News18 Explains: Dissent Within Judiciary Over Collegium Recommendations In Judicial Appointments - News18     |       पत्रकार हत्याकांड: रिवॉल्वर के साथ आए थे राम रहीम के गुर्गे, जानिए क्या हुआ था उस रात - News18 Hindi     |       कर्नाटक: ऑपरेशन लोटस से कैसे लड़ेगी कांग्रेस-जेडीएस - BBC हिंदी     |       दिल्ली: ख्याला में परिवार पर पड़ोसी का अटैक, चाकू से हमले में महिला की मौत - आज तक     |       Mayawati's multi-layered birthday cake looted in Amroha, video goes viral - Watch - Times Now     |       Uttar Pradesh Mahagathbandhan takes final shape; RLD gets three seats as SP agrees to cede one: Sources - Times Now     |       Stepping out fearless: Kinnar Akhara takes first Kumbh Mela dip - Notching up a new milestone - Economic Times     |       Kotler Award For PM Sparks Row - NDTV     |       BREXIT: थेरेसा मे सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव गिरा, 19 वोटों से बची सरकार - आज तक     |       केन्या के होटल पर आतंकी हमला, 14 की मौत, 20 घंटे तक चले अभियान में सभी आतंकी ढेर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       चर्चित चेहरा: इंदिरा नूई हो सकती हैं वर्ल्ड बैंक चीफ पद की दावेदार, जानें उनके बारे में - Hindustan हिंदी     |       चीन ने चांद पर उगाए कपास के बीज, अब आलू की बारी - Webdunia Hindi     |       299 रुपये में 1.5GB डेटा हर रोज, BSNL लाया नया प्लान - Navbharat Times     |       Petrol Price: छह दिन की बढ़त पर लगा ब्रेक, सस्‍ता हुआ पेट्रोल - आज तक     |       मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप-100 थिंकर्स में शामिल, जेफ बेजोस के साथ बनाई जगह - News18 Hindi     |       बाजार शानदार तेजी लेकर बंद, निफ्टी 10880 के पार टिका - मनी कॉंट्रोल     |       रणवीर सिंह ने कहा कि बदल सकते हैं अपना सरनेम - नवभारत टाइम्स     |       26 जनवरी को आएगा सलमान खान की फिल्म भारत का टीजर? - आज तक     |       कंगना रनौत और आलिया भट्ट एयरपोर्ट पर कुछ इस अंदाज़ में आईं नज़र - NDTV Khabar     |       #MeToo: राजकुमार हिरानी पर यौन शोषण का आरोप, इन 2 बड़े एक्‍टर्स ने दिया बड़ा बयान - प्रभात खबर     |       India vs Australia 2nd ODI: Virat Kohli, MS Dhoni shine as visitors level three-match series 1-1 - Times Now     |       जेसन गिलेस्‍पी ने भारत को बताया वर्ल्‍डकप-2019 का खिताबी दावेदार, बुमराह की तारीफ में कही यह बात - NDTV India     |       Shaky 'Demon' stutters into dream Rafael Nadal showdown - Times Now     |       FedExpress fails to deliver under Serena's spell - Sport24     |      

राजनीति


गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के रास्ते में राजनीतिक पेचीदगियां तो हैं ही, लेकिन क़ानूनी बंदिशें बहुत अधिक हैं!

यदि संसद अपनी संविधान संशोधन की शक्ति के ज़रिए आर्थिक पिछड़ेपन को भी आरक्षण का लाभ प्रदान करने का पैमाना बनाएगी, तो उसकी विधि का सर्वोच्च न्यायालय की व्याख्याओं के साथ टकराव होगा। उच्चतम न्यायालय ही संविधान का रक्षक है। ज़ाहिर है कि ऐसे किसी भी संविधान संशोधन को न्यायालय में चुनौती दी जाएगी


there-are-political-complexities-in-the-way-of-the-10-percent-reservation-for-poor-people-of-the-modi-government-but-the-legal-restrictions-are-very-high

केंद्रीय कैबिनेट ने यह निर्णय लिया कि देश के आर्थिक तौर पर कमज़ोर सवर्णों को सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में दस फ़ीसदी आरक्षण देने के लिए संविधान में संशोधन किया जाएगा। सरकार भारतीय संविधान के अनुच्छेद 15 (4) और 16 (4) में संशोधन कर आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण देने का रास्ता साफ़ करना चाहती है।

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार की यह पहल सवर्ण जातियों में पनपे उस कथित ग़ुस्से को शांत करने की कोशिश मानी जा रही है, जो एससी-एसटी एक्ट में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा किए गए बदलाव को क़ानून के ज़रिए पलटने से पैदा हुआ है।

तीन राज्यों के चुनावी नतीज़ों के बाद मोदी सरकार यह क़दम उठा रही है। कई राजनीतिक विश्लेषक यह मान रहे हैं कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में भाजपा की हार का एक कारण उसके परम्परागत सवर्ण वोटरों का उससे छिटकना भी है।

ज़ाहिर है कि लोकसभा चुनाव में ऐसे किसी सम्भावित नुक़सान से बचने के लिए भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने यह अप्रत्याशित पहल की है। राजनीतिक पहलकदमियां तो अपनी जगह हैं।

