गुजरात के बर्खास्त IPS अधिकारी संजीव भट्ट 30 साल पुराने मामले में दोषी क़रार - BBC हिंदी     |       कुछ यूं शादी के मंडप में पहुंचीं सांसद नुसरत जहां, बज रहा था रणवीर सिंह की फिल्म का ये गाना - आज तक     |       संसद में बोले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, 'तीन तलाक और हलाला को हटाना है'; पढ़ें संबोधन की 10 खास बातें - NDTV India     |       इंटरनेशनल योग डे: योग करते समय क्या आप भी करते हैं ये 7 बड़ी गलतियां - आज तक     |       अशोक गहलोत हो सकते हैं कांग्रेस के नए अध्यक्ष, जल्द होगा ऐलान? - Navbharat Times     |       मेहर के 3.40 लाख वापस, निकाह के महज 10 घंटे बाद तीन तलाक...जानें पूरा मामला - दैनिक जागरण     |       WC: सेमीफाइनल में जा सकती हैं ये 4 टीमें, ऐसा है अबतक का समीकरण - आज तक     |       विश्व कप 2019: जानें, सेमीफाइनल की जंग में कौन किस पायदान पर और कौन हुआ बाहर - Navbharat Times     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       AN-32 विमान हादसा: बरामद हुए सभी 13 यात्रियों के शव - आज तक     |       युद्ध हुआ तो पाक-चीन को मिलेगा करारा जवाब, सेना सीमा पर तैनात करने जा रही है इंटीग्रेटेड वॉर ग्रुप्स - अमर उजाला     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       3 सेक्स वर्करों के साथ नोएडा के एक फार्म हाउस में 9 लोगों ने किया गैंगरेप - NDTV India     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       दौरा/ किम से चर्चा के लिए जिनपिंग उत्तर कोरिया पहुंचे, 14 साल में यहां आने वाले पहले चीनी राष्ट्रपति - Dainik Bhaskar     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       फिर ट्रोलर्स के निशाने पर आए इमरान खान, रवींद्रनाथ टैगोर का Quote शेयर करते वक्त की ये बड़ी गलती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       अगर स्मार्टफोन में बंद हुए गूगल और फेसबुक के ऐप तो पूरा पैसा लौटाएगा हुवावे - Navbharat Times     |       Kabir Singh Box Office Prediction: Shahid के सामने Salman की Bharat, पहले दिन इतनी कमाई का अनुमान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Arjun Patiala Trailer: Upcoming comedy film starring Diljit Dosanjh, Kriti Sanon and Varun Sharma directed by Rohit Jugraj - The Lallantop     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       शादी के बाद पहली तस्वीर, लाल चूड़ा पहने, सिंदूर लगाए दिखीं चारू असोपा - आज तक     |       World Cup 2019: ऋषभ पंत के वर्ल्ड कप में चयन से खुश नहीं हैं उनके कोच! खुद बताई वजह - अमर उजाला     |       वर्ल्ड कप/ ऑस्ट्रेलिया-बांग्लादेश के बीच मैच आज, दोनों टीमें 12 साल बाद आमने-सामने - Dainik Bhaskar     |       ICC World Cup 2019: पहले इंग्लैंड ने पीटा, अब आपस में भिड़ी अफगानिस्तान की टीम! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       IND vs PAK: भारत से मिली हार के बाद PCB प्रमुख ने सरफराज अहमद को किया फोन, कही यह बात.. - NDTV India     |      

राजनीति


कर्जमाफी समाधान नहीं, कृषि में दीर्घकालिक सुधार की जरूरत : विशेषज्ञ की राय

राजनीतिक दल वोट बटोरने के लिए अक्सर चुनावों के वक्त किसानों से कर्जमाफी का वादा करते हैं और चुनाव जीतने पर अपने वादे निभाते भी हैं। जैसा कि हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की जीत के बाद बनी नई सरकारों ने किसानों का कर्ज माफ करने का एलान किया


not-a-debt-relief-solution-long-term-improvement-in-agriculture-needs-expert-opinion

राजनीतिक दल वोट बटोरने के लिए अक्सर चुनावों के वक्त किसानों से कर्जमाफी का वादा करते हैं और चुनाव जीतने पर अपने वादे निभाते भी हैं। जैसा कि हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की जीत के बाद बनी नई सरकारों ने किसानों का कर्ज माफ करने का एलान किया। 

इससे पहले भी विभिन्न राज्यों की सरकारों ने कृषि कर्ज माफ किए हैं। मगर विशेषज्ञ बताते हैं कि किसानों की दशा सुधारने के लिए कर्जमाफी समाधान नहीं है। वे कहते हैं कि कृषि क्षेत्र में लंबी अवधि के सुधारों की जरूरत है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भी कुछ दिन पहले कर्जमाफी की योजना की आलोचना की थी। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि कर्जमाफी से राजकोषीय घाटा बढ़ता है, इसलिए सरकारों को कृषि क्षेत्र में दीर्घकालिक संरचनात्मक सुधार करने चाहिए ताकि कर्जमाफी की नौबत ही न आए।

