राजस्थान चुनाव: BJP ने सचिन पायलट के खिलाफ युनूस खान को मैदान में उतारा     |       अमृतसर में आतंकी हमला में सीसीटीवी फोटो जारी, 50 लाख का इनाम घोषित     |       विवाद / आरबीआई बोर्ड की अहम बैठक शुरू, सरकार से मतभेद खत्म होने के आसार     |       इंदिरा गांधीः सख्त फैसलों से बनीं 'आयरन लेडी', इसी से जुड़ी है उनकी हत्या की कड़ी     |       देवोत्थान एकादशी आज, अब शुरू हो जाएंगे विवाह और अन्य शुभ कार्य     |       पति के इस कारनामे से हैरान हो जाएंगे आप, इंजीनियर पत्नी की फोटो व नंबर पॉर्न साइट पर डाला     |       Top 5 News : सेना में बड़े बदलाव की तैयारी, RBI की महत्वपूर्ण बोर्ड बैठक आज     |       दिल्ली: एक साल की बच्ची के साथ रेलवे ट्रैक पर रेप, आरोपी गिरफ्तार     |       भीमा कोरेगांव केस : नक्‍सलियों के लेटर में मिला दिग्विजय सिंह का मोबाइल नंबर, पूछताछ संभव     |       18000 फीट ऊंचाई, भारत में बन रहा ग्लेशियर से गुजरने वाला पहला रोड     |       पाकिस्‍तान पर भड़के डोनाल्‍ड ट्रंप, कहा- वो हमारे लिए कुछ भी नहीं करता     |       अलीगढ़: हैवान टीचर ने बच्चे की बेरहमी से की पिटाई, जूते से मारकर मुस्कुराने को कहा     |       2019 लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का नया नारा: हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर, फिर सरकार     |       मराठा आरक्षण को महाराष्ट्र सरकार ने दी मंज़ूरी, कितना आरक्षण मिलेगा ये तय नहीं     |       UPTET 2018: परीक्षा में धांधली का भंडाफोड़, 39 गिरफ्तार     |       मध्यप्रदेश चुनाव: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मैहर में किया रोड शो     |       KMP एक्सप्रेसवे का उद्घाटन आज, दिल्ली से घटेगा 50 हजार गाड़ियों का बोझ     |       जेट एयरवेज ने रद की मुंबई से जाने वाली दस उड़ानें, यात्री फंसे     |       सबरीमला विवाद: CM के घर के बाहर श्रद्धालुओं का प्रदर्शन, पुलिस पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप     |       कोर्ट में मुकरने पर 'रेप पीड़िता' से वापस लिया मुआवज़ा: प्रेस रिव्यू     |      

राजनीति


इस भाजपा शासित राज्य में कांग्रेस पहले ही हार मान चुकी है, हालात ऐसे हैं कि उसका नंबर तीसरा हो सकता है!

पिछली बार विधान सभा चुनाव में बीएसपी को एक सीट मिली थी और 17 सीटों पर उसके उम्मीदवारों ने जोरदार प्रदर्शन किया था बीएसपी की मांग बीस सीटों की थी


छत्तीसगढ़ में चुनाव से पहले ही कांग्रेस ने हार मान ली। चुनावी बिसात पर रमन सिंह कोई शह देते, इसके पहले ही कांग्रेसी मोहरे पिट गए, जिस पीएल पुनिया को कांग्रेस ने छत्तीगढ़ में सेंध लगाने भेजा था। उन्होंने ही कांग्रेस का सारा खेल खराब कर दिया।

बीएसपी से अगर कांग्रेस का समझौत नहीं हुआ, तो इसमें राहुल गांधी की कोई गलती नहीं थी।

पिछली बार विधान सभा चुनाव में बीएसपी को एक सीट मिली थी और 17 सीटों पर उसके उम्मीदवारों ने जोरदार प्रदर्शन किया था बीएसपी की मांग बीस सीटों की थी।

बेहतर माहौल में बातचीत से रास्ता निकल सकता था। लेकिन प्रदेश प्रभारी पुनिया ने रूखे तरीके से नौ सीटों का ऑफर किया, सो बनी बात बिगड़ गई। कांग्रेस में खलबली मची लेकिन पीएल पुनिया पर इसका कोई असर नहीं पड़ा।

माना जा रहा है कि छत्तीसगढ़ में असली लड़ाई बीजेपी और अजित जोगी में होनी है। कांग्रेस तीसरे नंबर की लड़ाई लड़ रही है।

वैसे भी पार्टी में गुटबाजी अपने चरम पर है। रही सही कसर चंदन यादव पूरी कर देंगे, जिन्हें सेक्रेटरी बना कर छत्तीसगढ़ भेजा गया है।

advertisement

  • संबंधित खबरें