समझौता ब्लास्ट में सभी आरोपी बरी होने पर भड़का पाकिस्तान, भारत ने दिया जवाब - आज तक     |       BSP chief Mayawati not to contest Lok Sabha elections - Times Now     |       भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में 11 राज्यों के लिए उम्मीदवारों के नाम तय - Webdunia Hindi     |       लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा के प्रत्याशी घोषित नहीं, नामांकन की तारीखें तय - Amarujala - अमर उजाला     |       मनोहर पर्रिकर की तस्वीर बगल में रख गोवा के नए सीएम डॉ. प्रमोद सावंत ने संभाला कामकाज - नवभारत टाइम्स     |       भारत को 59 साल लगे पहला लोकपाल बनाने में, दुनिया में 210 साल पुराना है यह कानून - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       3 दिन, 13 अंदाज: बोट यात्रा से छाईं प्रियंका गांधी, Photos - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       चुनाव आयोग ने सोशल मीडिया के लिए 'कोड ऑफ एथिक्स' लागू किया - NDTV India     |       जिम्बाब्वे में चली ऐसी हवा झटके में 300 लोगों को मौत की नींद सुला गई - Zee News Hindi     |       गूगल पर 11,760 करोड़ रुपये का जुर्माना - BBC हिंदी     |       दुनिया के खुशहाल देशों की रैंकिंग में भारत सात पायदान नीचे खिसक कर 140वें स्थान पर पहुंचा - ABP News     |       बॉस के साथ संबंध बनाने में बिजी थी महिला पुलिस अफसर, कार में मर गई 3 साल की बेटी.. - पंजाब केसरी     |       Hyundai Motor, Kia Motors to invest $300 million in Ola - Times Now     |       होली के सदाबहार गाने जिनके बिना अधूरा है रंगों का त्योहार - आज तक     |       लगातार सातवें दिन तेजी, निफ्टी 11500 के पार बंद - मनी कॉंट्रोल     |       एनालिसिस/ 2.47 लाख करोड़ रु के दान के बाद भी गेट्स की नेटवर्थ 130 देशों की जीडीपी से ज्यादा - Dainik Bhaskar     |       Father is doing well: Ranbir on Rishi Kapoor's health - Deccan Herald     |       केसरी: अक्षय कुमार की जुबानी, फिल्म रिलीज से पहले जान लें क्लाइमैक्स - आज तक     |       हाथों में हाथ थामे अवॉर्ड शो से न‍िकले रणबीर कपूर-आल‍िया भट्ट - आज तक     |       'पब्लिक डिमांड' पर अब इस दिन रिलीज होगी पीएम नरेंद्र मोदी की बायोपिक - News18 Hindi     |       IPL-12: चौथी बार ट्रोफी जीतने उतरेगी मुंबई इंडियंस, संतुलन है टीम की ताकत - Navbharat Times     |       कोलकाता/ मैच में बल्लेबाजी करते हुए गिरा खिलाड़ी, हुई मौत - Dainik Bhaskar     |       IPL 2019: विराट कोहली की कप्तानी पर गौतम गंभीर ने उठाए सवाल, कही ये बड़ी बात - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       मोहम्मद शमी को को आईपीएल के बीच में दिया जाएगा आराम: माइक हेसन - Wahcricket     |      

मनोरंजन


आज के समय में हम सभी को दाल-रोटी के लिए मेहनत करनी है : अमिताभ

महानायक अमिताभ बच्चन फिल्मोद्योग में 50 साल पूरे कर चुके हैं। अमिताभ बच्चन और उनके शिल्प ने कई पीढ़ियों पर राज किया है। उन्होंने विशेष साक्षात्कार के दौरान सबसे पहले उस एक घटना को लेकर संदेश दिया, जिसने उन्हें हाल ही में अपार पीड़ा पहुंचाई है


in-todays-time-all-of-us-have-to-work-hard-for-making-lentils-amitabh

महानायक अमिताभ बच्चन फिल्मोद्योग में 50 साल पूरे कर चुके हैं। अमिताभ बच्चन और उनके शिल्प ने कई पीढ़ियों पर राज किया है। उन्होंने विशेष साक्षात्कार के दौरान सबसे पहले उस एक घटना को लेकर संदेश दिया, जिसने उन्हें हाल ही में अपार पीड़ा पहुंचाई है।

