अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: देहरादून से दुनिया तक देखें लोगों का उत्साह     |       एक और एक ग्यारह: दंपति का धर्म के नाम पर अपमान     |       जिसने वीरप्पन का किया था खात्मा, अब उसे मिली जम्मू-कश्मीर में बड़ी जिम्मेदारी     |       जम्मू-कश्मीर : अलगाववादी नेताओं पर कार्रवाई शुरू, हिरासत में यासीन मलिक     |       कश्मीर में नौकरी करने गए यूपी के युवकों का बड़ा खुलासा, 'पत्थर फेंकने के लिए किया गया ब्लैकमेल'     |       योग संघर्ष के साथ जीवन जीने की कला सिखाता     |       जशोदाबेन ने कहा,पीएम नरेंद्र मोदी हैं मेरे राम     |       International Yoga Day: पूरी दुनिया योगमय, बाबा रामदेव ने बनाया वर्ल्ड रिकार्ड     |       दाती महाराज रेप केस: दुष्कर्म पीड़िता का एक और आरोप- आश्रम डायरेक्टर भेजती थी लड़कियां     |       चतरा : CCTV नहीं लगाया तो खैर नहीं, एक्शन में पुलिस, कई व्यापारियों को भेजा नोटिस     |       VIDEO: मौत को सामने देखकर भी औरंगजेब को नहीं था डर, आतंकियों की आंखों में आंखें डाल दिए थे जवाब     |       आकाश अंबानी और श्लोका की सगाई के फंक्शन में परफॉर्म करेंगे शाहरुख     |       मध्‍यप्रदेश के मुरैना में जीप और ट्रैक्‍टर ट्रॉली में जोरदार टक्‍कर, 15 लोगों की मौत     |       भाजपा, कांग्रेस ने कहा : केजरीवाल की ''नौटंकी'' का हुआ पर्दाफाश     |       मुख्य आर्थिक सलाहकार सुब्रमण्यन पद छोड़ेंगे     |       EXCLUSIVE: प्रोजेक्ट और आर्थिक तंगी से परेशान थे भय्यूजी महाराज, किसी ने नहीं की मदद     |       यात्रियों को फ्लाइट से भगाने के लिए एयर एशिया के पायलट ने तेज कर दिया AC, देखें VIDEO     |       कराची में हवाई जहाज में पहुंचा भिखारी, हैरान यात्रियों ने किया वीडियो वायरल     |       ATS के हाथ लगी बड़ी कामयाबी, टेरर फंडिंग के मास्टर माइंड को पुणे से किया गिरफ्तार     |       यूट्यूब ने ब्लॉक किया पीआईबी का चैनल, नहीं देख सकते कोई वीडियो     |      

व्यापार


आरबीआई। राजकोषीय चूक से मुद्रास्फीति बढ़ने का खतरा

आरबीआई ने अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी व विविध घरेलू कारकों के चलते रेपो रेट को छह फीसदी पर स्थिर रखा। आरबीआई की ओर से जारी बैठक के विवरण के मुताबिक, आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल का मामना था


rbi-threatens-to-increase-inflation

मुंबई: भारतीय रिजर्व बैंक (आईबीआई) ने महंगाई बढ़ने की आशंकाओं से प्रेरित होकर लगातार तीसरी बार प्रमुख ब्याज दर यानी रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया। बुधवार को आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के विवरण में कहा गया कि तेल कीमतों, मकान किराया भत्ते और बजट में राजकोषीय चूक के कारण महंगाई बढ़ने का खतरा बना हुआ है। इस महीने आरबीआई ने अपनी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में रेपो रेट को यथावत रखा। रेपो रेट केंद्रीय बैंक की प्रमुख नीतिगत दर होती है जिसपर वह वाणिज्यिक बैंकों को लघु अवधि का ऋण मुहैया करवाता है।

आरबीआई ने अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी व विविध घरेलू कारकों के चलते रेपो रेट को छह फीसदी पर स्थिर रखा। आरबीआई की ओर से जारी बैठक के विवरण के मुताबिक, आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल का मामना था कि आर्थिक सुधार भी आरंभिक चरण में है, इसलिए इस स्तर पर सावधानी के नजरिये की जरूरत है। इसलिए मैं रेपो रेट यथावत रखने के पक्ष में हूं।

केंद्रीय बैंक ने मौजूदा वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में महंगाई दर 5.1 फीसदी और आगामी वित्त वर्ष 2018-19

advertisement