इंदौर/ विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश ने अतिक्रमण तोड़ने आए निगम अफसर को बैट से पीटा - Dainik Bhaskar     |       राज्यसभा में कांग्रेस से मोदी का सवाल- वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया क्या? - आज तक     |       एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले IPS अफसर बने नए रॉ चीफ - News18 हिंदी     |       NRC: असम सरकार की नई लिस्ट, 1.2 लाख और करेंगे नागरिकता का दावा - Navbharat Times     |       प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले माइक पोम्पियो, द्विपक्षीय साझेदारों से कही ज्यादा है अमेरिका और भारत - दैनिक जागरण     |       सिटी सेंटर: यूपी में करोड़पति निकला कचौड़ीवाला, उत्तराखंड में मुसीबत बना 200 टन कूड़ा - NDTV India     |       इंग्लैंड का बिगड़ा गणित, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भिड़ सकते हैं भारत और पाकिस्तान - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       ICC World Cup 2019 Point Table: इंग्लैंड पर लटकी बाहर होने की तलवार, ऐसे बदले समीकरण - Hindustan     |       क्लार्क का दावा- इस भारतीय के हाथ में है भारत के वर्ल्ड कप की चाबी - cricket world cup 2019 - आज तक     |       भारत के सेमी फ़ाइनल में पहुँचने के रास्ते में क्या हैं रोड़े- विश्व कप क्रिकेट - BBC हिंदी     |       Narendra Modi के Lok Sabha में दिए बयान पर Arif Mohammad Khan और Asaduddin Owaisi क्या बोले? - BBC News Hindi     |       त्राल एनकाउंटर में मारा गया आतंकी शब्बीर अहमद मलिक, जाकिर मूसा के आतंकी समूह से जुड़े थे तार - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       जब इमरजेंसी के खिलाफ खड़े हो गए थे फिल्मी सितारे, देव आनंद ने तो बना ली थी अपनी पार्टी - अमर उजाला     |       एंबुलेंस को रास्ता नहीं दिया तो लगेगा 10 हजार रुपए का जुर्माना, कैबिनेट ने दी मंजूरी - मनी भास्कर     |       कूटनीतिक जीत: एशिया-प्रशांत समूह ने UNSC में अस्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया - Navbharat Times     |       पाकिस्तान की संसद में बैन हुए 'सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर इमरान' - आज तक     |       ब्रिटेन/ महिलाओं ने कहा- बच्चे पैदा नहीं करेंगे, क्योंकि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी - Dainik Bhaskar     |       ट्रंप ने ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाने वाले आदेश पर हस्ताक्षर किए - NDTV India     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 312 अंक की बढ़त के साथ 39435 पर, निफ्टी 97 प्वाइंट ऊपर 11796 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       सिर्फ 666 रुपये देकर ले जाओ Hero Splendor plus, लेकिन ऑफर है कुछ ही समय के लिए - अमर उजाला     |       TVS Ntorq 125 नए रंग और डिजाइन के साथ हुई लांच, कीमत है महज इतनी - Jansatta     |       हेक्टर vs सेल्टॉस, जानें किस SUV में कितना दम - नवभारत टाइम्स     |       Kabir Singh Box Office Collection 2019: Akshay Kumar की Kesari से आगे निकली Shahid Kapoor की Kabir Singh - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Nusrat Jahan का संसद में ‘भारतीय नारी’ अवतार, बना सोशल मीडिया पर हॉट टॉपिक, ये हैं रिएक्शन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       जैकलीन बोलीं टूरिज्म के लिए सुरक्षित है श्रीलंका - दैनिक भास्कर     |       आदित्य पंचोली केस में कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली को मुंबई कोर्ट ने भेजा समन - Hindustan     |       Pakistan vs New Zealand ICC CWC 2019 Live Score: 3: 30 बजे होगा टॉस, पाकिस्तान का सामना न्यूजीलैंड से - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       World Cup 2019: भारत-वेस्टइंडीज के बीच मैच कल, इंडिया के सेमीफाइनल के रास्ते में बाधा बना मौसम - अमर उजाला     |       महेंद्र सिंह धोनी के आलोचकों पर बरसे सौरव गांगुली, कहा- करारा जवाब देगा माही - Times Now Hindi     |       CWC 2019: टीम इंडिया को प्रैक्टिस से नहीं रोक पाई बारिश भी - Hindustan     |      

