17वीं लोकसभा/ ओम बिड़ला स्पीकर चुने गए, मोदी खुद उन्हें चेयर तक लेकर आए; कांग्रेस-तृणमूल ने भी समर्थन किया - Dainik Bhaskar     |       गुजरात से राज्यसभा की दो सीटों के लिये अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ न्यायालय बुधवार को करेगा सुनवाई - नवभारत टाइम्स     |       'वन नेशन, वन इलेक्शन' मुद्दे पर ममता का चर्चा से इनकार - News18 हिंदी     |       उत्तर बिहार में चमकी से नौ और बच्चों की मौत, अब तक 144 ने तोड़ा दम - Hindustan     |       राहुल गांधी नहीं मनाएंगे जन्मदिन, बिहार में चमकी बुखार से हो रही मौतों पर लिया फैसला - आज तक     |       शहीद केतन शर्मा को रक्षामंत्री समेत हजारों लोगों ने दी अंतिम विदाई - आज तक     |       वर्ल्ड कप: छक्का मारकर खोल दिया गेंद का धागा, तोड़ दी स्टेडियम की छत - cricket world cup 2019 - आज तक     |       हार पर हाहाकार, कप्तान सरफराज की पूरी टीम को धमकी, बोले- अकेले नहीं लौटूंगा पाकिस्तान - अमर उजाला     |       भारतीय टीम की तारीफ करने में फंसा पाकिस्तानी क्रिकेटर, ट्विटर पर लोगों ने लिए मजे - आज तक     |       17 छक्के लगाकर इयोन मॉर्गन ने रचा इतिहास, विश्व कप में तोड़ा क्रिस गेल का रिकॉर्ड - अमर उजाला     |       One Nation, One Election: सभी पार्टी प्रमुखों की बैठक, ममता समेत कई नेताओं ने किया किनारा - दैनिक जागरण     |       योग दिवस 2019 से पहले PM मोदी ने सिखाए ये आसन VIDEO के जरिए बताए कई फायदे - Zee News Hindi     |       शांत क्षेत्र में तैनात सेना के अधिकारियों को फिर से मिलेगा फ्री राशन - Navbharat Times     |       दिल्ली: काम पर लौटे एम्स के डॉक्टर, बंगाल में समझौते के बाद फैसला - आज तक     |       चीनी मर्दों की करतूत पर पाक का पर्दा, लड़कियों ने सुनाई आपबीती - आज तक     |       खाड़ी में तनाव, यूरेनियम हथियार से ईरान बस एक कदम दूर - अमर उजाला     |       भूकंप के बाद जापान ने सुनामी की चेतावनी जारी की - NDTV India     |       ग्लोबल वॉर्मिंग/ ग्रीनलैंड में जहां डेढ़ मीटर बर्फ थी, अब वहां झील में स्लेज खींच रहे कुत्ते - Dainik Bhaskar     |       5 लाख से कम कीमत वाली नई कार लाएगी मारुति, क्विड से होगा मुकाबला - Navbharat Times     |       हुवावे को लेकर भारत को अमेरिका ने दी चेतावनी - Navbharat Times     |       बाजार हरे निशान पर बंद, Jet Airways के शेयर ऑल टाइम लो पर - आज तक     |       प्राइवेट बैंकों ने जमा ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत तक की कटौती की, EMI भी होगी कम - Zee Business हिंदी     |       Bharat Box Office Collection Day 14: सलमान खान की फिल्म ने 14वें दिन की शानदार कमाई, कमाए इतने करोड़ - NDTV India     |       रंगोली का दावा, सुनैना को पीटती है रितिक रोशन की फैमिली - Navbharat Times     |       Bharat की सफलता से ओवर एक्साइटेड Salman Khan, सोशल मीडिया पर कर रहे हैं अजीबो-गरीब हरकतें - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       न्यूयॉर्क की सड़कों पर वर्कआउट कर रही हैं अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नंदा, वायरल हुआ वीडियो - India TV हिंदी     |       वर्ल्ड कप/ दक्षिण अफ्रीका-न्यूजीलैंड मैच आज, 20 साल से कीवियों के खिलाफ नहीं जीती अफ्रीकी टीम - Dainik Bhaskar     |       [VIDEO] Ranveer Singh hugs a Pakistani fan after India's win at World Cup 2019, says, 'Don't be disheartened' - Times Now     |       भारत से बुरी तरह हारा पाकिस्तान तो एक शख्स ने कोर्ट में दायर कर दी याचिका, की ये बड़ी मांग - NDTV India     |       INDvPAK: शोएब मलिक हुए निराश- बोले- 20 साल देश के लिए खेलने के बावजूद देनी पड़ रही है सफाई - Hindustan     |      

जीवनशैली


डब्लूएचओ द्वारा जारी सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के 14 शहर, देश में 2 साल घट रही लोगों की उम्र

"मेरे लिए तो यह राष्ट्रीय आपातकाल है, इसमें सभी को तुरंत सघन प्रयास शुरू कर देना चाहिए और हम इसे कल के लिए टालेंगे तो हम अपने परसो को खतरनाक बना रहे हैं" 


who-list-india-has-14-most-polluted-city-2-year-age-down-every-year

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) द्वारा हाल ही में जारी की गई सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में भारत के 14 शहर शामिल थे, लेकिन इससे भी ज्यादा चौंका देने वाली बात यह है कि भारत का प्रदूषण स्तर संगठन द्वारा निर्धारित भारत वायु गुणवत्ता मानकों को पूरा नहीं कर रहा है जिसके कारण देश में प्रत्येक व्यक्ति की उम्र कम से कम एक से दो साल और दिल्ली में छह साल तक घट रही है। 