उन्होंने कहा, "सबसे पहले भरे दिल से हम पुलवामा हमले में शहीद हुए अपने वीर जवानों के लिए और हर क्षण हमारी सुरक्षा के लिए लड़ने वाले बहादुर जवानों के लिए शोक संवेदना जाहिर करते हैं और उनके लिए प्रार्थना करते हैं।" विभिन्न विषयों पर अमिताभ से हुई बातचीत के खास अंश इस प्रकार हैं :

-आप 50 साल की अपनी इस यात्रा को किस रूप में देखते हैं। जब अब्बास साहेब आपको कलकत्ता से लेकर आए थे और 'सात हिंदुस्तानी' में से एक किरदार के लिए उन्होंने आपको चुना था? और अब यह यात्रा सुजोय घोष और 'बदला'...तक पहुंच चुकी है!

-एक दिन के बाद दूसरा दिन और उसी तरह दूसरा काम। लेकिन मैंने अतीत में सुजोय के साथ काम किया है। कहानी और निर्देशक मुझे पसंद है, कहानी में जो सस्पेंस और थ्रिल है, उसने मुझे प्रभावित किया। सुजोय ने कहानी बनाई है और वह बेचैन हैं। वह अपने कलाकारों से परफेक्शन चाहते हैं, वह अपनी विचार प्रक्रिया को लेकर और उसे साकार करने को लेकर बहुत स्पष्ट हैं। वह सिनेमा के व्याकरण की बहुत अच्छी समझ रखते हैं।

-आपने महान निर्देशकों और अभिनेताओं के साथ काम किया है। क्या आप मानते हैं कि हृषि दा और प्राण आपके पसंदीदा रहे हैं। दोनों अलग-अलग तरीके से आपके लिए भाग्यशाली थे...आपने हृषि दा के साथ 10 फिल्में कीं।

-जिस भी निर्देशक, अभिनेता, लेखक, निर्माता, सहकर्मी के साथ मैंने काम किया, सभी मेरे लिए पसंदीदा रहेंगे।

-तमाम शीर्ष अमेरिकी अभिनेताओं ने ली स्ट्रासबर्ग के अभिनय के तरीके को अपनाया है, जिन्हें हमने 'गॉडफादर 2' में हायमन रोथ के रूप में देखा था, जिनके साथ उनके शिष्य अल पैसिनो ने काम किया था, यह दिलचस्प फिल्म थी। जब आप अभिनय की दुनिया में आए तो क्या आपने अभिनय का कोई प्रशिक्षण लिया या किसी की शैली को अपनाया या किसी ने आपके काम पर असर डाला?

-बिल्कुल नहीं, मैंने अभिनय का कोई प्रशिक्षण नहीं लिया और न तो मैंने जाने-अनजाने किसी की नकल की, जब तक कि हमारे निर्माता-निर्देशक ने मुझसे वैसा करने के लिए नहीं कहा। और इस तरह के कुछ मौके आए। मुझे न तो अभिनय का कोई तरीका मालूम है और न तो मैंने कभी कोई बड़ी छलांग ही लगाई।

-हॉलीवुड में किसके काम को आप पसंद करते हैं?

-मार्लन ब्रांडो, मोंटगोमरी क्लिफ्ट, जेम्स डीन।

-आपको कई भूमिकाओं के लिए काफी तैयारी की जरूरत रही होगी, उदाहरण के लिए 'पा' या 'ब्लैक' में। इस तरह के कठिन किरदारों के लिए अपने शिल्प के बारे में कुछ बताएंगे?

