप में आज सबसे पहले शपथ लेंगे पीएम मोदी, सोनिया को मिल सकती है विशेष तरजीह - अमर उजाला     |       बिहार में दिमाग़ी बुख़ार का क़हर, बीमारों से मिलने पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री - NDTV India     |       पाकिस्तान ने दी भारत को आतंकी हमले की सूचना, कश्मीर में हाई अलर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ICC World Cup 2019: जानिए INDvPAK मैच पर बारिश का कितना खतरा है - Hindustan     |       Weather Update: मानसून की बारिश में 43 फीसद आई गिरावट, उत्तर भारत में जल्द बरसेंगे बदरा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पश्चिम बंगाल: बगैर मीडिया के ममता बनर्जी से मिलने को हड़ताली डॉक्टर्स राजी - आज तक     |       दिग्विजय सिंह की हार पर समाधि लेने की घोषणा करने वाले बाबा अब पुलिस की निगरानी में, जानें- पूरा मामला - NDTV India     |       फ्लाइट में पैसेंजर के सामने पति-पत्नी करने लगे सेक्सुअल एक्ट, हुए अरेस्ट - आज तक     |       पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, पुंछ सेक्टर में दागे मोर्टार, तीन लोग जख्मी - आज तक     |       लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद नए ISI चीफ - Navbharat Times     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       टाटा अल्ट्रॉज का ऑफिशल टीजर जारी, मारुति बलेनो को देगी टक्कर - Navbharat Times     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       Airtel के इस प्लान में दिया जा रहा है अनलिमिटेड डेटा, यहां जानें विस्तार से - आज तक     |       Exclusive: शाहरुख के बेटे आर्यन लीड रोल करने को हुए राजी, पिता संग इस फिल्म में करेंगे काम - अमर उजाला     |       India Vs Pakistan: Abhinandan वाले ऐड का जवाब देने पर Harsh Goenka पर बरसे Ali Fazal - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Bollyweeo celebs on red carpet of Miss India 2019 Grand Finale | इवेंट में बॉलीवुड स्टार्स का जलवा - दैनिक भास्कर     |       IN PICS: रेस्तरां के बाहर फैंस के बीच फंसी दिशा पाटनी, टाइगर श्रॉफ को करना पड़ा रेस्क्यू - ABP News     |       वर्ल्ड कप/ वेस्टइंडीज-बांग्लादेश मैच आज, इंग्लैंड में दोनों टीमें 15 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       पाक के खिलाफ भारत की जीत को अमित शाह ने बताया 'एक और स्ट्राइक' तो केजरीवाल बोले- हिंदुस्तान को... - NDTV India     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |      

व्यापार


दोबारा सत्ता में आएगी जीएसटी लागू करने वाली सरकार

विदेश में जहां भी वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू की गई वहां प्राय: इसे लागू करने वाली सरकार को हार का मुंह देखना पड़ा, लेकिन इसके उलट भारत में जीएसटी लागू करने वाली सरकार दोबारा सत्ता में आने जा रही है।


government-to-implement-gst-again-in-power

 

इससे साफ है कि नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को प्रमुख आर्थिक सुधार के रूप में स्वीकार किया गया है। चुनाव परिणाम के अब तक के रुझान में भाजपा की अगुआई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को लोकसभा की 542 सीटों में से 343 सीटों पर बढ़त दिखाई गई है। 

विदेश की बात करें तो मलेशिया में संघीय सरकार को जीएसटी लागू करने के बाद हार मिली थी। ऐसा ही हाल न्यूजीलैंड और आस्ट्रेलिया में जीएसटी लागू करने वाली सरकारों का रहा। दरअसल, इन देशों में कर सुधार कार्यक्रम के बाद वस्तुओं और सेवाओं की कीमतें बढ़ गई जिससे लोगों में पैदा हुई नाराजगी का परिणाम सरकारों को भुगतना पड़ा। 

कर कानून के एक जानकार ने बताया, "ऐसा शायद पहली बार हुआ है कि एक विशाल देश में जीएसटी लागू करने वाली सरकार को लोगों ने दोबारा चुना है।" राजनीतिक कारणों से उन्होंने अपना नाम जाहिर करने से मना कर दिया। संरचनागत कर सुधार लाने वाली सरकार को स्पष्ट बहुमत मिलने के कारण गिनाते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने महंगाई पर नियंत्रण बनाए रखा और उद्योग की मांगों पर सक्रियता से काम किया। 

जीएसटी मामलों के एक अन्य सलाहकार ने कहा, "कई देशों में जहां जीएसटी लागू की गई वहां सरकारों ने वादा किया कि इसको लेकर पैदा होने वाली समस्याओं का समाधान एक साल के भीतर किया जाएगा, जबकि जीएसटी लागू होने के बाद एक साल के भीतर चुनाव आ गया।" उन्होंने कहा, "यहां (भारत) जीएसटी लागू होने और चुनाव होने के बीच दो साल का अंतर है।" मोदी सरकार ने एक जुलाई 2017 को जीएसटी लागू किया जो अप्रत्यक्ष करों में एक बड़ा बदलाव था और इसके बाद अधिकांश वस्तुओं और सेवाओं की लागत घट गई जिससे दुनिया में भारत एक प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्था बन गया है। 

सरकार ने नई कर व्यवस्था में दर्जनों बदलाव किए और पिछले दो साल में इसे उद्योग के लिए अनुकूल बनाने के लिए सैकड़ों मदों पर कर की दरों में कटौती की। इसके बाद इसकी प्रक्रिया को और सरल बनाने की दिशा में और परिवर्तन की योजना है। वरसारी एडवाइजर्स इंडिया एलएलपी के मैनेजिंग पार्टनर अमित कुमार सरकार ने कहा, "सरकार आगे सेवा क्षेत्र के लिए एक अनुकूल वातावरण बनाएगी क्योंकि यह क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ी ताकत रही है।"

advertisement