मनोहर पर्रिकर की तस्वीर बगल में रख गोवा के नए सीएम डॉ. प्रमोद सावंत ने संभाला कामकाज - नवभारत टाइम्स     |       Holika Dahan 2019: यह है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त, पढ़ें सप्ताह के व्रत और त्योहार - Hindustan हिंदी     |       बिहार में कांग्रेस 9 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, राहुल-तेजस्वी की मुलाकात में लगेगी मुहर : सूत्र - NDTV India     |       अब EU में जर्मनी ने पेश किया मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव - आज तक     |       गोवा/ मुख्यमंत्री सावंत आज बहुमत साबित करेंगे, भाजपा का 21 विधायकों के समर्थन का दावा - Dainik Bhaskar     |       लोकसभा चुनाव/ भाजपा की पहली सूची आज आने की उम्मीद, 12 राज्यों के उम्मीदवार तय हो सकते हैं - Dainik Bhaskar     |       अनूठी होली : जूते की माला और जूते से दनादन वार, सच में अलबेली है ये होली - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       EC:चुनाव आयोग ने कहा-'सशस्त्र बलों की कार्रवाईयों पर प्रचार-प्रसार न करें पार्टियां' - Times Now Hindi     |       चीन का नापाक याराना, कहा- पुलवामा को लेकर PAK पर निशाना ना साधे कोई मुल्क - Hindustan     |       पाकिस्तान की चाल का पर्दाफाश, LoC पर हथियारों से लैस ड्रोन कर रहा तैनात - आज तक     |       यूके/ नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर हर वक्त सीबीआई की नजर, कानूनी प्रक्रिया में लग रहा समय - Dainik Bhaskar     |       चीन के खिलाफ देश भर में व्यापारियों का विरोध प्रदर्शन - चीनी सामान की जलाई होली - NDTV India     |       लगातार सातवें दिन तेजी, निफ्टी 11500 के पार बंद - मनी कॉंट्रोल     |       Hyundai Motor, Kia Motors to invest $300 million in Ola - Times Now     |       HOLI है : यू-ट्यूब का मूड हुआ होलियाना, ये गाने कर रहे हैं ट्रेंड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       देश की दो बड़ी कंपनियों में जंग : L&T पर माइंडट्री के जबरन अधिग्रहण का आरोप - आज तक     |       बर्थडे: अल्का याग्निक से जुड़ी 5 बातें, उनके इस गीत के लिए किया था 42 पार्टियों ने विरोध - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वीडियो: कुछ यूं चढ़ा 'केसरी' रंग, अक्षय कुमार ने खेली जवानों संग होली - आज तक     |       हाथों में हाथ थामे अवॉर्ड शो से न‍िकले रणबीर कपूर-आल‍िया भट्ट - आज तक     |       तो इस वजह से अनुराग के सामने प्रेरणा खोलेगी अपनी प्रेग्नेंसी का राज! - आज तक     |       प्रयोग/ ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के बीच एशेज सीरीज में खिलाड़ियों की टेस्ट जर्सी पर भी नाम, नंबर होगा - Dainik Bhaskar     |       IPL-2019: मुंबई इंडियंस की ओपनिंग पर 'हिटमैन' रोहित शर्मा का बड़ा फैसला - आज तक     |       Injured Barcelona forward Luis Suarez to miss China Cup for Uruguay - Times Now     |       ICC world cup: गांगुली व पोंटिंग ने बताया विश्व कप में भारत के लिए नंबर चार के लिए सबसे फिट हैं ये बल्लेबाज - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

फीचर


मानवाधिकार दिवस पर विशेष : इंसानों के हक के लिए उन्हें मिलती हैं धमकियां

इंसानों के हक की खातिर अपने जीवन को समिधा की तरह यज्ञाग्नि में झोंक रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं की जिंदगी उतनी आसान नहीं होती, जितनी बाहर से दिखती है। उसमें भी जुनूनी महिलाओं के लिए जोखिम तो दोगुना हो जाता है, क्योंकि जान से मारने के साथ-साथ दुष्कर्म की धमकियां भी उन्हें बार-बार मिलती हैं


special-on-human-rights-day-the-threats-to-them-for-the-rights-of-human-beings

इंसानों के हक की खातिर अपने जीवन को समिधा की तरह यज्ञाग्नि में झोंक रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं की जिंदगी उतनी आसान नहीं होती, जितनी बाहर से दिखती है। उसमें भी जुनूनी महिलाओं के लिए जोखिम तो दोगुना हो जाता है, क्योंकि जान से मारने के साथ-साथ दुष्कर्म की धमकियां भी उन्हें बार-बार मिलती हैं

