अमृतसर में सत्‍संग पर ग्रेनेड से हमला, धमाके में तीन की मौत व 20 से अधिक घायल     |       उत्तरप्रदेश / आतंकी कसाब का जाति और निवास प्रमाण पत्र जारी, लेखपाल निलंबित     |       राम मंदिर निर्माण पर BJP विधायक सुरेन्द्र सिंह बोले, संविधान से ऊपर हैं भगवान     |       राजस्थान / कांग्रेस ने 18 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की, गठबंधन दलों को दी पांच सीटें     |       जम्मू-कश्मीर के सोपियां में सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया, हथियार और गोला-बारूद बरामद     |       लालू की सेहत खराब, लौटेंगे तेज     |       CG Election 2018 Live Update: महासमुंद में यह बोले PM मोदी- पढ़े पल-पल की खबर     |       नायडू के बाद अब ममता बनर्जी ने राज्य में CBI की खुली एंट्री रोकी, कहा- राजनीतिक हथियार बन चुकी है ये एजेंसी     |       खट्टर के रेप वाले बयान पर केजरीवाल ने साधा निशाना, उठाए सवाल     |       धांधली / टीईटी परीक्षा में सॉल्वर गिरोह के छह सदस्य पकड़े, एसटीएफ कर रही पूछताछ     |       नहीं रहे 1971 में पाकिस्तानी सैनिकाें काे खदेड़ने वाले ब्रिगेडियर चांदपुरी, जानें कैसी थी उनकी जिंदगी     |       VIDEO: पहली बार ससुराल पहुंचीं दीपिका ने जोड़े हाथ और सभी से किया ये एक सवाल     |       US में नाबालिग ने की बुजुर्ग भारतीय की हत्या, आरोपी गिरफ्तार     |       मालदीव के सेना प्रमुख ने कहा, भारत के ख़िलाफ़ नहीं उनका देश BBC EXCLUSIVE     |       न कटेगा न फटेगा 100 रुपए का ये नया नोट, RBI बैठक में होने जा रहा है बड़ा ऐलान     |       राजस्थान / कामिनी जिंदल की संपत्ति 5 साल में 93 करोड़ बढ़ी, 287 करोड़ 46 लाख की मालकिन     |       अंतरिक्ष से भी दिखते हैं सरदार पटेल, ऊपर से ली गई 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' की Photo वायरल     |       मध्य प्रदेश चुनाव 2018: पति के साथ चुनाव प्रचार करने उतरी दिग्विजय सिंह की बहू     |       केजरीवाल पर आरोप लगाने वाले मुख्य सचिव का तबादला, मोदी सरकार के साथ करेंगे काम     |       दादा की सियासत से पोते की टक्कर, अजय बोले- INLD भाई को गिफ्ट, मेरा झंडा-डंडा अलग     |      

राजनीति


ख़बरिया की खबर पर मोहर | 19 साल बाद कांग्रेस में लौटे तारिक अनवर, राहुल ने किया स्वागत

अनवर ने 28 सितंबर को पार्टी प्रमुख शरद पवार द्वारा राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दिए जाने के विरोध में एनसीपी छोड़ दी थी और लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया था


stamp-on-khabaria-dot-com-story-as-tariq-anwar-returns-to-congress-after-19-years

कुछ दिन पहले खबरिया डॉट कॉम ने आपको एक जानकारी थी कि इन दिनों कांग्रेस के दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद बेतरह परेशान हैं, उनकी परेशानी की असली वजह तारिक अनवर हैं जो कांग्रेस की देहरी पर खड़े हैं और उनके लिए कभी भी राहुल गांधी के दिल का दरवाजा खुल सकता है।

जी हाँ, तो यह दरवाजा पूरी तरह खुल चूका है और तारिक अनवर कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को अलविदा कहने के बाद तारिक अनवर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस में दोबारा शामिल हो गए। उन्होंने लगभग दो दशक पहले कांग्रेस का दामन छोड़ दिया था।

 

राहुल ने अनवर का कांग्रेस परिवार में स्वागत किया। पार्टी ने दोनों नेताओं के हाथ मिलाते हुए तस्वीर ट्वीट की।

अनवर ने 28 सितंबर को पार्टी प्रमुख शरद पवार द्वारा राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दिए जाने के विरोध में एनसीपी छोड़ दी थी और लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया था।

अनवर ने 1999 में विदेशी मूल की सोनिया गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर नियुक्त करने के विरोध में पार्टी छोड़ दी थी।

वैसे अगर सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी तारिक अनवर को पार्टी महासचिव बनाने के साथ-साथ यूपी का इंचार्ज भी बनाना चाहते हैं। वैसे भी राहुल की राजनीति पर अपनी बारीक नज़र रखने वाले लोग जानते हैं कि कांग्रेस का जो भी नेता ऐसा भ्रम पाल लेता है कि उनकी वजह से राहुल की राजनीति में परिपक्वता आई है या कहीं न कहीं वह राहुल का राजनैतिक गुरू बनने का दिखावा करता है वह कुछ समय बाद राहुल के मार्गदर्शक मंडल का सदस्य हो जाता है।

दिग्विजय सिंह के बारे में थाह पा लीजिए कि आज वे कहां हैं, जनार्दन द्विवेदी को भी समय काल से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है, अब बारी गुलाम नबी की है।

इस बार भी गुलाम नबी यूपी का प्रभार पाने की मशक्कत कर रहे थे, पर राहुल भी अपने पुराने अनुभवों की तासीर से अपनी नई सियासत का रास्ता बनाने में लगे हैं।

पिछली बार गुलाम नबी आजाद के पास जब यूपी का प्रभार था तो उन्होंने सपा से कांग्रेस का समझौता करा दिया था, वह भी सपा की शर्त्तों पर। इस समझौते में सपा ने कांग्रेस को वैसी सीटें टेक दीं जहां कभी कांग्रेस जीती ही न थी।

गोरखपुर उपचुनाव में भी गुलाम नबी ने एक ऐसे उम्मीदवार को कांग्रेस का टिकट पकड़ा दिया जो मात्र 15 हजार वोट ही ला पाया और इस बात को लेकर कांग्रेस की खासी किरकिरी हो गई।

 

advertisement

  • संबंधित खबरें