राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद: सरकार रà - NDTV India     |       इन्सेफलाइटिस: बुखार की चपेट से बचाने के लिए अपने बच्चों को दूसरे गांव भेज रहे यहां के लोग - Navbharat Times     |       International Yoga Day 2019: योग के रंग में रंगी रांची, आज आएंगे पीएम मोदी Ranchi News - दैनिक जागरण     |       फ्यूल के लिए... इसका हेल्मेट उसके सर - नवभारत टाइम्स     |       चंडीगढ़ मेयर राजेश कालिया का आधा कार्यकाल तो सिर्फ विवादों में ही बीत गया, छह महीने बचे - अमर उजाला     |       चेन्नई में पानी की किल्लत से बदली स्कूलों की टाइमिंग - आज तक     |       CWC-2019: न्यूजीलैंड के इस बल्लेबाज ने तोड़ा रोहित शर्मा का बड़ा रिकॉर्ड - आज तक     |       वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार चार विकेटकीपर के साथ खेलेगी टीम इंडिया - अमर उजाला     |       ICC वर्ल्ड कप के बाद घर लौटते ही लगेगी पाकिस्तान टीम की 'क्लास' - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       ICC world cup 2019: चोटिल शिखर धवन वर्ल्ड कप से बाहर हुए, रिषभ की टीम में हुई एंट्री - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       महाराष्ट्र में 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाल दिए गए, ताकि गन्ने की कटाई का काम न रुके - दैनिक जागरण     |       UPSC NDA/NA 1 रिजल्ट 2019 घोषित, इस लिंक से देखें - नवभारत टाइम्स     |       भीषण गर्मी का कहर: ...और यहां पानी के लिए ग्रामीणों को बांटे जा रहे टोकन - Navbharat Times     |       योग और व्यायाम को एक समझने की न करें भूल, दोनों में हैं ये 5 बड़े अंतर - lifestyle - आज तक     |       पाकिस्तान ने जिस सांप को पिलाया दूध उसी ने पूर्व पीएम के बेटे पर उठाया फन मारा गया - Zee News Hindi     |       इस राष्ट्रपति ने चुपके से बेच दिया अपने मुल्क का 7 टन सोना - आज तक     |       टैगोर की पंक्तियों को खलील जिब्रान का बताने पर ट्रोल हुए पाकिस्तानी पीएम, लोग बोले- थोड़ा पढ़ लीजिए - अमर उजाला     |       इमरान की चिट्ठी पर PM नरेंद्र मोदी का जवाब, आतंक का छोड़ो साथ, तभी बनेगी बात - आज तक     |       Indian Stock Market: Sensex, Nifty, Stock Prices, भारतीय शेयर बाजार, सेंसेक्स, निफ्टी, शेयर मूल्य, शेयर रेकमेंडेशन्स, हॉट स्टॉक, शेयर बाजार में निवेश - मनी कंट्रोल     |       रेनो ने पेश की सात सीटर कार ट्राइबर, लैटेस्ट फीचर्स से होगी लैस - मनी भास्कर     |       KTM की नई स्पोर्ट्स बाइक भारत में लॉन्च, कीमत 1.47 लाख, जानें बड़ी बातें - आज तक     |       Renault Triber ने भारत में रखा कदम, इसके फीचर्स होश उड़ा देंगे - अमर उजाला     |       Bharat Box Office Collection: Salman Khan की Bharat का दोहरा शतक, 200 करोड़ क्लब में शामिल - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ऋतिक की फैमिली के लिए शर्मसार करने वाले हैं सुनैना रोशन के नए आरोप - आज तक     |       एक्ट्रेस से सांसद बनीं नुसरत जहां ने निखिल जैन से की शादी, Photo और Video हुए वायरल - NDTV India     |       सुष्मिता सेन की मां ने आरती उतारकर नई नवेली दुल्हन चारू असोपा का कराया गृह प्रवेश, देखिए वीडियो - अमर उजाला     |       World Cup से बाहर होने के बाद शिखर धवन का भावुक संदेश, यहां सुनें - Himachal Abhi Abhi     |       ICC World Cup 2019 AUSvBAN: पाकिस्तान से आगे निकला बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया को भी चुनौती देने को तैयार - Hindustan     |       [VIDEO] Ranveer Singh hugs a Pakistani fan after India's win at World Cup 2019, says, 'Don't be disheartened' - Times Now     |       विश्व कप 2019: जानें, सेमीफाइनल की जंग में कौन किस पायदान पर और कौन हुआ बाहर - Navbharat Times     |      

