दुल्हन बनीं ग्लैमरस सांसद नुसरत जहां, देखें शादी की सबसे पहली PHOTOS... - ​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​Zee ​​News Hindi     |       संसद में बोले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, 'तीन तलाक और हलाला को हटाना है'; पढ़ें संबोधन की 10 खास बातें - NDTV India     |       1990 कस्टोडियल डेथ केस: बर्खास्त IPS अधिकारी संजीव भट्ट को उम्रकैद - Hindustan     |       International Yoga Day 2019: योग के रंग में रंगी रांची, आज आएंगे पीएम मोदी Ranchi News - दैनिक जागरण     |       अशोक गहलोत हो सकते हैं कांग्रेस के नए अध्यक्ष, जल्द होगा ऐलान? - Navbharat Times     |       triple talaq after 10 hours to marriage in deoghar jharkhand high voltage drama and baraati hostage in nikah - दैनिक जागरण     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       ICC World Cup 2019: पाकिस्‍तानी कप्‍तान सरफराज की भरे स्‍टेडियम में बेइज्‍जती, फैंस ने मोटा-मोटा कहकर चिढ़ाया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में मासूमों की मौत के बीच गायब हैं तेजस्वी, पार्टी के नेता बोले- वर्ल्ड कप देखने गए हैं - Navbharat Times     |       एएन-32 क्रैश: अरुणाचल प्रदेश में मिले 6 शव और 7 के अवशेष, 3 जून को लापता हुआ था विमान - NDTV India     |       युद्ध हुआ तो पाक-चीन को मिलेगा करारा जवाब, सेना सीमा पर तैनात करने जा रही है इंटीग्रेटेड वॉर ग्रुप्स - अमर उजाला     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       3 कॉल गर्ल्स से 9 हजार में सौदा, नोएडा के फार्महाउस में 9 ने किया रेप - Crime images AajTak - आज तक     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       'सेक्स कल्ट' चलाने वाला महिलाओं को भूखा रखकर करवाता था सेक्स, चाइल्ड पोर्नोग्राफी समेत कई मामलो में दोषी - NDTV India     |       दौरा/ किम से चर्चा के लिए जिनपिंग उत्तर कोरिया पहुंचे, 14 साल में यहां आने वाले पहले चीनी राष्ट्रपति - Dainik Bhaskar     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       renault triber seven seater compact mpv unveiled - नवभारत टाइम्स     |       Kabir Singh Box Office Prediction: Shahid के सामने Salman की Bharat, पहले दिन इतनी कमाई का अनुमान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Arjun Patiala Trailer: Upcoming comedy film starring Diljit Dosanjh, Kriti Sanon and Varun Sharma directed by Rohit Jugraj - The Lallantop     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       पापा सैफ अली खान के पैर पकड़े हुए दिखे तैमूर, वायरल हो रही तस्वीर - आज तक     |       World Cup 2019: ऋषभ पंत के वर्ल्ड कप में चयन से खुश नहीं हैं उनके कोच! खुद बताई वजह - अमर उजाला     |       ICC World Cup 2019 AUSvBAN: पाकिस्तान से आगे निकला बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया को भी चुनौती देने को तैयार - Hindustan     |       WC: सेमीफाइनल में जा सकती हैं ये 4 टीमें, ऐसा है अबतक का समीकरण - आज तक     |       IND vs PAK: भारत से मिली हार के बाद PCB प्रमुख ने सरफराज अहमद को किया फोन, कही यह बात.. - NDTV India     |      

साहित्य/संस्कृति


हिंदी दिवस विशेष | पढ़िए हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में गिनी जाने वाली कविता ‘टूटी हुई बिखरी हुई’

‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई


hindi-diwas-special-read-poem-one-the-best-poem-of-hindi-writen-by-shamsher-bahadur-singh

