रात 2 बजे गोवा के मुख्यमंत्री बने प्रमोद सावंत, राज्य को 2 डिप्टी CM भी मिले.. - पंजाब केसरी     |       Holika Dahan 2019: यह है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त, पढ़ें सप्ताह के व्रत और त्योहार - Hindustan हिंदी     |       पीएम मोदी का कांग्रेस पर हमला, बोले- जीप से शुरू हुआ घोटाला तोप, पनडुब्बी और हेलीकॉप्टर तक पहुंचा- Amarujala - अमर उजाला     |       यूपी दौरे में योगी-मोदी पर प्रियंका का आक्रमण Prianka launches a scathing attack on PM Modi! - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       अनूठी होली : जूते की माला और जूते से दनादन वार, सच में अलबेली है ये होली - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       EC:चुनाव आयोग ने कहा-'सशस्त्र बलों की कार्रवाईयों पर प्रचार-प्रसार न करें पार्टियां' - Times Now Hindi     |       छत्तीसगढ़ में एक भी मौजूदा सांसद को टिकट नहीं देगी बीजेपी: अनिल जैन - Navbharat Times     |       जुबानी जंग: कांग्रेस का 'मैं भी चौकीदार' मुहिम पर निशाना, सुरजेवाला बोले, जनता भाजपा को समझ गई है - Hindustan     |       अब EU में जर्मनी ने पेश किया मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव - आज तक     |       मोजाम्बिक में भयंकर समुद्री तूफान, 1000 से ज्यादा लोगों की मौत की आशंका - Navbharat Times     |       चीन का नापाक याराना, कहा- पुलवामा को लेकर PAK पर निशाना ना साधे कोई मुल्क - Hindustan     |       बॉयफ्रेंड संग ऐसी है मिया खलीफा की कैमिस्ट्री, तस्वीरों में देखें लाइफ - आज तक     |       शेयर बाजार में प्री-इलेक्शन रैली, चुनावी तारीखों के एलान के बाद 1,300 अंक उछला सेंसेक्स - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Khaitan, ILP, Ashurst, others advise Ola on $300m buy-into electric cars initiative from Hyundai, Kia - Legally India     |       देश की दो बड़ी कंपनियों में जंग : L&T पर माइंडट्री के जबरन अधिग्रहण का आरोप - आज तक     |       Bhojpuri Holi Song / होली पर धमाल मचाएंगे ये भोजपुरी गाने, भतार अईहे से लेकर छपरा में पकड़ाएंगे तक.. - Dainik Bhaskar     |       बर्थडे: अल्का याग्निक से जुड़ी 5 बातें, उनके इस गीत के लिए किया था 42 पार्टियों ने विरोध - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       केसरी: अक्षय कुमार की जुबानी, फिल्म रिलीज से पहले जान लें क्लाइमैक्स - आज तक     |       हाथों में हाथ थामे अवॉर्ड शो से न‍िकले रणबीर कपूर-आल‍िया भट्ट - आज तक     |       तो इस वजह से अनुराग के सामने प्रेरणा खोलेगी अपनी प्रेग्नेंसी का राज! - आज तक     |       एयर स्पेस बंद होने से भारत ने गंवाई जूनियर डेविस कप और फेड कप की मेजबानी - नवभारत टाइम्स     |       प्रयोग/ ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के बीच एशेज सीरीज में खिलाड़ियों की टेस्ट जर्सी पर भी नाम, नंबर होगा - Dainik Bhaskar     |       IPL-2019: मुंबई इंडियंस की ओपनिंग पर 'हिटमैन' रोहित शर्मा का बड़ा फैसला - आज तक     |       Lionel Messi routinely delivers magic for Barcelona, but his third goal vs. Betis was interstellar - ESPN     |      

फीचर


दूध उत्पादन में नंबर वन लेकिन प्रति पशु दूध उत्पादन में भारत सबसे पीछे

दुनिया में सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने में भारत नंबर वन है, बावजूद इसके यहां डेयरी किसानों के हालात अच्छे नहीं हैं। देश दूध उत्पादन में तो सबसे आगे है, लेकिन प्रति पशु दूध उत्पादन में सबसे पीछे


number-one-in-milk-production-but-india-is-at-the-bottom-behind-every-milk-production

दुनिया में सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने में भारत नंबर वन है, बावजूद इसके यहां डेयरी किसानों के हालात अच्छे नहीं हैं। देश दूध उत्पादन में तो सबसे आगे है, लेकिन प्रति पशु दूध उत्पादन में सबसे पीछे। भारत में दूध उत्पादन का औसत महज तीन लीटर प्रति पशु है, जबकि यही औसत ऑस्ट्रेलिया में 16 और इजराइल में 36 लीटर प्रति पशु है।

प्रति पशु दूध उत्पादन में भारत को अगुआ बनाने की दिशा में काम कर रहे मू-फार्म के संस्थापक परम सिंह ने एक बातचीत में कहा, "हम दूध उत्पादन में सबसे आगे इसलिए हैं कि हमारे पास 30 करोड़ पशु हैं। पशु और पशुपालकों के उत्थान के लिए यहां काम तो बहुत हो रहे हैं, लेकिन उन कामों का नतीजा जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच पा रहा है।"

उन्होंने कहा कि मू-फार्म किसानों की आय में कम से कम 20 प्रतिशत की वृद्धि करने के लिए 2020 तक भारत के दो लाख डेयरी किसानों को प्रशिक्षित करेगी। वह पशुपोषण जैसे क्षेत्रों में किसानों के कौशल को बढ़ाने के लिए मदद करेगी।

परम सिंह मू-फार्म के जरिये पंजाब के 10 हजार किसानों से संपर्क कर चुके हैं। मू-फार्म की टीम रोजाना किसानों से संपर्क करती है और उसका विवरण मू-फार्म एप पर अपलोड किया जाता है। इससे किसानों में अपने पशुओं के स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ रही है।

खुद किसानों का कहना है कि मू-फार्म से जुड़कर पशुपालन पर होने वाला उनका खर्च कम हुआ है और दूध उत्पादन बढ़ा है।

उन्होंने बताया कि हमारे प्रशिक्षक किसानों के कौशल स्तर को बढ़ाने के लिए सामग्री दे रहे हैं, जिसे ग्राम स्तर के उद्यमियों के माध्यम से पहुंचाया जा रहा है। हम फिलहाल उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, हरियाणा और ओडिशा पर ध्यान दे रहे हैं। मू-फार्म को दुनिया की सबसे बड़ी कैटल डायरेक्टरी तैयार करना है।

जब भी हम किसी किसान को अपने साथ जोड़ते हैं तो किसान और उनके पशु की हर जानकारी जैसे पशु की जन्म तारीख, उसकी नस्ल आदि की सारी जानकारी मू-फार्म ऐप से जोड़ते हैं। किसान अपनी ज्यादा से ज्यादा जानकारी मू-फार्म पर शेयर करें, इसके लिए हर जानकारी के लिए किसान को प्वाइंट दिए जाते हैं। 

advertisement