जेल में ऐसे रह रहा है राम रहीम, सलाखों के पीछे ऐसी है लाइफस्टाइल- Amarujala - अमर उजाला     |       फैसला/ आलोक वर्मा के बाद अस्थाना सहित 4 और अधिकारी पद से हटाए गए - Dainik Bhaskar     |       मोदी सरकार का तोहफा : Railway के गार्ड, लोको पायलट आैर सहायक लोको पायलट का Running allowance हुआ दोगुना - प्रभात खबर     |       विवादों के बीच संजीव खन्ना और दिनेश माहेश्‍वरी सुप्रीम कोर्ट के जज नियुक्‍त - News18 Hindi     |       कर्नाटक में BJP का 'ऑपरेशन कमल' फ्लॉप, नेता संत स्वामी की बीमारी का बहाना बना कर घर लौटे - News18 Hindi     |       News18 Explains: Dissent Within Judiciary Over Collegium Recommendations In Judicial Appointments - News18     |       अमित शाह की सेहत ठीक, जल्द मिलेगी छुट्टी: बीजेपी - Navbharat Times     |       मायावती भतीजे आकाश को बसपा में शामिल कर विरोधियों को देंगी जवाब - Hindustan     |       यूके/ ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार - Dainik Bhaskar     |       देखें, चीनी कंपनी ने अमानवीयता की हदें पार कीं, कर्मचारियों को सड़क पर घुटनों के बल चलाया - नवभारत टाइम्स     |       बोगोटा ब्लास्ट: कार बम धमाके में कम से कम नौ लोगों की मौत - BBC हिंदी     |       SHOCKING: Chinese company forces employees to crawl on roads for failing to meet year-end targets - Watch - Times Now     |       Rupee opens 9 paise higher at 71.15 against US dollar - Times Now     |       बुधवार को मामूली गिरावट के बाद फिर बढ़े पेट्रोल डीजल के दाम, जानें आज के भाव - NDTV India     |       RIL ने किया 'कमाल', ऐसा करने वाली देश की इकलौती प्राइवेट कंपनी, मुकेश अंबानी ने कहा- शुक्रिया - Zee Business हिंदी     |       Jio vs Airtel vs Vodafone Prepaid Recharge Plans: 300 रुपये तक के रिचार्ज में किसका प्लान है बेस्ट, देखें - Jansatta     |       I'm not 'Egg-xpecting': Miley Cyrus denies pregnancy rumours with a hilarious tweet - see post - Times Now     |       सलमान खान को दोस्त बता कर कंगना रनौत ने ज़ाहिर कर दी अपनी इच्छा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Victoria Beckham uses moisturiser made from her own blood - gulfnews.com     |       Hero Vardiwala Trailer: पहली भोजपुरी वेब सीरीज में निरहुआ-आम्रपाली - आज तक     |       MS Dhoni on cusp of achieving new milestone in 3rd ODI against Australia at MCG - Times Now     |       Australian Open: Kei Nishikori survives huge scare against Ivo Karlovic - Times Now     |       जेसन गिलेस्‍पी ने भारत को बताया वर्ल्‍डकप-2019 का खिताबी दावेदार, बुमराह की तारीफ में कही यह बात - NDTV India     |       निर्णायक जंग में भारत के पास इतिहास रचने का सुनहरा मौका, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरा वन-डे आज- Amarujala - अमर उजाला     |      

ब्लॉग


कैसे एबीवीपी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनावों में सभी सीटों पर जमाया कब्जा, क्यों फेल हुए वाम दल?

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे


how-abvp-won-all-seats-in-Hyderabad-university-students-elections-why-the-left-failed

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने दिल्ली विश्वविद्यालय में जीत दर्ज करने के बाद अब हैदराबाद विश्वविद्यालय में भी बड़ी जीत हासिल की है। छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी ने सभी सीटों पर कब्जा कर लिया है। इन नतीजों में एबीवीपी की आरती नागपाल को अध्यक्ष चुना गया है।

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे।

पिछली बार भाषा विवाद पर एसएफआई के घोर अहंकारी और अलोकतांत्रिक रवैये की वजह से और किसी अन्य विकल्प में विश्वास नहीं रखने के कारण मैंने घोषित रूप से चुनाव में वोटिंग नहीं की थी।

इस बार एसएफआई पैनल को वोट जरूर किया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि एसएफआई के साथ पिछले साल का मेरा सैद्धांतिक मतभेद खत्म हो गया हो। 

हालांकि सुनने में यह आया कि विभिन्न पदों के उम्मीदवारों की बहस में पिछले साल 'नो हिंदी नो हिंदी' और 'स्टॉप हिंदी इम्पोजीसन' का नारा बुलंद करने वालो का समर्थन करने वाले संगठन एसएफआई के ही एक उम्मीदवार ने इस बार बहस के लिए अपनी सहज भाषा हिन्दी को चुना और सकारात्मक यह रहा कि इसबार 'नो हिंदी' के नारे नहीं लगे।

उम्मीद करनी चाहिए कि इस कैंपस में अब मातृभाषा में अपनी बात रखने वालों पर कभी 'अपनी भाषा औरों पर थोपने' का बचकाना आरोप नहीं लगाया जाएगा।

मेरे खयाल से एसएफआई को चाहिए कि वो अपनी सभी पुरानी गलतियों की समीक्षा करे और उन्हें सुधारकर छात्रों के बीच अपनी विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए काम करे। जरुरी मुद्दों को उठाने के लिए छात्रसंघ में होना जरुरी नहीं है, इसके लिए किसी संगठन की ईमानदारी और इच्छाशक्ति ही काफी होती है।

नवनिर्वाचित एबीवीपी का छात्रसंघ जरुरी मुद्दों को संबोधित करने की मंशा रखता होगा इसमें मुझे शक है, लेकिन यदि ऐसा हो तो इसे सकारात्मक ही माना जाएगा।

(ऊपर लिखे गए ब्लॉग में व्यक्त विचार लेखक के अपने विचार हैं, इसके लिए खबरिया डॉट कॉम उत्तरदाई नहीं है।)

advertisement