पायलट के खिलाफ BJP का मुस्लिम कार्ड, यूनुस खान क्या साबित होंगे तुरूप का पत्ता?     |       विवाद / आरबीआई बोर्ड की अहम बैठक शुरू, सरकार से मतभेद खत्म होने के आसार     |       अमृतसर / आईएसआई की पनाह में बैठे खालिस्तानी आतंकी हैं बम कांड के सरगना, मकसद-दहशत फैलाना     |       इंदिरा गांधी की 101वीं जयंती: मोदी, सोनिया और राहुल ने दी श्रद्धांजलि     |       UPTET परीक्षा में नकल करते पकड़ी गई महिला शिक्षामित्र, धांधली में हुई 35 की गिरफ्तारी     |       KMP एक्सप्रेसवे का उद्घाटन आज, दिल्ली से घटेगा गाड़ियों का बोझ     |       सबरीमाला मंदिर: धारा 144 के खिलाफ सड़कों पर उतरे श्रद्धालु, 28 हिरासत में     |       UGC NET 2018 आज जारी हो सकता है एडमिट कार्ड, यहां से करें डाउनलोड     |       2019 लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का नया नारा: हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर, फिर सरकार     |       18000 फीट ऊंचाई, भारत में बन रहा ग्लेशियर से गुजरने वाला पहला रोड     |       महिला से फोन पर अचानक लोग करने लगे 'गंदी बातें', खुला राज तो सन्न रह गए लोग     |       नक्सलियों के साथ दिग्विजय सिंह की कॉल का लिंक मिला: पुणे पुलिस     |       Tulsi Vivah 2018: तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त, शादी की विधि, देवों को जगाने का मंत्र और कथा     |       अलीगढ़ / ट्यूशन टीचर ने कक्षा दो के छात्र को बुरी तरह पीटा, मासूम की मानसिक हालत बिगड़ी, सीसीटीवी में कैद घटना     |       Top 5 News : सेना में बड़े बदलाव की तैयारी, RBI की महत्वपूर्ण बोर्ड बैठक आज     |       सिद्धू ने इशारों में सिंहदेव को बताया मुख्यमंत्री उम्मीदवार     |       सर्वे: अमेरिकी राजीनति में युवाओं की बढ़ती दिलचस्‍पी, ट्रंप के लिए खतरे की घंटी!     |       IT-ED की छापेमारी रोकने के लिए कोर्ट जा सकते हैं नायडू, विपक्ष को भी मनाएंगे     |       मराठा आरक्षण पर सरकार की लगी मुहर     |       मध्यप्रदेश / शाह आज भोपाल में, सुरक्षा कारणों से रद्द हुआ रोड शो     |      

जीवनशैली


लिपिड सामान्य हो, तो भी हो सकती हैं दिल की बीमारियां

दुनियाभर में डॉक्टर ये चार तरह की जांच करवाने की सबसे ज्यादा सलाह देते हैं। विश्लेषण में पाया गया कि एक तिहाई नमूने (34 फीसदी) में से चारों या कम से कम तीन लिपिड के परिणाम सामान्य थे। उनमें असामान्य या एपोलिपोप्रोटीन पाया गया


normal-lipids-can-cause-even-heart-disease

दुनियाभर में और भारत में दिल की बीमारियों (कार्डियोवैस्कुलर रोगों) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देश के गांवों में रहने वाले लोग भी हाइपरलिपिडेमिया, हाइपरटेंशन, मधुमेह अैर तनाव के कारण दिल की बीमारियों का शिकार हो रहे हैं।

ऐसे में एक नए विश्लेषण में सामने आया है कि लिपिड सामान्य होने पर भी दिल की बीमारियों की आशंका रहती है।

देश की एक प्रमुख डायग्नॉस्टिक कंपनी ने पिछले पांच सालों के दौरान किए गए कोरोनरी रिस्क प्रोफाइल टेस्टिंग से प्राप्त हुए आंकड़ों का विश्लेषण किया है। इस विश्लेषण में रुटीन लिपिड प्रोफाइल टेस्ट जैसे टोटल कोलेस्ट्रॉल (टीसी), लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एलडीएल), हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एचडीएल) और ट्राई ग्लीसराईड्स (टीजी) जांच के परीक्षणों पर ध्यान दिया गया। ये जांच आमतौर पर व्यक्ति में दिल की बीमारियों की संभावना का पता लगाने के लिए की जाती हैं।

दुनियाभर में डॉक्टर ये चार तरह की जांच करवाने की सबसे ज्यादा सलाह देते हैं। विश्लेषण में पाया गया कि एक तिहाई नमूने (34 फीसदी) में से चारों या कम से कम तीन लिपिड के परिणाम सामान्य थे। उनमें असामान्य या एपोलिपोप्रोटीन पाया गया।

यह विश्लेषण अगस्त, 2013 से जुलाई, 2018 के बीच कंपनी के देशभर के लैब में किए गए 9933 लिपिड प्रोफाइल जांचों पर आधारित है।

लिपोप्रोटीन (ए) दिल की बीमारियों की संभावना का आधुनिक संकेतक है, जो कोरोनरी आर्टरी में ब्लॉकेज की संभावना को बताता है। एपोलिपोप्रोटीन ए 1 और बी क्रमश: एचडीएल और एलडीएल के प्रोटीन फ्रेगमेंट्स हैं। जिन बच्चों के परिवार में दिल की बीमारियों या हाई ब्लड कॉलेस्ट्रॉल का इतिहास हो, उनमें लिपोप्रोटीन (ए) की जांच की सलाह दी जाती है।

डायग्नॉस्टिक कंपनी एसआरएल के सलाहकार डॉ. बीआर दास के मुताबिक़, "पिछले कुछ दशकों में भारत में दिल की बीमारियों के मामले तेजी से बढ़े हैं। स्टैंडर्ड लिपिड प्रोफाइल में सीरम, प्लाज्मा टोटल कॉलेस्ट्रॉल, हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटीन- एसोसिएटेड कॉलेस्ट्रॉल, लो- डेंसिटी लिपोप्रोटीन एसोसिएटेड कॉलेस्ट्रॉल और टोटल ट्राइग्लीसराइड की जांच की जाती है।

इस तरह की जांचों से दिल की बीमारियों का पता लगाया जा सकता है।" उन्होंने कहा कि लिपोप्रोटीन (ए) में कॉलेस्ट्रॉल भी शामिल है और यह कोरोनरी आर्टरीज में वसा युक्त प्लॉक जमने का संकेत देता है।

ऐसे में जरूरी है कि इस आधुनिक जांच को लिपिड प्रोफाइल में शामिल किया जाए, खासतौर पर उन लोगों में, जिनका लिपिड स्तर सामान्य है, फिर भी उनमें दिल की बीमारियों की आशंका है।
 

बीमारी का कारण और नियंत्रण:

डॉ. दास के मुताबिक, दिल की बीमारियां आमतौर पर खून की वाहिकाओं में वसा जमने के कारण होती हैं। इसमें हार्ट अटैक, स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप, पेरीफेरल आर्टरी रोग और हार्ट फेलियर शामिल हैं। कई कारणों से ऐसा हो सकता है जैसे गतिहीन जीवनशैली, अस्वास्थ्यप्रद आहार का सेवन, धूम्रपान और शराब का सेवन आदि। उनकी सलाह है, कम वसा वाले आहार लें। अपने वजन को सामान्य बनाए रखें और सुनिश्चित करें कि खून के लिपिड्स नियंत्रण में रहें। 

29 सितंबर वर्ल्ड हार्ट डे

advertisement