अलगाववादी नेता यासीन मलिक के संगठन JKLF पर लगा बैन Yasin Malik-led JKLF banned by govt under anti-terror law - आज तक     |       LOK SABHA ELECTIONS 2019: भाजपा की दूसरी लिस्ट जारी, संबित पात्रा को पूरी से मिला टिकट - Hindustan     |       लोकसभा/ मुरादाबाद की जगह फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ेंगे राज बब्बर, संबित पात्रा पुरी से उम्मीदवार - Dainik Bhaskar     |       भारतीय सेना में जल्द शामिल होगा 'धनुष', बोफोर्स से बढ़िया हमारी खुद की तोप- Amarujala - अमर उजाला     |       चौतरफा घेराबंदी: चार मुठभेड़ों में तीन पाकिस्तानी आतंकियों समेत सात आतंकी ढेर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       भारत की बड़ी कार्रवाई: पाक के दो अफसरों समेत 12 सैनिक ढेर, छह चौकियां तबाह - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       आतंकी ने बच्चे का तालिबानी अंदाज में रेता गला, शादी के लिए लड़की के भाई को बनाया था बंधक- Amarujala - अमर उजाला     |       पुलवामा हमले पर सैम पित्रोदा का विवादित बयान Sam Pitroda remark on Pulwama terror attack draws ire - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       PM मोदी ने दी इमरान को राष्ट्रीय दिवस की शुभकामनाएं, कहा- शांति के लिए साथ चलने का वक्त आ गया है - Hindustan     |       लंदन में नीरव मोदी के गिरफ्तार होने पर गुलाम नबी आजाद ने कहा- चुनावी फायदे के लिए हुई कार्रवाई - ABP News     |       भारत के एक दांव से परेशान हुआ चीन, खुद को बता रहा बड़े दिलवाला - Business - आज तक     |       गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को चीन की मदद, मिला 2 अरब डॉलर का कर्ज - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन बाजार में गिरावट - मनी कॉंट्रोल     |       Jio Offer: शियोमी के इस फोन पर मिल रहा है, 2000 से ज्यादा का कैशबैक, साथ में 100 GB इंटरनेट फ्री - Hindustan     |       नई Suzuki Ertiga Sport हुई पेश, यहां जानें खास बातें - आज तक     |       Jio ने सब्सक्राइबर बेस बढ़ाने की रेस में Airtel, वोडाफोन आइडिया को पीछे छोड़ा - नवभारत टाइम्स     |       'केसरी' ने होली पर जमाया रंग, पहले दिन कमाए इतने करोड़ - Hindustan     |       एक्टर विद्युत जामवाल ने खोले 'जंगली' के 5 मोस्ट डैंजरस सीन के राज, जरा सी चूक ले सकती थी जान- Amarujala - अमर उजाला     |       'पीएम नरेंद्र मोदी' फिल्म की वाराणसी में हुई शूटिंग, विवेक ओबेरॉय ने की गंगा आरती - नवभारत टाइम्स     |       Javed Akhtar फ़िल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी 'का पोस्टर देखकर हैरान हुए - BBC हिंदी     |       विलियम्सन न्यूजीलैंड के प्लेयर ऑफ द ईयर बने, रॉस टेलर वनडे के बेस्ट प्लेयर - Dainik Bhaskar     |       गंभीर के चुनाव लड़ने पर पूछा सवाल तो भड़क गईं BJP सांसद मीनाक्षी लेखी - आज तक     |       गौतम गंभीर की टिप्पणी पर विराट कोहली ने किया पलटवार, पढ़ें क्या कहा? - Hindustan     |       IPL 2019: CSK के खिलाफ उतरते ही विराट कोहली बनाएंगे रेकॉर्ड, बनेंगे पहले खिलाड़ी - Navbharat Times     |      

ब्लॉग


कैसे एबीवीपी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनावों में सभी सीटों पर जमाया कब्जा, क्यों फेल हुए वाम दल?

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे


how-abvp-won-all-seats-in-Hyderabad-university-students-elections-why-the-left-failed

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने दिल्ली विश्वविद्यालय में जीत दर्ज करने के बाद अब हैदराबाद विश्वविद्यालय में भी बड़ी जीत हासिल की है। छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी ने सभी सीटों पर कब्जा कर लिया है। इन नतीजों में एबीवीपी की आरती नागपाल को अध्यक्ष चुना गया है।

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे।

पिछली बार भाषा विवाद पर एसएफआई के घोर अहंकारी और अलोकतांत्रिक रवैये की वजह से और किसी अन्य विकल्प में विश्वास नहीं रखने के कारण मैंने घोषित रूप से चुनाव में वोटिंग नहीं की थी।

इस बार एसएफआई पैनल को वोट जरूर किया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि एसएफआई के साथ पिछले साल का मेरा सैद्धांतिक मतभेद खत्म हो गया हो। 

हालांकि सुनने में यह आया कि विभिन्न पदों के उम्मीदवारों की बहस में पिछले साल 'नो हिंदी नो हिंदी' और 'स्टॉप हिंदी इम्पोजीसन' का नारा बुलंद करने वालो का समर्थन करने वाले संगठन एसएफआई के ही एक उम्मीदवार ने इस बार बहस के लिए अपनी सहज भाषा हिन्दी को चुना और सकारात्मक यह रहा कि इसबार 'नो हिंदी' के नारे नहीं लगे।

उम्मीद करनी चाहिए कि इस कैंपस में अब मातृभाषा में अपनी बात रखने वालों पर कभी 'अपनी भाषा औरों पर थोपने' का बचकाना आरोप नहीं लगाया जाएगा।

मेरे खयाल से एसएफआई को चाहिए कि वो अपनी सभी पुरानी गलतियों की समीक्षा करे और उन्हें सुधारकर छात्रों के बीच अपनी विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए काम करे। जरुरी मुद्दों को उठाने के लिए छात्रसंघ में होना जरुरी नहीं है, इसके लिए किसी संगठन की ईमानदारी और इच्छाशक्ति ही काफी होती है।

नवनिर्वाचित एबीवीपी का छात्रसंघ जरुरी मुद्दों को संबोधित करने की मंशा रखता होगा इसमें मुझे शक है, लेकिन यदि ऐसा हो तो इसे सकारात्मक ही माना जाएगा।

(ऊपर लिखे गए ब्लॉग में व्यक्त विचार लेखक के अपने विचार हैं, इसके लिए खबरिया डॉट कॉम उत्तरदाई नहीं है।)

advertisement

  • संबंधित खबरें