राजस्थान चुनाव: BJP ने सचिन पायलट के खिलाफ युनूस खान को मैदान में उतारा     |       इंदिरा गांधीः सख्त फैसलों से बनीं 'आयरन लेडी', इसी से जुड़ी है उनकी हत्या की कड़ी     |       अमृतसर हमला: विवाद के बाद बैकफुट पर फुल्का, कांग्रेस ने बताया मानसिक दिवालिया     |       विवाद / आरबीआई बोर्ड की अहम बैठक शुरू, सरकार से मतभेद खत्म होने के आसार     |       देवोत्थान एकादशी आज, अब शुरू हो जाएंगे विवाह और अन्य शुभ कार्य     |       लालू की सेहत खराब, लौटेंगे तेज     |       महिला से फोन पर अचानक लोग करने लगे 'गंदी बातें', खुला राज तो सन्न रह गए लोग     |       दिल्ली: एक साल की बच्ची के साथ रेलवे ट्रैक पर रेप, आरोपी गिरफ्तार     |       Top 5 News : सेना में बड़े बदलाव की तैयारी, RBI की महत्वपूर्ण बोर्ड बैठक आज     |       नक्सलियों के साथ दिग्विजय सिंह की कॉल का लिंक मिला: पुणे पुलिस     |       18000 फीट ऊंचाई, भारत में बन रहा ग्लेशियर से गुजरने वाला पहला रोड     |       पाकिस्‍तान पर भड़के डोनाल्‍ड ट्रंप, कहा- वो हमारे लिए कुछ भी नहीं करता     |       जम्मू कश्मीर: पुलवामा में दो आतंकी हमले, CRPF जवान शहीद, जैश ने ली जिम्मेदारी     |       सत्यापन के रोड़े ने कर दिया परीक्षा से वंचित     |       UPTET परीक्षा में नकल करते पकड़ी गई महिला शिक्षामित्र, धांधली में हुई 35 की गिरफ्तारी     |       अलीगढ़ / ट्यूशन टीचर ने कक्षा दो के छात्र को बुरी तरह पीटा, मासूम की मानसिक हालत बिगड़ी, सीसीटीवी में कैद घटना     |       2019 लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का नया नारा: हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर, फिर सरकार     |       मराठा आरक्षण को महाराष्ट्र सरकार ने दी मंज़ूरी, कितना आरक्षण मिलेगा ये तय नहीं     |       वोट के लिए बंट रहा था 10 रुपये में एक किलो चिकन, EC ने मारा छापा     |       आज आ रहे हैं चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली की बैठक में मौजूद रह सकते हैं ममता के प्रतिनिधि     |      

राजनीति


समाजवाद के अगुवा अखिलेश यादव का आखिर क्यों जागा कम्युनिस्ट प्रेम, जानिए पूरी कहानी!

धोसी की सीट से अतुल अंजान: राहुल ने अखिलेश से अपनी बातचीत में साफ कर दिया है कि 2019 में कांग्रेस यूपी में अकेले भी लड़ सकती है, पर वह सिर्फ उन सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी जहां कांग्रेस मजबूत स्थिति में है


torchbearer-of-socialism-akhilesh-yadavs-communist-love-has-given-dhosi-seat-to-atul-anjan

सूत्रों की मानें तो पिछले दिनों सपा मुखिया अखिलेश यादव और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बीच फोन पर एक लंबी बातचीत हुई।

कहते हैं इस बातचीत में राहुल ने अखिलेश के समक्ष यह साफ कर दिया है कि यूपी में चाहे कांग्रेस व अजीत को शामिल कर कोई महागठबंधन बने ना बने, यहां भाजपा को परास्त करने के लिए सपा-बसपा का गठबंधन होना जरूरी है।

सूत्रों की मानें तो बसपा प्रमुख मायावती सपा के साथ जनवरी में गठबंधन करने की इच्छुक हैं, पर वह कांग्रेस और अजीत की रालोद को लेकर कोई महागठबंधन बनाने को उत्सुक नहीं जान पड़ती।

इसी को देखते हुए राहुल ने अखिलेश से अपनी बातचीत में साफ कर दिया है कि 2019 में कांग्रेस यूपी में अकेले भी लड़ सकती है, पर वह सिर्फ उन सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी जहां कांग्रेस मजबूत स्थिति में है।

सनद रहे कि यूपी में तीन सीटों के उप चुनाव में भी कांग्रेस ने सिर्फ गोरखपुर से ही अपना उम्मीदवार उतारा था।

कहते हैं, अखिलेश ने राहुल को यह भी आश्वस्त किया है कि अगर सपा-बसपा के गठबंधन में कांग्रेस नहीं भी शामिल होती है तो भी ये दोनों पार्टियां अमेठी और रायबरेली संसदीय सीट पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगी। गौरतलब रहे कि ये दोनों सीटें क्रमशः राहुल और सोनिया की हैं।

अखिलेश से जुड़े सूत्र यह भी स्पष्ट करते हैं कि अखिलेश ने वामपंथी नेता अतुल अंजान से यह प्रॉमिस किया है कि यूपी की धोसी संसदीय सीट सपा अंजान के लिए छोड़ देगी।

वैसे भी सीबीआई में मचे ताजा घमासान से मायावती और अखिलेश की जान में जान आई है और अब दोनों ही बड़े फैसले लेने की मनः स्थिति में बताए जा रहे हैं। 
 

advertisement

  • संबंधित खबरें