अमेठी की आयरन लेडी: 5 साल में स्मृति ईरानी से ऐसे ढहाया राहुल का किला - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       नेपाल में तीन धमाके, चार लोगों की मौत - BBC हिंदी     |       पश्चिम बंगाल का पूरा वोट गणितः चुनाव नतीजों से ममता यूं ही नहीं हैं लाल - Navbharat Times     |       कलयुगी बाप ने अपनी ही बेटियों को झील में दिया धक्का, एक जांबाज युवक बना फरिश्ता.. - पंजाब केसरी     |       वर्ल्ड कप/ भारत-पाकिस्तान मुकाबला सबसे रोचक, 12 दिन पहले सिर्फ 48 घंटे में बिके थे सारे टिकट - Dainik Bhaskar     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       Modi in Varanasi Live: कार्यकर्ताओं को संबोधित करने पं. दीनदयाल हस्तकला संकुल पहुंचे मोदी - दैनिक जागरण     |       CWC की बैठक में राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश खारिज Congress refuses to accept Rahul Gandhi's resignation - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       Video : पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं का किया अभिनंदन तो पाक मीडिया ने समझा 'विंग कमांडर' - News18 हिंदी     |       Pak विदेश मंत्री कुरैशी बोले- भारत की नई सरकार से पाकिस्तान बातचीत को तैयार - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       केरल/ श्रीलंका से बोट में सवार 15 आईएस आतंकी भारत की ओर बढ़ रहे, तटीय इलाकों में हाईअलर्ट - Dainik Bhaskar     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       सलमान खान की वजह से कटरीना को नहीं मिलेगा नेशनल अवॉर्ड? एक्ट्रेस ने बताई वजह - आज तक     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       कंफर्म: इस डेट को रिलीज होगी रितिक रोशन की फिल्म 'सुपर 30' - नवभारत टाइम्स     |       सलमान खान ने किया खुलासा, शाहरुख खान से पहले वो खरीदने वाले थे 'मन्नत' - ABP News     |       कीवी खिलाड़ी ने कहा, खिताब के प्रबल दावेदार भारत के खिलाफ जीत से बढ़ेगा मनोबल - अमर उजाला     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में भारत के खिलाफ मैच के बाद पाकिस्तान टीम को मिलेगा ये बड़ा तोहफा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       विराट कोहली ने बताया, अनुष्का शर्मा से शादी करने के बाद आए ये बदलाव - नवभारत टाइम्स     |      

व्यापार


देश में कुछ ही निजी एयरलाइंस को मिल पाई सफलता 

भारत में विमानन उद्योग ने उद्यमियों को वैसे ही आकर्षित किया है जैसे कीट-पतंग आग की तरफ आकर्षित होते हैं, लेकिन उनसे में कुछेक ही इस क्षेत्र में जीवित और कामयाब हुए हैं। सभी प्रकार के एयरलाइन व्यवसाय मॉडल- बजट, पूर्ण सेवा और हाइब्रिड के लिए कब्रिस्तान बना हुआ है


only-a-few-private-airlines-got-success-in-the-country

भारत में विमानन उद्योग ने उद्यमियों को वैसे ही आकर्षित किया है जैसे कीट-पतंग आग की तरफ आकर्षित होते हैं, लेकिन उनसे में कुछेक ही इस क्षेत्र में जीवित और कामयाब हुए हैं। सभी प्रकार के एयरलाइन व्यवसाय मॉडल- बजट, पूर्ण सेवा और हाइब्रिड के लिए कब्रिस्तान बना हुआ है।

किंगफिशर सबसे बड़ी निजी पहल थी, लेकिन यह असफल रही। जेट एयरवेज जिसे प्रतिष्ठित ब्रांड माना जाता था, अभी संकट में है। इससे पहले कई एयरलाइंस ने अपने लांच होने के कुछ ही वर्षों में शुरुआती सफलता के बाद अपना कामकाज समेट लिया था।

इनमें से कुछ प्रमुख एयरलाइंस में ईस्ट-वेस्ट, मोदीलुफ्त, दमानिया एयरवेज और मदुराई की पैरामाउंट एयरवेज शामिल है। इनके बंद होने के प्रमुख कारणों में साझेदारों में झगड़ा (मोदीलुफ्त के मामले में), नकदी का संकट और नियामकीय चुनौतियां हैं। 

जेट एयरवेज का पतन एक बहुत बड़े खतरे का संकेत है। इसका एकाएक पतन कई विमानन विशेषज्ञों के लिए भी चौंकानेवाला रहा है क्योंकि यह कंपनी पिछले साल कर्ज में लदी कंपनी एयर इंडिया को खरीदने के लिए बोली लगा रही थी। कतर एयरवेज के पूर्व भारत प्रमुख और विमानन दिग्गज राजन मेहरा ने कहा, "भारतीय विमानन कंपनियों का किराया दुनिया के सबसे कम किराए में से एक है। यहां तक कि आज से 10-15 साल पहले भी किराया इतना ही था या इससे अधिक था।"

उन्होंने कहा कि उच्च परिचालन लागत और कीमतों में प्रतिस्पर्धा भी एयरलाइनों के असफल होने का प्रमुख कारण हैं। साथ ही कई अन्य कारण भी हैं। डेलोइट इंडिया के भागीदार पीयूष नायडू का मानना है कि विमानन कंपनियों का प्रबंधन उसकी सफलता और असफलता के लिए जिम्मेदार होता है।

नायडू ने कहा, "उद्योग के कुछ कारक हो सकते हैं, जो कि भारत में एयरलाइनों की लागत और प्रदर्शन पर असर डालता है, जिसमें कच्चे तेल की कीमतों में एकाएक तेजी, एटीएफ (विमानों का ईंधन) पर लगाए गए कर, कुछ प्रमुख हवाई अड्डों पर अवसंरचना की बाधाएं प्रमुख हैं। ऐसे में निजी विमानन कंपनियां सरकारी कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा में नहीं ठहर पातीं। सरकारी कंपनियों को बचाने के लिए सरकार होती है। निजी कंपनियों का प्रबंधन ही कंपनी की वृद्धि और व्यवहार्यता सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार होता है।"

किफायती एयरलाइंस के एक अधिकारी ने कहा, "एक चीज निश्चित है कि निजी एयरलाइनों के प्रमोटरों के पास धन की कमी नहीं होनी चाहिए। सरकारी कंपनी एयर इंडिया इसलिए चल रही है, क्योंकि सरकार ने उसमें समय-समय पर करोड़ों रुपये डाले हैं।"

अधिक लागत वाली संरचना के बावजूद राष्ट्रीय विमानन कंपनी कारोबार में कई दशकों से हैं, जबकि निजी कंपनियां नहीं चल पाती है जिसमें एयर डेक्कन, किंगफिशर, एयर सहारा (जेट एयरवेज ने इसका अधिग्रहण किया) और जेट एयरवेज शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज कुछ माह पहले तक 124 विमानों का परिचालन कर रहा था, लेकिन अब उसका परिचालन बंद पड़ा है।
 

advertisement