अमृतसर हमला: विवाद के बाद बैकफुट पर फुल्का, कांग्रेस ने बताया मानसिक दिवालिया     |       तेजप्रताप को परिवार से मिलाने में जुटे लालू के समधी, दिल्ली में राबड़ी-तेजस्वी से हो सकती है मुलाकात     |       क्या थमेगा RBI और सरकार के बीच विवाद? आज बड़ी बैठक     |       राजस्थान चुनाव: BJP ने सचिन पायलट के खिलाफ युनूस खान को मैदान में उतारा     |       अमित शाह ने कहा -कांग्रेस, नेहरू-गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड कंपनी     |       भीमा कोरेगांव: माओवादियों के दिग्विजय सिंह से संबंध की आशंका, पुणे पुलिस करेगी पूछताछ!     |       पति के इस कारनामे से हैरान हो जाएंगे आप, इंजीनियर पत्नी की फोटो व नंबर पॉर्न साइट पर डाला     |       मेडिकल स्टोर में घुसे चोर, पीछे-पीछे पहुंच गई दिल्ली पुलिस, फिर तन गई रिवाल्वर, देखें- Video     |       18000 फीट ऊंचाई, भारत में बन रहा ग्लेशियर से गुजरने वाला पहला रोड     |       पाकिस्‍तान पर भड़के डोनाल्‍ड ट्रंप, कहा- वो हमारे लिए कुछ भी नहीं करता     |       सत्यापन के रोड़े ने कर दिया परीक्षा से वंचित     |       टीईटी में सेंधमारी करते 41 मुन्नाभाई गिरफ्तार, सभी दावों की निकली हवा     |       कश्मीर / पुलवामा में सीआरपीएफ कैंप पर आतंकियों ने ग्रेनेड फेंका, एक जवान शहीद     |       2019 लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का नया नारा: हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर, फिर सरकार     |       अलीगढ़ / ट्यूशन टीचर ने कक्षा दो के छात्र को बुरी तरह पीटा, मासूम की मानसिक हालत बिगड़ी, सीसीटीवी में कैद घटना     |       मराठा आरक्षण को महाराष्ट्र सरकार ने दी मंज़ूरी, कितना आरक्षण मिलेगा ये तय नहीं     |       चिकन सेंटर पर भीड़ की सूचना पर उड़नदस्ते ने की छापामारी, 10 रुपए के नोट जब्त किए     |       आज आ रहे हैं चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली की बैठक में मौजूद रह सकते हैं ममता के प्रतिनिधि     |       सोशल मीडिया पर दिखा हार्दिक पांड्या और धौनी का 'ब्रोमांस' देखें photos     |       फेसबुक के जरिये युवाओं को आतंकी बनने को उकसाने वाली महिला गिरफ्तार     |      

फीचर


झारखंड में नक्सली गढ़ रहे गांव में बहेगी विकास की बयार

अधिकारियों का दावा, नक्सलियों की मुख्यधारा में हो रही वापसी


jharkhand-is-in-the-village-of-naxalite-stronghold

झारखंड में झूमरा पहाड़ इलाके में लातेहार के गारु तहसील का सरजू गांव कुछ साल पहले तक नक्सलियों का गढ़ माना जाता था, लेकिन आज यहां हर तरफ विकास की ही बातें होती हैं। सुरक्षा बल की पहल और झारखंड सरकार की विकासपरक नीतियों से स्थानीय निवासियों में क्षेत्र के विकास की आस जगी है।

अधिकारियों का दावा है कि चरम वामपंथी उग्रवादियों की अब मुख्यधारा में वापसी होने लगी है और उनके द्वारा सताए गांव के लोगों की ख्वाहिश है कि इलाके में मोबाइल संपर्क व उनके घरों तक सड़कें हों और उनके लिए शिक्षा, नौकरी व अन्य विकासपरक कदम उठाए जाएं। हाल ही में गांव के सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया और प्रशासन के सामने अपनी मांगें व शिकायतें रखीं।

गांव की मुखिया तारामुनी देवी की शिकाशत थी कि गांव में सड़कें बदहाल हैं और सिंचाई की समस्या है। एक युवक ने शिक्षण संस्थानों के अभाव का मसला उठाया। कहा कि इंटरनेट कनेक्शन के लिए पांच किलोमीटर दूर जाना पड़ता है। ममता देवी ने कहा, "हमें नौकरी चाहिए। प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएं ताकि हम अपने परिवार की रोजी-रोटी की व्यवस्था कर सकें।" लातेहार के उपायुक्त राजीव कुमार ने ग्रामवासियों को मांगें पूरी की होने और मसले का समाधान किए जाने का भरोसा दिलाया।

सरजू गांव की ग्राम पंचायत चोरचा है। गांव का भौगोलिक क्षेत्रफल 172 हेक्टेयर है और आबादी तकरीबन 1,000 है। गांव के सबसे नजदीक का शहर गारु है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की 214 बटालियन ने गांव में अपना मुख्य शिविर बनाया है। जिला प्रशासन की मदद से सीआरपीएफ की ओर से गांव के लोगों के मन में आशा की किरण जगाने की कोशिश की जा रही है और माओवादियों को मुख्यधारा में वापस लौटने को कहा जा रहा है।

झारखंड में अतिवादी ताकतों से निपटने के लिए बनाए गए स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) झारखंड जगुआर के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) साकेत कुमार सिंह ने बताया, "माओवादी का अब कोई कॉडर नहीं है। संगठनों में सिर्फ नेता बच गए हैं। उनके पास छिपने का कोई खास ठिकाना नहीं है। वे इधर-उधर भागते-फिरते रहते हैं।"

 

 

 

advertisement