मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सचिवालय में मिर्च पाउडर फेंकने से पहले शख्स ने कहा- 'आप ही से उम्मीद है'     |       ओडिशा: 30 से ज्यादा यात्रियों समेत महानदी ब्रिज से गिरी बस, 12 लोगों की मौत     |       सोशल मीडिया / ब्राह्मण विरोधी पोस्टर थामकर विवादों में आए ट्विटर के सीईओ, कंपनी ने माफी मांगी     |       हल्द्वानी निकाय चुनाव नतीजे Live: 32 सीटों पर निर्दलीय, 14 पर BJP जीती     |       अखिलेश यादव ने खोला राज, बताया मध्यप्रदेश में कांग्रेस के साथ क्यों नहीं हुआ गठबंधन     |       एमपी के सीएम शिवराज की खाने की थाली में दिख रहा मीट, फर्जी फोटो हो रही वायरल     |       मुजफ्फरपुर कांड: डॉक्टर देता था नशीला इंजेक्शन, महिला सिखाती थी नाबालिगों को सेक्स-सीबीआई     |       सुप्रीम कोर्ट / आम्रपाली ग्रुप को फटकार- आखिरी मौका देते हैं, हमारे सभी आदेशों को पूरा करें     |       मुजफ्फरनगर कोर्ट ने हत्या के मामले में 7 दोषियों के सुनाई फांसी की सजा     |       दिल्ली में दो आतंकियों के घुसने की आशंका, अलर्ट पर पुलिस- जारी की फोटो     |       मध्यप्रदेश / विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ऐलान- अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी, पति ने कहा- धन्यवाद     |       लाइव टीवी पर सोमनाथ भारती ने महिला एंकर को कहे अपशब्द, कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया वीडियो     |       ममता के मंत्री ने दिया इस्तीफा, जल्द छोड़ेंगे मेयर पद     |       दिल्ली में पकड़ा गया हिज्‍बुल का आतंकी, SI इम्तियाज की हत्या में था शामिल     |       जाको राखे साइयांः बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, नहीं आई एक भी खरोंच     |       अपने बयान से पलटे अयोध्या विवाद के पक्षकार इकबाल अंसारी, कहा- SC के फैसले को ही मानेंगे     |       सोहराबुद्दीन एनकाउंटर से अमित शाह और कुछ अधिकारियों को फायदा हुआ : पूर्व जांच अधिकारी     |       स्वाभिमान को ठेस पहुंचाना जगतार को नहीं था बर्दाश्त     |       सरकार की इस स्कीम में 10 हजार रुपए तक मिल सकती है पेंशन, आप भी उठा सकते हैं फायदा     |       भारत-रूस के बीच दो युद्धपोत बनाने का करार, अमेरिकी धमकियों के बावजूद बढ़ा सैन्य सहयोग     |      

फीचर


मटकावाला: प्यासे को पानी पिलाने के लिए दिल्ली में रोज मटकों में पानी भरता है एक बुजुर्ग

मटकावाले के नाम से जाने जाते हैं लंदन से आए नटराजन: बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया


matkawala-to-feed-the-water-to-thirsty-in-delhi-one-elderly-person-fills-the-water-every-day

भीषण गर्मी के मौसम में दिल्ली की गलियों में ऐसे कितने लोग होते हैं, जो अपनी प्यास बुझाने के लिए पानी खरीद कर नहीं पी सकते। उनके इस दर्द को समझने वाला एक शख्स है जो राजधानी के विभिन्न इलाकों में मटके में पानी भरता है  जिससे हर कोई अपनी प्यास बुझा सकता है।  

69 साल के एक बुजुर्ग रोज सूर्योदय से पूर्व जगते हैं और अपने वैन से इन इलाकों में जाकर 70 मटकों में पानी भरते हैं। उन्होंने शहर के विभिन्न इलाकों में ये मटके इसलिए रखे हैं ताकि कोई गरीब प्यासा नहीं रहे।

