17वीं लोकसभा के पहले सत्र में PM मोदी ने ली सांसद के रूप में शपथ - NDTV India     |       पश्चिम बंगाल: बगैर मीडिया के ममता बनर्जी से मिलने को हड़ताली डॉक्टर्स राजी - आज तक     |       बिहार में 90 से ज़्यादा बच्चों की मौत की वजह लीची नहीं ये है - News18 इंडिया     |       पाकिस्तान ने दी भारत को आतंकी हमले की सूचना, कश्मीर में हाई अलर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       बिहार: मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 100 बच्चों की मौत - Navbharat Times     |       World Cup 2019: बिना आउट हुए ही चलते बने कोहली, ड्रेसिंग रूम में जाकर निकाली भड़ास - अमर उजाला     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खबरदार: डॉक्टरों की मांगे स्वीकारने के बाद भी 'जिद' पर अड़ीं ममता? - आज तक     |       Monsoon Updates: 2-3 दिनों में आगे बढ़ेगा मानसून, जानें दिल्‍ली में कैसा रहेगा मौसम - Times Now Hindi     |       पेड़ में उभरी भगवान गणेश की आकृति, लोगों ने बना दिया मंदिर - Navbharat Times     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पाक ने कट्टरपंथी अधिकारी फैज हमीद को चुना आईएसआई का चीफ, मुनीर को 8 महीने में ही हटाया - Navbharat Times     |       पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, पुंछ सेक्टर में दागे मोर्टार, तीन लोग जख्मी - आज तक     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       दक्षिण अमेरिका के तीन देश अंधेरे में डूबे, गलियों और सड़कों पर सन्नाटा पसरा - Hindustan हिंदी     |       आ रही है टाटा की सबसे प्रीमियम हैचबैक कार Altroz, मारुति Baleno से होगा मुकाबला - अमर उजाला     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       SBI : 1 जुलाई से लाखों लोगों को मिलेगा फायदा, बैंक देगा सस्ते होम लोन का विकल्प - Hindustan     |       सोना महापात्रा ने सलमान खान को बताया पेपर टाइगर - नवभारत टाइम्स     |       जब Shilpa Shetty मेरे एक्स बॉयफ्रेंड Akshay Kumar को डेट रही थीं हम तब भी दोस्त थे : Raveena Tandon - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       राजस्थान की सुमन राव बनीं Miss India World 2019, छत्तीसगढ़ की शिवानी जाधव के नाम रही यह उपलब्धि - Lokmat News Hindi     |       दिशा पाटनी के साथ रेस्टोरेंट के बाहर स्पॉट हुए टाइगर, एक्ट्रेस को भीड़ से बचाने के लिए किया ये काम - अमर उजाला     |       वर्ल्ड कप/ वेस्टइंडीज-बांग्लादेश मैच आज, इंग्लैंड में दोनों टीमें 15 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       पाक के खिलाफ भारत की जीत को अमित शाह ने बताया 'एक और स्ट्राइक' तो केजरीवाल बोले- हिंदुस्तान को... - NDTV India     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |      

जीवनशैली


क्यों और कैसे ज्यादा एंटीबायोटिक लेना खतरनाक हो सकता है, इससे आपको पेट की गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं!

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, एंटीबायोटिक दवाएं, वायरस संक्रमण को रोकने और इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। एंटीबायोटिक प्रतिरोध तब होता है, जब इन दवाओं के उपयोग के जवाब में बैक्टीरिया अपना स्वरूप बदल लेता है


how-and-why-more-antibiotic-medicines-can-damage-your-health-badly

एंटीबायोटिक, अगर आम भाषा में कहें तो एक ऐसी दवा या पदार्थ जो जीवाणु को मार डालता है या उसके विकास को रोकता है, जब कभी हम बीमार पड़ते हैं तो एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल जरुर करते हैं, कई बार तो बिना डॉक्टर से पूछे ही। 

रोजाना की दौड़ती-भागती जिंदगी में अक्सर हम लोग सरदर्द, पेटदर्द या बुखार होने पर बिना डॉक्टर की सलाह लिए कोई भी एंटीबायोटिक दवा ले लेते हैं और तबीयत ठीक होने पर अक्सर ऐसा करते रहते हैं लेकिन चिकित्सकों ने जरूरत से अधिक एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करने पर डायरिया जैसी पेट की गंभीर बीमारियां होने की चेतावनी दी है। 

