वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिले जेट एयरवेज के कर्मचारी, कहा- हमारी सैलरी दिला दो - आज तक     |       आईएसआईएस मॉड्यूल: एनआईए ने मुख्य साजिशकर्ता को दिल्ली से दबोचा, हैदराबाद और वर्धा से 4 हिरासत में - नवभारत टाइम्स     |       वायुसेना/ विंग कमांडर अभिनंदन की पोस्टिंग श्रीनगर एयरबेस से बाहर की गई, वीर चक्र के लिए भेजा नाम - Dainik Bhaskar     |       शतक: बंगाल में PM बोले- 23 मई के बाद स्पीडब्रेकर दीदी को पता चलेगा... Shatak Aajtak: Modi slams Mamata Banerjee in her home turf - Shatak Aaj Tak - आज तक     |       'चुनावी अपील' कर फंसे नवजोत सिंह सिद्धू, चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस किया जारी - Times Now Hindi     |       फर्जी दोस्ती टूटेगी, बुआ और बबुआ 23 मई को अपनी दुश्मनी का 'पार्ट टू' शुरू करेंगे : पीएम मोदी - NDTV India     |       क्राइम 360: रोहित शेखर मर्डर केस में पत्नी अपूर्वा से पूछताछ Crime 360: Wife of Rohit under interrogation in Murder Case - crime 360 - आज तक     |       RBI ने हफ्ते में पांच दिन ही बैंकों के खुलने की खबरों को बताया गलत, कहा- नहीं जारी किये ऐसे निर्देश - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       लोकसभा चुनाव/ तीसरा चरण: 21% दागी, 25% करोड़पति उम्मीदवार; बीजापुर के प्रत्याशी ने 9 रु की संपत्ति बताई - Dainik Bhaskar     |       50 खबरें: साध्वी प्रज्ञा ने करकरे पर दिया बयान लिया वापस Pragya Singh apologises for her statement on Hemant Karkare - 10 minute 50 khabrain - आज तक     |       घर में ही घ‍िरे राष्‍ट्रपति ट्रंप: मूलर की रिपोर्ट से अमेरिकी सियासत में कोहराम, महाभियोग पर अड़ा विपक्ष - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अबु-धाबी में पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास - BBC हिंदी     |       आखिर सुषमा स्वराज ने लीबिया में फंसे भारतीयों को वहां से तुरंत निकलने को क्यों कहा - NDTV India     |       Shab-E-Barat wishes images 2019: Messages, WhatsApp status, pics and quotes to add fervour to the festival - Times Now     |       65 हजार रुपये में लॉन्च हो जा रहा है ये नया 125cc स्कूटर - आज तक     |       दो दिन में मुकेश अंबानी को 2 बर्थडे गिफ्ट, दुनिया भर में हुई चर्चा - Business - आज तक     |       Flipkart सेल: इन स्मार्ट TV मॉडलों पर मिलेगी 10 हजार तक छूट - आज तक     |       Bajaj Qute Vs Tata Nano: रतन टाटा की लखटकिया से कितनी अलग है भारत की सबसे छोटी कार? - दैनिक जागरण     |       ब्रहास्त्र : हाथों से आग निकालने की सुपरपावर, दिलचस्प है DJ रणबीर का किरदार - आज तक     |       स्कूल ड्रेस में दिखे Kartik Aryan, पहचान पाना है मुश्किल - नवभारत टाइम्स     |       साध्वी प्रज्ञा सिंह के बयान को लेकर स्वरा भास्कर से उलझीं पायल रोहतगी - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कैटरीना कैफ के साथ दिखे सलमान खान, फिर भी छुपा न सके दर्द, लिखा- हर मुस्कराते चेहरे के पीछे... - NDTV India     |       IPL 2019: BCCI ने उठाया सवाल, राजस्थान रॉयल्स ने स्टीव स्मिथ को कैसे बनाया कप्तान? - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       DC vs KXIP LIVE: दिल्ली को दूसरा झटका, धवन 56 रन पर आउट - आज तक     |       TOP News 20 April 2019: देश-दुनिया की इन अहम खबरों पर रहेगी नजर - नवभारत टाइम्स     |       KKR vs RCB: विराट ने लपका अजूबा कैच और फिर खुद हंसने लगे, आप भी देखिए Video - Hindustan     |      

साहित्य/संस्कृति


श्रद्धांजलि | वीएस नायपॉल: सभ्यता विमर्श का उत्तर आधुनिक सूत्रधार

‘ए फ्लैग अॉन द आइलैंड’ (1967),  ‘इन ए फ्री स्‍टेट’ (1971), ‘ए वे इन द वर्ल्ड’ (1994), ‘हॉफ ए लाइफ’ (2001) और ‘मैजिक सीड्स’ (2004) जैसी कृतियों के लेखक वीएस नायपॉल ने नोबेल से लेकर बुकर तक कई सम्मान अपने पचास साल से लंबे लेखन में पाए


tribute-to-vs-naipaul-modern-answer-to-questions-related-to-civilisation-studies

विद्याधर सूरज प्रसाद नायपॉल यानी वीएस नायपॉल भारतवंशी थे। पर भारत को लेकर उनके विचारों को लेकर, भारतीय प्रबुद्ध वर्ग हमेशा चकित-भ्रमित रहा। आज जब नायपॉल हमारे बीच नहीं हैं, तो उनके लेखन संसार को लेकर एक समग्र आलोचकीय विवेक के साथ काफी कुछ लिखा-कहा जा रहा है।