फीचर


क्रिसमस पर विशेष : जानें कौन है सांता और कहां से आता है

क्रिसमस (25 दिसम्बर) के दिन तो बच्चों को सांता क्लॉज का खासतौर से इंतजार रहता है क्योंकि इस दिन वह बच्चों के लिए ढेर सारे उपहार और तरह-तरह के खिलौने जो लेकर आता है


special-on-christmas-learn-who-comes-from-santa-and-where

क्रिसमस का नाम सुनते ही मन में सफेद और लंबी दाढ़ी वाले लाल रंग के वस्त्र तथा सिर पर फुनगी वाली टोपी पहने पीठ पर खिलौनों का झोला लादे बूढ़े बाबा 'सांता क्लॉज' की तस्वीर उभरने लगती है।

क्रिसमस (25 दिसम्बर) के दिन तो बच्चों को सांता क्लॉज का खासतौर से इंतजार रहता है क्योंकि इस दिन वह बच्चों के लिए ढेर सारे उपहार और तरह-तरह के खिलौने जो लेकर आता है।

ईसाई समुदाय के बच्चे तो सांता क्लॉज को एक देवदूत मानते रहे हैं क्योंकि उनका विश्वास है कि सांता क्लॉज उनके लिए उपहार लेकर सीधा स्वर्ग से धरती पर आता है और टॉफियां, चॉकलेट, फल, खिलौने व अन्य उपहार बांटकर वापस स्वर्ग में चला जाता है। बच्चे प्यार से सांता क्लॉज को 'क्रिसमस फादर' भी कहते हैं। 

सांता क्लॉज के प्रति न केवल ईसाई समुदाय के बच्चों का बल्कि दुनियाभर में अन्य समुदायों के बच्चों का आकर्षण भी पिछले कुछ समय में काफी बढ़ा है और इसका एक कारण यह है कि विभिन्न शहरों में 25 दिसंबर के दिन सांता क्लॉज बने व्यक्ति विभिन्न सार्वजनिक स्थलों अथवा चौराहों पर खड़े हर समुदाय के बच्चों को बड़े प्यार से उपहार बांटते देखे जा सकते हैं।

लेकिन सांता क्लॉज से उपहार पाकर अधिकांश बच्चों के दिमाग में यह सवाल जरूर उमड़ता है कि उन्हें उपहार देने और इतना प्यार करने वाला यह सांता क्लॉज आखिर है कौन और यह कहां से आता है तथा बच्चों को उपहार क्यों देकर जाता है?

बच्चों का दिल रखने के लिए कुछ माता-पिता उन्हें कह देते हैं कि वह एक देवदूत है, जो क्रिसमस की रात अपने 8 रेंडियर वाले स्लेज पर बैठकर स्वर्ग से आता है और बच्चों को उपहार बांटकर स्वर्ग वापस चला जाता है जबकि कुछ बच्चों के माता-पिता यह कहकर उनकी जिज्ञासा शांत कर देते हैं कि सांता क्लॉज बहुत दूर स्थित एक बफीर्ले देश से आते हैं। 

संत निकोलस का रूप : 

अब हम आपको बता रहे हैं कि सांता क्लॉज आखिर कौन है और यह हर साल 25 दिसम्बर को ही उपहार देने क्यों आता है? सांता क्लॉज चौथी शताब्दी में मायरा के निकट एक शहर (जो अब तुर्की के नाम से जाना जाता है) में जन्मे संत निकोलस का ही रूप है।

संत निकोलस के पिता एक बहुत बड़े व्यापारी थे, जिन्होंने निकोलस को अच्छे संस्कार देते हुए दूसरों के प्रति सदा दयाभाव रखने और जरूरतमंदों की सहायता करने को प्रेरित किया। निकोलस पर इन सब बातों का इतना असर हुआ कि वह हर समय जरूरतमंदों की सहायता करने को तत्पर रहते। बच्चों से तो उन्हें खास लगाव हो गया था। 

अपनी ढेर सारी दौलत में से बच्चों के लिए वह ढेर सारे खिलौने खरीदते और खिड़कियों से उनके घरों में फेंक देते। संत निकोलस की याद में कुछ जगहों पर हर वर्ष 6 दिसंबर को 'संत निकोलस दिवस' भी मनाया जाने लगा। इसके पीछे यही धारणा थी कि वह इसी दिन गरीब लड़कियों की शादी के लिए धन व तोहफे दिया करते थे लेकिन वह बच्चों को 25 दिसंबर को ही तोहफे बांटते थे। 

कुछ लोगों का यह भी मानना है कि संत निकोलस की लोकप्रियता से जलने वाले कुछ लोगों ने 6 दिसंबर के दिन ही उनकी हत्या करवा दी थी, इसीलिए 6 दिसंबर को 'संत निकोलस दिवस' मनाया जाने लगा था। लेकिन वर्तमान में बच्चे सांता क्लॉज का इंतजार 25 दिसंबर को ही करते हैं।

सांता क्लॉज के बारे में कई कथाएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि एक बार निकोलस को मायरा के एक ऐसे व्यक्ति के बारे में जानकारी मिली, जो बहुत धनवान था लेकिन कुछ समय पहले व्यापार में भारी घाटा हो जाने से वह कंगाल हो चुका था।

