कोलकाता/ भाजपा के खिलाफ ममता की महारैली आज, 11 विपक्षी पार्टियों के नेता कोलकाता पहुंचे - Dainik Bhaskar     |       भय्यू महाराज केस: ब्लैकमेलर युवती समेत दो सेवादार गिरफ्तार, अश्लील चैटिंग का मिला रिकॉर्ड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस की बैठक में नहीं पहुंचे 4 'बागी' MLA, कर्नाटक सरकार में बढ़ी चिंता - News18 Hindi     |       अमेरिका/ 8 डॉलर का नाश्ता लेने के लिए लाइन में लगे बिल गेट्स, सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो - Dainik Bhaskar     |       सवर्ण आरक्षण: निजी उच्च शिक्षा संस्थानों में 10% कोटे के लिए विधेयक लाएगी सरकार - Hindustan     |       Grahan 2019/ इस साल पड़ेंगे कुल 5 ग्रहण, 2 चंद्रग्रहण और 3 सूर्यग्रहण से बदलेगी दशा, जानें कब-कब होंगे ग्रहण? - Dainik Bhaskar     |       21 को साल का पहला चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर होगा ज्यादा असर - dharma - आज तक     |       सबरीमाला/ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 10-50 उम्र की 51 महिलाओं ने दर्शन किए- केरल सरकार - Dainik Bhaskar     |       Two Russian fighter jets collide over Sea of Japan - Times Now     |       हादसा/ जापानी समुद्र के ऊपर अभ्यास के दौरान दो रूसी फाइटर जेट टकराए, पायलट सुरक्षित - Dainik Bhaskar     |       यूके/ ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार - Dainik Bhaskar     |       रिसर्च : यह तकनीक बता देगी कि कितने साल की जिंदगी है आपकी - NDTV India     |       उठा-पटक के बीच बाजार की सपाट क्लोजिंग - मनी कॉंट्रोल     |       Market Live: Nifty slips below 10900, Sensex trades lower; pharma stocks under pressure - Moneycontrol.com     |       शनिवार को पेट्रोल-डीजल के दाम में हुई भारी बढ़ोतरी, फटाफट जानिए नए रेट्स - News18 Hindi     |       तस्वीरों में देखें Toyota Camry Hybrid 2019 कार, भारत में हुई लॉन्च- Amarujala - अमर उजाला     |       'मणिकर्णिका' की स्पेशल स्क्रीनिंग, राष्ट्रपति कोविंद और लालकृष्ण आडवाणी ने देखी फिल्म - नवभारत टाइम्स     |       राजी, बधाई हो से आगे निकली URI, क्या 100 करोड़ कमाएगी फिल्म? - आज तक     |       व्हाय चीट इंडिया : फिल्म समीक्षा | Webdunia Hindi - Webdunia Hindi     |       विवाद/ बोनी कपूर का एलान जब तक बंद नहीं हो जाती फिल्म श्रीदेवी बंगलो, तब तक चैन से नहीं बैठेंगे - Dainik Bhaskar     |       MS Dhoni on cusp of achieving new milestone in 3rd ODI against Australia at MCG - Times Now     |       ऑस्ट्रेलिया में चली चहल की फिरकी, शास्त्री-मुश्ताक के रिकॉर्ड टूटे - Sports - आज तक     |       Paul Pogba praises Ole Gunnar Solskjaer for revitalising Manchester United's attack - Times Now     |       Ind vs Aus 2nd ODI: शॉन मार्श पर भारी पड़ा 'किंग कोहली' का शतक, टीम इंडिया 6 विकेट से जीती - NDTV India     |      

फीचर


इस मानसून पर खुद की उपेक्षा कर न दें बीमारियों को दावत, यूं करें पैरों की देखभाल

सौंदर्य विशेषज्ञ शहनाज हुसैन ने कहा कि मानसून के सीजन में पैरों के देखभाल की अत्याधिक आवश्यकता होती है। आप कुछ साधारण सावधानियों तथा आयुर्वेदिक उपचारों से पांव तथा उंगलियों के संक्रमण से होने वाले रोगों से बच सकते हैं


this-monsoon-season-take-care-of-yourself-take-care-of-legs

मानसून सीजन में कीचड़ से सने रास्तों, पानी से लबालब गलियों, आद्र्रता भरे ठंडे वातावरण तथा सीलन में पैरों को काफी झेलना पड़ता है। जूतों के चिपचिपे होने के कारण पैरों में दाद, खाज, खुजली तथा लाल चकत्ते पड़ जाते हैं।

