दिल दहला देगा सूरत में आग से घिरे कोचिंग सेंटर का ये वीडियो Gujarat: Students feared killed in coaching centre fire - आज तक     |       इस सरकार का सूर्यास्त हो गया, लेकिन इसकी लालिमा से लोगों की जिंदगी रोशन रहेगी: मोदी - Hindustan     |       मोदी 30 को ले सकते हैं शपथ, अमेरिका समेत पी-5 देशों को बुलाने की तैयारी - अमर उजाला     |       रामपुर: 'घर के भेदियों' की आलाकमान से शिकायत करेंगी जया प्रदा - Navbharat Times     |       Results 2019: क्या PM मोदी के दूसरे कार्यकाल में वित्त मंत्री के पद पर नहीं रहेंगे अरुण जेटली? आई यह बड़ी खबर - NDTV India     |       Now that Rahul Gandhi has lost Amethi to Smriti Irani, will Navjot Singh Sidhu quit politics? ask Twitterati - Times Now     |       राहुल गांधी के इस्तीफे से जुड़ी बहुत बड़ी खबर - ABP News     |       जो पेड़ लगाया था अब वह फल देने लगा: मुरली मनोहर जोशी Was confident of a BJP win, says Murli Manohar Joshi - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       देखें, इन वजहों से स्मृति से हारे राहुल गांधी - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       सरकार के गठन से पहले कश्मीर में 370 पर बहस फिर शुरू | NATIONAL NEWS - bhopal Samachar     |       ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे इस्तीफे की घोषणा करते वक्त हुईं भावुक , जानें क्या कहा - Hindustan     |       मोदी सुनामी से पाकिस्तानी मीडिया में हलचल, साध्वी प्रज्ञा का भी जिक्र - आज तक     |       नरेंद्र मोदी की जीत मुस्लिम दुनिया की मीडिया में 'चिंता या उम्मीद' - अमर उजाला     |       इवांका ट्रंप ने मोदी को दी जीत की बधाई, कहा- भारत के लोगों के लिए रोमांचक समय– News18 हिंदी - News18 हिंदी     |       सेंसेक्स 40124 के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंचने के बाद फिसला, 299 अंक नीचे 38811 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       Toyota Glanza: लॉन्च से पहले यहां जानें- इंजन, वेरिएंट, फीचर्स, माइलेज, कीमत - आज तक     |       ह्यूंदै वेन्यू: जानें, SUV का कौन सा वेरियंट आपके लिए बेस्ट - नवभारत टाइम्स     |       यहां देखें Kia की अपकमिंग कॉम्पैक्ट SUV का इंटीरियर, ये होंगे फीचर्स - आज तक     |       अपनी बेटी का इस्तेमाल कर रहे हैं अनुराग कश्यप: पायल रोहतगी - नवभारत टाइम्स     |       फिल्म रिव्यू: 'पीएम नरेंद्र मोदी' बायोपिक नहीं बल्कि एक गुणगान है - NDTV India     |       इंडियाज मोस्ट वांटेड फिल्म रिव्यू: दमदार है अर्जुन कपूर की एक्टिंग - Hindustan     |       Bharat Dialogue Promo: कैटरीना कैफ ने सलमान खान को शादी के लिए किया प्रपोज, एक्टर ने दिया ये रिएक्शन - India TV हिंदी     |       कोहली बोले- वनडे में 500 रनों के स्कोर तक पहुंच सकता है इंग्लैंड - आज तक     |       2019 वर्ल्ड कप में उतरेगी भारत की सबसे बूढ़ी टीम, विरोधियों को करेगी चित - Sports - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाड़ियों का ध्यान नहीं भटके इसके लिये पीसीबी की है ये नई योजना - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       भारत को बड़ा झटका, वर्ल्ड कप से ठीक पहले विजय शंकर चोटिल - Navbharat Times     |      