विज्ञान/तकनीक


धरती पर जीवन तालाबों में शुरू हुआ होगा, महासागरों में नहीं

धरती पर जीवन की शुरुआत को लेकर एक नए अध्ययन में आम धारणा को चुनौती दी गई है। नए अध्ययन के अनुसार, धरती पर जीवन की उत्पत्ति के लिए महासागरों की तुलना में प्राचीन तालाबों ने अधिक अनुकूल वातावरण मुहैया कराया होगा


life-on-earth-would-have-started-in-ponds-not-in-the-oceans

धरती पर जीवन की शुरुआत को लेकर एक नए अध्ययन में आम धारणा को चुनौती दी गई है। नए अध्ययन के अनुसार, धरती पर जीवन की उत्पत्ति के लिए महासागरों की तुलना में प्राचीन तालाबों ने अधिक अनुकूल वातावरण मुहैया कराया होगा।

जियोकेमिस्ट्री, जियोफिजिक्स, जियोसिस्टम्स पत्रिका में प्रकाशित निष्कर्षों में कहा गया है कि कई वैज्ञानिकों ने धरती पर जीवन के लिए जिस एक प्रमुख तत्व को जरूरी माना है, उस नाइट्रोजन की उच्च सांद्रता छिछली जल संरचनाओं में रहा होगा।

मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) अध्ययन के प्रमुख लेखक सुकृति रंजन ने कहा, "कुल मिलाकर हमारा संदेश यह है कि यदि आप सोचते हैं कि जीवन की उत्पत्ति के लिए नाइट्रोजन जरूरी है, जैसा कि कई लोग मानते हैं, तो फिर इस बात की संभावना नहीं है कि जीवन की उत्पत्ति महासागर में हुई होगी। किसी तालाब में जीवन की उत्पत्ति काफी आसान है।"

पृथ्वी के वातावरण में नाइट्रोजन के टूटे अवशेष के रूप में नाइट्रोजन ऑक्साइड्स महासागरों और तालाबों सहित जल संरचनाओं में जमा हुए होंगे। वातावरणीय नाइट्रोजन में नाइट्रोजन के दो अणु होते हैं। ये एक मजबूत तिहरे बांड से बंधे होते हैं, जो एक अत्यंत ऊर्जावान घटना की स्थिति में टूट सकते हैं, जिसे आकाशीय बिजली कहते हैं।

वैज्ञानिक मानते रहे हैं कि प्रारंभिक वातावरण में पर्याप्त मात्रा में आकाशीय बिजली तड़कने की घटनाएं घटी होंगी, जिससे ढेर सारे नाइट्रोजन ऑक्साइड्स पैदा हुए होंगे और महासागर में जीवन की उत्पत्ति को ईंधन मिला होगा।

लेकिन नए अध्ययन में पाया गया है कि सूर्य से निकले पराबैंगनी प्रकाश और प्राचीन महासागरीय चट्टानों से निकले घुलित लौह ने महासागर में नाइट्रोजन ऑक्साइड्स के एक पर्याप्त हिस्से को नष्ट कर दिया होगा और वातावरण में नाइट्रोजन के रूप में वापस यौगिक भेजे होंगे।

महासागर में पराबैंगनी प्रकाश और घुलित लौह ने सूक्ष्म जीवों के संश्लेषण के लिए काफी कम नाइट्रोजीनस ऑक्साइड्स उपलब्ध कराए होंगे। अध्ययन में कहा गया है कि जबकि छिछले तालाबों में जीवन के विकास का एक बेहतर मौका रहा होगा, क्योंकि तालाबों का आयतन छोटा होने के कारण यौगिक तनु नहीं हो पाए होंगे। इसके परिणामस्वरूप नाइट्रोजीनस ऑक्साइड्स काफी उच्च सांद्रता में निर्मित हुए होंगे।
 

advertisement