उत्तर प्रदेश: सपा प्रमुख अखिलेश यादव आजमगढ़ तो आजम खान रामपुर से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव - NDTV India     |       टिकट कटा तो शत्रुघ्न बोले- हर एक्शन का रिएक्शन होता है, आडवाणी जी के साथ अन्याय - आज तक     |       बीजेपी ने राहुल पर लगाया आय से अधिक संपत्ति का आरोप, कहा- 55 लाख रुपये 9 करोड़ में कैसे बदले - नवभारत टाइम्स     |       सीबीएसई : बोर्ड रिजल्ट के बाद ही 11वीं का नया सत्र होगा शुरू - Hindustan हिंदी     |       Chinook पर है दुनिया के 26 देशों का भरोसा, कई जगहों पर निभा चुका है बड़ी भूमिका - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       लोकसभा अपडेट्स/ कैलाश ने भोपाल से लड़ने की इच्छा जताई, कहा- नाथ और सिंधिया ने दिग्विजय को फंसा दिया - Dainik Bhaskar     |       चुनाव नहीं लड़ेंगी उमा भारती, भाजपा ने दी बड़ी जिम्मेदारी- Amarujala - अमर उजाला     |       डांस से मंच पर मचाया धमाल, अब सियासत में सपना ने थामा कांग्रेस का हाथ - आज तक     |       PAK में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों का अपहरण, फिर जबरन धर्म परिवर्तन कराके हुआ निकाह - Hindustan     |       पाक में हिंदू लड़कियों के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन पर भारत का रुख सख्त, मांगी रिपोर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पाकिस्तान के नेशनल डे पर क्या पीएम मोदी ने इमरान खान को भेजी हैं शुभकामनाएं - Webdunia Hindi     |       लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी ने काटा शांता कुमार और कड़िया मुंडा का टिकट- पांच बड़ी ख़बरें - BBC हिंदी     |       Tata Motors to hike passenger vehicle prices by up to Rs 25,000 from April - Times Now     |       Karnataka Bank reports Rs 13 crore fraud to RBI - Times Now     |       Airtel और Vodafone ने रिवाइज किया 169 रु का प्लान, जानें क्या Jio के 149 रु से है बेहतर - दैनिक जागरण     |       Hyundai Styx देगी Vitara Brezza और Mahindra XUV300 को टक्कर, टीजर जारी - Jansatta     |       फिल्मफेयर 2019: आलिया की फिल्म पर हुई अवॉर्ड्स की बारिश - आज तक     |       जयललिता की बायॉपिक के लिए 24 करोड़ रुपये फी लेंगी कंगना रनौत? - नवभारत टाइम्स     |       Kesari Box Office Collection Day 3: अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की धाकड़ कमाई, तीन दिन में कमा लिए इतने करोड़ - NDTV India     |       ट्रेलर रिलीज होते ही ट्रोल हुई `PM नरेंद्र मोदी`, कहीं उल्टा न पड़ जाए दांव - Sanjeevni Today     |       IPL 2019: Ahead of RCB opener vs CSK, Virat Kohli gives fitting reply to Gautam Gambhir's 'captaincy' jibe - Times Now     |       IPL 2019, SRHvsKKR: कप्तान केन विलियमसन का खेलना तय नहीं, वॉर्नर ने भी नहीं की प्रैक्टिस - Hindustan     |       आईपीएल/ चेपक की पिच से धोनी नाखुश, कहा- इसे बेहतर बनाना होगा नहीं हमें भी परेशानी होगी - Dainik Bhaskar     |       अयाज मेमन की कलम से/ टी-20 में ना कोई फेवरेट होता है, ना ही अंडरडॉग - Dainik Bhaskar     |      

संपादकीय


पर्यावरणीय सच्चाई से मुंह छिपाना और प्रकृति की आंखों में धूल झोंकना ठीक नहीं

लोग भूजल को शहर से लेकर गांव तक बेतहाशा चूस रहे हैं, जमीन का पानी जहरीला होता जा रहा है। पीने का पानी घट रहा है. पेड़ कम होते जा रहे हैं, कंकरीट के जंगल बढते जा रहे हैं. पहाड़ लगातार नंगे हो रहे हैं। रेडियोधर्मी विकिरण से लेकर प्रकाश प्रदूषण तक हर तरह का प्रदूषण घटने की बजाए बढता क्यों जा रहा है


it-is-not-fine-to-hide-the-face-of-environmental-truth-and-through-the-dust-in-natures-eyes

देश के प्रधानमंत्री का संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदत्त सर्वोच्च पर्यावरणीय पुरस्कार से सम्मानित होना वाकई उनके और देश के लिए भी उपलब्धि की बात है। “चैंपियंस ऑफ अर्थ” का अवार्ड स्वीकारते हुये प्रधानमंत्री ने जो कहा वह भी उल्लेखनीय सत्य है कि, क्लाइमेट, क्लाइमटी  और कल्चर का गहरा नाता है।

अगर किसी संस्कृति में पर्यावरण संरक्षण के प्रति गहरा लगाव और सोच सम्मिलित नहीं होगी तो आपदा अवश्यंभावी है। उनके अनुसार उनकी सरकार की पर्यावरण की दिशा में सबसे बड़ी सफलता यह है कि लोगों के पर्यावरण और प्रकृति के प्रति व्यवहार और सोच में बदलाव आया है।

भारतीय जीवन शैली और सभ्यता तथा संस्कृति में पर्यावरण के प्रति गहरी संवेदना का समावेश हजारों बरसों से रहा है। हम पेड़-पौधों को पूजनीय समझते हैं, उनकी पूजा करते हैं। मौसम या ऋतुओं के चक्र के अनुसार हमारा  आहार, विहार, व्यवहार नियत हैं, उसके अनुकूल जीवन जीते हैं, मौसमों के अनुसार त्योहार मनाते हैं, लोक गीतों –लोक कथाओं में प्रकृति से रिश्ते की बात करते हैं।

