कोलकाता/ भाजपा के खिलाफ ममता की महारैली आज, 12 विपक्षी पार्टियों के नेता कोलकाता पहुंचे - Dainik Bhaskar     |       भय्यूजी महाराज केस: ब्लैकमेलर युवती समेत दो सेवादार गिरफ्तार, अश्लील वीडियो बनाकर ऐंठे थे लाखों - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अमेरिका/ 8 डॉलर का नाश्ता लेने के लिए लाइन में लगे बिल गेट्स, सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो - Dainik Bhaskar     |       उत्तर प्रदेश में दो परीक्षाएं एक ही दिन, मायूस हुए अभ्यर्थी - आज तक     |       केन्द्र सरकार को नहीं पता, 1990 के कत्लेआम में मारे गए कितने कश्मीरी पंडित - आज तक     |       सवर्ण आरक्षण: निजी उच्च शिक्षा संस्थानों में 10% कोटे के लिए विधेयक लाएगी सरकार - Hindustan     |       Grahan 2019/ इस साल पड़ेंगे कुल 5 ग्रहण, 2 चंद्रग्रहण और 3 सूर्यग्रहण से बदलेगी दशा, जानें कब-कब होंगे ग्रहण? - Dainik Bhaskar     |       21 को साल का पहला चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर होगा ज्यादा असर - dharma - आज तक     |       Two Russian fighter jets collide over Sea of Japan - Times Now     |       ट्रंप-किम की दूसरी मुलाकात 'जल्द' होगी - BBC हिंदी     |       हादसा/ जापानी समुद्र के ऊपर अभ्यास के दौरान दो रूसी फाइटर जेट टकराए, पायलट सुरक्षित - Dainik Bhaskar     |       यूके/ ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार - Dainik Bhaskar     |       उठा-पटक के बीच बाजार की सपाट क्लोजिंग - मनी कॉंट्रोल     |       शनिवार को पेट्रोल-डीजल के दाम में हुई भारी बढ़ोतरी, फटाफट जानिए नए रेट्स - News18 Hindi     |       Market Live: Nifty slips below 10900, Sensex trades lower; pharma stocks under pressure - Moneycontrol.com     |       तस्वीरों में देखें Toyota Camry Hybrid 2019 कार, भारत में हुई लॉन्च- Amarujala - अमर उजाला     |       'मणिकर्णिका' की स्पेशल स्क्रीनिंग, राष्ट्रपति कोविंद और लालकृष्ण आडवाणी ने देखी फिल्म - नवभारत टाइम्स     |       विवाद/ बोनी कपूर का एलान जब तक बंद नहीं हो जाती फिल्म श्रीदेवी बंगलो, तब तक चैन से नहीं बैठेंगे - Dainik Bhaskar     |       भाबी जी घर पर हैं की अनीता भाभी के घर आया नया मेहमान, गोरी मेम बनीं मां - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       URI Box Office Collection Day 8: विक्की कौशल की 'उरी' ने 'बधाई हो' को छोड़ा पीछे, कमाई में बना डाला ये रिकॉर्ड - NDTV India     |       MS Dhoni on cusp of achieving new milestone in 3rd ODI against Australia at MCG - Times Now     |       Malaysia Masters: Saina Nehwal beats Nozomi Okuhara in quarters, to take on Carolina Marin in semi-finals - Times Now     |       ऑस्ट्रेलिया में चली चहल की फिरकी, शास्त्री-मुश्ताक के रिकॉर्ड टूटे - Sports - आज तक     |       English Premier League Man United boss confirms injury blow 7 hours ago - Futaa     |      

फीचर


मटकावाला: प्यासे को पानी पिलाने के लिए दिल्ली में रोज मटकों में पानी भरता है एक बुजुर्ग

मटकावाले के नाम से जाने जाते हैं लंदन से आए नटराजन: बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया


matkawala-to-feed-the-water-to-thirsty-in-delhi-one-elderly-person-fills-the-water-every-day

भीषण गर्मी के मौसम में दिल्ली की गलियों में ऐसे कितने लोग होते हैं, जो अपनी प्यास बुझाने के लिए पानी खरीद कर नहीं पी सकते। उनके इस दर्द को समझने वाला एक शख्स है जो राजधानी के विभिन्न इलाकों में मटके में पानी भरता है  जिससे हर कोई अपनी प्यास बुझा सकता है।  

