Air Force will get strength on Pakistan border Four Chinook helicopters reached Chandigarh - दैनिक जागरण     |       पिता मुलायम की विरासत पर 'शिवपाल फैक्टर' बढ़ता देख मैदान में उतरे अखिलेश - नवभारत टाइम्स     |       Lok Sabha Election 2019: हेमा मालिनी ने काम किया, पर कार्यकर्ताओं से सेतु नहीं बना पाईं - Jansatta     |       लोकसभा चुनाव 2019: पहले चरण के लिए नामांकन का आज आखिरी दिन हेमा मथुरा से करेंगी नॉमिनेशन फाइल - Zee News Hindi     |       आखिर सपना चौधरी किस पार्टी में जा रही हैं? अब मनोज तिवारी के साथ आई तस्वीर - नवभारत टाइम्स     |       बिहार: भाकपा ने बेगूसराय से कन्हैया कुमार को दिया टिकट, गिरिराज सिंह से होगा मुकाबला - Hindustan     |       पाक सरपरस्त जरा सुन लें इस कश्मीरी बच्चे के बोल, भारत के लिए क्या है वहां की सोच - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       लोकसभा/ पिछली बार 10 सीटों पर नोटा का असर सबसे ज्यादा रहा, इनमें से 9 सीटें आदिवासी बहुल - Dainik Bhaskar     |       दो हिंदू बच्चियों का जबरन धर्म परिवर्तनः पाक के सिंध में यह आम है - Navbharat Times     |       ‘जो PAK को एक गाली देगा, उसको मैं 10 गाली दूंगा’ : NC नेता - आज तक     |       लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस जीती तो पाकिस्तान में मनेगी दिवाली: विजय रुपाणी- प्रेस रिव्यू - BBC हिंदी     |       एक ही विमान को पायलट मां-बेटी ने उड़ाया, वायरल हुई तस्वीर- Amarujala - अमर उजाला     |       Tata Motors to hike passenger vehicle prices by up to Rs 25,000 from April - Times Now     |       रिलायंस जियो सेलिब्रेशन पैक: रोजाना पाएं 2GB एक्सट्रा डेटा - ABP News     |       अजीम प्रेमजी के परोपकार से बिल गेट्स हुए प्रेरित, कहा- इसका बड़ा असर होगा - Dainik Bhaskar     |       अब अनिल अंबानी की कंपनी ने इस बैंक के पास 12.50 करोड़ शेयर रखे गिरवी - आज तक     |       'छपाक' में कुछ ऐसी दिखाई देंगी दीपिका पादुकोण, फर्स्ट लुक आया सामने - नवभारत टाइम्स     |       तो क्या दोबारा मां बनने जा रही हैं ऐश्वर्या राय बच्चन, जवाब इस खबर में है - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       फिल्मफेयर 2019: श्रीदेवी को मिला अवॉर्ड, सभी सेलेब्स हुए इमोशनल - Hindustan     |       फिल्मफेयर 2019: आलिया की फिल्म पर हुई अवॉर्ड्स की बारिश - आज तक     |       विश्व कप से पहले बुमराह को लेकर टीम इंडिया के लिए आई बुरी खबर - Webdunia Hindi     |       IPL 2019, RR vs KXIP: पंजाब के खिलाफ कुछ ऐसा हो सकता है राजस्थान रॉयल्स का प्लेइंग XI - Hindustan     |       IPL 2019: रिषभ पंत ने लगाई चौकों-छक्कों की झड़ी, तोड़ा धोनी का 7 साल पुराना रिकॉर्ड - Times Now Hindi     |       KKR vs SRH: कोलकाता नाइट राइडर्स की जीत के हीरो बने आंद्रे रसेल - Navbharat Times     |      

फीचर


मटकावाला: प्यासे को पानी पिलाने के लिए दिल्ली में रोज मटकों में पानी भरता है एक बुजुर्ग

मटकावाले के नाम से जाने जाते हैं लंदन से आए नटराजन: बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया


matkawala-to-feed-the-water-to-thirsty-in-delhi-one-elderly-person-fills-the-water-every-day

भीषण गर्मी के मौसम में दिल्ली की गलियों में ऐसे कितने लोग होते हैं, जो अपनी प्यास बुझाने के लिए पानी खरीद कर नहीं पी सकते। उनके इस दर्द को समझने वाला एक शख्स है जो राजधानी के विभिन्न इलाकों में मटके में पानी भरता है  जिससे हर कोई अपनी प्यास बुझा सकता है।  