जीवनशैली


फेफड़े के कैंसर के इलाज में टागेर्टेड और इम्यूनो थेरेपी बेहद कारगर

फेफड़े के कैंसर के इलाज में टागेर्टेड थेरेपी बेहद कारगर साबित हो सकती है। विशेषज्ञों का मानना है कि टागेर्टेड और इम्यूनोथेरेपी से स्टेज 4 फेफड़े के कैंसर वाले रोगी भी अच्छी गुणवत्ता वाला जीवन जी सकते हैं


tagged-and-immunotherapy-very-effective-in-treating-lung-cancer

फेफड़े के कैंसर के इलाज में टागेर्टेड थेरेपी बेहद कारगर साबित हो सकती है। विशेषज्ञों का मानना है कि टागेर्टेड और इम्यूनोथेरेपी से स्टेज 4 फेफड़े के कैंसर वाले रोगी भी अच्छी गुणवत्ता वाला जीवन जी सकते हैं।

नई दिल्ली स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर (आरजीसीआईआरसी) के सीनियर विशेषज्ञ डॉ. उल्लास बत्रा ने बताया कि फेफड़े के कैंसर का पता प्राय: बाद के स्टेज में ही हो पाता है। इसीलिए मात्र 15 प्रतिशत मामलों में ही इसका इलाज संभव हो पाता है। हालांकि टागेर्टेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी जैसी रणनीतियों और नए शोध से उम्मीद की किरण दिखी है।

डॉ. बत्रा ने कहा कि फेफड़ों के कैंसर के लिए सबसे अहम कारण किसी भी रूप में धूम्रपान करना है, चाहे वह सिगरेट, बीड़ी या सिगार हो। धूम्रपान करने से फेफड़ों का कैंसर होने की आशंका 15 से 30 गुना बढ़ जाती है और धूम्रपान न करने वाले लोगों की तुलना में इन व्यक्तियों के फेफड़ों के कैंसर से मरने की आशंका भी अधिक होती है।

निष्क्रिय धूम्रपान यानी धूम्रपान करने वाले के आसपास रहना भी बहुत हानिकारक है। अध्ययनों से पता चला है कि निष्क्रिय तंबाकू के संपर्क में आने वाले लोगों में फेफड़ों के कैंसर का जोखिम 20 प्रतिशत बढ़ जाता है। फेफड़े के कैंसर के अन्य जोखिम कारक रेडॉन, एस्बेस्टस, कोयले का धुआं और अन्य रसायनों के संपर्क में रहना है।

आंकड़ों के आधार पर डॉ. बत्रा ने बताया कि फेफड़े का कैंसर होने की औसत आयु 54.6 वर्ष है और फेफड़ों के कैंसर के अधिकांश रोगियों की आयु 65 वर्ष से अधिक है। इसमें यह भी ध्यान देने की बात है कि फेफड़े के कैंसर के मामले में पुरुष-महिला अनुपात 4.5 :1 है। उम्र और धूम्रपान के असर से पुरुषों में खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है। 

ग्लोबोकैन की रिपोर्ट के अनुसार, 2018 में फेफड़ों के कैंसर के भारत में 67,795 नए केस दर्ज हुए। इसी दौरान फेफड़े के कैंसर से मरने वालों की संख्या 63,475 रही। फेफड़े के कैंसर के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। आईसीएमआर के अनुसार, अगले चार वर्षों में फेफड़े के कैंसर के नए मामलों की संख्या 1.4 लाख तक पहुंच सकती है।

डॉ. बत्रा ने बताया कि फेफड़ों के कैंसर को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक तंबाकू (सक्रिय या निष्क्रिय) के के संपर्क से बचना होगा। धूम्रपान को छोड़ना बहुत मुश्किल नहीं है और यदि प्रयास किया जाए तो इसमें कभी देर नहीं लगती। यदि आप 50 वर्ष की आयु से पहले धूम्रपान करना बंद कर दें, तो आप अगले 10-15 वर्षों में फेफड़ों के कैंसर के खतरे को आधा कर सकते हैं।

बत्रा ने कहा, "वास्तव में फेफड़ों का कैंसर वैयक्तिकृत कैंसर के इलाज के लिए पोस्टर चाइल्ड है। टागेर्टेड और इम्यूनोथेरेपी के आगमन से स्टेज 4 फेफड़े के कैंसर वाले रोगी अच्छी गुणवत्ता के साथ जीवनयापन कर रहे हैं।"
 

advertisement