पत्रकार छत्रपति हत्याकांड: आज होगा दोषी गुरमीत राम रहीम को सजा का ऐलान - नवभारत टाइम्स     |       80 साल की शीला दीक्षित के सामने ये हैं 8 चुनौतियां, पढ़िए- क्या है सबसे बड़ा चैलेंज - दैनिक जागरण     |       आम्रपाली ने 1 रुपये/ वर्ग फुट में बुक किए थे फ्लैट, ऑफिस बॉय के नाम बनी थीं कंपनियां - News18 Hindi     |       दिल्ली/ जेटली को कैंसर, दावा- अंतरिम बजट पेश नहीं कर सकेंगे; शाह को हुआ स्वाइन फ्लू - Dainik Bhaskar     |       Uttar Pradesh Mahagathbandhan takes final shape; RLD gets three seats as SP agrees to cede one: Sources - Times Now     |       Kumbh Mela 2019 Shahi Snan: Union Minister Smriti Irani takes a dip in Ganges - Times Now     |       कर्नाटक: ऑपरेशन लोटस से कैसे लड़ेगी कांग्रेस-जेडीएस - BBC हिंदी     |       Kotler Award For PM Sparks Row - NDTV     |       ब्रेग्जिट : 24 घंटे के अंदर टेरीजा ने जीता विश्वास प्रस्ताव, 325 सांसदों का मिला समर्थन- Amarujala - अमर उजाला     |       केन्या के होटल पर आतंकी हमला, 14 की मौत, 20 घंटे तक चले अभियान में सभी आतंकी ढेर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       चर्चित चेहरा: इंदिरा नूई हो सकती हैं वर्ल्ड बैंक चीफ पद की दावेदार, जानें उनके बारे में - Hindustan हिंदी     |       पहली बार चांद पर पौधे उगाने में मिली सफलता, चीन ने रोपा कपास - आज तक     |       Petrol Price: छह दिन की बढ़त पर लगा ब्रेक, सस्‍ता हुआ पेट्रोल - आज तक     |       299 रुपये में 1.5GB डेटा हर रोज, BSNL लाया नया प्लान - Navbharat Times     |       मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप-100 थिंकर्स में शामिल, जेफ बेजोस के साथ बनाई जगह - News18 Hindi     |       बाजार शानदार तेजी लेकर बंद, निफ्टी 10880 के पार टिका - मनी कॉंट्रोल     |       रणवीर सिंह ने कहा कि बदल सकते हैं अपना सरनेम - नवभारत टाइम्स     |       26 जनवरी को आएगा सलमान खान की फिल्म भारत का टीजर? - आज तक     |       कंगना रनौत और आलिया भट्ट एयरपोर्ट पर कुछ इस अंदाज़ में आईं नज़र - NDTV Khabar     |       #MeToo: राजकुमार हिरानी पर यौन शोषण का आरोप, इन 2 बड़े एक्‍टर्स ने दिया बड़ा बयान - प्रभात खबर     |       India vs Australia 2nd ODI: Virat Kohli, MS Dhoni shine as visitors level three-match series 1-1 - Times Now     |       जेसन गिलेस्‍पी ने भारत को बताया वर्ल्‍डकप-2019 का खिताबी दावेदार, बुमराह की तारीफ में कही यह बात - NDTV India     |       Shaky 'Demon' stutters into dream Rafael Nadal showdown - Times Now     |       Top 5 shots of Day 3 - Passing shots, great defence and brilliant improvisation - Eurosport.com     |      

राजनीति


कर्जमाफी समाधान नहीं, कृषि में दीर्घकालिक सुधार की जरूरत : विशेषज्ञ की राय

राजनीतिक दल वोट बटोरने के लिए अक्सर चुनावों के वक्त किसानों से कर्जमाफी का वादा करते हैं और चुनाव जीतने पर अपने वादे निभाते भी हैं। जैसा कि हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की जीत के बाद बनी नई सरकारों ने किसानों का कर्ज माफ करने का एलान किया


not-a-debt-relief-solution-long-term-improvement-in-agriculture-needs-expert-opinion

राजनीतिक दल वोट बटोरने के लिए अक्सर चुनावों के वक्त किसानों से कर्जमाफी का वादा करते हैं और चुनाव जीतने पर अपने वादे निभाते भी हैं। जैसा कि हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की जीत के बाद बनी नई सरकारों ने किसानों का कर्ज माफ करने का एलान किया। 

इससे पहले भी विभिन्न राज्यों की सरकारों ने कृषि कर्ज माफ किए हैं। मगर विशेषज्ञ बताते हैं कि किसानों की दशा सुधारने के लिए कर्जमाफी समाधान नहीं है। वे कहते हैं कि कृषि क्षेत्र में लंबी अवधि के सुधारों की जरूरत है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भी कुछ दिन पहले कर्जमाफी की योजना की आलोचना की थी। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि कर्जमाफी से राजकोषीय घाटा बढ़ता है, इसलिए सरकारों को कृषि क्षेत्र में दीर्घकालिक संरचनात्मक सुधार करने चाहिए ताकि कर्जमाफी की नौबत ही न आए।