69 साल के एक बुजुर्ग रोज सूर्योदय से पूर्व जगते हैं और अपने वैन से इन इलाकों में जाकर 70 मटकों में पानी भरते हैं। उन्होंने शहर के विभिन्न इलाकों में ये मटके इसलिए रखे हैं ताकि कोई गरीब प्यासा नहीं रहे।

वर्ष 2014 की बात है जब दिल्ली में मटकावाले के नाम से चर्चित अलगरत्नम नटराजन को महसूस हुआ कि देश की राजधानी में सबको पीने के लिए ठंडा पानी मय्यसर नहीं है। इसलिए इन्होंने अपने घर के बाहर एक वाटर-कूलर लगा दिया। नटराजन ब्रिटेन से दिल्ली आकर सामाजिक सेवा के इस कार्य में जुटे हैं। वह लंदन के ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट में कार्नर स्टोर चलाते थे।

उन्होंने बताया, "एक बार मेरे वाटर कूलर से पानी भर रहे एक गार्ड से पूछा कि वह पानी लेने के लिए यहां क्यों आया है, जहां काम करता है वहां क्यों नहीं पानी लेता है तो उसने बताया कि वहां उसको पीने के लिए पानी नहीं दिया जाता है।"

गार्ड का जवाब सुनकर नटराजन स्तब्ध रह गए। इस वाकये से उनको प्यासे को पानी पिलाने के लिए कुछ करने की प्रेरणा मिली।

नटराजन ने कहा, "मेरे मन में हमेशा समाज के लिए कुछ करने का विचार आता था। मैंने अपने परिवार में इस संबंध में विमर्श किया, लेकिन वाटर कूलर लगाना कठिन कार्य था क्योंकि इसके लिए जगह, बिजली और रखरखाव की जरूरत होती है। इसलिए मैंने मटका रखने की बात सोची ताकि चिलचिलाती गर्मी में लोगों को पीने का पानी मिले।"

अब यह रोज-रोज का काम हो गया है कि वह रोज सुबह मटकों में पानी भरते हैं। शुरुआती दिनों में लोग समझते थे कि उनको दिल्ली सरकार ने इस काम के लिए नियुक्त किया है।

नटराजन ने बताया, "मुझे किसी एनजीओ की मदद नहीं मिल रही है और न ही मेरी कोई सरकार प्रायोजित संस्था है। मैं अपने पेंशन और बचत निधि से इस कार्य को अंजाम दे रहा हूं। मुझे दान के रूप में कुछ जरूर मिलता है। खास बात यह है कि मुझे अपने परिवार से काफी मदद मिलती है।"

बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया।

भारत वापसी के बाद वह एक अनाथालय और कैंसर के मरीजों के आश्रम में स्वयंसेवा करने लगे और चांदनी चौक में बेघरों को लंगर बांटते रहे। इसके अलावा उन्होंने बेसहारा व्यक्तियों के निधन पर उनकी अंत्येष्टि की। नटराजन आज गरीबों को न सिर्फ पीने का पानी मुहैया करवा रहे हैं बल्कि उनको भोजन और फल भी बांटते हैं। 

उन्होंने बताया, "मैं मजदूरों और गरीबों को मौसमी फल व सब्जी जैसे खीरा, तरबूज और मूली भी सप्ताह में दो बार बांटता हूं। इसके अलावा उनको लस्सी और जलेबी भी बांटता हूं।"

नटराजन ने वैन में 800 लीटर का टैंकर, पंप और जेनरेटर लगवाया है, जिससे वह रोज मटके में पानी भरते हैं। उन्होंने बताया, "गर्मी के दिनों में मटके में हमेशा पानी भरा रखने के लिए मैं दिन में चार चक्कर लगाता हूं। गर्मी के महीनों में मटकों में पानी भरने के लिए रोज 2,000 लीटर पानी जरूरत होती है।"

मटकों के अलावा उन्होंने जगह-जगह 100 साइकिल पंप भी लगवाया है। यहां गरीब लोग 24 घंटे हवा भरवा सकते हैं। कुछ मटका स्टैंड के पास ही हैं और कुछ अलग स्थान पर हैं।


 

advertisement