आजमगढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे अखिलेश यादव Lok Sabha elections: Akhilesh Yadav to contest from Azamgarh - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       राहुल- प्रियंका पर भाजपा का हमला, पूछा- करोड़ों, अरबों की संपत्ति कहां से आई - दैनिक जागरण     |       बीजेपी ने राहुल पर लगाया आय से अधिक संपत्ति का आरोप, कहा- 55 लाख रुपये 9 करोड़ में कैसे बदले - नवभारत टाइम्स     |       PAK: होली खेलती 2 हिन्दू लड़कियों का अपहरण, जबरन कराया धर्मांतरण - trending clicks AajTak - आज तक     |       कश्मीर/ भारत ने सीमा पार चौकी उड़ाई, पाक सैनिकों ने उल्टा झंडा फहराकर भेजा खतरे का संकेत - Dainik Bhaskar     |       लोकसभा अपडेट्स/ कैलाश ने भोपाल से लड़ने की इच्छा जताई, कहा- नाथ और सिंधिया ने दिग्विजय को फंसा दिया - Dainik Bhaskar     |       Chinook पर है दुनिया के 26 देशों का भरोसा, कई जगहों पर निभा चुका है बड़ी भूमिका - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       चुनाव नहीं लड़ेंगी उमा भारती, भाजपा ने दी बड़ी जिम्मेदारी- Amarujala - अमर उजाला     |       एक ही फ्लाइट में मां-बेटी पायलट, भरी उड़ान, फोटो हुई वायरल - आज तक     |       लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी ने काटा शांता कुमार और कड़िया मुंडा का टिकट- पांच बड़ी ख़बरें - BBC हिंदी     |       पाकिस्तान के नेशनल डे पर क्या पीएम मोदी ने इमरान खान को भेजी हैं शुभकामनाएं - Webdunia Hindi     |       पाकिस्तान में 121 सालों से जंजीरों में जकड़ा है ये पेड़, दिलचस्प है गिरफ्तारी की वजह- Amarujala - अमर उजाला     |       Tata Motors to hike passenger vehicle prices by up to Rs 25,000 from April - Times Now     |       Karnataka Bank reports Rs 13 crore fraud to RBI - Times Now     |       Airtel और Vodafone ने रिवाइज किया 169 रु का प्लान, जानें क्या Jio के 149 रु से है बेहतर - दैनिक जागरण     |       Hyundai Styx की Vitara Brezza और Mahindra XUV300 से होगी टक्कर, देखें टीजर VIDEO - Jansatta     |       जयललिता की बायॉपिक के लिए 24 करोड़ रुपये फी लेंगी कंगना रनौत? - नवभारत टाइम्स     |       Kesari Box Office Collection Day 3: अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की धाकड़ कमाई, तीन दिन में कमा लिए इतने करोड़ - NDTV India     |       ट्रेलर रिलीज होते ही ट्रोल हुई `PM नरेंद्र मोदी`, कहीं उल्टा न पड़ जाए दांव - Sanjeevni Today     |       अजय देवगन इन 3 फ़िल्मों से 2020 में करेंगे धमाका, अक्षय कुमार से छीनी उनकी फेवरिट डेट! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       IPL 2019: Ahead of RCB opener vs CSK, Virat Kohli gives fitting reply to Gautam Gambhir's 'captaincy' jibe - Times Now     |       आईपीएल/ पहले मैच में विलियम्सन के खेलने पर संशय, भुवनेश्वर संभाल सकते हैं हैदराबाद की कमान - Dainik Bhaskar     |       धोनी-कोहली हुए पिच से निराश तो हरभजन सिंह बोले जब ज्यादा रन बनते हैं तो कोई शिकायत नहीं करता - India TV हिंदी     |       अयाज मेमन की कलम से/ टी-20 में ना कोई फेवरेट होता है, ना ही अंडरडॉग - Dainik Bhaskar     |      

साहित्य/संस्कृति


हिंदी दिवस विशेष | पढ़िए हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में गिनी जाने वाली कविता ‘टूटी हुई बिखरी हुई’

‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई


hindi-diwas-special-read-poem-one-the-best-poem-of-hindi-writen-by-shamsher-bahadur-singh

आज हिंदी दिवस है। अपनी संस्कृति के प्रति गौरव का बोध कराता यह दिन हम सब को हिंदी के लिए बेहतर करने की प्रेरणा देता है। यह तय है कि आने वाली पीढ़ी का बेहतर विकास तभी हो सकेगा, जब वह अपनी मातृ भाषा में सोचने एवं समझने की क्षमता विकसित कर सकेगी।

यहां हम आपके लिए आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के एक स्तंभ माने जाने वाले शमशेर बहादुर सिंह की महान रचना ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ लेकर आए हैं इसे हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में से एक माना जाता है। ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई।

 

टूटी हुई बिखरी हुई चाय
            की दली हुई पाँव के नीचे
                    पत्तियाँ
                       मेरी कविता

बाल, झड़े हुए, मैल से रूखे, गिरे हुए, 
                गर्दन से फिर भी चिपके
          ... कुछ ऐसी मेरी खाल,
          मुझसे अलग-सी, मिट्टी में
              मिली-सी

दोपहर बाद की धूप-छाँह में खड़ी इंतजार की ठेलेगाड़ियाँ
जैसे मेरी पसलियाँ...
खाली बोरे सूजों से रफू किये जा रहे हैं...जो
                  मेरी आँखों का सूनापन हैं

ठंड भी एक मुसकराहट लिये हुए है
                 जो कि मेरी दोस्‍त है।

कबूतरों ने एक गजल गुनगुनायी . . .
मैं समझ न सका, रदीफ-काफिये क्‍या थे,
इतना खफीफ, इतना हलका, इतना मीठा
                उनका दर्द था।

आसमान में गंगा की रेत आईने की तरह हिल रही है।
मैं उसी में कीचड़ की तरह सो रहा हूँ
                और चमक रहा हूँ कहीं...
                न जाने कहाँ।

मेरी बाँसुरी है एक नाव की पतवार -
                जिसके स्‍वर गीले हो गये हैं,
छप्-छप्-छप् मेरा हृदय कर रहा है...
              छप् छप् छप्व

वह पैदा हुआ है जो मेरी मृत्‍यु को सँवारने वाला है।
वह दुकान मैंने खोली है जहाँ 'प्‍वाइजन' का लेबुल लिए हुए
                 दवाइयाँ हँसती हैं -
उनके इंजेक्‍शन की चिकोटियों में बड़ा प्रेम है।

वह मुझ पर हँस रही है, जो मेरे होठों पर एक तलुए
                         के बल खड़ी है
मगर उसके बाल मेरी पीठ के नीचे दबे हुए हैं
          और मेरी पीठ को समय के बारीक तारों की तरह
          खुरच रहे हैं
उसके एक चुम्‍बन की स्‍पष्‍ट परछायीं मुहर बनकर उसके
          तलुओं के ठप्‍पे से मेरे मुँह को कुचल चुकी है
उसका सीना मुझको पीसकर बराबर कर चुका है।

मुझको प्‍यास के पहाड़ों पर लिटा दो जहाँ मैं
          एक झरने की तरह तड़प रहा हूँ।
मुझको सूरज की किरनों में जलने दो -
          ताकि उसकी आँच और लपट में तुम
          फौवारे की तरह नाचो।

मुझको जंगली फूलों की तरह ओस से टपकने दो,
          ताकि उसकी दबी हुई खुशबू से अपने पलकों की
          उनींदी जलन को तुम भिगो सको, मुमकिन है तो।
हाँ, तुम मुझसे बोलो, जैसे मेरे दरवाजे की शर्माती चूलें
          सवाल करती हैं बार-बार... मेरे दिल के
          अनगिनती कमरों से।

हाँ, तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मछलियाँ लहरों से करती हैं
           ...जिनमें वह फँसने नहीं आतीं,
जैसे हवाएँ मेरे सीने से करती हैं
           जिसको वह गहराई तक दबा नहीं पातीं,
तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मैं तुमसे करता हूँ।

