CM का नाम घोषित होते ही भूपेश ने तीनों दावेदारों के पैर छूकर लिया आशीर्वाद - दैनिक जागरण     |       Venkaiah Naidu backs Women's Reservation Bill, says all political parties should ensure its passage - Times Now     |       डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने पीएम पद के लिए राहुल गांधी का नाम किया आगे, बोले- सभी को साथ देना चाहिए - NDTV India     |       Cyclone Phethai: आज आंध्र प्रदेश में दे सकता है दस्तक, हाई अलर्ट जारी - Hindustan     |       छत्‍तीसगढ़ में मुख्‍यमंत्री के रूप में टीएस सिंहदेव का नाम सबसे आगे - दैनिक जागरण     |       YEAR ENDER 2018: जब इन 5 मौकों पर शर्मसार हुआ 'जेंटलमेन गेम' - Hindustan     |       उप मुख्यमंत्री पद लेने के लिए राजी नहीं हो रहे थे पायलट, फिर जितेन्द्र सिंह बने संकट मोचक और पायलट को मना लिया - Patrika News     |       Kumbh 2019 Prayagraj: कुंभ 2019 के भव्य आयोजन के लिए तैयार प्रयागराज, देखें PM मोदी के दौरे की खास फोटोज - Times Now Hindi     |       Chile to replace Brazil as 2019 UN climate summit host - Times Now     |       रानिल विक्रमसिंघे बने श्रीलंका के प्रधानमंत्री, डेढ़ महीने से जारी गतिरोध खत्म - NDTV India     |       6.1-magnitude earthquake rocks Indonesia's Papua - Times Now     |       यूपी सरकार ने की कुंभ की ग्लोबल ब्रांडिंग, 71 देश के राजनायिक पहुंचे प्रयागराज - दैनिक जागरण     |       13-year-old Indian boy in Dubai owns software development company - Times Now     |       Alert! Your debit, credit cards may get blocked if you don't do this by December 31 - Times Now     |       BSNL ने अपग्रेड किया अपना प्लान, मिल रहा 561.1 जीबी डेटा व अनलिमिटेड कॉल - Navbharat Times     |       जॉनसन एंड जॉनसन को पहले से थी बेबी पाउडर में हानिकारक केमिकल होने की जानकारी - The Wire Hindi     |       Bigg Boss 12 December 16 preview: Shah Rukh Khan and Salman Khan enjoy performances by the contestants - Times Now     |       इसलिए ईशा अंबानी की शादी में अमिताभ, आमिर जैसे बड़े-बड़े स्टार्स ने परोसा खाना, यहां जानें सच्चाई - Patrika News     |       In a mini floral dress with thigh-high boots, Sara Ali Khan proves she is a true fashionista - see photo - Times Now     |       दुल्हन ईशा से भी ज्यादा खूबसूरत लग रही थी ये 64 साल की अभिनेत्री, यहां देखिये तस्वीरें - Newstrend     |       How Virat Kohli has been able to thrive on Australian shores unlike any other - Wide World of Sports     |       India vs Australia: तेंडुलकर ने की नाथन लियोन और भारतीय पेसर्स की तारीफ - Navbharat Times     |       विराट कोहली और पीवी सिंधु के नाम रहा आज का दिन, बढ़ाया देश का मान - Hindustan     |       बैडमिंटन/ अब कोई मेरे फाइनल हारने की बात नहीं करेगा: वर्ल्ड टूर फाइनल्स जीतने पर सिंधु - Dainik Bhaskar     |      

संपादकीय


अपराध, राजनीति और धर्म का यह “किलर कॉकटेल” बेहद घातक साबित होगा

लव जेहाद के प्रबल विरोधकर्ता रैगर के साथ ही बिसहड़ा के बहुचर्चित अखलाक कांड का आरोपी हरिओम सिसौदिया गौतमबुद्ध नगर से लड़ेगा तय हो गया है। रामनवमी में रैगर की शोभायात्रा निकाली ही जा चुकी है, गौरक्षा के मामले में सिसौदिया को अग्रदूत बना कर पेश किया जाने वाला है


this-killer-cocktail-of-crime-politics-and-religion-will-be-extremely-fatal

राजनीति और अपराध के गठजोड़ को खत्म करने उसके अपराधीकरण को रोकने के बारे में सुप्रीम कोर्ट का हालिया फैसला अगर कोई उत्साह जगाने में नाकाम रहा, तो यह परिदृश्य तो और भी विकट तथा निराशाजनक है। पर्याप्त प्रतिरोध के अभाव में अपराध, राजनीति और धर्म का यह “किलर कॉकटेल” भविष्य में बेहद घातक साबित होगा।

शंभूलाल रैगर 2019 के चुनावों में आगरा सीट से प्रत्याशी होगा। शंभूलाल रैगर ने एक मुस्लिम युवक को मार कर न सिर्फ जला डाला था बल्कि अपने कृत्य का वीडियो भी बनवाया था और वह सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, उसे ख्याति की प्राप्ति हुई और परिणाम स्वरूप पार्टी विशेष ने उन्हें जनप्रतिनिधि बनने के सर्वथा योग्य समझा।

लव जेहाद के प्रबल विरोधकर्ता रैगर के साथ ही बिसहड़ा के बहुचर्चित अखलाक कांड का आरोपी हरिओम सिसौदिया गौतमबुद्ध नगर से लड़ेगा तय हो गया है। रामनवमी में रैगर की शोभायात्रा निकाली ही जा चुकी है, गौरक्षा के मामले में सिसौदिया को अग्रदूत बना कर पेश किया जाने वाला है।

