दिल्ली सचिवालय में सीएम चेंबर के बाहर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर मिर्च पाउडर फेंका, देखें VIDEO - NDTV India     |       उत्तराखंड निकाय चुनाव अपडेट्स: सात मेयर सीट में से चार पर बीजेपी और तीन पर कांग्रेस आगे - Hindustan     |       सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को फटकारा, कहा- बस.. अब अंतिम मौका - NDTV India     |       UPTET Answer Key 2018: यूपीटीईटी 2018 की आंसर की, ऐसे करें डाउनलोड - Jansatta     |       आइआइटी के चार प्रोफेसरों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट का मुकदमा - दैनिक जागरण     |       जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में हुर्रियत नेता हफीजुल्लाह मीर की गोली मारकर हत्या - Navbharat Times     |       1984 सिख विरोधी दंगा मामला: दोषी करार दिए गए यशपाल सिंह को मौत की सजा, नरेश सेहरावत को उम्रकैद - NDTV India     |       UGC NET Admit Card 2018: एडमिट कार्ड जारी, यहां जानें डाउनलोड करने का तरीका - Jansatta     |       डोनाल्ड ट्रंप के बयान पर भड़के पाक ने अमेरिकी राजनयिक को तलब किया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       जब तोते ने लगाई एमर्जेंसी कॉल, तो दौड़ पड़े फायरफाइटर - Hindustan हिंदी     |       वियतनाम में बोले राष्‍ट्रपति कोविंद, भारत का सहयोग मॉडल मित्रों को देता है बढ़ने का मौका - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       YouTube पर फ्री में देख सकेंगे फिल्में, नए फीचर की शुरुआत - आज तक     |       पेट्रोल-डीजल की कीमतों में फिर हुई कटौती, जानिए क्या रहे आज के दाम - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       TRAI ने थामा रिमोट, अब आप देख पाएंगे 130 रुपये में 100 चैनल! - Business AajTak - आज तक     |       Airtel का ₹419 वाला प्लान, 105GB डेटा और अनलिमिटेड कॉल - Navbharat Times     |       Hyundai Grand i10 और Xcent को मिले नए फीचर्स, 90 हजार तक ऑफर भी - Tech - आज तक     |       दीपिका-रणवीर की Wedding Pics देख बोल पड़ी ये एक्ट्रेस, 'अब मेरी भी करवा दो शादी...' - NDTV India     |       दीपिका से बदसलूकी पर भड़के पति शोएब, सइयां और भैया को लेकर मजाक उड़ाने वाले दो कंटेस्टेंट्स को किया चैलेंज - Dainik Bhaskar     |       ...इसलिए आलिया के चेहरे पर बजे हैं बारह, रणबीर से शादी को लेकर भी बड़ा खुलासा- Amarujala - अमर उजाला     |       हॉकी वर्ल्ड कप के लिए जय हिंद इंडिया गाते हुए नजर आए शाहरुख और रहमान - Dainik Bhaskar     |       विराट ने ऑस्ट्रेलिया को बता दी लक्ष्मण रेखा, कहा- इसके बाद तो... - Sports - आज तक     |       मैरीकॉम सेमीफाइनल में, पदक पक्का; सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाली महिला बॉक्सर - Dainik Bhaskar     |       ICC में हारा पाकिस्तान, अब खर्च वसूलने को भारत करेगा केस - आज तक     |       VIDEO: पाकिस्तान को हरा, कीवी खिलाड़ियों ने भांगड़ा कर मनाया जीत का जश्न - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |      

साहित्य/संस्कृति


श्रद्धांजलि | वीएस नायपॉल: सभ्यता विमर्श का उत्तर आधुनिक सूत्रधार

‘ए फ्लैग अॉन द आइलैंड’ (1967),  ‘इन ए फ्री स्‍टेट’ (1971), ‘ए वे इन द वर्ल्ड’ (1994), ‘हॉफ ए लाइफ’ (2001) और ‘मैजिक सीड्स’ (2004) जैसी कृतियों के लेखक वीएस नायपॉल ने नोबेल से लेकर बुकर तक कई सम्मान अपने पचास साल से लंबे लेखन में पाए


tribute-to-vs-naipaul-modern-answer-to-questions-related-to-civilisation-studies

विद्याधर सूरज प्रसाद नायपॉल यानी वीएस नायपॉल भारतवंशी थे। पर भारत को लेकर उनके विचारों को लेकर, भारतीय प्रबुद्ध वर्ग हमेशा चकित-भ्रमित रहा। आज जब नायपॉल हमारे बीच नहीं हैं, तो उनके लेखन संसार को लेकर एक समग्र आलोचकीय विवेक के साथ काफी कुछ लिखा-कहा जा रहा है।