लेकिन हमें यह देखना चाहिए कि संवैधानिक तौर पर ऐसा करना किस हद तक मुमकिन है। दरअस्ल, हमारे संविधान में आरक्षण के दो द्वार हैं। एक, संविधान के भाग-16 अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैं।

इसके तहत इन वर्गों को सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 22.5 प्रतिशत आरक्षण प्राप्त है। इसके अलावा इन वर्गों के लिए विधानमण्डलों में 33 फ़ीसदी सीटें आरक्षित की गई हैं। इन वर्गों के लिए यह विशेष प्रावधान संविधान लागू होने के समय से ही है।

दूसरा, भारतीय संविधान के भाग तीन में राज्य को सामाजिक और शैक्षणिक तौर पर पिछड़े हुए वर्गों को आरक्षण देने की शक्ति दी गई है। संविधान के अनुच्छेद 15 (4) और 16 (4) के मुताबिक़, सामाजिक और शैक्षणिक तौर पर पिछड़े वर्गों के लिए राज्य विशेष क़दम उठा सकता है।

जनता पार्टी की सरकार द्वारा गठित मण्डल आयोग ने इसी प्रावधान के तहत सामाजिक और शैक्षणिक तौर पर अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) को सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 27 फ़ीसदी आरक्षण देने की सिफ़ारिश की थी। मण्डल आयोग की इस सिफ़ारिश को वीपी सिंह सरकार ने लागू किया था। वीपी सिंह सरकार के इस निर्णय को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी गई।

इंद्रा साहनी बनाम भारत संघ (1993), जिसे हम मण्डल केस के नाम से भी जानते हैं, के मामले में सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने अन्य पिछड़े वर्गों को 27 प्रतिशत आरक्षण देने के निर्णय को सही माना। इसके साथ ही इस बहुचर्चित मामले में न्यायालय ने कुछ अन्य व्यवस्थाएं भी दीं। उन व्यवस्थाओं के प्रकाश में मोदी सरकार की इस ताज़ा पहल को देखना चाहिए।

कोर्ट ने कहा कि जाति के आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता है। किसी भी वर्ग को उसके सामाजिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन के आधार पर ही विशेष अवसर का लाभ मिलना चाहिए। लेकिन अदालत ने जाति को सामाजिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन को मापने का पैमाना  ज़रूर मान लिया।

इसका मतलब है कि जो जातियां सोशली और एजुकेशनली बैकवर्ड हों, उन्हें ही आरक्षण का लाभ मिल सकता है। यदि सरकार सवर्ण जातियों को भी आरक्षण का लाभ देना चाहती है, तो उसे इन जातियों का इस प्रकार का पिछड़ापन साबित करना चाहिए। ज़ाहिर है कि सवर्ण जातियां सामाजिक और शैक्षणिक तौर पर पिछड़ी हुई नहीं है। लेकिन सरकार उन्हें आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर रिज़र्वेशन का लाभ प्रदान चाहती है।

मण्डल केस में सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर भी आरक्षण नहीं दिया जा सकता है। केएस जयश्री बनाम केरल राज्य और छोटे लाल बनाम उत्तर प्रदेश राज्य के मामलों में अपने पूर्व में दिए निर्णयों में भी सर्वोच्च न्यायालय ने कहा था कि केवल जाति या केवल निर्धनता को आरक्षण का लाभ प्रदान करने के लिए पिछड़ेपन का पैमाना नहीं बनाया जा सकता है। अतः यह साफ़ है कि सामाजिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन के आधार पर ही किन्हीं जातियों या वर्गों को रिज़र्वेशन मिल सकता है।

यदि संसद अपनी संविधान संशोधन की शक्ति के ज़रिए आर्थिक पिछड़ेपन को भी आरक्षण का लाभ प्रदान करने का पैमाना बनाएगी, तो उसकी विधि का सर्वोच्च न्यायालय की व्याख्याओं के साथ टकराव होगा। उच्चतम न्यायालय ही संविधान का रक्षक है। ज़ाहिर है कि ऐसे किसी भी संविधान संशोधन को  न्यायालय में चुनौती दी जाएगी।

इसके अलावा इंद्रा साहनी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण की नीति पर एक और सीमा आरोपित की। न्यायालय ने यह स्पष्ट व्यवस्था दी कि आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से ऊपर नहीं होनी चाहिए और हर हाल में पचास प्रतिशत सीटों को अनारक्षित रखा जाना चाहिए।

उसके बाद कई सरकारों के आरक्षण के नियमों को सर्वोच्च न्यायालय ने इस आधार पर असंवैधानिक घोषित किया है कि उस नियम के ज़रिए आरक्षण की सीमा पचास प्रतिशत के पार जा रही थी।

अब सरकार इस पचास प्रतिशत की सीमा के बाहर सवर्ण जातियों को आर्थिक आधार पर दस फ़ीसदी आरक्षण देने की बात कर रही है। इस आधार पर भी संसद के इस संभावित क़ानून को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी जाएगी। अंततोगत्वा यही निष्कर्ष निकलता है कि मोदी सरकार के इस क़दम के रास्ते में राजनीतिक पेचीदगियां जो हों, लेकिन क़ानूनी बंदिशें बहुत ज़्यादा हैं।

advertisement