दिलचस्प है कि अपने लंबे यात्रा-वृतांतों और उपन्यासों के कारण जाने गए नायपॉल पहली बार विश्व साहित्य में चर्चा में भी आए, तो वह भारत के कारण ही। 1961 में उनका चौथा उपन्यास आया था- ‘ ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’। यह औपन्यासिक वृतांत था तो त्रिनिदाद का। पर कहानी का एक आंतरिक सिरा भारत से भी गहरे तौर पर जुड़ा था।

दिलचस्प है कि नायपॉल के पूर्वज गोरखपुर से त्रिनिदाद पहुंचे थे। ये लोग गिरमिटिया मजदूरी करने त्रिनिदाद ले जाए गए थे। वहां उनसे गन्ने के खेतों में काम लिया जाता था। इस उपन्यास का मुख्य चरित्र नायपॉल के पिता की जिंदगी से काफी प्रभावित है। नायपॉल के पिता भी रचनात्मक लेखन में आगे बढ़ना चाहते थे।

पर प्रवासी जिंदगी की त्रासदी ने उन्हें मन की करने के बजाए बेमन का सहने के लिए विवश किया। दरअसल, आज अगर नायपॉल पूरी दुनिया में पढ़े जाते हैं, तो अपनी इन्हीं रचनात्मक संवेदनाओं के कारण जिसमें एक तरफ युद्ध और औपनिवेशिक अन्याय का बड़ा वितान है, तो वहीं दूसरी तरफ युद्ध पीड़ितों के साथ उन लोगों की पीड़ा है, जिन्हें इन्हीं वजहों से अपना देश छोड़ना पड़ा।

वरिष्ठ अनुवादक और आलोचक हरीश त्रिवेदी ने उन्हें ‘भारत से निर्मम ममता रखने वाला लेखक’ बताया है। वह जब भी भारत की बात करते थे तो वे इसे बस एक भौगौलिक और राजनीतिक इकाई मानने को तैयार नहीं होते थे।

उनकी नजर में भारत एक सभ्यता है, एक सघन संस्कृति है, जिसने अपने सर्वाइवल के लिए कई तरह की यातनाएं झेलीं। जो गिरमिटया इन यंत्रणाओं के कारण विदेश पहुंचे आज उनके उद्यम और उपलब्धि पर हम भले नाज करें, पर यह नाज कई सवालों को जन्म देता है।

पहला और सबसे सवाल तो यह कि भारत की बहुलता में यह उदारता कैसे कम होती चली गई कि वह तारीख में कई मौकों पर अपनों के लिए ही दामन समेटने लगी। इतिहास में इसके एक नहीं कई उदाहरण हैं।  

भारतीय समाज और यहां विकसित हुई आधुनिक संस्कृति का सामना करने को नायपॉल के न रहने पर भी भारत में कम ही लोग तैयार होंगे। पर यही नायपॉल की प्रासंगिकता और विलक्षणता है कि वह दुनिया में एक नए तरह का सभ्यता विमर्श आगे बढ़ाते हैं।

इस विमर्श के केंद्र में भारत है तो साथ ही यरोप और मध्य पूर्व के देश भी शामिल हैं। इस विमर्श ने पूरी दुनिया में उत्तर आधुनिक चिंतन को कई स्तरों पर झकझोरा है।

विकास और उपलब्धि के जिन पैमानों पर आज हम विभिन्न देशों के सामाजिक-राजनीतिक नेतृत्व को आंकते हैं, नायपॉल उस पूरे स्केल को ही खतरनाक मानते हैं। स्केल का यह खतरा आज भारत में कितना है, इसे बताने की जरूरत नहीं।

‘ए फ्लैग अॉन द आइलैंड’ (1967),  ‘इन ए फ्री स्‍टेट’ (1971), ‘ए वे इन द वर्ल्ड’ (1994), ‘हॉफ ए लाइफ’ (2001) और ‘मैजिक सीड्स’ (2004) जैसी कृतियों के लेखक वीएस नायपॉल ने नोबेल से लेकर बुकर तक कई सम्मान अपने पचास साल से लंबे लेखन में पाए।

पर उनका सबसे बड़ा सम्मान वह नया पाठक समाज है, जिसने नए कलेवर के साहित्य को अपनी स्टडी टेबल पर जगह देनी जरूरी समझा। इस पाठक समाज के लिए नायपॉल हमेशा अपनी कृतियों में जीवित रहेंगे, संवादरत रहेंगे।

advertisement