-मेरे पास कोई शिल्प नहीं है और न तो यही पता है कि दूसरे लोग अच्छा काम करने के लिए क्या और कैसे करते हैं। मैं लेखक के लिखे शब्दों और निर्देशक के निर्देशों का यथासंभव सावधानी से अनुसरण करता हूं। 'ब्लैक' के लिए हमने दिव्यांगों की सांकेतिक भाषा सीखी। 'बदला' एक अलग तरह की एक थ्रिलर है। थ्रिलर वर्षों से आज भी हमें बांध कर रखती है। मेरी पीढ़ी के कुछ लोगों की स्मृतियों में 'महल' आज भी जिंदा है। 1949 की इस फिल्म में अशोक कुमार और मधुबाला ने काम किया था और इसका संगीत मौलिक था। दोनों हिंदी सिनेमा के मजबूत ताने-बाने का हिस्सा रहे हैं। (अमिताभ ने भी अपने शुरुआती समय में दो बहुत जोरदार संस्पेस थ्रिलर 'परवाना' और 'गहरी चाल' में काम किया था)।

-आपने हमेशा कहा है अपने अभिनय करियर में आप भाग्यशाली रहे हैं। क्या यह पंक्ति आपके जीवन का मूलमंत्र है- मैं अकेला ही चला जा रहा था, लोग जुड़ते चले गए और कारवां बनता चला गया?

-अपने पेशे में मूलमंत्र का अर्थ मुझे नहीं पता...मुझे नहीं पता कि मैं भाग्यशाली रहा हूं।

-आपके शिखर के वर्षों के एक बड़े हिस्से के दौरान मीडिया के साथ आपका एक बहुत ही कठिन रिश्ता रहा। एक समय मीडिया ने आपका बहिष्कार तक कर दिया था...और आज मीडिया के साथ आपका बहुत अच्छा रिश्ता है। इसके बारे में आप क्या कहना चाहेंगे और आपने इस दूरी को पाटने के लिए क्या कुछ किया?

-मैं समझता हूं कि आपको यह अच्छी तरह पता है कि कोई भी व्यक्ति न तो मीडिया के बहुत करीब रह सकता है और न बहुत दूर ही। मीडिया चौथा स्तंभ है, देश की अंतरात्मा है। मेरे पास अपनी अंतरात्मा के साथ जीने की क्षमता या दुस्साहस है, लेकिन मीडिया के साथ नहीं। इसके बारे में सोचना मेरे लिए मूर्खता होगी।

-फिल्मोद्योग में 50 साल हो चुके हैं, फिर भी आपके भीतर का कलाकार उसी तरह जिंदा और सक्रिय है। आपको ऊर्जा कहां से मिलती है? या यह काम के प्रति सम्मान की भावना है, जो आपकी अतंर्निहित नैतिकता को परिभाषित करती है? 

-मुझे समझ में नहीं आता कि आप या अन्य कई लोग मुझसे यह सवाल क्यों पूछते हैं?

-'सात हिंदुस्तानी' के बाद के वर्षों में कई फिल्में फ्लाप हुईं, लेकिन किसी मौलिक काम सुनील दत्त की 'रेशमा और शेरा' की छोटी-सी भूमिका या 'आनंद' से पहले की किसी फिल्म के अनुभव को याद करना चाहेंगे?

-सिर्फ यही इच्छा रहती थी कि कोई दूसरा काम मिले। अधिकांश बार असफलता ही मिली...।

-क्या स्कूल में आपने कोई शेक्सपियर किया? आपकी आवाज और अभिनय में कही-कहीं नाटकीयता की झलक है, जो आपकी हाल की फिल्मों में उभरकर सामने आई है? 

-नहीं, स्कूल में कभी भी शेक्सपियर नहीं किया।

-अभिनय करते हुए आपको 50 साल पूरे हो चुके हैं। क्या 'विजय' के अलावा कोई किरदार है, जो आपके जहन में जिंदा हो और क्यों?

