Lok Sabha Election 2019: भावनाएं भड़काने से नहीं, काम से मिलेगी जीत, जूनागढ़ में वोटरों ने पार्टियों को दी हिदायत - Jansatta     |       जेट के कर्मचारियों ने PM मोदी को लिखी चिट्ठी, कहा-नौकरी की कोई सुरक्षा नहीं - Hindustan     |       लोकसभा चुनाव/ दूसरा चरण: 95 सीटों पर मतदान, बंगाल में माकपा प्रत्याशी की कार पर हमला - Dainik Bhaskar     |       Lok Sabha Election 2019: कहीं दूल्हा-दुल्हन तो कहीं 105 साल की महिला पहुंची वोट देने, देखें Photos - NDTV India     |       BJP मुख्यालय में घुसकर पार्टी प्रवक्ता पर शख्स ने फेंका जूता, Video Shoe hurled at BJP GVL Narsimha Rao in press conference - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       पूनम सिन्हा ने लखनऊ सीट से पर्चा भरा Poonam Sinha files nomination from Lucknow - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       भारत ने पाकिस्तान के साथ LoC ट्रेड पर लगाया ब्रेक, हथियार भेजने को आतंकी कर रहे थे इस्तेमाल - नवभारत टाइम्स     |       साध्वी प्रज्ञा की बेल रद्द होनी चाहिए: उमर अब्दुल्ला Omar Abdullah on Sadhvi Pragya- BJP made mockery of system - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       कांग्रेस के 'चौकीदार चोर है' विज्ञापन पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक - NDTV India     |       कांग्रेस-AAP गठबंधन पर फिर मंथन, राहुल गांधी से मिले पीसी चाको - आज तक     |       हिंदी न्यूज़ - 14 killed in attack on passenger bus on Makran Coastal Highway in Balochistan, Pakistan - हिन्दी समाचार, टुडे लेटेस्ट न्यूज़ इन हिन्दी - News18 इंडिया     |       पाक की नैया पार लगा रहे वित्त मंत्री का इस्तीफा, अधर में IMF पैकेज - trending clicks AajTak - आज तक     |       TMC leaders provoke party workers against central forces; 'chase away forces with brooms', 'don't spare them' - Times Now     |       पुलिस को कुछ देर रुकने की कहकर कमरे में गए और पूर्व राष्ट्र्पति ने खुद को मार ली गोली! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वोटिंग के बीच रिकॉर्ड बढ़त के साथ खुला बाजार, सेंसेक्‍स 39,400 के पार - आज तक     |       Hyundai की सबकॉम्पैक्ट SUV Venue हुई पेश, यहां देखें PHOTOS - Tech - आज तक     |       बजाज की 'छोटी कार' Qute लॉन्च, तस्वीरों से जानें क्या है खास - नवभारत टाइम्स     |       चीन में ई-कॉर्मस सर्विस बंद करेगा एमेजन, अलीबाबा ग्रुप से नहीं ले पाया टक्कर - ABP News     |       बॉडी शेमिंग पर फरदीन खान ने तोड़ी चुप्पी, कहा- ये पढ़कर हंसी आती है - आज तक     |       तनुश्री-विंता नंदा के बाद कंगना की बहन ने किया अजय देवगन पर हमला - नवभारत टाइम्स     |       Lok Sabha Polls 2019: रजनीकांत और कमल हासन सहित कई सितारों ने डाला वोट - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       बॉक्स ऑफिस/ अक्षय कुमार की केसरी को पीछे छोड़ वरुण धवन की कलंक ने पहले दिन कमाए 21.60 करोड़ रुपए - Dainik Bhaskar     |       IPL-12: प्लेऑफ पर दिल्ली की नजरें, रबाडा और पंत पर होगा जिम्मा - आज तक     |       विश्व कप के लिए पाकिस्तान की भी टीम घोषित, तूफानी गेंदबाज आमिर को नहीं मिली जगह - अमर उजाला     |       क्रिकेट/ करुणारत्ने वर्ल्ड कप के लिए श्रीलंकाई टीम के कप्तान बनाए गए, वे 4 साल से वनडे नहीं खेले - Dainik Bhaskar     |       SRHvsCSK: जानिए हार के बाद क्या कुछ बोले कप्तान सुरेश रैना - Hindustan     |      