आज हिंदी दिवस है। अपनी संस्कृति के प्रति गौरव का बोध कराता यह दिन हम सब को हिंदी के लिए बेहतर करने की प्रेरणा देता है। यह तय है कि आने वाली पीढ़ी का बेहतर विकास तभी हो सकेगा, जब वह अपनी मातृ भाषा में सोचने एवं समझने की क्षमता विकसित कर सकेगी।

यहां हम आपके लिए आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के एक स्तंभ माने जाने वाले शमशेर बहादुर सिंह की महान रचना ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ लेकर आए हैं इसे हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में से एक माना जाता है। ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई।

 

टूटी हुई बिखरी हुई चाय
            की दली हुई पाँव के नीचे
                    पत्तियाँ
                       मेरी कविता

बाल, झड़े हुए, मैल से रूखे, गिरे हुए, 
                गर्दन से फिर भी चिपके
          ... कुछ ऐसी मेरी खाल,
          मुझसे अलग-सी, मिट्टी में
              मिली-सी

दोपहर बाद की धूप-छाँह में खड़ी इंतजार की ठेलेगाड़ियाँ
जैसे मेरी पसलियाँ...
खाली बोरे सूजों से रफू किये जा रहे हैं...जो
                  मेरी आँखों का सूनापन हैं

ठंड भी एक मुसकराहट लिये हुए है
                 जो कि मेरी दोस्‍त है।

कबूतरों ने एक गजल गुनगुनायी . . .
मैं समझ न सका, रदीफ-काफिये क्‍या थे,
इतना खफीफ, इतना हलका, इतना मीठा
                उनका दर्द था।

आसमान में गंगा की रेत आईने की तरह हिल रही है।
मैं उसी में कीचड़ की तरह सो रहा हूँ
                और चमक रहा हूँ कहीं...
                न जाने कहाँ।

मेरी बाँसुरी है एक नाव की पतवार -
                जिसके स्‍वर गीले हो गये हैं,
छप्-छप्-छप् मेरा हृदय कर रहा है...
              छप् छप् छप्व

वह पैदा हुआ है जो मेरी मृत्‍यु को सँवारने वाला है।
वह दुकान मैंने खोली है जहाँ 'प्‍वाइजन' का लेबुल लिए हुए
                 दवाइयाँ हँसती हैं -
उनके इंजेक्‍शन की चिकोटियों में बड़ा प्रेम है।

वह मुझ पर हँस रही है, जो मेरे होठों पर एक तलुए
                         के बल खड़ी है
मगर उसके बाल मेरी पीठ के नीचे दबे हुए हैं
          और मेरी पीठ को समय के बारीक तारों की तरह
          खुरच रहे हैं
उसके एक चुम्‍बन की स्‍पष्‍ट परछायीं मुहर बनकर उसके
          तलुओं के ठप्‍पे से मेरे मुँह को कुचल चुकी है
उसका सीना मुझको पीसकर बराबर कर चुका है।

मुझको प्‍यास के पहाड़ों पर लिटा दो जहाँ मैं
          एक झरने की तरह तड़प रहा हूँ।
मुझको सूरज की किरनों में जलने दो -
          ताकि उसकी आँच और लपट में तुम
          फौवारे की तरह नाचो।

मुझको जंगली फूलों की तरह ओस से टपकने दो,
          ताकि उसकी दबी हुई खुशबू से अपने पलकों की
          उनींदी जलन को तुम भिगो सको, मुमकिन है तो।
हाँ, तुम मुझसे बोलो, जैसे मेरे दरवाजे की शर्माती चूलें
          सवाल करती हैं बार-बार... मेरे दिल के
          अनगिनती कमरों से।

हाँ, तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मछलियाँ लहरों से करती हैं
           ...जिनमें वह फँसने नहीं आतीं,
जैसे हवाएँ मेरे सीने से करती हैं
           जिसको वह गहराई तक दबा नहीं पातीं,
तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मैं तुमसे करता हूँ।

