समझौता ब्लास्ट में सभी आरोपी बरी होने पर भड़का पाकिस्तान, भारत ने दिया जवाब - आज तक     |       BSP chief Mayawati not to contest Lok Sabha elections - Times Now     |       लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा के प्रत्याशी घोषित नहीं, नामांकन की तारीखें तय - Amarujala - अमर उजाला     |       भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में 11 राज्यों के लिए उम्मीदवारों के नाम तय - Webdunia Hindi     |       पीएम मोदी के बारे में क्या सोचते हैं 'चौकीदार' - आज तक     |       जम्‍मू-कश्‍मीर: सीआरपीएफ जवान ने तीन साथियों को गोलियों से भूना, खुद को भी गोली मारी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Knock Knock Kaun Hain ? Chowkidar ? - News18     |       मनोहर पर्रिकर की तस्वीर बगल में रख गोवा के नए सीएम डॉ. प्रमोद सावंत ने संभाला कामकाज - नवभारत टाइम्स     |       लंदन में घोटालेबाज नीरव मोदी की गिरफ्तारी Fugitive businessman Nirav Modi arrested in London - आज तक     |       जिम्बाब्वे में चली ऐसी हवा झटके में 300 लोगों को मौत की नींद सुला गई - Zee News Hindi     |       नीरव मोदी ने दोस्त के कहने पर डिजाइन की थी पहली ज्वेलरी, फिर अरबों तक पहुंचा दिया कारोबार- Amarujala - अमर उजाला     |       गूगल पर 11,760 करोड़ रुपये का जुर्माना - BBC हिंदी     |       Hyundai Motor, Kia Motors to invest $300 million in Ola - Times Now     |       Happy Holi 2019 Songs: इन गानों के बिना नहीं पूरी होती होली, जश्न हो जाता है दोगुना - Jansatta     |       लगातार सातवें दिन तेजी, निफ्टी 11500 के पार बंद - मनी कॉंट्रोल     |       एनालिसिस/ 2.47 लाख करोड़ रु के दान के बाद भी गेट्स की नेटवर्थ 130 देशों की जीडीपी से ज्यादा - Dainik Bhaskar     |       kesari movie review in hindi, Rating: {4.0/5} - केसरी मूवी रिव्यू ,रेटिंग: {4.0/5} : अक्षय कुमार,परिणीति ... - नवभारत टाइम्स     |       केसरी: अक्षय कुमार की जुबानी, फिल्म रिलीज से पहले जान लें क्लाइमैक्स - आज तक     |       Ranbir & Alia Dance Together On Ishq Vala Love As Ranbir Goes Down On His Knees - Woman's Era     |       हिना खान ने इंस्टाग्राम पर दिखाया होली स्वैग, यूजर्स बोले- 'कभी तो खुद के खरीदे कपड़े पहना करों'- Amarujala - अमर उजाला     |       कोलकाता/ मैच में बल्लेबाजी करते हुए गिरा खिलाड़ी, हुई मौत - Dainik Bhaskar     |       IPL-12: चौथी बार ट्रोफी जीतने उतरेगी मुंबई इंडियंस, संतुलन है टीम की ताकत - Navbharat Times     |       T-20 का रोमांच: साउथ अफ्रीका ने सुपर ओवर में मारी बाजी, श्रीलंका चित - आज तक     |       IPL 2019: विराट कोहली की कप्तानी पर गौतम गंभीर ने उठाए सवाल, कही ये बड़ी बात - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

विशेष


उपेक्षा से व्यथित हैं मोदी के प्रस्तावक छन्नूलाल मिश्र

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के प्रख्यात गायक पं. छन्नूलाल मिश्र केंद्र और राज्य की मौजूदा सरकारों की उपेक्षा से काफी व्यथित हैं। वह सुनिश्चित नहीं हैं कि इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रस्तावक बनेंगे या नहीं


हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के प्रख्यात गायक पं. छन्नूलाल मिश्र केंद्र और राज्य की मौजूदा सरकारों की उपेक्षा से काफी व्यथित हैं। वह सुनिश्चित नहीं हैं कि इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रस्तावक बनेंगे या नहीं। मिश्र 2014 के चुनाव में वाराणसी संसदीय सीट से भाजपा उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के प्रस्तावक रहे थे और स्वच्छ भारत मिशन के लिए प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्त नवरत्नों में से एक हैं। 