यह हम हजारों बरसों से करते आये हैं. पर प्रधानमंत्री जी के कथनानुसार अब सरकारी कोशिशों से लाया गया यह बदलाव कैसा है, क्या यह पहले के विपरीत है या अपनी सभ्यता, संस्कृति की ओर पीछे लौट जाने वाला अथवा विकास के साथ तालमेल मिलाने वाला या फिर बस सतही स्तर पर प्रयावरण की चिटा भर करने वाला, इस परिवर्तन का कितना सकारात्मक, नकारात्मक प्रभाव है, यह सब बहस का विषय है।

अगर हम में सकारात्मक बदलाव आया है तो आज पर्यावरणीय संकट पहले से ज्यादा क्यों गहराता जा रहा है। जल, जंगल, जमीन पर खतरा लगातार बढता जा रहा है।पर्यावरणीय विसंगतियां चहुंओर हैं। देश के महानगरों में नहीं छोटे शहरों के बहुत से हिस्से में हर सांस जहरीली है।

कीटनाशी और दूसरे रासायनिक पदार्थ अनजाने ही विकट और असाध्य रोग बांट रहे हैं। देश कई तरह के रोगों की राजधानी बन गया है। गंगा यमुना तो क्या देश की तकरीबन सभी सदानीरा नदियां सूख रही हैं, उनमें गाद भरा है, प्रवाह कम हुआ है, कचरे, गंदगी, जलमल और तमाम अपशिष्टों का बोझ ढोने को वे मजबूर हैं।

लोग भूजल को शहर से लेकर गांव तक बेतहाशा चूस रहे हैं, जमीन का पानी जहरीला होता जा रहा है। पीने का पानी घट रहा है। पेड़ कम होते जा रहे हैं, कंकरीट के जंगल बढते जा रहे हैं। पहाड़ लगातार नंगे हो रहे हैं। रेडियोधर्मी विकिरण से लेकर प्रकाश प्रदूषण तक हर तरह का प्रदूषण घटने की बजाए बढता क्यों जा रहा है।

जीवों की कई प्रजातियां नष्ट हो गयी, वनस्पतियों की बहुतेरी विविधताएं कुछ ही दशकों में देखते देखते ही समाप्त हो गयीं। सैकडों जीव और वनस्पतियों की प्रजातियों का अस्तित्व संकट में है। इसके बावजूद इस ओर कोई बड़ी चेतना नहीं नजर आती। यह किसी और “अर्थ” के अनर्थ की नहीं प्लास्टिक से पटे पर्यावरण वाले भारतभूमि की ही कहानी है।

हमारी संस्कृति अगर पर्यावरण के साथ इतनी ही समरस है, जीवन शैली में पर्यावरण प्रेम इस कदर शामिल है, हम अपनी प्रकृति प्रेमी सभ्यता की सीख भूले नहीं तो आखिर प्रदूषण के चलते हर बरस लाखों मौतें क्यों झेल रहे हैं, भूस्खलन, बाढ़, सूखा और इस तरह की दूसरी कई क्लाइमिटी हमें हर बार अपना शिकार क्यों बना रही है। और यह कम होने की बजाये ज्यादा ही क्यों सता रहा है, तब जबकि हमरा कल्चर, क्लाइमेट से करीबी रिश्ता रखता है।

कभी-कभी, दैविक आपदाओं, प्रकृति-जन्य बदलाव के कारण प्रकृति-चक्र टूटते हैं, पर्यावरणीय संतुलन बिगड़ जाता है। यह विषमता पशु-पक्षियों, पेड़-पौधों एवं अन्य जीवों की पूरी जाति ही लील चुकी है और कई महान तथा विकसित सभ्यताओं के पतन का कारण बनी है। पर हद तो यह है कि दैविक और प्राकृतिक आपदाओं को बुलाने का सबब हमारे क्रिया-कलाप बन रहे हैं।

निस्संदेह यह तथ्य है कि प्राचीन भारतीय संस्कृति और जीवन शैली पर्यावरण हितैषी थी। पर फिलहाल वह वैसी है नहीं. हमें यह सच स्वीकारना चाहिये। सच तो यह है कि बजाये इस अपनी पर्यावरणीय परंपरा का यशोगान करते रहने के हमें अपनी पुरानी पर्यावरणीय मूल्य, मान्यताओं, सभ्यता  और संस्कृति के पुनर्जागरण का प्रयास करना चाहिये।

अतीत की याद कर, खुश होना और वर्तमान की पर्यावरणीय सचाई से मुंह छिपाना तथा अपने क्रिया कलापों के जरिये प्रकृति की आंखों में धूल झोंकना ठीक नहीं. पर्यावरण में गंदगी, प्रदूषण घोलना जितना बड़ा अपराध है उतना ही बड़ा पर्यावरणीय अपराध यह मुगालता या भ्रम फैलाना भी है कि हम पर्यावरण के बारे में बहुत जागरूक जागरूक बनते जा रहे हैं।

पर्यावरण, यानी परि आवरण अथवा चारो ओर से ढंकने वाला आच्छादन। यह आवरण छीज रहा है बेहतर हो कि सरकार इसे जुमलेबाजी से ढंकने की कोशिश करने के बजाये भारतीय प्राचीन पर्यावरणीय परंपरा को स्थापित करने की दिशा में कुछ ठोस काम करे तो यह आवरण ज्यादा मजबूत होगा।

advertisement

  • संबंधित खबरें