सौंदर्य विशेषज्ञ शहनाज हुसैन ने कहा कि मानसून के सीजन में पैरों के देखभाल की अत्याधिक आवश्यकता होती है। आप कुछ साधारण सावधानियों तथा आयुर्वेदिक उपचारों से पांव तथा उंगलियों के संक्रमण से होने वाले रोगों से बच सकते हैं। 

मानसून के मौसम में अत्याधिक आद्रता तथा पसीने की समस्या आम देखने में मिलती है। इस मौसम में पैरों के इर्द-गिर्द के क्षेत्र में संक्रमण पैदा होता है, जिससे दरुगध पैदा होती है।

हर्बल क्वीन के नाम से मशहूर शहनाज ने कहा कि पसीने के साथ निकलने वाले गंदे द्रव्यों को प्रतिदिन धोकर साफ करना जरूरी होता है, ताकि दरुगध को रोका जा सके और पैर ताजगी तथा स्वच्छता का एहसास कर सकें। 

उन्होंने कहा कि सुबह नहाते समय पैरों की स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना चाहिए। पैरों को धोने के बाद उन्हें अच्छी तरह सूखने दें तथा उसके बाद पैरों की उंगलियों के बीच टैलकम पाउडर का छिड़काव करें। 

शहनाज ने कहा कि अगर आप बंद जूते पहनते हैं तो जूतों के अंदर टेलकम पाउडर का छिड़काव कीजिए। बरसात के मौसम के दौरान स्लिपर तथा खुले सैंडिल पहनना ज्यादा उपयोगी होता है, क्योंकि इससे पांवों में हवा लगती रहती है तथा पसीने को सूखने में भी मदद मिलती है, लेकिन खुले फुटवियर की वजह से पैरों पर गंदगी तथा धूल जम जाती है, जिससे पांवों की स्वच्छता पर असर पड़ता है। 

उन्होंने बताया कि दिनभर की थकान के बाद घर पहुंचने पर ठंडे पानी में थोड़ा सा नमक डालकर पांवों को अच्छी तरह भिगोइए तथा उसके बाद पांवों को खुले स्थान में सूखने दीजिए। बरसात के गर्म तथा आद्रता भरे मौसम में पांवों की गीली त्वचा की वजह से 'एथलीट फूट' नामक बीमारी पांवों को घेर लेती है। 

उन्होंने कहा कि यदि प्रारंभिक तौर पर इसकी उपेक्षा हो तो यह पांवों में दाद, खाज, खुजली जैसी गंभीर परेशानियों का कारण बन जाती है। यह बीमारी फंगस संक्रमण की वजह से पैदा होती है। इसलिए अगर उंगलियों में तेज खारिश पैदा हो रही हो, तो तत्काल त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लीजिए। 

मानसून में पांवों की देखभाल के लिए घरेलू उपचार : 

फूट सोक: बाल्टी में एक चौथाई गर्म पानी, आधा कप खुरखुरा नमक, दस बूंदे नीबू रस या संतरे का सुंगधित तेल डालिए। यदि आपके पांव में ज्यादा पसीना निकलता है तो कुछ बूंदें टी-ऑयल को मिला लीजिए, क्योंकि इसमें रोगाणु रोधक तत्व मौजूद होते हैं तथा यह पांव की बदबू को दूर करने में मदद करती है। इस मिश्रण में 10-15 मिनट तक पांवों को भिगोकर बाद में सुखा लीजिए।

फूट लोशन: 3 चम्मच गुलाब जल, 2 चम्मच नींबू जूस तथा एक चम्मच शुद्ध ग्लिसरीन का मिश्रण तैयार करके इसे पांव पर आधा घंटा तक लगाने के बाद पांव को ताजे साफ पानी से धोने के बाद सुखा लीजिए।

ड्राइनेस फूट केयर: एक बाल्टी के चौथाई हिस्से तक ठंडा पानी भरिए तथा इस पानी में दो चम्मच शहद एक चम्मच हर्बल शैम्पू, एक चम्मच बादाम तेल मिलाकर इस मिश्रण में 20 मिनट तक पांव भिगोइए तथा बाद में पांव को ताजे स्वच्छ पानी से धोकर सुखा लीजिए।

कुलिंग मसाज आयल: 100 मिली लीटर जैतून तेल, 2 बूंद नीलगरी तेल, 2 चम्मच रोजमेरी तेल, 3 चम्मच खस या गुलाब का तेल मिलाकर इस मिश्रण को एयरटाइट गिलास जार में डाल लीजिए। इस मिश्रण को प्रतिदिन पांव की मसाज में प्रयोग कीजिए। इससे पांवों को ठंडक मिलेगी और यह त्वचा को सुरक्षा प्रदान करके इसे स्वस्थ्य रखेगा।

advertisement