इस तरह की योग्यता विशेष वाले प्रत्याशियों का चयन और उन्हें चुनावी मैदान में उतारना भारतीय राजनीति की एक नयी धारा और अलग रणनीति की बानगी है। फिलहाल तो उत्तर प्रदेश की नवनिर्माण सेना ने सूबे की महज पांच सीटों, मथुरा, आगरा, फिरोजाबाद, नोयड़ा, अलीगढ पर ही अपनी पार्टी के उम्मीदवार खड़ा करने की घोषणा की है।

पार्टी प्रमुख का मथुरा से लड़ना तय माना जा रहा है, आगरा से शंभूलाल रैगर हैं और गौतमबुद्ध नगर से हरिओम सिसौदिया। कुल मिला कर उसको अभी इसी तरह के दो प्रत्याशी और चुनने हैं। तलाशने नहीं क्योंकि ऐसी योग्यता रखने वाले प्रत्यशियों की विगत कुछ बरसों में भरमार सी हो गई है।

राजनीति में सुनहरा अवसर देखते हुए ऐसे ही दूसरे संभावित प्रत्याशियों के मन में भी जनहित, समाज सेवा, धर्म कार्य, राष्ट्रसेवा की उत्कट अभिलाषा जोर मार सकती है। उन्हें निर्दल के बतौर मैदान में उतरने से नहीं रोका जा सकता पर नवनिर्माण सरीखे कई संगठन हैं, राजनीतिक दल हैं जो इन्हें लांच करने में गुरेज नहीं बल्कि फख्र और बेहतर मौका महसूस करेंगे।

यह स्थिति कहां तक जाएगी कल्पनातीत है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस तर्ज पर काम करने वाले कई संगठन मौजूद हैं। हत्या आरोपियों को चुनाव लड़वाने वाली पार्टी जिस तार्किक आधार पर अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतार रही है, वह राजनीति का पुराना तर्क है। जब तक आरोप सिद्ध न हो जाये किसी को भी माननीय बनने के अवसर और अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।

जब दूसरे हत्या आरोपी चुनावी मैदान में आ सकते हैं, तो रैगर क्यों नहीं। उसे भाजपा के कतिपय नेताओं के उस उदाहरण से भी समुचित बल मिलता है कि सबसे बड़ी मॉब लिंचिंग तो सिख दंगे थे, जब उसके आरोपी चुनाव लड़ सकते हैं तो हरिओम सिसौदिया क्यों नहीं। अब चुनाव आयोग और सर्वोच्च न्यायालय इन दलीलों का स्वयं संज्ञान ले तो कोई बात बने।

हालांकि ऐसी पार्टियां सरकार विरोधी रुख अख्तियार करते हुए कहती हैं कि वह राम मंदिर नहीं बना पाई, 370 नहीं हटवा पाई, न पत्थरबाजों पर रोक लगी न रोमियो पर अंकुश। वे यह प्रचारित करती फिर रही हैं कि सभी सरकारें मुस्लिम तुष्टीकरण करती हैं, यह सरकार भी।

पर दरअसल इनका भाजपा छोड़ कोई और दर नहीं। इनका भाजपा के खिलाफ होना महज एक दिखावा है। वे उन कट्टर मतदाताओं को कहीं और भटकने से रोकने, उलझाने का उपक्रम है जो भाजपा को राजनीतिक मजबूरियों के चलते प्रखर और आक्रामक हिंदुत्व का कार्ड न खेलने की मजबूरी से खफा हैं, किसी विरोधी की तरफ जा सकते हैं, विमुख हो सकते हैं।

कुल मिलाकर ये पूरक इकाइयां हैं, जो अपने दम पर उनके लिए कट्टर हिंदू कार्ड खेलने को तैयार हैं, उत्तरप्रदेश नव निर्मण सेना का कोई प्रत्याशी जीत कर लोकसभा पहुंचेगा यह संभव नहीं लगता। इससे राजनीति की दशा-दिशा में कोई व्यापक बदलाव आएगा अथवा क्षेत्र विशेष में भी कोई स्थाई प्रभाव पड़ने वाला है ऐसा भी नहीं।

लेकिन ये पार्टियां विघटनकारी ताकतों को आगे लायेंगी, मजबूत करेंगी। दंगे फसाद जैसा वैमनस्य का माहौल निर्मित करेंगी, हिंदू अस्मिता और संकट के अपने कुतर्कों के बल पर सामाजिक और राजनीतिक माहौल को संदूषित करेंगी। यह सारा माहौल एक विशेष तरह के भय और ध्रुवीकरण को जन्म देगा।

उनकी सोच के मुताबिक लगता है कि यह सब कुछ हिंदू हित की बात करने वाली भाजपा के लिये मुफीद होगा। वे प्रधानमंत्री के उस जुमले से प्रभावित लगती हैं कि जितना कीचड़ होगा उतना ही कमल खिलेगा। हिंदू जितना संगठित होगा उतना ही सियासी फायदा भाजपा को होगा और उनकी भी सियासी  मोलभाव की ताकत और पकड़ बनी रहेगी।

बेशक राजनीतिक सियासी और खास और पर दांव पेच में बहुत से तरीके अपनाये जाते हैं पर अनुमान लगाया जा सकता है कि देश समाज के प्रति सरोकार रखने वाली भाजपा जैसी पार्टी इस तरह के तौर तरीकों से कतई सहमत नहीं होगी। सो सरकार को चाहिये कि वह इस तरह के क्रियाकलापों पर खुल कर विरोध जताये जिसके छींटे उसके दामन तक पहुंचते हों।

advertisement