लंग केयर फॉउंडेशन के अध्यक्ष व प्रोफेसर डॉ. अरविंद कुमार ने बातचीत में कहा, "कुछ दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने एक अध्ययन प्रकाशित किया था, जिसमें कहा गया था कि भारत का प्रदूषण स्तर संगठन द्वारा निर्धारित भारत वायु गुणवत्ता मानकों को पूरा नहीं कर रहा, जिसके कारण देश में प्रत्येक व्यक्ति की उम्र कम से कम एक से दो साल और दिल्ली जैसे प्रदूषित शहर में छह साल तक घट रही है। वहीं अगर हम डब्लूएचओ के मानकों को पूरा करते हैं तो देश में प्रत्येक व्यक्ति की उम्र चार से पांच साल तक बढ़ सकती है।" 

डॉ. अरविंद कुमार ने कहा, "दरअसल इसके पीछे वजह है देश और दिल्ली का पीएम 2.5 स्तर। हाल ही में अमेरिका के बर्कले अर्थ संगठन ने एक स्टडी की है, जिसमें फेफड़ों और शरीर के अन्य हिस्सों को नुकसान पहुंचाने वाले पीएम 2.5 की क्षमता को सिगरेट के धुएं के साथ सह-संबंधित किया गया था, उनका निष्कर्ष था कि 22 माइक्रोग्राम क्यूबिट मीटर पीएम 2.5 एक सिगरेट के बराबर है। अगर आप 24 घंटे तक 22 माइक्रोग्राम के संपर्क में आते हैं तो आपके शरीर को एक सिगरेट से होने वाला नुकसान हो रहा है।" 

उन्होंने कहा कि अगर हम दिल्ली के एक साल का औसत देखें तो यह 140 से 150 माइक्रोग्राम क्यूबिट मीटर रहा, जिसे भाग करने पर यह छह से सात सिगरेट बनता है। इसलिए हम सब दिल्ली वासियों ने रोजाना कम से कम छह से सात सिगरेट तो पी ही हैं, जबकि सर्दियों में इसकी संख्या 10 से 40 सिगरेट तक पहुंच जाती है। पिछले साल पीएम2.5 999.99 से ऊपर चला गया था तो धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों ने भी 40 से 50 सिगरेट पी। 

दिल्ली में प्रदूषण से सुरक्षा के सवाल पर उन्होंने कहा, "अगर आप दिल्ली में रह रहे हैं और चाह रहे हैं कि हमारे अंगों को नुकसान न हो यह तो बिल्कुल असंभव हैं। बाकी अगर जहां प्रदूषण ज्यादा है तो आप वहां जाने से बचें, वहां शारीरिक गतिविधि न करें, घर के अंदर रहिए, दरवाजे-खिड़कियां बंद रखिए, कोई भी ऐसी गतिविधि जिससे आपकी सांस तेज होती हो वह न करें।" 

उन्होंने कहा, "बाकी एयर प्यूरीफायर बिल्कुल पैसे की बर्बादी है, उसमें बहुत ज्यादा पैसा खर्च कर थोड़े से लोगों को थोड़े से समय के लिए बहुत थोड़ा सा फायदा होता है। एक बात यह भी कि अगर आप इन एयर प्यूरीफायर के फिल्टर एक साल में नहीं बदलते हैं तो यह डर्टीफायर हो जाएगा।"

"वही हाल मास्क का भी है, साधारण मास्क केवल दिखावा है उससे कुछ नहीं होता। केवल एक मास्क थोड़ा बहुत बचाव करता है वह एन95 मास्क है, लेकिन इसे भी ज्यादा देर तक नहीं पहना जा सकता क्योंकि यह बहुत सख्त होता है और इसे 10 से 15 मिनट तक ही लगाया जा सकता है। हां अगर आप किसी बदबूदार जगह से निकल रहे हैं तो आप उसका प्रयोग कर सकते हैं।"

डॉ. अरविंद कुमार ने कहा, "मेरे लिए तो यह राष्ट्रीय आपातकाल है, इसमें सभी को तुरंत सघन प्रयास शुरू कर देना चाहिए और हम इसे कल के लिए टालेंगे तो हम अपने परसो को खतरनाक बना रहे हैं।" 

प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार द्वारा किस तरह के कदम उठाए जाए के सवाल पर प्रोफेसर अरविंद ने कहा, "सरकार को कोयले से चलने वाले 500 से ज्यादा ऊर्जा संयंत्रों के उत्सर्जन को पश्चिमी देशों के उत्सर्जन मानकों के बराबर बनाना चाहिए और उन्हें लागू करना चाहिए। जब सरकार पैसे की कमी की बात करती है तो वह लोगों के जिंदगियों के सामने कुछ भी नहीं है।"

"इसलिए फैक्ट्रियों में जो मानक हैं उनको तुरंत लागू किया जाना चाहिए, हमारी गाड़ियों में पेट्रोल, डीजल इंजनों में बीएस6 तकनीक को लाया जाना चाहिए और शहरों में कूड़े को जलाने की जो पक्रिया शुरू हुई है उसके लिए तुरंत उपाय करने चाहिए, दिल्ली में तो यह बड़ी समस्या हो गई है और दूसरे महानगर बड़ी तेजी से इस ओर अग्रसर हो रहे हैं।" 

उन्होंने कहा, "साथ ही फसलों के जलाने की समस्या मानवजनित है उसका कितना भी सख्त उपाय क्यों न हो उसे किया जाना चाहिए, चाहे उसके लिए सेना को शामिल कर युद्ध स्तर पर उसका समाधान निकालना है तो लोगों के स्वास्थ्य के खातिर उसे किया जाना चाहिए, नहीं तो इसकी भारी कीमत हमें चुकानी पड़ेगी।" 
 

advertisement