नारायणा सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल के इंटरनल मेडीसिन सीनियर कंसल्टेंट डॉ. सतीश कौल ने कहा, "जरूरत से अधिक एंटीबायोटिक का सेवन आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इससे आपको डायरिया जैसी पेट की बीमारियां हो सकती हैं। गलत एंटीबायोटिकलेना भी एक समस्या बन सकता है अगर आपको उस दवा से एलर्जी है तो।" 

उन्होंने कहा, "किसी भी एंटीबायोटिक का गलत या जरूरत से अधिक इस्तेमाल कई परेशानियां खड़ी कर सकता है जैसे कि इंफेक्शन जल्दी ठीक न हो पाना आदि। इससे ऐंटीबायोटिक रेसिस्टेंट ऑर्गेज्मस भी विकसित हो सकते हैं। अगर आप बिना डॉक्टर की सलाह के कोइ ऐन्टीबायोटिक लगातार लेते रहेंगे तो यह खतरा बहुत बढ़ सकता है।" 

डॉ. सतीश कौल ने कहा, "वर्तमान में एंटीबायोटिक प्रतिरोधक क्षमता विश्व के सबसे बड़े स्वास्थ्य समस्याओं में से एक बन गयी है। हमें अधिक से अधिक लोगों को एंटीबायोटिक्स के सही उपयोग और उसके फंक्शन के बारे में बताना चाहिए ताकि इस समस्या का निदान हो सके। हमें इस समस्या को गंभीरता से लेने की जरूरत है।" 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के मुताबिक, एंटीबायोटिक दवाएं, वायरस संक्रमण को रोकने और इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। एंटीबायोटिक प्रतिरोध तब होता है, जब इन दवाओं के उपयोग के जवाब में बैक्टीरिया अपना स्वरूप बदल लेता है।

डब्लूएचओ) के मुताबिक, "बिना जरूरत के एंटीबायोटिक दवा लेने से एंटीबायोटिक प्रतिरोध में वृद्धि होती है, जो कि वैश्विक स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक है। एंटीबायोटिक प्रतिरोध संक्रमण से मरीज को लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती रहने, इलाज के लिए अधिक राशि और बीमारी गंभीर होने पर मरीज की मौत भी हो सकती है।"

डब्लूएचओ के मुताबिक, एंटीबायोटिक प्रतिरोध संक्रमण किसी भी देश में किसी भी आयुवर्ग और किसी को भी प्रभावित कर सकता है। साथ ही जब बैक्टीरिया एंटीबायोटिक के प्रतिरोध हो जाता है तो आम से संक्रमण का भी इलाज नहीं किया जा सकता।

वहीं श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टिट्यूट के इंटरनल मेडीसिन सीनियर कंसलटेंट डॉ. अरविन्द अग्रवाल ने बताया, " आजकल सरदर्द, पेटदर्द या बुखार होने पर हम बिना डॉक्टर की सलाह लिए कोई भी एंटीबायोटिक दवा ले लेते हैं। कई बार तो हम बिना किसी जरूरत के भी एंटीबायोटिक लेते रहते हैं। बिना आवश्यकता के और नियमित रूप से एंटीबायोटिक लेते रहते से आपके शरीर के माइक्रोब्स या बैक्टीरिया खुद को बदल लेते हैं जिससे एंटीबायोटिक्स उन्हें हानि नहीं पहुंचा पाते।"

उन्होंने कहा, "यह एंटीबायोटिक प्रतिरोध क्षमता कहलाती है। एंटीबायोटिक का जरूरत से अधिक इस्तेमाल करने से सबसे प्रभावशाली एंटीबायोटिक दवाइयों का भी कुछ बैक्टीरिया पर असर नहीं पड़ता। ये बैक्टीरिया अपने आप को इस तरह बदल लेते हैं कि दवा, केमिकल्स या इंफेक्शन हटाने वाले किसी भी इलाज का इनपर या तो बिलकुल ही असर नहीं पड़ता या फिर बहुत कम असर पड़ता है।"

डॉ. अरविन्द अग्रवाल ने कहा, "ऐसे बैक्टीरिया न सिर्फ दवाइयों से खुद को बचा लेते हैं बल्कि अपनी संख्या भी बढ़ाते रहते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अधिक खतरनाक साबित होता है। बैक्टीरिया और इससे होने वाली बीमारियों को खत्म करने के लिए ली जाती हैं और यह सर्दी, खांसी, बुखार जैसे वायरल इंफेक्शन को खत्म नहीं कर सकता।"
 

advertisement