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लिबरल स्टडीज में अर्थशास्त्र के सहायक प्रोफेसर और अर्थशास्त्री अमित बसोले ने बताया, "भारतीय कृषि क्षेत्र छोटे/अस्थिर स्वामित्व व सिंचाई और बिजली, विस्तार सेवाएं, भंडारण व परिवहन में अपर्याप्त सार्वजनिक निवेश की दीर्घकालिक संरचनात्मक समस्याओं से जूझ रहा है।

इसके अलावा उत्पादों की कीमतों में उतार-चढ़ाव के साथ-साथ बढ़ती लागत, दोषपूर्ण आयात नीति और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर फसलों की खरीद के लिए अपर्याप्त आधारभूत संरचना के कारण किसानों की आय में संगति नहीं रहती है।" 

उन्होंने कहा, "इन समस्याओं को हल कर पाना मुश्किल है और सार्वजनिक संसाधनों के साथ-साथ दीर्घकालिक दृष्टि की प्रतिबद्धता की भी आवश्यकता है। राजनीतिक दलों  को कृषि संकट से निपटने के लिए लोकतांत्रिक व्यवस्था में सुधार करना होगा। ऋण माफ करना संकेत देता है कि आप किसानों की परवाह करते हैं, लेकिन यह किसी भी दीर्घकालिक समस्याओं का हल नहीं है।" 

बसोले ने कहा कि ऋण माफ करने से मतलब है कि सरकार (सार्वजनिक) बैंकों का भुगतान करने के लिए अपने पैसे का उपयोग करती है। इससे राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी होती है, अधिकतर राज्य स्तर पर क्योंकि वह राज्य सरकारें हैं जो इन नीतियों का पालन करती हैं।

यह सच है कि इस धन को करों के माध्यम से वसूला जाता है, जिससे मध्यम वर्ग पर कर का बोझ पड़ता है, लेकिन इसके आर्थिक प्रभाव की तुलना कृषि संकट के सामाजिक प्रभाव से की जानी चाहिए, जिसके परिणामस्वरूप समाज के गरीब तबकों में व्यापक गुस्सा है।

अगर मध्यम श्रेणी के करदाता सरकार पर कृषि क्षेत्र में दीर्घकालिक उपायों के मुद्दे को उठाएंगे तो सरकार पर दबाव जरूर बनेगा।

उत्तर प्रदेश में 2017 में योगी सरकार ने राज्य के 86 लाख किसानों का करीब 30,729 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया था, वहीं सात लाख किसानों का ऋण जो एनपीए बन गया था, वह भी माफ कर दिया गया।

महाराष्ट्र में 35 लाख किसानों का 1.5 लाख रुपये तक का ऋण माफ किया गया था, जबकि पंजाब में कांग्रेस सरकार ने पांच एकड़ तक की खेती की जमीन वाले किसानों के दो लाख रुपये का कर्ज माफ किया था, वहीं कर्नाटक के सहकारी बैंक से लिए गए हर किसान का 50,000 रुपये तक का कर्ज माफ किया जा चुका है और हाल ही में मध्य प्रदेश में प्रत्येक किसान का दो लाख रुपये का कर्जा माफ किया गया है। 

यह पूछने पर कि क्या कर्जमाफी से किसानों को प्रोत्साहन मिलता है कि वे बैंक से ऋण लेकर न चुकाएं और अगले चुनाव में कर्जमाफ करने वाली पार्टी को वोट देकर जिताएं ताकि उनका कर्ज माफ हो जाए, बसोले ने कहा, "यह संभव है।

हालांकि गौर करने की बात है कि किसानों में से सबसे गरीब किसान जमींदारों, दुकानदारों से उधार लेते हैं। तो कर्जमाफी का एलान उन पर लागू नहीं होता है।" 

राजन ने भी कहा था कि ऐसे फैसलों से राजस्व पर असर पड़ता है और किसान की कर्ज माफी का सबसे बड़ा फायदा सांठगांठ वालों को मिलता है। अकसर इसका लाभ गरीबों को मिलने की बजाय उन्हें मिलता है, जिनकी स्थिति बेहतर है।

कर्जमाफी की नौबत न आए इसके लिए क्या उपाय किए जाएं, इस सवाल प्रोफेसर अमित बसोले ने कहा, "राजनीतिक दलों को दीर्घकालिक संरचनात्मक सुधार करने चाहिए। उन्हें कृषि क्षेत्र में सार्वजनिक निवेश में वृद्धि करनी चाहिए।

स्वामीनाथन आयोग ने दस साल पहले विस्तृत सुझाव दिए थे, लेकिन इसके बारे में कुछ भी नहीं किया गया। जब कृषि आय में वृद्धि होगी तो किसान अपने कर्ज चुकाएंगे और कर्जमाफी के लिए बोलेंगे ही नहीं।"

advertisement