वर्ष 2014 की बात है जब दिल्ली में मटकावाले के नाम से चर्चित अलगरत्नम नटराजन को महसूस हुआ कि देश की राजधानी में सबको पीने के लिए ठंडा पानी मय्यसर नहीं है। इसलिए इन्होंने अपने घर के बाहर एक वाटर-कूलर लगा दिया। नटराजन ब्रिटेन से दिल्ली आकर सामाजिक सेवा के इस कार्य में जुटे हैं। वह लंदन के ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट में कार्नर स्टोर चलाते थे।

उन्होंने बताया, "एक बार मेरे वाटर कूलर से पानी भर रहे एक गार्ड से पूछा कि वह पानी लेने के लिए यहां क्यों आया है, जहां काम करता है वहां क्यों नहीं पानी लेता है तो उसने बताया कि वहां उसको पीने के लिए पानी नहीं दिया जाता है।"

गार्ड का जवाब सुनकर नटराजन स्तब्ध रह गए। इस वाकये से उनको प्यासे को पानी पिलाने के लिए कुछ करने की प्रेरणा मिली।

नटराजन ने कहा, "मेरे मन में हमेशा समाज के लिए कुछ करने का विचार आता था। मैंने अपने परिवार में इस संबंध में विमर्श किया, लेकिन वाटर कूलर लगाना कठिन कार्य था क्योंकि इसके लिए जगह, बिजली और रखरखाव की जरूरत होती है। इसलिए मैंने मटका रखने की बात सोची ताकि चिलचिलाती गर्मी में लोगों को पीने का पानी मिले।"

अब यह रोज-रोज का काम हो गया है कि वह रोज सुबह मटकों में पानी भरते हैं। शुरुआती दिनों में लोग समझते थे कि उनको दिल्ली सरकार ने इस काम के लिए नियुक्त किया है।

नटराजन ने बताया, "मुझे किसी एनजीओ की मदद नहीं मिल रही है और न ही मेरी कोई सरकार प्रायोजित संस्था है। मैं अपने पेंशन और बचत निधि से इस कार्य को अंजाम दे रहा हूं। मुझे दान के रूप में कुछ जरूर मिलता है। खास बात यह है कि मुझे अपने परिवार से काफी मदद मिलती है।"

बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया।

भारत वापसी के बाद वह एक अनाथालय और कैंसर के मरीजों के आश्रम में स्वयंसेवा करने लगे और चांदनी चौक में बेघरों को लंगर बांटते रहे। इसके अलावा उन्होंने बेसहारा व्यक्तियों के निधन पर उनकी अंत्येष्टि की। नटराजन आज गरीबों को न सिर्फ पीने का पानी मुहैया करवा रहे हैं बल्कि उनको भोजन और फल भी बांटते हैं। 

उन्होंने बताया, "मैं मजदूरों और गरीबों को मौसमी फल व सब्जी जैसे खीरा, तरबूज और मूली भी सप्ताह में दो बार बांटता हूं। इसके अलावा उनको लस्सी और जलेबी भी बांटता हूं।"

नटराजन ने वैन में 800 लीटर का टैंकर, पंप और जेनरेटर लगवाया है, जिससे वह रोज मटके में पानी भरते हैं। उन्होंने बताया, "गर्मी के दिनों में मटके में हमेशा पानी भरा रखने के लिए मैं दिन में चार चक्कर लगाता हूं। गर्मी के महीनों में मटकों में पानी भरने के लिए रोज 2,000 लीटर पानी जरूरत होती है।"

मटकों के अलावा उन्होंने जगह-जगह 100 साइकिल पंप भी लगवाया है। यहां गरीब लोग 24 घंटे हवा भरवा सकते हैं। कुछ मटका स्टैंड के पास ही हैं और कुछ अलग स्थान पर हैं।


 

advertisement