अमृतसरः निरंकारी भवन पर ग्रेनेड से हमला, 3 मरे, दिल्ली-नोएडा में अलर्ट     |       टीईटी परीक्षाः प्रदेश भर में पकड़े गए मुन्ना भाई, प्रयागराज में कॉपी लेकर भागे परीक्षार्थी     |       छिंदवाड़ा / कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कहते हैं गुंडा-भ्रष्टाचारी उम्मीदवार चलेगा, बस जीतना चाहिए: मोदी     |       उत्तराखंड : 150 फिट गहरी खाई में गिरी बस, 12 लोगों की मौत     |       राजस्थान / कांग्रेस ने 18 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की, गठबंधन दलों को दी पांच सीटें     |       कश्मीर में एक और युवक का अपहरण, ISIS के अंदाज में आतंकी कर रहे हत्या     |       तेजप्रताप ऐश्वर्या तलाक! राबड़ी से मिलीं ऐश्वर्या की मां, घर से रोते हुए निकलीं     |       राम मंदिर निर्माण पर BJP विधायक सुरेन्द्र सिंह बोले, संविधान से ऊपर हैं भगवान     |       CG Election 2018 Live Update: चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में मैदान में दिग्गज नेता     |       ..तो क्या इसलिए पीयूष गोयल को लखनऊ से लौटना पड़ा उलटे पांव?     |       आंध्र और प.बंगाल सरकार ने राज्य में जांच के लिए सीबीआई को दी रजामंदी वापस ली, 10 बड़ी बातें     |       उत्तरप्रदेश / आतंकी कसाब का जाति और निवास प्रमाण पत्र जारी, लेखपाल निलंबित     |       जब पावर कपल से मिलने आए फैंस, रणवीर बन गए दीपिका के बॉडीगार्ड     |       महिलाआें पर बयान से विवाद के बाद मनोहरलाल ने दी सफाई, कहा- इस तरह की राजनीति गलत     |       'बॉर्डर' के असली नायक ब्रिगेडियर कुलदीप चांदपुरी का निधन     |       लखनऊ में 83 केंद्रों पर टीईटी, मोबाइल फोन ले जाने पर बैन     |       US में नाबालिग ने की बुजुर्ग भारतीय की हत्या, आरोपी गिरफ्तार     |       राजस्थान / कामिनी जिंदल की संपत्ति 5 साल में 93 करोड़ बढ़ी, 287 करोड़ 46 लाख की मालकिन     |       ओमप्रकाश चौटाला के परिवार में बड़ा राजनीतिक बंटवारा, अजय चौटाला बनाएंगे नई पार्टी     |       न कटेगा न फटेगा 100 रुपए का ये नया नोट, RBI बैठक में होने जा रहा है बड़ा ऐलान     |      

राष्ट्रीय


कब आया था 'निपाह' का पहला मामला?

दुनिया भर में चिकित्सा के क्षेत्र में अनुसंधान कार्यों में भारी गिरावट आई है और भारत में तो इसकी स्थिति इतनी बद्तर है कि कोई उम्मीद ही नहीं की जा सकती


when-first-case-of-nipah-virus-diagnosed-vaccine-for-nipah

खबरों से पता चला है कि 'निपाह' वायरस का पहला मामला 1998 में सामने आया था और नई सदी की शुरुआत में हमारे देश के बंगाल प्रांत के सीमावर्ती इलाकों में इसने अपना कहर बरपाया था। 

अब लगभग दो दशक के अंतराल के बाद केरल में बेहद भयंकर शक्ल में इसने फिर से दस्तक दी है। 

केरल में इस 'निपाह' वायरस की चपेट में आकर मरने वाले लोगों की तादाद लगातार बढ़ रही है और इससे होने वाली हर मौत बेहद दर्दनाक है और रूह को झकझोर देने वाली है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अपनी वेबसाइट पर सूचना लगा रखी है कि इस वायरस की कोई वेक्सीन या कोई इलाज अब तक विकसित नहीं किया जा सका है।

इसका साफ मतलब है कि दुनिया भर में चिकित्सा के क्षेत्र में अनुसंधान कार्यों में भारी गिरावट आई है और भारत में तो इसकी स्थिति इतनी बद्तर है कि कोई उम्मीद ही नहीं की जा सकती। 

वैसे भी दुनिया भर में अब लोगों को बचाने की बजाय खत्म करने के बारे में नए-नए अनुसंधान हो रहे हैं और इसमें कामयाबियां भी मिल रही हैं। 

advertisement

  • संबंधित खबरें