राज्य


पूर्वोत्तर के पहाड़ में रेल पटरी बिछाने में आ रहीं दिक्कतें, भौगोलिक चुनौतियों के अलावा अतिरिक्त लागत भी

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) पश्चिम बंगाल के सात जिलों के अलावा सिक्किम समेत पूर्वोतर के राज्यों में रेल पटरी बिछाने का काम आगे बढ़ाने के साथ-साथ ट्रेन सेवा सुचारू करने का काम कर रहा है


problems-arriving-in-the-railway-tracks-in-the-northeast-additional-costs-besides-geographical-challenges

देश के पूर्वोत्तर के पहाड़ी इलाकों में रेल की पटरियां बिछाने में रेलवे को अतिरिक्त लागत के साथ-साथ भौगोलिक परिस्थिति, मिट्टी और प्राकृतिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) पश्चिम बंगाल के सात जिलों के अलावा सिक्किम समेत पूर्वोतर के राज्यों में रेल पटरी बिछाने का काम आगे बढ़ाने के साथ-साथ ट्रेन सेवा सुचारू करने का काम कर रहा है। 

रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस-एनई सर्कल) शैलेश कुमार पाठक के अनुसार, पूर्वोत्तर के आठ पहाड़ी राज्यों के भौगोलिक परिदृश्य, मिट्टी की स्थिति और अन्य प्राकृतिक चुनौतियों के कारण रेलवे को अधिक धन खर्च करना पड़ रहा है और विभिन्न चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

त्रिपुरा में हाल ही में बिछाई गई पटरी का परीक्षण करने के बाद पाठक ने कहा, "पूर्वोत्तर क्षेत्र के मुकाबले प्रमुख राज्यों में रेल की पटरी बिछाने में खर्च कम होने के साथ-साथ चुनौतियां भी कम होती हैं।"

उन्होंने कहा, "एनएफआर में साल में महज चार से पांच महीने वांछित रफ्तार के साथ काम होता है क्योंकि मार्च से लेकर अक्टूबर के अंत तक इलाके में काफी बारिश होती है, जबकि मानसून का सीजन जून से सितंबर तक रहता है। भारत के अन्य राज्यों में कम से कम आठ महीने कार्य के अनुकूल मौसम रहता है।"

उन्होंने कहा, "पूर्वोत्तर के इलाके और हिमालय क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में अवसादन और भूस्खलन का खतरा बना रहता है। रेलवे के पास प्राकृतिक आपदा का सामना करने के लिए कोई अतिरिक्त एहतियात के उपाय नहीं हैं। काम के लिए समय कम मिलने से रेलवे इंजीनियरिंग व अन्य लोगों के लिए यहां काम करना कठिन हो जाता है।"

उन्होंने बताया कि पूर्वोत्तर के इलाके में एक किलोमीटर एकल पटरी बिछाने पर नौ से 12 करोड़ रुपये खर्च होते हैं जबकि मैदानी इलाकों में पांच से छह करोड़ रुपये। पूर्वोत्तर में एक किलोमीटर दोहरी पटरी बिछाने पर 20 से 25 करोड़ रुपये खर्च होते हैं, जबकि मैदानी इलाकों में 10 से 15 करोड़ रुपये।

पाठक ने कहा, "भूमि अधिग्रहण, वन विभाग की मंजूरी, सिंडिकेट संबंधी समस्या और कुशल श्रमिकों की तलाश पूर्वोत्तर इलाके में रेल पटरी बिछाने के अन्य बाधक तत्व हैं।" उन्होंने बताया कि एनएफआर को 2020 तक मेघालय की राजधानी शिलांग और सिक्किम की गंगटोक को छोड़ बाकी तीन राजधानी शहरों में रेल पटरी बिछाने में मशक्कत करनी पड़ रही है।

असम की राजधानी गुवाहाटी, त्रिपुरा की अगरतला और अरुणाचल प्रदेश की ईटानगर पहले ही रेल नेटवर्क से जुड़ चुकी है। 
उन्होंने कहा, "भूमि से संबंधित समस्याओं को लेकर मेघालय और सिक्किम में रेलवे नेटवर्क का विस्तार नहीं हो पाया है। मणिपुर, मिजोरम और नगालैंड में काम प्रगति पर है।"

advertisement