चुनावी जीत के बाद काशी पहुंचे PM, राम नाईक ने किया स्वागत PM Narendra Modi reaches Varanasi, Ram Naik welcomes him - आज तक     |       LIVE: PM मोदी बोले, काशी का मिजाज हर देश में देखा जा रहा है - Hindustan     |       सुरेंद्र सिंह की अंतिम यात्रा में रो पड़ीं स्मृति, अर्थी को भी दिया कंधा Smriti breaks down during last rites of Surendra Singh - आज तक     |       प्रियंका के 'भारत' छोड़े जाने पर खुलकर बोले सलमान,कहा 'उनको सोचना चाहिए था कि हमें बुरा लगेगा' - अमर उजाला     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       दक्षिण कोरिया में हुआ प्रेम, यूपी के महराजगंज की बहू बनी जर्मनी की बेटी - दैनिक जागरण     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       CWC की बैठक में राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश खारिज Congress refuses to accept Rahul Gandhi's resignation - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       नई सरकार/ नरेंद्र मोदी 30 मई को शाम 7 बजे प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे - Dainik Bhaskar     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       पीएम मोदी की जीत पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने फोन कर दी बधाई - ABP News     |       कांगो/ झील में नाव डूबने से 30 लोगों की मौत, 140 से ज्यादा लापता - Dainik Bhaskar     |       जीत की बधाई देते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- भारतीय भाग्यशाली हैं कि उनके पास मोदी हैं - आज तक     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       De De Pyaar De Box Office Collection Day 11: अजय देवगन की फिल्म की 11वें दिन भी धांसू कमाई, कमा डाले इतने करोड़ - NDTV India     |       कंफर्म: इस डेट को रिलीज होगी रितिक रोशन की फिल्म 'सुपर 30' - नवभारत टाइम्स     |       दर्शकों को पसंद आ रही है 'अलादीन', कमा लिए इतने करोड़ - Hindustan     |       कीवी खिलाड़ी ने कहा, खिताब के प्रबल दावेदार भारत के खिलाफ जीत से बढ़ेगा मनोबल - अमर उजाला     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में भारत के खिलाफ मैच के बाद पाकिस्तान टीम को मिलेगा ये बड़ा तोहफा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Virat Kohli Interview: वर्ल्ड कप से पहले बोले टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली, बीवी अनुष्का शर्मा की वजह से अधिक जिम्मेदार कप्तान हूं - inKhabar     |      

राजनीति


लोकसभा चुनाव 2019 : गुना में ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए रिकार्ड बनाने की चुनौती

मध्य प्रदेश के गुना संसदीय क्षेत्र में इस बार का चुनाव पिछले चुनावों के मुकाबले ज्यादा रोचक हो चला है। यहां कांग्रेस उम्मीदवार ज्योतिरादित्य सिंधिया का मुकाबला किसी और से नहीं बल्कि अपने ही सांसद प्रतिनिधि रहे केपी यादव से है, जो भाजपा के उम्मीदवार हैं।


lok-sabha-elections-2019-challenge-of-recording-for-jyotiraditya-scindia-in-guna

सिंधिया इस चुनाव में जीत का रिकार्ड बनाना चाह रहे हैं। यही कारण है कि उनकी सक्रियता पिछले चुनावों के मुकाबले कहीं ज्यादा है और उनकी धर्मपत्नी प्रियदर्षिनी राजे सिंधिया पूरी तरह चुनाव की कमान संभाले हुए हैं।

गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र को ग्वालियर के सिंधिया राजघराने का गढ़ माना जाता है। अब तक हुए उपचुनाव सहित 20 चुनाव में सिंधिया राजघराने के प्रतिनिधियों को 14 बार जीत मिली। ज्योतिरादित्य की दादी विजयराजे सिंधिया छह बार, पिता माधवराव सिंधिया चार बार और स्वयं ज्योतिरादित्य सिंधिया चार बार जीते हैं। एक बार सिंधिया राजघराने के करीबी महेंद्र सिंह कालूखेड़ा जीते थे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया का यह पांचवां चुनाव है। इससे पहले वे चार चुनाव में यहां से लगातार जीत दर्ज कर चुके हैं। सिंधिया ने अपने पिता माधवराव सिंधिया के निधन के बाद हुए वर्ष 2002 के उपचुनाव में लगभग सवा चार लाख वोटों के अंतर से जीत दर्ज की थी। वहीं 2004 में यह अंतर कम होकर 86 हजार ही रह गया था। उसके बाद के चुनाव में जीत का अंतर वर्ष 2009 में ढाई लाख और वर्ष 2014 में एक लाख 20 हजार रह गया था।

