अमेठी की आयरन लेडी: 5 साल में स्मृति ईरानी से ऐसे ढहाया राहुल का किला - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       घोसी: रेप के आरोपी बीएसपी सांसद अतुल राय को सुप्रीम कोर्ट से झटका - Navbharat Times     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       नेपाल में तीन धमाके, चार लोगों की मौत - BBC हिंदी     |       पश्चिम बंगाल का पूरा वोट गणितः चुनाव नतीजों से ममता यूं ही नहीं हैं लाल - Navbharat Times     |       दक्षिण कोरिया में हुआ प्रेम, यूपी के महराजगंज की बहू बनी जर्मनी की बेटी - दैनिक जागरण     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       लोकसभा चुनाव जीतने के बाद वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, स्‍वागत में उमड़ी जनता - Navbharat Times     |       राहुल के बयान के बाद अब मंत्रियों का भी गहलोत पर निशानाः पांच बड़ी ख़बरें - BBC हिंदी     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       Video : पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं का किया अभिनंदन तो पाक मीडिया ने समझा 'विंग कमांडर' - News18 हिंदी     |       Pak विदेश मंत्री कुरैशी बोले- भारत की नई सरकार से पाकिस्तान बातचीत को तैयार - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अलर्ट/ श्रीलंका से बोट में सवार 15 आईएस आतंकी भारत की ओर बढ़ रहे, कोस्टगार्ड ने शिप तैनात किए - Dainik Bhaskar     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       सलमान खान की वजह से कटरीना को नहीं मिलेगा नेशनल अवॉर्ड? एक्ट्रेस ने बताई वजह - आज तक     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       कंफर्म: इस डेट को रिलीज होगी रितिक रोशन की फिल्म 'सुपर 30' - नवभारत टाइम्स     |       दर्शकों को पसंद आ रही है 'अलादीन', कमा लिए इतने करोड़ - Hindustan     |       कीवी खिलाड़ी ने कहा, खिताब के प्रबल दावेदार भारत के खिलाफ जीत से बढ़ेगा मनोबल - अमर उजाला     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में भारत के खिलाफ मैच के बाद पाकिस्तान टीम को मिलेगा ये बड़ा तोहफा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Virat Kohli Interview: वर्ल्ड कप से पहले बोले टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली, बीवी अनुष्का शर्मा की वजह से अधिक जिम्मेदार कप्तान हूं - inKhabar     |      

फीचर


कला से कैदियों को मिली नई जिंदगी, नाटक और चित्रकारी में दिखा रहे हुनर

अपने जीवन में गलतियां करने वालों को सुधरने का दूसरा मौका देने के मकसद से तिहाड़ जेल और पश्चिम बंगाल के बरहामपुर केंद्रीय सुधार गृह में कैदियों में सुधार लाने और उनको नई जिंदगी जीने को प्रेरित करने के लिए चित्रकारी और रंगकर्म के अभिनय के लिए प्रोत्साहन दिया जा रहा है


the-art-of-showing-the-new-life-drama-and-painting-received-by-prisoners-from-art

भारत की जेलों की अक्सर जो छवि उभरकर आती है, उसमें गंदे और तंग कोठरियों में अमानवीय जीवन जी रहे कैदी होते हैं जिनको वहां से मुक्त होने का इंतजार रहता है।

इसलिए कैदियों की एक मंडली का मंच पर उतरना और रवींद्रनाथ टैगोर के नाटक का मंचन करने के लिए उनकी तारीफ होना या कैदियों की चित्रकारी की कला के कद्रदानों द्वारा सराहना करना और प्रदर्शनी में हजारों रुपये में उनकी चित्रकारी का बिकना बेशक हैरान करने वाली बात है। 

अपने जीवन में गलतियां करने वालों को सुधरने का दूसरा मौका देने के मकसद से तिहाड़ जेल और पश्चिम बंगाल के बरहामपुर केंद्रीय सुधार गृह में कैदियों में सुधार लाने और उनको नई जिंदगी जीने को प्रेरित करने के लिए चित्रकारी और रंगकर्म के अभिनय के लिए प्रोत्साहन दिया जा रहा है। 