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लिबरल स्टडीज में अर्थशास्त्र के सहायक प्रोफेसर और अर्थशास्त्री अमित बसोले ने बताया, "भारतीय कृषि क्षेत्र छोटे/अस्थिर स्वामित्व व सिंचाई और बिजली, विस्तार सेवाएं, भंडारण व परिवहन में अपर्याप्त सार्वजनिक निवेश की दीर्घकालिक संरचनात्मक समस्याओं से जूझ रहा है।

इसके अलावा उत्पादों की कीमतों में उतार-चढ़ाव के साथ-साथ बढ़ती लागत, दोषपूर्ण आयात नीति और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर फसलों की खरीद के लिए अपर्याप्त आधारभूत संरचना के कारण किसानों की आय में संगति नहीं रहती है।" 

उन्होंने कहा, "इन समस्याओं को हल कर पाना मुश्किल है और सार्वजनिक संसाधनों के साथ-साथ दीर्घकालिक दृष्टि की प्रतिबद्धता की भी आवश्यकता है। राजनीतिक दलों  को कृषि संकट से निपटने के लिए लोकतांत्रिक व्यवस्था में सुधार करना होगा। ऋण माफ करना संकेत देता है कि आप किसानों की परवाह करते हैं, लेकिन यह किसी भी दीर्घकालिक समस्याओं का हल नहीं है।" 

बसोले ने कहा कि ऋण माफ करने से मतलब है कि सरकार (सार्वजनिक) बैंकों का भुगतान करने के लिए अपने पैसे का उपयोग करती है। इससे राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी होती है, अधिकतर राज्य स्तर पर क्योंकि वह राज्य सरकारें हैं जो इन नीतियों का पालन करती हैं।

यह सच है कि इस धन को करों के माध्यम से वसूला जाता है, जिससे मध्यम वर्ग पर कर का बोझ पड़ता है, लेकिन इसके आर्थिक प्रभाव की तुलना कृषि संकट के सामाजिक प्रभाव से की जानी चाहिए, जिसके परिणामस्वरूप समाज के गरीब तबकों में व्यापक गुस्सा है।

अगर मध्यम श्रेणी के करदाता सरकार पर कृषि क्षेत्र में दीर्घकालिक उपायों के मुद्दे को उठाएंगे तो सरकार पर दबाव जरूर बनेगा।

उत्तर प्रदेश में 2017 में योगी सरकार ने राज्य के 86 लाख किसानों का करीब 30,729 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया था, वहीं सात लाख किसानों का ऋण जो एनपीए बन गया था, वह भी माफ कर दिया गया।

महाराष्ट्र में 35 लाख किसानों का 1.5 लाख रुपये तक का ऋण माफ किया गया था, जबकि पंजाब में कांग्रेस सरकार ने पांच एकड़ तक की खेती की जमीन वाले किसानों के दो लाख रुपये का कर्ज माफ किया था, वहीं कर्नाटक के सहकारी बैंक से लिए गए हर किसान का 50,000 रुपये तक का कर्ज माफ किया जा चुका है और हाल ही में मध्य प्रदेश में प्रत्येक किसान का दो लाख रुपये का कर्जा माफ किया गया है। 

यह पूछने पर कि क्या कर्जमाफी से किसानों को प्रोत्साहन मिलता है कि वे बैंक से ऋण लेकर न चुकाएं और अगले चुनाव में कर्जमाफ करने वाली पार्टी को वोट देकर जिताएं ताकि उनका कर्ज माफ हो जाए, बसोले ने कहा, "यह संभव है।

हालांकि गौर करने की बात है कि किसानों में से सबसे गरीब किसान जमींदारों, दुकानदारों से उधार लेते हैं। तो कर्जमाफी का एलान उन पर लागू नहीं होता है।" 

राजन ने भी कहा था कि ऐसे फैसलों से राजस्व पर असर पड़ता है और किसान की कर्ज माफी का सबसे बड़ा फायदा सांठगांठ वालों को मिलता है। अकसर इसका लाभ गरीबों को मिलने की बजाय उन्हें मिलता है, जिनकी स्थिति बेहतर है।

कर्जमाफी की नौबत न आए इसके लिए क्या उपाय किए जाएं, इस सवाल प्रोफेसर अमित बसोले ने कहा, "राजनीतिक दलों को दीर्घकालिक संरचनात्मक सुधार करने चाहिए। उन्हें कृषि क्षेत्र में सार्वजनिक निवेश में वृद्धि करनी चाहिए।

स्वामीनाथन आयोग ने दस साल पहले विस्तृत सुझाव दिए थे, लेकिन इसके बारे में कुछ भी नहीं किया गया। जब कृषि आय में वृद्धि होगी तो किसान अपने कर्ज चुकाएंगे और कर्जमाफी के लिए बोलेंगे ही नहीं।"

advertisement