सिंधिया के चुनाव प्रचार अभियान के समन्वयक मनीष राजपूत का कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया का गुना-शिवपुरी के मतदाताओं से पारिवारिक रिश्ता है और वे यहां के लोगों के लिए नेता नहीं हैं। सामान्य मतदाताओं से लेकर आदिवासी समाज तक के लोगों और सिंधिया के बीच अपनापन है। यहां का मतदाता सिंधिया से अपनी बात पूरी बेबाकी से कहता है। एक तरफ जहां मतदाताओं में उनके प्रति सम्मान और आदर है, वहीं सिंधिया के लिए मतदाता परिवार का सदस्य है। इस तरह का रिश्ता कम नेताओं और उनके क्षेत्र के मतदाताओं के बीच नजर आता है। 

एक तरफ सिंधिया जहां एक दिन में कई-कई गांव में पहुंचकर सभाएं करते हैं तो दूसरी ओर उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी बीते एक माह से यहां डेरा डाले हुए हैं। प्रियदर्शिनी का सबसे ज्यादा संवाद महिलाओं से होता है। इतना ही नहीं, वे युवा मतदाताओं को टीका लगाकर अपना भाई कह रही हैं। प्रियदर्शिनी के प्रति महिलाओं में खासा आकर्षण है। इतना ही नहीं, विदेश में पढ़ाई कर रहे ज्योतिरादित्य के पुत्र महाआर्यमन सिंधिया ने भी क्षेत्रीय युवाओं को वीडियो संदेश भेजा है। 

सिंधिया को पिछले चुनाव में इस संसदीय क्षेत्र के शिवपुरी, गुना और अशोकनगर विधानसभा क्षेत्रों में मिली हार को लेकर खासा मलाल है। यही कारण है कि उन्होंने मतदाताओं और कार्यकर्ताओं से कई बार यह सवाल किया कि क्या कारण है कि उन्हें इन तीन विधानसभा क्षेत्रों में पराजय मिली। भावनात्मक तौर पर भी सिंधिया ने अपनी बात कही। इसके अलावा सिंधिया ने बाजारों, चाट ठेलों से लेकर छोटी दुकानों तक पर पहुंचकर लोगों से संवाद किया। 

स्थानीय राजनीतिक विश्लेषक रंजीत गुप्ता बताते हैं कि सिंधिया की जीत को लेकर किसी को संशय नहीं है। मगर इस बार उनकी और प्रियदर्शिनी की सक्रियता चर्चाओं में है। इसे भाजपा उम्मीदवार के लिए मददगार मोदी फैक्टर और जीत के अंतर को बढ़ाने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है। सिंधिया के मुकाबले जो प्रत्याशी है, वह कभी सिंधिया का सांसद प्रतिनिधि हुआ करता था। बसपा का उम्मीदवार मैदान से हट चुका है। इस स्थिति में सिंधिया जीत का अंतर बढ़ाना चाहते हैं, इसी के चलते उनकी सक्रियता कहीं ज्यादा है। 

अपनी सक्रियता के सवाल पर सिंधिया स्वयं कहते हैं कि चुनाव कोई भी हो, उसे वे हल्के में नहीं लेते। ऐसा ही इस चुनाव में है। लिहाजा, उनका प्रचार अभियान और लोगों से संपर्क जारी है। सिंधिया की सक्रियता पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तंज कसा और कहा, "इस बार महाराजा को गुना, चंदेरी में गली-गली खाक छानना पड़ रहा है। अकेले महाराजा ही नहीं, उनका परिवार भी घूम रहा है।"

सिंधिया को पार्टी ने राष्ट्रीय महासचिव बनाया है और उत्तर प्रदेश की 38 सीटों की जिम्मेदारी भी सौंपी। सिंधिया ने एक तरफ उत्तर प्रदेश में पार्टी के उम्मीदवार के लिए प्रचार किया तो शेष में से अधिकांश समय अपने संसदीय क्षेत्र को दिया। यहां मतदान 12 मई को होने वाला है। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दल अपनी ताकत झोंके हुए हैं।

advertisement