लंदन में घोटालेबाज नीरव मोदी की गिरफ्तारी Fugitive businessman Nirav Modi arrested in London - आज तक     |       Samjhauta Blast Case: NIA कोर्ट ने असीमानंद समेत सभी चारों आरोपियों को किया बरी - NDTV India     |       BSP chief Mayawati not to contest Lok Sabha elections - Times Now     |       PM मोदी वाराणसी से फिर से चुनाव लड़ने के लिए तैयार, जल्द जारी होगी BJP की पहली लिस्ट - Hindustan     |       पीएम मोदी के बारे में क्या सोचते हैं 'चौकीदार' - आज तक     |       Knock Knock Kaun Hain ? Chowkidar ? - News18     |       जम्‍मू-कश्‍मीर: सीआरपीएफ जवान ने तीन साथियों को गोलियों से भूना, खुद को भी गोली मारी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       मनोहर पर्रिकर की तस्वीर बगल में रख गोवा के नए सीएम डॉ. प्रमोद सावंत ने संभाला कामकाज - नवभारत टाइम्स     |       जिम्बाब्वे में चली ऐसी हवा झटके में 300 लोगों को मौत की नींद सुला गई - Zee News Hindi     |       Nirav Modi: नीरव मोदी को नहीं मिली ज़मानत,अब आगे क्या? - BBC हिंदी     |       यूरोपीय संघ ने प्रतिस्पर्धा नियमों के उल्लंघन को लेकर गूगल पर 1.7 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया - Navbharat Times     |       दुनिया के खुशहाल देशों की रैंकिंग में भारत सात पायदान नीचे खिसक कर 140वें स्थान पर पहुंचा - ABP News     |       Hyundai Motor, Kia Motors to invest $300 million in Ola - Times Now     |       Happy Holi 2019 Songs: इन गानों के बिना नहीं पूरी होती होली, जश्न हो जाता है दोगुना - Jansatta     |       लगातार सातवें दिन तेजी, निफ्टी 11500 के पार बंद - मनी कॉंट्रोल     |       एनालिसिस/ 2.47 लाख करोड़ रु के दान के बाद भी गेट्स की नेटवर्थ 130 देशों की जीडीपी से ज्यादा - Dainik Bhaskar     |       Ranbir & Alia Dance Together On Ishq Vala Love As Ranbir Goes Down On His Knees - Woman's Era     |       केसरी: अक्षय कुमार की जुबानी, फिल्म रिलीज से पहले जान लें क्लाइमैक्स - आज तक     |       अवॉर्ड शो के बीच ही दीपिका-रणवीर ने लिए फेरे, वीडियो Viral - Hindustan     |       Happy Holi 2019: कभी अमिताभ और राजकपूर के यहां होली पर जुटता था बॉलीवुड, इस कारण अब नहीं मनता जश्न - Jansatta     |       कोलकाता/ मैच में बल्लेबाजी करते हुए गिरा खिलाड़ी, हुई मौत - Dainik Bhaskar     |       IPL-12: चौथी बार ट्रोफी जीतने उतरेगी मुंबई इंडियंस, संतुलन है टीम की ताकत - Navbharat Times     |       T-20 का रोमांच: साउथ अफ्रीका ने सुपर ओवर में मारी बाजी, श्रीलंका चित - आज तक     |       IPL 2019: विराट कोहली की कप्तानी पर गौतम गंभीर ने उठाए सवाल, कही ये बड़ी बात - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

जीवनशैली


जापान के मुकाबले भारत में आप खुद को जल्दी बूढ़ा महसूस करेंगे, अध्ययन में हुआ खुलासा

अगर आप भारत में रहते हैं तो आपको जापान और स्विट्जरलैंड में रहने वाले लोगों की तुलना में शुरुआती उम्र में ही बुढ़ापे के नकरात्मक प्रभावों से जूझना पड़ेगा। अपनी तरह के पहले वैज्ञानिक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है


in-india-compared-to-japan-you-will-feel-yourself-old-revealing-in-the-study

अगर आप भारत में रहते हैं तो आपको जापान और स्विट्जरलैंड में रहने वाले लोगों की तुलना में शुरुआती उम्र में ही बुढ़ापे के नकरात्मक प्रभावों से जूझना पड़ेगा। अपनी तरह के पहले वैज्ञानिक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है।

द लांसेट पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित पेपर के मुताबिक, 65 साल की उम्र में स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव करने वाले सबसे अधिक और सबसे कम उम्र के लोगों में 30 साल का अंतराल देशों को अलग करता है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जापान में रहने वाले 76 वर्षीय व्यक्तियों औप पापुआ न्यू गिनी में रहने वाले 46 वर्षीय लोगों में 65 साल की उम्र के औसत व्यक्ति के रूप में होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं का स्तर समान है।

अध्ययन में हालांकि बताया गया कि चीन और भारत जैसे देश उम्र संबंधी बीमारी रैंकिंग में बेहतर कर रहे हैं। भारत आयु से संबंधित बोझ दर में 159वें पायदान पर है जबकि आयु से संबंधित बीमारी बोझ दर में उसका स्थान 138वां है।

आयु से संबंधित बीमारी बोझ दर में फ्रांस (76 वर्ष) तीसरे स्थान पर, सिंगापुर (76 वर्ष) चौथे स्थान पर और कुवैत (75.3 वर्ष) पांचवें स्थान पर है। वहीं 68.5 वर्ष के साथ अमेरिका 54वें स्थान पर है। अमेरिका इस सूची में ईरान (69 वर्ष) और एंटीगुआ और बारमूडा (68.4 वर्ष) के बीच है।

वाशिंगटन यूनिवर्सिटी की मुख्य लेखक एंजेला वाई चैंग ने कहा, "निष्कर्ष बुजुर्गों में जीवन प्रत्याशा को दिखाते हैं, जो आबादी के कल्याण के एक अवसर या एक खतरा हो सकते हैं। यह उम्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं के आधार पर निर्भर करते हैं।" आयु से संबंधित समस्याएं जल्दी सेवानिवृत्ति, घटते जनबल और स्वास्थ्य खर्चे में वृद्धि की ओर ले जा सकती हैं।

चैंग ने कहा, "स्वास्थ्य प्रणाली को प्रभावित करने वाले सरकार के नेताओं और अन्य हितधारकों को इस पर विचार करने की जरूरत है कि लोग कब बढ़ती उम्र के नकरात्मक प्रभावों से जूझना शुरू होते हैं।" अध्ययन में 1990 से 2017 तक की अवधि और 195 देशों और क्षेत्रों को शामिल किया गया।
 

advertisement