आईनो, रोशनाई में घुल जाओ और आसमान में
           मुझे लिखो और मुझे पढ़ो।
आईनो, मुसकराओ और मुझे मार डालो।
आईनो, मैं तुम्‍हारी जिंदगी हूँ।

एक फूल उषा की खिलखिलाहट पहनकर
           रात का गड़ता हुआ काला कम्‍बल उतारता हुआ
           मुझसे लिपट गया।

उसमें काँटें नहीं थे - सिर्फ एक बहुत
           काली, बहुत लम्बी जुल्‍फ थी जो जमीन तक
           साया किये हुए थी... जहाँ मेरे पाँव
           खो गये थे।

वह गुल मोतियों को चबाता हुआ सितारों को
           अपनी कनखियों में घुलाता हुआ, मुझ पर
           एक जिन्‍दा इत्रपाश बनकर बरस पड़ा -

और तब मैंने देखा कि मैं सिर्फ एक साँस हूँ जो उसकी
           बूँदों में बस गयी है।
           जो तुम्‍हारे सीनों में फाँस की तरह खाब में
           अटकती होगी, बुरी तरह खटकती होगी।

मैं उसके पाँवों पर कोई सिजदा न बन सका,
           क्‍योंकि मेरे झुकते न झुकते
           उसके पाँवों की दिशा मेरी आँखों को लेकर
           खो गयी थी।

जब तुम मुझे मिले, एक खुला फटा हुआ लिफाफा
                        तुम्‍हारे हाथ आया।
            बहुत उसे उलटा-पलटा - उसमें कुछ न था -
            तुमने उसे फेंक दिया : तभी जाकर मैं नीचे
            पड़ा हुआ तुम्‍हें 'मैं' लगा। तुम उसे
            उठाने के लिए झुके भी, पर फिर कुछ सोचकर
            मुझे वहीं छोड़ दिया। मैं तुमसे
           यों ही मिल लिया था।

मेरी याददाश्‍त को तुमने गुनाहगार बनाया - और उसका
           सूद बहुत बढ़ाकर मुझसे वसूल किया। और तब
           मैंने कहा - अगले जनम में। मैं इस
           तरह मुसकराया जैसे शाम के पानी में
           डूबते पहाड़ गमगीन मुसकराते हैं।

मेरी कविता की तुमने खूब दाद दी - मैंने समझा
           तुम अपनी ही बातें सुना रहे हो। तुमने मेरी
           कविता की खूब दाद दी।

तुमने मुझे जिस रंग में लपेटा, मैं लिपटता गया :
          और जब लपेट न खुले - तुमने मुझे जला दिया।
          मुझे, जलते हुए को भी तुम देखते रहे : और वह
          मुझे अच्‍छा लगता रहा।

एक खुशबू जो मेरी पलकों में इशारों की तरह
          बस गयी है, जैसे तुम्‍हारे नाम की नन्‍हीं-सी
          स्‍पेलिंग हो, छोटी-सी प्‍यारी-सी, तिरछी स्‍पेलिंग।

आह, तुम्‍हारे दाँतों से जो दूब के तिनके की नोक
          उस पिकनिक में चिपकी रह गयी थी,
          आज तक मेरी नींद में गड़ती है।

अगर मुझे किसी से ईर्ष्‍या होती तो मैं
           दूसरा जन्‍म बार-बार हर घंटे लेता जाता 
पर मैं तो जैसे इसी शरीर से अमर हूँ -
           तुम्‍हारी बरकत!

बहुत-से तीर बहुत-सी नावें, बहुत-से पर इधर
           उड़ते हुए आये, घूमते हुए गुजर गये
           मुझको लिये, सबके सब। तुमने समझा
           कि उनमें तुम थे। नहीं, नहीं, नहीं।
उसमें कोई न था। सिर्फ बीती हुई
           अनहोनी और होनी की उदास
           रंगीनियाँ थीं। फकत।

advertisement