आईनो, रोशनाई में घुल जाओ और आसमान में
           मुझे लिखो और मुझे पढ़ो।
आईनो, मुसकराओ और मुझे मार डालो।
आईनो, मैं तुम्‍हारी जिंदगी हूँ।

एक फूल उषा की खिलखिलाहट पहनकर
           रात का गड़ता हुआ काला कम्‍बल उतारता हुआ
           मुझसे लिपट गया।

उसमें काँटें नहीं थे - सिर्फ एक बहुत
           काली, बहुत लम्बी जुल्‍फ थी जो जमीन तक
           साया किये हुए थी... जहाँ मेरे पाँव
           खो गये थे।

वह गुल मोतियों को चबाता हुआ सितारों को
           अपनी कनखियों में घुलाता हुआ, मुझ पर
           एक जिन्‍दा इत्रपाश बनकर बरस पड़ा -

और तब मैंने देखा कि मैं सिर्फ एक साँस हूँ जो उसकी
           बूँदों में बस गयी है।
           जो तुम्‍हारे सीनों में फाँस की तरह खाब में
           अटकती होगी, बुरी तरह खटकती होगी।

मैं उसके पाँवों पर कोई सिजदा न बन सका,
           क्‍योंकि मेरे झुकते न झुकते
           उसके पाँवों की दिशा मेरी आँखों को लेकर
           खो गयी थी।

जब तुम मुझे मिले, एक खुला फटा हुआ लिफाफा
                        तुम्‍हारे हाथ आया।
            बहुत उसे उलटा-पलटा - उसमें कुछ न था -
            तुमने उसे फेंक दिया : तभी जाकर मैं नीचे
            पड़ा हुआ तुम्‍हें 'मैं' लगा। तुम उसे
            उठाने के लिए झुके भी, पर फिर कुछ सोचकर
            मुझे वहीं छोड़ दिया। मैं तुमसे
           यों ही मिल लिया था।

मेरी याददाश्‍त को तुमने गुनाहगार बनाया - और उसका
           सूद बहुत बढ़ाकर मुझसे वसूल किया। और तब
           मैंने कहा - अगले जनम में। मैं इस
           तरह मुसकराया जैसे शाम के पानी में
           डूबते पहाड़ गमगीन मुसकराते हैं।

मेरी कविता की तुमने खूब दाद दी - मैंने समझा
           तुम अपनी ही बातें सुना रहे हो। तुमने मेरी
           कविता की खूब दाद दी।

तुमने मुझे जिस रंग में लपेटा, मैं लिपटता गया :
          और जब लपेट न खुले - तुमने मुझे जला दिया।
          मुझे, जलते हुए को भी तुम देखते रहे : और वह
          मुझे अच्‍छा लगता रहा।

एक खुशबू जो मेरी पलकों में इशारों की तरह
          बस गयी है, जैसे तुम्‍हारे नाम की नन्‍हीं-सी
          स्‍पेलिंग हो, छोटी-सी प्‍यारी-सी, तिरछी स्‍पेलिंग।

आह, तुम्‍हारे दाँतों से जो दूब के तिनके की नोक
          उस पिकनिक में चिपकी रह गयी थी,
          आज तक मेरी नींद में गड़ती है।

अगर मुझे किसी से ईर्ष्‍या होती तो मैं
           दूसरा जन्‍म बार-बार हर घंटे लेता जाता 
पर मैं तो जैसे इसी शरीर से अमर हूँ -
           तुम्‍हारी बरकत!

बहुत-से तीर बहुत-सी नावें, बहुत-से पर इधर
           उड़ते हुए आये, घूमते हुए गुजर गये
           मुझको लिये, सबके सब। तुमने समझा
           कि उनमें तुम थे। नहीं, नहीं, नहीं।
उसमें कोई न था। सिर्फ बीती हुई
           अनहोनी और होनी की उदास
           रंगीनियाँ थीं। फकत।

advertisement