फिर भी उनकी दिलेरी तो देखिए, इन खतरों के बीच कोई बाल विवाह रोकने में लगा है, तो कोई सिर पर मैला ढोने वालों को अमानवीय दलदल से बाहर निकालने के लिए वर्षो से जद्दोजहद कर रहा है।

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस पर जरूरत है, ऐसे ही कुछ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की आपबीती जानने की, जो परिवार को पीछे छोड़ समाज में बदलाव का झंडा बुलंद किए हुए हैं। इन्हीं में से एक हैं, राजस्थान से ताल्लुक रखने वाली मानवाधिकार कार्यकर्ता कीर्ति भारती।

कीर्ति ने बीते कुछ वर्षो में कई बच्चियों को बाल विवाह का शिकार होने से बचाया है। इसी उद्देश्य के साथ कीर्ति ने 2011 में 'सारथी ट्रस्ट' की शुरुआत की। यह एनजीओ बच्चियों के बाल विवाह को रोकने के काम में लगा हुआ है।

कीर्ति के लिए यह राह कभी आसान नहीं रही, उन्हें कई बार जान से मारने की धमकियां तक मिल चुकी हैं। कीर्ति कहती हैं, "मेरी यह लड़ाई उतनी आसान नहीं रही, जितनी बाहर से देखने में लगती है। छोटी-छोटी बच्चियों को बाल विवाह से बचाने के लिए एक सिस्टम की जरूरत थी, यही कारण रहा कि 'सारथी ट्रस्ट' अस्तित्व में आया।

हम अब तक 39 बच्चियों का विवाह निरस्त करा चुके हैं और 1,200 बच्चियों को बाल विवाह का शिकार होने से बचाया है।" वह कहती हैं, "महिला हूं तो रेप की धमकियां भी मिलती हैं। जान से मारने की धमकियां तो बहुत समय से मिल ही रही हैं।"

ऐसे ही एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं, अशोक रो कवी। अशोक समलैंगिक अधिकारों के लिए लंबे समय से मुहिम चला रहे हैं। पेशे से पत्रकार रह चुके अशोक ने 1990 में 'बॉम्बे दोस्त' नाम से देश की पहली समलैंगिकों की पत्रिका की शुरुआत भी की थी।

एलजीबीटी अधिकारों के लिए देशभर में काम कर रहा 'हमसफर ट्रस्ट' की स्थापना इन्होंने ही की। आज देश में समलैंगिकों को कानूनी रूप से जो मान्यता प्राप्त है, उसमें 'हमसफर ट्रस्ट' की अहम भूमिका है। 

ऐसे ही एक शख्स हैं, बेजवाड़ा विल्सन जो सिर पर मैला ढोने वालों को इस दलदल से बाहर निकालने के लिए कई वर्षो से संघर्ष कर रहे हैं। मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता बेजवाड़ा अब तक तीन लाख मैला ढोने वालों को नारकीय जीवन से मुक्ति दिला चुके हैं। कोलार के दलित परिवार से ताल्लुक रखने वाले बेजवाड़ा सफाई कर्मचारी आंदोलन का नेतृत्व कर चुके हैं। 

देश में देह व्यापार से कई मासूमों को बाहर निकालने वाली सुनीता कृष्णन ऐसी हजारों लड़कियों को मुख्यधारा में वापस लेकर आई हैं, जिन्हें देह व्यापार में धकेला गया था। इस तरह की लड़कियों को बचाकर वापस मुख्यधारा में लाने के लिए सुनीता ने 'प्रज्वला' नाम के एक एनजीओ की स्थापना की, जो महिलाओं को वेश्यावृत्ति से बचाने में लगा हुआ है।

वह अभी तक 10,000 से ज्यादा महिलाओं को देह-व्यापार के दोजख से निकाल चुकी हैं। इस काम के लिए उन पर 17 बार हमला हो चुका है। पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित सुनीता कहती हैं, "देह-व्यापार से जुड़े लोग चाहते हैं कि मैं उनकी राह से हट जाऊं, ताकि वे इस अमानवीय धंधे में लगे रहें।"

फ्लाविया एग्नेस का नाम शायद ज्यादा लोगों ने नहीं सुना होगा, लेकिन फ्लाविया लंबे समय से महिलाओं को शादी, तलाक और संपत्ति के मामलों में कानूनी मदद मुहैया करा रही हैं। वह अब तक 50,0000 महिलाओं को कानूनी मदद मुहैया करा चुकी हैं। इस काम के लिए उन्होंने 'मलिस' नाम के एक एनजीओ की स्थापना भी की है। 

advertisement