कला और रंगकर्म को बदलाव का जरिया बनाते हुए दोनों जेलों के कैदियों को बंदीगृहों में सृजन की आजादी मिली हुई है। कैदी भी इसे महज समय बिताने का साधन नहीं बल्कि सुधारात्मक उपाय मानकर और कारावास की अवधि समाप्त होने पर इसे संभावित व्यवसाय के रूप अपनाना चाहते हैं।

कॉलेज ऑफ आर्ट के कला प्रशिक्षक सूरज प्रकाश तिहाड़ की जेल नंबर-4 में कैदियों को जून 2017 से हर सप्ताह कला का प्रशिक्षण दे रहे हैं। दरअसल जेल प्रशासन ने कुछ कैदियों को शौकिया तौर पर चित्रकारी व पेटिंग करते देखा था।

प्रकाश ने बताया कि कैदियों को प्रोत्साहित करने के लिए अधीक्षक राजेश चौहान ने उनके प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षकों से संपर्क किया। महज मुट्ठीभर लोगों से शुरू कर यह समूह अब काफी बड़ा बन गया है और इसमें करीब 200 लोग जुड़ गए हैं और दो साल से कम समय में 20 लोगों ने कला में निपुणता हासिल कर ली है। 

आर्ट गैलरी से सुसज्जित तिहाड़ स्कूल ऑफ आर्ट ने अपनी स्थापना से लेकर अब तक 60 कलाकृतियां बेची हैं जिनसे पांच से छह लाख रुपये प्राप्त हुए हैं।

प्रकाश के अनुसार, प्रत्येक कलाकृति की बिक्री से प्राप्त आधी रकम संबंधित कैदी के खाते में जमा करवा दी जाती है और बाकी कला संबंधी कार्यकलापों पर खर्च की जाती है। भारत कला महोत्सव में कैदियों की कलाकृतियों के प्रदर्शन के लिए एक बूथ है। 

रंगकर्म निर्देशक प्रदीप भट्टाचार्य जब 2006 में बहरामपुर कारावास में प्रदर्शन के लिए गए, उसी समय थिएटर थेरेपी के रूप में दूसरी पहल की शुरुआत हुई। उन्होंने देखा कि लिंग के आधार पर विभाजित जेल की कोठरियों में रहने वाले कैदियों में कम लोग साक्षर थे। कारावास के महानिरीक्षक बीडी शर्मा के प्रस्ताव पर भट्टाचार्य ने कैदियों के साथ काम करना आरंभ किया जिनमें से अधिकांश को आजीवान कारावास की सजा मिली थी।

निर्देशक और अभिनेताओं के साथ-साथ भोजन करने से उनके बीच जुड़ाव को मजबूती मिली और उनका हावभाव पूरी तरह बदल गया। 

भट्टाचार्य ने कहा, "रंगकर्म मेरा हथियार है। इससे इन लोंगों की जिंदगियां बदल गई हैं। उन्होंने अपराध किया है, लेकिन उनमें सुधार लाने में काफी सफलता मिली है।" बहरामपुर रेपरेट्री थिएटर ने यहां नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के रंगमहोत्सव के दौरान गुरुवार को रवींद्रनाथ टैगोर लिखित नाटक रक्तकरबी का मंचन किया। 

पूरे भारत में टैगोर की तीन रचनाओं का 50 से अधिक बार मंचन करने के बाद अब मंडली के कलाकार जेल से मुक्त होने पर भी रंगकर्म से जुड़े रहना चाहते हैं। कैदी कलाकार अभिनेता सपन मेहना ने कहा, "रंगकर्म से मानसिक शांति मिलती है। जब मैं अभिनय करता हूं तो मुझे सारे तनावों से छुटकारा मिलता है।"

नाटक के एक मुख्य किरदार बुद्धदेव मेटा ने कहा, "जब मुझे आजीवन कारावास की सजा मिली तो मेरे चारों तरफ घना अंधेरा था और मैं सोचता था कि मेरी जिंदगी समाप्त हो गई है, लेकिन जब निर्देशक ने मुझे रंगकर्म के लिए प्रोत्साहित किया तो मुझे साथ जीवन जीने का एक नया मंच मिल गया। मैं अब इसे खोना नहीं चाहता हूं।"

उन्होंने गर्व से कहा कि जेल से मुक्त होने के बाद भी वह रंगकर्म से जुड़े रहना चाहते हैं।
 

advertisement