-नहीं ऐसा कोई नहीं है।

-क्या हिंदी सिनेमा नई पीढ़ी के युवा निर्देशकों और अभिनेताओं के साथ अच्छे हाथों में है। जैसे रणवीर सिंह, आयुष्मान खुराना, आलिया भट्ट, राजकुमार या गली बॉय का 'शेर' साधारण कहानियां कह रहे हैं, जो लोगों को पसंद आ रही हैं? बायोपिक या जीवन की सच्ची कहानियां अच्छा कर रही हैं। अक्षय ने इस ऑर्ट फॉर्म को आकार दिया है, आप भी नागराज मंजुल के साथ 'झुंड' कर रहे हैं। क्या यह स्थिति मौलिक स्क्रिप्ट के अभाव के कारण है या ऐसी कहानियां समय की मांग हैं?

-समय और परिस्थितियां बदल गई हैं। हर पेशे में बदलाव आया है। फिल्म कोई अलग नहीं है। मौजूदा पीढ़ी अविश्वसनीय प्रतिभा से भरी हुई है। मैं इस पीढ़ी से बहुत प्रभावित हूं और मैं सौभाग्यशाली हूं कि मुझे इनमें से कुछ के साथ काम करने का मौका मिला है। यह मेरे लिए सीखने जैसा है। वे एक अलग और वैकल्पिक दुनिया के दृष्टिकोण मुहैया कराते हैं और यह सीखने लायक है। आज के मनोरंजन जगत के लेखकों और निर्माताओं की विश्वसनीयता, निपुणता, बुद्धिमानी और कौशल को कभी कम मत आंकिए। वे पिछले 100 सालों से अधिक समय से हमारी रचनात्मकता के पुष्पित और पल्लवित होने के प्रमाण हैं। 100 साल बाद भी अर्थवान बने रहना और खड़े रहना कोई मजाक नहीं है। यह सम्मान लायक है। मौलिकता एक द्वंद्वात्मक शब्दावली है। इसका बहुत सावधानी से इस्तेमाल करने की जरूरत है।

-क्या आपको यह सच्चाई परेशान करती है कि आज के अभिनेता अपनी फिल्मों के प्रचार-प्रसार के लिए काफी मेहनत करते हैं और उसमें काफी समय और ऊर्जा लगाते हैं, जबकि आपके समय में ऐसा नहीं था, जब आप निर्विवाद शहंशाह थे। ये सारी चीजें क्यों और कैसे बदल गईं?

-आप कहीं भी देखिए, यह स्थिति सिर्फ अभिनेताओं के साथ नहीं है। बल्कि क्या आज के समय में हर कोई अपनी दाल-रोटी के लिए मेहनत नहीं कर रहा है?

-आपके समय में एक कलाकार की साल में आठ फिल्में रिलीज होती थीं। आज अभिनेता साल में या दो साल में एक फिल्म करते हैं। क्या यह नए युग के व्यवसाय का तरीका है?

-यह बेहतर प्रबंधन को एक मान्यता है, वित्तीय और व्यक्तिगत दोनों को। अच्छी बात यह है कि संगीत और मेलोडी हिंदी सिनेमा में वापस लौट आए हैं। हर कोई संगीत का आनंद ले रहा है। संगीत हमारी आत्मा को छू रहे हैं।

-समानांतर सिनेमा के समय से लेकर छोटे सिनेमा तक जैसे 'राजी' और 'बधाई हो' विशुद्ध मनोरंजक (व्यावसायिक) सिनेमा से टक्कर ले रही हैं। क्या हिंदी फिल्मों के दर्शकों की रुचि बदल गई है या व्यावसायिकता की ही परिभाषा बदल गई है? 

-मुझे नहीं मालूम 'व्यावसायिक' या 'समानांतर' क्या है। सिनेमा सिर्फ सिनेमा है। आकार और परिधि, छोटा-बड़ा कपड़े नापने के पैमाने हैं। दुनिया के हर कोने में हर पीढ़ी की रुचि बदल गई है, सिर्फ फिल्म में ही नहीं बल्कि जीवन के हर क्षेत्र में।

-'गिरफ्तार' की कोई स्मृति? शायद यह पहली फिल्म है, जिसमें रजनीकांत, कमल हासन और आपने एक साथ काम किया?

-यह एक समय था, अवसर था और एक सबसे सुखद अनुभव था, एक ही फिल्म में रजनी और कमल के साथ।
 

advertisement