PM मोदी ने दी नंबर गेम पर नसीहत, क्या कांग्रेस को मिलेगा नेता विपक्ष का पद? - आज तक     |       डॉक्टरों की देशव्यापी हड़ताल, एम्स भी समर्थन में आया - Navbharat Times     |       सांसद के रूप में आज सबसे पहले शपथ लेंगे पीएम मोदी, सोनिया को मिल सकती है विशेष तरजीह - अमर उजाला     |       बिहार में दिमाग़ी बुख़ार का क़हर, बीमारों से मिलने पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री - NDTV India     |       पाकिस्तान ने दी भारत को आतंकी हमले की सूचना, कश्मीर में हाई अलर्ट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ICC World Cup 2019: जानिए INDvPAK मैच पर बारिश का कितना खतरा है - Hindustan     |       Weather Update: मानसून की बारिश में 43 फीसद आई गिरावट, उत्तर भारत में जल्द बरसेंगे बदरा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पश्चिम बंगाल: बगैर मीडिया के ममता बनर्जी से मिलने को हड़ताली डॉक्टर्स राजी - आज तक     |       दिग्विजय सिंह की हार पर समाधि लेने की घोषणा करने वाले बाबा अब पुलिस की निगरानी में, जानें- पूरा मामला - NDTV India     |       फ्लाइट में पैसेंजर के सामने पति-पत्नी करने लगे सेक्सुअल एक्ट, हुए अरेस्ट - आज तक     |       पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, पुंछ सेक्टर में दागे मोर्टार, तीन लोग जख्मी - आज तक     |       लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद नए ISI चीफ - Navbharat Times     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       टाटा अल्ट्रॉज का ऑफिशल टीजर जारी, मारुति बलेनो को देगी टक्कर - Navbharat Times     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       Airtel के इस प्लान में दिया जा रहा है अनलिमिटेड डेटा, यहां जानें विस्तार से - आज तक     |       Exclusive: शाहरुख के बेटे आर्यन लीड रोल करने को हुए राजी, पिता संग इस फिल्म में करेंगे काम - अमर उजाला     |       India Vs Pakistan: Abhinandan वाले ऐड का जवाब देने पर Harsh Goenka पर बरसे Ali Fazal - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Bollyweeo celebs on red carpet of Miss India 2019 Grand Finale | इवेंट में बॉलीवुड स्टार्स का जलवा - दैनिक भास्कर     |       IN PICS: रेस्तरां के बाहर फैंस के बीच फंसी दिशा पाटनी, टाइगर श्रॉफ को करना पड़ा रेस्क्यू - ABP News     |       वर्ल्ड कप/ वेस्टइंडीज-बांग्लादेश मैच आज, इंग्लैंड में दोनों टीमें 15 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       पाक के खिलाफ भारत की जीत को अमित शाह ने बताया 'एक और स्ट्राइक' तो केजरीवाल बोले- हिंदुस्तान को... - NDTV India     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |      

जीवनशैली


सर्दियों में ऐसे रखें अपने दिल का ख्याल, चिकित्सकों ने सुझाए कुछ उपाय

मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. देवकिशन पहलजानी का कहना है कि सर्दियों के इस प्रभाव की जानकारी से मरीजों और उनके परिवारवालों को लक्षणों के प्रति ज्यादा ध्यान देने के लिए प्रेरित करती है


keep-your-heart-in-the-winter-take-care-of-some-of-the-doctors-suggested

सर्दियों के मौसम में अस्पताल में भर्ती होने की दर और हृदय गति रुकने (हार्ट फेल) से मृत्युदर में अधिकता देखी गई है। इन दिनों अपने दिल का ख्याल कैसे रखें, इसके लिए चिकित्सकों ने कुछ उपाय सुझाए हैं।

मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. देवकिशन पहलजानी का कहना है कि सर्दियों के इस प्रभाव की जानकारी से मरीजों और उनके परिवारवालों को लक्षणों के प्रति ज्यादा ध्यान देने के लिए प्रेरित करती है।

