मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सचिवालय में मिर्च पाउडर फेंकने से पहले शख्स ने कहा- 'आप ही से उम्मीद है'     |       हल्द्वानी निकाय चुनाव नतीजे Live: 29 सीटों पर निर्दलीय, 12 पर BJP जीती     |       ओडिशा / महानदी पर बने पुल से नीचे गिरी बस, 30 यात्री सवार थे; 7 की मौत     |       जाको राखे साइयांः बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, नहीं आई एक भी खरोंच     |       दिल्ली में पकड़ा गया हिज्‍बुल का आतंकी, SI इम्तियाज की हत्या में था शामिल     |       दिल्ली में दो आतंकियों के घुसने की आशंका, अलर्ट पर पुलिस- जारी की फोटो     |       सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को फटकारा, कहा- बस.. अब अंतिम मौका     |       इन 10 तस्‍वीरों में देखें दीपिका-रणवीर की पूरी शादी, ऐसा नजारा और कहां!     |       सोशल मीडिया / ब्राह्मण विरोधी पोस्टर थामकर विवादों में आए ट्विटर के सीईओ, कंपनी ने माफी मांगी     |       फैक्ट चेक: नहीं, MP के CM शिवराज सिंह चौहान नॉन-वेज नहीं खा रहे हैं!     |       मध्यप्रदेश / विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ऐलान- अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी, पति ने कहा- धन्यवाद     |       दिल्ली / सिख विरोधी दंगों से जुड़े मामलों में पहली बार किसी दोषी को मौत की सजा सुनाई गई     |       ICC में हारा पाकिस्तान, अब खर्च वसूलने को भारत करेगा केस     |       परफॉर्मेंस पर ममता की खिंचाई के बाद मंत्री ने दिया कैबिनेट से इस्तीफा     |       अयोध्या विवाद: कानून बनाकर हल निकालने वाले बयान से पलटे इकबाल अंसारी     |       शेल्टर होम रेप: ब्रजेश ठाकुर की करीबी मधु समेत 2 आरोपियों को CBI ने किया गिरफ्तार     |       रक्षा सौदा / भारतीय नौसेना के लिए रूस बनाए दो जंगी जहाज, 3570 करोड़ रुपए में हुई डील     |       छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव: मतदान का समय खत्म, शाम 6 बजे तक 71.93 फीसदी मतदान     |       मध्य प्रदेश / कांग्रेस की वजह से प्रदेश और देश में भाजपा की सरकारें, वो हमें खत्म करना चाहती है: मायावती     |       सरकार की इस स्कीम में 10 हजार रुपए तक मिल सकती है पेंशन, आप भी उठा सकते हैं फायदा     |      

राजनीति


पैराशूट नेताओं को पार्टी का टिकट न देने पर राहुल गांधी से इत्तेफाक नहीं रखते कमलनाथ

कमलनाथ के बयान ने राज्य की सियासत में नए कयासों को जन्म दे दिया है, क्योंकि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने भोपाल में कहा था कि जो व्यक्ति कांग्रेस के लिए जमीनी लड़ाई लड़ता है, उसे पार्टी उम्मीदवार बनाएगी, पैराशूट से आने वालों को उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा


kamal-nath-is-not-agree-with-rahul-gandhi-on-giving-tickets-to-parachute-candidate

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भले ही पैराशूट नेताओं को पार्टी का टिकट न दिए जाने की घोषणा कर चुके हों, मगर मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ इससे इत्तेफाक नहीं रखते।

कमलनाथ ने साफ कहा कि जो व्यक्ति चुनाव जीतने में सक्षम होगा, उसे पार्टी उम्मीदवार बनाएगी, चाहे वह भारतीय जनता पार्टी से ही क्यों न आया हो।

कमलनाथ का कहना है कि कांग्रेस आगामी चुनाव जीतने के लिए लड़ेगी। कमलनाथ ने कहा कि जहां कांग्रेस कमजोर है और भाजपा से आने वाले व्यक्ति चुनाव जीतने की स्थिति में हैं, वहां कांग्रेस ऐसे व्यक्ति को अपना उम्मीदवार बनाएगी।

कमलनाथ के इस बयान ने राज्य की सियासत में नए कयासों को जन्म दे दिया है, क्योंकि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने भोपाल में कहा था कि जो व्यक्ति कांग्रेस के लिए जमीनी लड़ाई लड़ता है, उसे पार्टी उम्मीदवार बनाएगी, पैराशूट से आने वालों को उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा।

राहुल गांधी के बयान के ठीक उलट कमलनाथ का बयान आया है। सवाल उठ रहे हैं कि क्या राज्य की कांग्रेस राहुल गांधी के निर्देशों का भी पालन करने को तैयार नहीं है? बीते दिनों दिल्ली में उम्मीदवारों को लेकर हुई बैठक हुई। इस बैठक में नेताओं के बीच तीखी नोक-झोंक होने की खबरें हैं।

यही कारण है कि उम्मीदवारों की पहली सूची जारी करने में देरी हुई। एक तरफ पार्टी में तनातनी चल रही है तो दूसरी ओर कमलनाथ ने पार्टी के भीतर ही विरोध के स्वर उपजाने वाला बयान दे डाला है। 

उधर, भाजपा सांसद आलोक संजर का कहना है कि कमलनाथ का बयान इस बात का संकेत है कि कांग्रेस के पास उम्मीदवार नहीं है, पार्टी बहुत कमजोर हो गई है, तभी तो वे भाजपा की ओर देख रहे हैं।

क्या कहते हैं जानकार :

राजनीति के जानकार कहते हैं कि राज्य में इस बार चुनाव सत्ताधारी दल भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस के लिए आसान नहीं है।

आगामी चुनाव उम्मीदवार आधारित होने वाला है, कांग्रेस के नेता कई वर्षो से अपनी उम्मीदवारी की तैयारी में लगे हैं, मगर कमलनाथ के इस बयान ने उन नेताओं को निराश करने का काम किया है जो राहुल गांधी के बयान से खुश थे।

कमलनाथ ने राहुल के ठीक उलट बयान देकर पार्टी के भीतर ही विरोध के स्वरों को जन्म देने का काम किया है। कमलनाथ के बयान का आशय यही निकाला जा रहा है कि उनके लिए विचारधारा, त्याग और  समर्पण नहीं, बल्कि जीत मायने रखती है। 
 

advertisement

  • संबंधित खबरें