83 वर्षीय मिश्र ने एक खास बातचीत में कहा कि उनकी उम्र का वाराणसी में अब कोई शास्त्रीय गायक नहीं है, जो अभी भी संगीत के लिए पूरी तरह समर्पित है लेकिन पूरा जीवन संगीत के लिए समर्पित करने के बावजूद केंद्र और राज्य की मौजूदा सरकारों ने उन्हें वह सम्मान नहीं दिया, जो उन्हें मिलना चाहिए था।

 उन्हें और वाराणसी के लोगों को उम्मीद थी कि इस बार उन्हें भारत रत्न मिल सकता है, लेकिन जब पुरस्कारों की घोषणा हुई तो उनका नाम न तो भारत रत्न की सूची में था और न ही पद्मविभूषण की सूची में।

छन्नूलाल भावुक मन से कहते हैं, "लोगों को लगता है कि मैं इन पुरस्कारों के लायक हूं, लेकिन देने वालों को नहीं लगा तो मुझे इसकी कोई इच्छा भी नहीं है। मेरी एकमात्र इच्छा मेरा संगीत और मेरा गायन है। मेरा एक शेर है-'इलाही कोई तमन्ना नहीं इस जमाने में, मैंने सारी उम्र गुजारी है अपने गाने में।'

किराना घराने के वाराणसी निवासी शास्त्रीय गायक ने कहा, "पद्मविभूषण तो कम से कम मिलना चाहिए था। लेकिन मैंने न तो कभी पुरस्कारों के लिए किसी से कहा है और न कभी कहूंगा। किसी से क्यों मांगूं, मांगना होगा तो भगवान से मांगेंगे। मेरा संगीत, लोगों का प्यार ही मेरे लिए पुरस्कार है।"

ठुमरी गायक मिश्र ने कहा, "पद्मभूषण तो मिला है, टंगा हुआ है। कौन-सा लाभ मिल रहा है उससे। रेलगाड़ी में दो टिकट तो मिलता नहीं कि एक सहायक के साथ कहीं आ-जा सकूं इस बुढ़ापे में। सरकार से कहा लेकिन किसी ने नहीं सुनी। फिर पद्मभूषण, पद्मविभूषण का क्या मतलब। कहने को है बस।" उल्लेखनीय है कि छन्नूलाल को 2010 में तत्कालीन संप्रग सरकार ने पद्मभूषण से नवाजा था।

उन्होंने कहा, "दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित संगीत की बहुत प्रेमी और कद्रदान हैं। उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी संगीत के कद्रदान हैं। दिल्ली में मैंने उनके सामने गाया था। उन्होंने पद्मभूषण की अनुशंसा कर दी और मिल गया। अच्छा लगा था। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी यश भारती पुरस्कार दिया था।

मैंने उनसे कलाकारों को पेंशन देने के लिए कहा, अखिलेश ने 50,000 हजार रुपये पेंशन सभी कलाकारों के लिए शुरू कर दी। लेकिन नई सरकार आई तो पेंशन भी बंद हो गया। मैंने योगी आदित्यनाथ से कहा तो उन्होंने 25,000 रुपये पेंशन शुरू की, लेकिन अब मैं उसे भी नहीं लेता हूं।"

तो क्या इस बार के लोकसभा चुनाव में भी मोदी का समर्थन करेंगे, उनका प्रस्तावक बनना चाहेंगे या किसी दूसरी पार्टी का समर्थन करेंगे? मिश्र ने कहा, "यह सवाल राजनीतिक है। मैं कलाकार हूं। मेरे लिए सभी पार्टियां समान हैं। मेरे पास जो भी आएगा, उसका स्वागत है। नरेंद्र मोदी पिछले चुनाव में मेरे पास आए थे। वह ईमानदार आदमी लगे थे।

उन्होंने प्रस्तावक बनने के लिए कहा, मैंने स्वीकार कर लिया था। मैंने उनके लिए गाना बनाकर गाया, लोगों ने उन्हें वोट दिया और वह जीत गए। इस बार क्या होगा अभी कुछ तय नहीं है। समय आएगा, जब वह आएंगे, तब देखा जाएगा।"

वाराणसी में विकास को लेकर छन्नूलाल ने कहा, "सड़क, बिजली-पानी की व्यवस्था ठीक हो गई है। साफ-सफाई भी है, पहले 10 बजे तक झाड़ू नहीं लगता था, अब सुबह पांच बजे ही झाड़ू लग जाता है। बाकी चुनाव में क्या होगा, राम जाने।"
 

advertisement