उस व्यक्ति की चार बेटियां थीं लेकिन उनके विवाह के लिए उसके पास कुछ न बचा था। जब उससे अपने परिवार की इतनी बुरी हालत देखी न गई और लड़कियां विवाहयोग्य हो गईं तो उसने फैसला किया कि वह इनमें से एक लड़की को बेच देगा और उससे मिले पैसे से अपने परिवार का पालन-पोषण करेगा तथा बाकी बेटियों का विवाह करेगा।

अगले दिन अपनी एक बेटी को बेचने का विचार करके वह रात को सो गया लेकिन उसी रात संत निकोलस उसके घर पहुंचे और चुपके से खिड़की में से सोने से सिक्कों से भरा एक बैग घर में डालकर चले गए।

सुबह जब उस व्यक्ति की आंख खुली और उसने सोने के सिक्कों से भरा बैग खिड़की के पास पड़ा देखा तो वह बहुत आश्चर्यचकित हुआ।

उसने आसपास चारों तरफ देखा लेकिन उसे कहीं कोई दिखाई नहीं दिया तो उसने ईश्वर का धन्यवाद करते हुए बैग अपने पास रख लिया और एक-एक कर धूमधाम से अपनी चारों बेटियों की शादी की। बाद में उसे पता चला कि यह बैग संत निकोलस ही उसकी बेटियों की शादी के लिए उसके घर छोड़ गए थे।

क्रिसमस के दिन कुछ देशों में ईसाई परिवारों के बच्चे रात के समय अपने-अपने घरों के बाहर अपनी जुराबें सुखाते भी देखे जा सकते हैं। इसके पीछे मान्यता यह है कि सांता क्लॉज रात के समय आकर उनकी जुराबों में उनके मनपसंद उपहार भर जाएंगे। इस बारे में भी एक कथा प्रचलित है।

कहा जाता है कि एक बार सांता क्लॉज ने देखा कि कुछ गरीब परिवारों के बच्चे आग पर सेंककर अपनी जुराबें सुखा रहे हैं। जब बच्चे सो गए तो सांता क्लॉज ने उनकी जुराबों में सोने की मोहरें भर दी और चुपचाप वहां से चले गए।

बिशप निकोलस :

हर व्यक्ति के प्रति निकोलस के हृदय में दयाभाव और जरूरतमंदों की सहायता करने की उनकी भावना को देखते हुए मायरा शहर के समस्त पादरियों, पड़ोसी शहरों के पादरियों और शहर के गणमान्य व्यक्तियों के कहने पर मायरा के बिशप की मृत्यु के उपरांत निकोलस को मायरा का नया बिशप नियुक्त किया गया था क्योंकि सभी का यही मानना था कि ईश्वर ने निकोलस को उन सभी का मार्गदर्शन करने के लिए ही भेजा है। 

बिशप के रूप में निकोलस की जिम्मेदारियां और बढ़ गईं। बिशप के रूप में अब उन्हें शहर के हर व्यक्ति की जरूरतों का ध्यान रखना होता था। जहां भी कोई व्यक्ति परेशानी में होता, निकोलस उसी क्षण वहां पहुंच जाते और उसकी जरूरतों को पूरा कर दूसरे जरूरतमंद की जरूरतें पूरी करने आगे निकल पड़ते।

वह इस बात का खासतौर पर ख्याल रखते कि शहर में हर व्यक्ति को भरपेट भोजन मिले, रहने के लिए अच्छी जगह तथा सभी की बेटियों की शादी धूमधाम से सम्पन्न हो। 

यही कारण था कि निकोलस एक संत के रूप में बहुत प्रसिद्ध हो गए और न केवल आम आदमी बल्कि चोर-लुटेरे और डाकू भी उन्हें चाहने लगे। उनकी प्रसिद्धि चहुंओर फैलने लगी और जब उनकी प्रसिद्धि उत्तरी यूरोप में भी फैली तो लोगों ने आदरपूर्वक निकोलस को 'क्लॉज' कहना शुरू कर दिया।

चूंकि कैथोलिक चर्च ने उन्हें 'संत' का ओहदा दिया था, इसलिए उन्हें 'सेंट क्लॉज' कहा जाने लगा। यही नाम बाद में 'सेंटा क्लॉज' बन गया, जो वर्तमान में 'सांता क्लॉज' के नाम से प्रसिद्ध है।

समुद्र में खतरों से खेलने वाले नाविकों और बच्चों से तो निकोलस को विशेष लगाव था। यही वजह है कि संत निकोलस (सांता क्लॉज) को 'बच्चों और नाविकों का संत' भी कहा जाता है। निकोलस के देहांत के बाद उनकी याद में एशिया का सबसे प्राचीन चर्च बनवाया गया, जो आज भी 'सेंट निकोलस चर्च' के नाम से विख्यात है, जो ईसाई तथा मुसलमानों दोनों का सामूहिक धार्मिक स्थल है। 

advertisement