अमेठी की आयरन लेडी: 5 साल में स्मृति ईरानी से ऐसे ढहाया राहुल का किला - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       घोसी: रेप के आरोपी बीएसपी सांसद अतुल राय को सुप्रीम कोर्ट से झटका - Navbharat Times     |       MBOSE 10th, 12th (Arts) Results 2019: जारी हुआ मेघालय 10वीं और 12वीं आर्ट्स का रिजल्ट - Hindustan हिंदी     |       नेपाल में तीन धमाके, चार लोगों की मौत - BBC हिंदी     |       पश्चिम बंगाल का पूरा वोट गणितः चुनाव नतीजों से ममता यूं ही नहीं हैं लाल - Navbharat Times     |       दक्षिण कोरिया में हुआ प्रेम, यूपी के महराजगंज की बहू बनी जर्मनी की बेटी - दैनिक जागरण     |       आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा के लिए PM से सिर्फ अनुरोध कर सका, मांग नहीं: रेड्डी - Hindustan     |       "Sabka Saath, Sabka Vikas And Now Sabka Vishwas": PM Modi Speech At NDA Meet - NDTV     |       CWC की बैठक में राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश खारिज Congress refuses to accept Rahul Gandhi's resignation - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Modi in Varanasi Live: शाह बोले- काशी के लोगों ने कायम रखा मोदी का भरोसा, योगी ने कहा मोदी है तो मुमकिन है - दैनिक जागरण     |       इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, कहा- पाकिस्तान मिलकर काम करना चाहता है - Jansatta     |       PM Modi को समझ नहीं पाया PAK Media, हुआ Troll - Navbharat Times     |       Pak विदेश मंत्री कुरैशी बोले- भारत की नई सरकार से पाकिस्तान बातचीत को तैयार - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अलर्ट/ श्रीलंका से बोट में सवार 15 आईएस आतंकी भारत की ओर बढ़ रहे, कोस्टगार्ड ने शिप तैनात किए - Dainik Bhaskar     |       बदायूं: कार की टक्कर से दो बहनों की मौत - नवभारत टाइम्स     |       Venue के आने से मुकाबला कड़ा, मारुति लाई Vitara Brezza का स्पेशल एडिशन - आज तक     |       आधी कीमत में Maruti Alto, WagonR और सेलेरिओ मिल रही हैं यहां, बाइक से भी सस्ती कारें - अमर उजाला     |       Sona Mohapatra ने सलमान पर कसा तंज, ऐक्‍टर ने किए थे प्रियंका चोपड़ा पर कॉमेंट्स - नवभारत टाइम्स     |       मलाइका अरोड़ा ने शेयर की हॉलिडे की फोटो, अर्जुन कपूर ने किया ये कमेंट - आज तक     |       De De Pyaar De Box Office Collection Day 11: अजय देवगन की फिल्म की 11वें दिन भी धांसू कमाई, कमा डाले इतने करोड़ - NDTV India     |       Hrithik Roshan की फिल्म ‘सुपर 30’ इस दिन होगी रिलीज, उन्होंने खुद किया खुलासा - Hindustan     |       कीवी खिलाड़ी ने कहा, खिताब के प्रबल दावेदार भारत के खिलाफ जीत से बढ़ेगा मनोबल - अमर उजाला     |       लगातार 10 मैच गंवाकर वर्ल्ड कप खेलने पहुंची पाकिस्तान की टीम - आज तक     |       World Cup 2019: विश्व कप में भारत के खिलाफ मैच के बाद पाकिस्तान टीम को मिलेगा ये बड़ा तोहफा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       विराट कोहली ने बताया, अनुष्का शर्मा से शादी करने के बाद आए ये बदलाव - नवभारत टाइम्स     |      