यह पाया गया कि एआरएनआई थेरेपी जैसे उन्नत उपचार जीवनशैली में बदलाव के साथ और बेहतर हो सकते हैं, जिससे हार्ट फेलियर मरीजों की जिंदगी में उल्लेखनीय रूप से सुधार लाया जा सकता है। 

उन्होंने कहा, "हार्ट फेलियर मरीज और उन मरीजों में जिनमें से पहले से ही हृदय संबंधी परेशानियां हैं, उन्हें खासतौर से ठंड के मौसम में सावधानी बरतनी चाहिए। साथ ही अपने दिल की देखभाल के लिए जीवनशैली में बदलाव करने चाहिए।"

 उन्होंने कहा कि डॉक्टर से सलाह लेकर घर के अंदर दिल को सेहतमंद रखने वाली एक्सरसाइज करें, नमक और पानी की मात्रा कम कर दें, क्योंकि पसीने में यह नहीं निकलता है। रक्तचाप की जांच कराते रहें, ठंड की परेशानियों जैसे-कफ, कोल्ड, फ्लू आदि से खुद को बचाए रखें और जब आप घर पर हों तो धूप लेकर या फिर गर्म पानी की बोतल से खुद को गर्म रखें। 

चिकित्सक ने कहा कि हार्ट फेलियर वाली स्थिति तब होती है, जब हृदय शरीर की आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त खून पंप नहीं कर पाता है। इसकी वजह से ह्दय कमजोर हो जाता है या समय के साथ हृदय की मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं।

उन्होंने कहा कि ठंड के मौसम में तापमान कम हो जाता है, जिससे ब्लड वेसल्स सिकुड़ जाते हैं, इससे शरीर में खून का संचार अवरोधित होता है। हृदय तक ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है, जिसका अर्थ है कि हृदय को शरीर में खून और ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए अतिरिक्त श्रम करना पड़ता है। इसी वजह से ठंड के मौसम में हार्ट फेलियर मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने का खतरा बढ़ जाता है। 

डॉ. देवकिशन पहलजानी ने हार्ट फेलियर के खतरे के कुछ कारक बताए जो इस प्रकार हैं :-

* उच्च रक्तचाप : ठंड के मौसम में शारीरिक कार्यप्रणाली पर प्रभाव पड़ सकता है, जैसे सिम्पैथिक नर्वस सिस्टम (जोकि तनाव के समय शारीरिक प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने में मदद करता है) सक्रिय हो सकता है और कैटीकोलामाइन हॉर्मेन का स्राव हो सकता है। इसकी वजह से हृदय गति के बढ़ने के साथ रक्तचाप उच्च हो सकता है और रक्त वाहिकाओं की प्रतिक्रिया कम हो सकती है, जिससे ह्दय को अतिरिक्त काम करना पड़ सकता है। 

* वायु प्रदूषण : ठंडा मौसम, धुंध और प्रदूषक जमीन के और करीब आकर बैठ जाते हैं, जिससे छाती में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है और सांस लेने में परेशानी पैदा हो जाती है। आमतौर पर हार्ट फेल मरीज सांस लेने में तकलीफ का अनुभव करते हैं और प्रदूषक उन लक्षणों को और भी गंभीर बना सकते हैं।

* कम पसीना निकलना : कम तापमान की वजह से पसीना निकलना कम हो जाता है। इसके परिणामस्वरूप शरीर अतिरिक्त पानी को नहीं निकाल पाता है और इसकी वजह से फेफड़ों में पानी जमा हो सकता है, इससे हार्ट फेलियर मरीजों में ह्दय की कार्यप्रणाली पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है।

* विटामिन-डी की कमी : सूरज की रोशनी से मिलने वाला विटामिन-डी, हृदय में स्कार टिशूज को बनने से रोकता है, जिससे हार्ट अटैक के बाद, हार्ट फेल में बचाव होता है। सर्दियों के मौसम में सही मात्रा में धूप नहीं मिलना विटामिन-डी के स्तर को कम कर देता है।
 

advertisement