दिलचस्प है कि अपने लंबे यात्रा-वृतांतों और उपन्यासों के कारण जाने गए नायपॉल पहली बार विश्व साहित्य में चर्चा में भी आए, तो वह भारत के कारण ही। 1961 में उनका चौथा उपन्यास आया था- ‘ ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’। यह औपन्यासिक वृतांत था तो त्रिनिदाद का। पर कहानी का एक आंतरिक सिरा भारत से भी गहरे तौर पर जुड़ा था।

दिलचस्प है कि नायपॉल के पूर्वज गोरखपुर से त्रिनिदाद पहुंचे थे। ये लोग गिरमिटिया मजदूरी करने त्रिनिदाद ले जाए गए थे। वहां उनसे गन्ने के खेतों में काम लिया जाता था। इस उपन्यास का मुख्य चरित्र नायपॉल के पिता की जिंदगी से काफी प्रभावित है। नायपॉल के पिता भी रचनात्मक लेखन में आगे बढ़ना चाहते थे।

पर प्रवासी जिंदगी की त्रासदी ने उन्हें मन की करने के बजाए बेमन का सहने के लिए विवश किया। दरअसल, आज अगर नायपॉल पूरी दुनिया में पढ़े जाते हैं, तो अपनी इन्हीं रचनात्मक संवेदनाओं के कारण जिसमें एक तरफ युद्ध और औपनिवेशिक अन्याय का बड़ा वितान है, तो वहीं दूसरी तरफ युद्ध पीड़ितों के साथ उन लोगों की पीड़ा है, जिन्हें इन्हीं वजहों से अपना देश छोड़ना पड़ा।

वरिष्ठ अनुवादक और आलोचक हरीश त्रिवेदी ने उन्हें ‘भारत से निर्मम ममता रखने वाला लेखक’ बताया है। वह जब भी भारत की बात करते थे तो वे इसे बस एक भौगौलिक और राजनीतिक इकाई मानने को तैयार नहीं होते थे।

उनकी नजर में भारत एक सभ्यता है, एक सघन संस्कृति है, जिसने अपने सर्वाइवल के लिए कई तरह की यातनाएं झेलीं। जो गिरमिटया इन यंत्रणाओं के कारण विदेश पहुंचे आज उनके उद्यम और उपलब्धि पर हम भले नाज करें, पर यह नाज कई सवालों को जन्म देता है।

पहला और सबसे सवाल तो यह कि भारत की बहुलता में यह उदारता कैसे कम होती चली गई कि वह तारीख में कई मौकों पर अपनों के लिए ही दामन समेटने लगी। इतिहास में इसके एक नहीं कई उदाहरण हैं।  

भारतीय समाज और यहां विकसित हुई आधुनिक संस्कृति का सामना करने को नायपॉल के न रहने पर भी भारत में कम ही लोग तैयार होंगे। पर यही नायपॉल की प्रासंगिकता और विलक्षणता है कि वह दुनिया में एक नए तरह का सभ्यता विमर्श आगे बढ़ाते हैं।

इस विमर्श के केंद्र में भारत है तो साथ ही यरोप और मध्य पूर्व के देश भी शामिल हैं। इस विमर्श ने पूरी दुनिया में उत्तर आधुनिक चिंतन को कई स्तरों पर झकझोरा है।

विकास और उपलब्धि के जिन पैमानों पर आज हम विभिन्न देशों के सामाजिक-राजनीतिक नेतृत्व को आंकते हैं, नायपॉल उस पूरे स्केल को ही खतरनाक मानते हैं। स्केल का यह खतरा आज भारत में कितना है, इसे बताने की जरूरत नहीं।

‘ए फ्लैग अॉन द आइलैंड’ (1967),  ‘इन ए फ्री स्‍टेट’ (1971), ‘ए वे इन द वर्ल्ड’ (1994), ‘हॉफ ए लाइफ’ (2001) और ‘मैजिक सीड्स’ (2004) जैसी कृतियों के लेखक वीएस नायपॉल ने नोबेल से लेकर बुकर तक कई सम्मान अपने पचास साल से लंबे लेखन में पाए।

पर उनका सबसे बड़ा सम्मान वह नया पाठक समाज है, जिसने नए कलेवर के साहित्य को अपनी स्टडी टेबल पर जगह देनी जरूरी समझा। इस पाठक समाज के लिए नायपॉल हमेशा अपनी कृतियों में जीवित रहेंगे, संवादरत रहेंगे।

advertisement

  • संबंधित खबरें