69 साल के एक बुजुर्ग रोज सूर्योदय से पूर्व जगते हैं और अपने वैन से इन इलाकों में जाकर 70 मटकों में पानी भरते हैं। उन्होंने शहर के विभिन्न इलाकों में ये मटके इसलिए रखे हैं ताकि कोई गरीब प्यासा नहीं रहे।

वर्ष 2014 की बात है जब दिल्ली में मटकावाले के नाम से चर्चित अलगरत्नम नटराजन को महसूस हुआ कि देश की राजधानी में सबको पीने के लिए ठंडा पानी मय्यसर नहीं है। इसलिए इन्होंने अपने घर के बाहर एक वाटर-कूलर लगा दिया। नटराजन ब्रिटेन से दिल्ली आकर सामाजिक सेवा के इस कार्य में जुटे हैं। वह लंदन के ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट में कार्नर स्टोर चलाते थे।

उन्होंने बताया, "एक बार मेरे वाटर कूलर से पानी भर रहे एक गार्ड से पूछा कि वह पानी लेने के लिए यहां क्यों आया है, जहां काम करता है वहां क्यों नहीं पानी लेता है तो उसने बताया कि वहां उसको पीने के लिए पानी नहीं दिया जाता है।"

गार्ड का जवाब सुनकर नटराजन स्तब्ध रह गए। इस वाकये से उनको प्यासे को पानी पिलाने के लिए कुछ करने की प्रेरणा मिली।

नटराजन ने कहा, "मेरे मन में हमेशा समाज के लिए कुछ करने का विचार आता था। मैंने अपने परिवार में इस संबंध में विमर्श किया, लेकिन वाटर कूलर लगाना कठिन कार्य था क्योंकि इसके लिए जगह, बिजली और रखरखाव की जरूरत होती है। इसलिए मैंने मटका रखने की बात सोची ताकि चिलचिलाती गर्मी में लोगों को पीने का पानी मिले।"

अब यह रोज-रोज का काम हो गया है कि वह रोज सुबह मटकों में पानी भरते हैं। शुरुआती दिनों में लोग समझते थे कि उनको दिल्ली सरकार ने इस काम के लिए नियुक्त किया है।

नटराजन ने बताया, "मुझे किसी एनजीओ की मदद नहीं मिल रही है और न ही मेरी कोई सरकार प्रायोजित संस्था है। मैं अपने पेंशन और बचत निधि से इस कार्य को अंजाम दे रहा हूं। मुझे दान के रूप में कुछ जरूर मिलता है। खास बात यह है कि मुझे अपने परिवार से काफी मदद मिलती है।"

बेंगलुरु में पैदा हुए नटराजन युवावस्था में ही लंदन चले गए थे और बतौर व्यवसायी उन्होंने 40 साल वहां बिताया। लंदन में वह यादगार चीजों की दुकान चलाते थे। नटराजन को वहां आंत का कैंसर हो गया था। इलाज करवाने के बाद उन्होंने भारत लौटने का फैसला लिया।

भारत वापसी के बाद वह एक अनाथालय और कैंसर के मरीजों के आश्रम में स्वयंसेवा करने लगे और चांदनी चौक में बेघरों को लंगर बांटते रहे। इसके अलावा उन्होंने बेसहारा व्यक्तियों के निधन पर उनकी अंत्येष्टि की। नटराजन आज गरीबों को न सिर्फ पीने का पानी मुहैया करवा रहे हैं बल्कि उनको भोजन और फल भी बांटते हैं। 

उन्होंने बताया, "मैं मजदूरों और गरीबों को मौसमी फल व सब्जी जैसे खीरा, तरबूज और मूली भी सप्ताह में दो बार बांटता हूं। इसके अलावा उनको लस्सी और जलेबी भी बांटता हूं।"

नटराजन ने वैन में 800 लीटर का टैंकर, पंप और जेनरेटर लगवाया है, जिससे वह रोज मटके में पानी भरते हैं। उन्होंने बताया, "गर्मी के दिनों में मटके में हमेशा पानी भरा रखने के लिए मैं दिन में चार चक्कर लगाता हूं। गर्मी के महीनों में मटकों में पानी भरने के लिए रोज 2,000 लीटर पानी जरूरत होती है।"

मटकों के अलावा उन्होंने जगह-जगह 100 साइकिल पंप भी लगवाया है। यहां गरीब लोग 24 घंटे हवा भरवा सकते हैं। कुछ मटका स्टैंड के पास ही हैं और कुछ अलग स्थान पर हैं।


 

advertisement