राज्य


बुंदेलखंड में मैदान में बदलते तालाब

छतरपुर से झांसी की ओर जाने वाले मार्ग पर अलीपुरा के पास का मैदान में बदल चुका तालाब बुंदेलखंड के हालात को बयां करने वाला है।


the-changing-pond-on-the-ground-in-bundelkhand

तालाब की मिट्टी पूरी तरह शुष्क है और हवाओं के साथ उड़ता गुबार यहां के डरावने हालात की गवाही दे रहा है। पानी की समस्या गंभीर रूप ले चली है, मगर चुनावी मौसम में भी यह समस्या राजनीतिक दलों के लिए मुद्दा नहीं बन पाई है।



देश और दुनिया में बुंदेलखंड की कभी पहचान जल संरक्षण वाले क्षेत्र की हुआ करती थी, मगर अब स्थितियां बदली हुई हैं। अब इस क्षेत्र को सूखा, पलायन, गरीबी और भुखमरी के तौर पर पहचाना जाता है। उत्तर प्रदेश के सात जिले और मध्य प्रदेश के सात जिलों को मिलाकर बने इस इलाके के इस दौर में सबसे बड़ी समस्या जल संकट है। साल में मुश्किल से छह माह ऐसे होते हैं, जब यहां के लोग पानी की समस्या से अपने को दूर पाते हैं, बाकी समय उनका इस संकट से जूझते हुए गुजर जाता है। 

बुंदेलखंड सेवा संस्थान के मंत्री वासुदेव सिंह बताते हैं कि गर्मी बढ़ने के साथ पानी का संकट गहराने लगा है। आबादी वाले इलाकों के अधिकांश तालाब तो जलविहीन हो चुके हैं, मगर जंगलों के बीच के तालाबों मे अब भी पानी है, मगर यह ज्यादा दिन के लिए नहीं है। कई हिस्सों में तो लोगों को पानी हासिल करने के लिए कई-कई किलो मीटर का रास्ता तय करना पड़ता है।

मध्यप्रदेश के छतरपुर, टीकमगढ़, दमोह व पन्ना में पानी का संकट गंभीर रूप ले चला है। राज्य के वाणिज्य कर मंत्री ब्रजेंद्र िंसह राठौर ने बुंदेलखंड के तालाबों के बुरे हाल के लिए पूर्ववर्ती भाजपा की सरकार को जिम्मेदार ठहराया। राठौर का कहना है कि कांग्रेस की केंद्र सरकार ने बुंदेलखंड पैकेज में राशि दी मगर उसका लाभ यहां के लोगों को नहीं मिला। टीकमगढ़ में 500 और इतने ही तालाब छतरपुर जिले में है, इनकी स्थिति अच्छी नहीं है। लिहाजा, नदियों को तालाब से जोड़ा जाए तो यहां की स्थिति में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है। राज्य सरकार तालाबों के हालात सुधारने पर काम करेगी। 

जलपुरुष के नाम से पहचाने जाने वाले राजेंद्र सिंह भी बुंदेलखंड की पानी संकट को लेकर कई बार चिंता जता चुके हैं, उनका कहना है कि बुंदेलखंड में पानी रोकने के पर्याप्त इंतजाम नहीं है, जिसका नतीजा है कि, 800 मिलीमीटर वर्षा के बाद भी यह इलाका सूखा रहता है। इसलिए जरूरी है कि तालाबों को पुनर्जीवित किया जाए, नदियां के आसपास से अतिक्रमण हटे, पानी का प्रवाह ठीक रहे। इसके लिए सरकार और समाज दोनों को मिलकर काम करना होगा। इस क्षेत्र के तालाब ही नहीं नदियां भी गुम हो गई है, जिसके चलते जल संकट साल-दर-साल गहराता जा रहा है। 

बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के सात-सात जिले आते हैं। लगभग हर हिस्से में पानी का संकट है। एक अनुमान के मुताबिक, इस क्षेत्र में 10,000 से ज्यादा तालाब हुआ करते थे। वर्तमान में हालात यह है कि इन तालाबों की संख्या दो हजार के आसपास भी नहीं बची है। मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तालाबों के सीमांकन और चिन्हीकरण की बात कही थी, मगर आगे नहीं बढ़ी और सरकार भी चली गई। 

advertisement